शनिवार, 31 अक्तूबर 2009

विश्वमंगल के लिए गौ ग्राम यात्रा शुभ

पश्चिम बंगाल के जलपाई गुडी में कामधेनु ध्वजारोपण
paschiसिलीगुडी कार्यक्रम का एक चित्र

जोधपुर ३०ओक्तोबेर ०९। देश में गौ—वंश संरक्षण के जन जागरण अभियान को हर नागरिक तक पहुंचाने के उद्देश्य से 30 सितंबर को कुरुक्षेत्र से शुरू हुई विश्वमंगल गौ ग्राम यात्रा के क्रम में जोधपुर शहर में अभियान शुरू किया गया है। शुक्रवार को सरदारपुरा क्षेत्र में स्थित राष्ट्रीय संघ स्वयंसेवक संघ कार्यालय परिसर में अभियान के स्टीकर व पत्रक का विमोचन किया गया।
अभियान की जानकारी देते हुए प्रांत अध्यक्ष घनश्याम ओझा ने बताया कि मुख्य यात्रा चार सौ स्थानों पर विभिन्न कार्यक्रम के आयोजन के साथ 20 हजार किलोमीटर की दूरी तय कर मकर सक्रांति को नागपुर में पूर्ण होगी। शहर में इस जन जागरण अभियान के प्रचार—प्रसार के लिए 3 लाख स्टीकर व ढाई लाख पत्रक बांटे जाएंगे। अभियान से जुड़े कार्यकर्ता घर—घर संपर्क कर देशी गौ धन के उपयोग संबंधित जानकारी देंगे। साथ ही शहर के विभिन्न क्षेत्रों में होर्डिग, मंदिरों व सार्वजनिक स्थानों पर गाय के महत्व को उजागर करने वाले बैनर प्रकाशित किए जाएंगे।
महानगर संयोजक अनिल गोयल ने बताया कि शहर में अभियान को तीन चरणों में पूरा किया जाएगा। इसमें हस्ताक्षर अभियान, हर बस्ती स्तर पर लघू यात्राएं तथा मुख्य यात्रा की विराट जनसभा का आयोजन किया जाएगा। प्रथम चरण की शुरुआत 25 अक्टूबर को विहिप के अन्तरराष्ट्रीय महामंत्री डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया ने किया था। हस्ताक्षर अभियान 25 नवंबर तक चलेगा। इसकी सफल क्रियान्विति के लिए विभिन्न सामाजिक, धार्मिक, शिक्षक संघ के साथ गैर सरकारी संगठनों व छात्र संगठनों को भी जोड़ा गया है।
इनमें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, बजरंग दल, शहर के सभी धर्माचार्य, लघु उद्योग भारती, अधिवक्ता परिषद, बार कांउसिल, कला क्षेत्र के कार्यकर्ता, विभिन्न क्षेत्रों के व्यापारिक संगठन, कई गैर सरकारी संस्थाओं के साथ साथ अल्पसंख्यक समुदाय के लोग सहभागिता निभाएंगे। दूसरे चरण में शहर की सभी बस्तियों में गौ—माता की विशाल प्रतिमा के साथ लघु यात्राएं निकाली जाएंगी। इसके लिए शहर को 12 भागों में बांटा कर उप समितियांे का गठन किया गया है। तीसरे चरण में आगामी 23 दिसंबर को मुख्य यात्रा के आगमन पर स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि महाराज के सान्निध्य में जनसभा का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान महानगर अध्यक्ष देवेन्द्र सालेचा, प्रांत संयोजक रतनलाल, महासचिव हेमंत घोष तथा प्रचार प्रमुख कैलाशचंन्द्र उपस्थित थे।

विश्व मंगल गोऊ ग्राम यात्रा अब पश्चिम बंगाल में
यह महज यात्रा नहीं, स्वतंत्रता का नया संग्राम

सिलीगुड़ी: विश्व मंगल गौ ग्राम यात्रा, सिर्फ एक यात्रा नहीं भारत का सही स्वतंत्रता संग्राम है। विजयादशमी कुरूक्षेत्र से प्रारंभ हुई यह यात्रा हमें महाभारत की याद दिलाती है। अधर्म पर धर्म की विजय का प्रतीक है - महाभारत। यात्रा लोगों को गावों की ओर लौटने का आह्वान करती है। भारत की शिक्षा निति, कृषि आर्थिक नीति, शिक्षा यहां तक की जीवन शैली भी विदेशी हो गई है। यही कारण हमें धीरे-धीरे पतन की ओर ले जा रहे हैं। उक्त बातें विश्व मंगल गौ ग्राम यात्रा के प्रमुख योजनाकार सीताराम केदीलाई द्वारा सिलीगुड़ी हिंदी हाईस्कूल में आयोजित स्वागत समारोह के मौके पर कही। युवाओं का नगर की ओर पलायन करने को भी उन्होंने दुर्भाग्यपूर्ण बताया। अयोध्या के दिगम्बर अखाड़ा के प्रमुख राम नयन दास ने गौ सेवा का संकल्प करवाया। उन्होंने अपने विचार रखते हुए कहा कि ग्राम और नगर के बीच मानसिक सेतु बांधने के उद्देश्य से यह यात्रा प्रारंभ की गई है। जब देशी नस्ल की गाय बचेगी तभी ग्राम बच पायेगा। खेती में रसायनिक उर्वरकों के इस्तेमाल से इसकी उपज क्षमता कमती जा रही है। गोबर से बनी खाद ही इसकी उर्वरा शक्ति को बचा पायेगी। समिति की ओर से यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। इसी क्रम में सायं चार बजे में जब यात्रा स्कूल परिसर में पहुंची तो संपूर्ण वातावरण गोमाता, भारत माता और वंदेमातरम के जयकारों से गूंजायमान हो उठा। गो रथ में बछड़े की दूध पिलाती गाय एवं कृषक को झांकी की देख श्रद्धालु नतमस्तक हो उठे। इस मौके पर आनंद व‌र्द्धन जी महाराज, प्रो। सत्यपाद पाल, शंकर लाल अग्रवाल, विनोद सरावगी , जगदीश अग्रवाल मीण्डा, डा. बीएल अग्रवाल, राजकुमार शर्मा, परसराम सिंघल, विष्णु केडिया, संतलाल जीतपूरिया सहित अन्य सदस्यों ने अपनी महत्वपूर्ण उपस्थिति दर्ज कराई। धन्यवाद ज्ञापन प्रवीण सिंघल ने दिया।

रथ को देखने उमड़ी भीड़
सिलीगुड़ी: विश्र्व मंगल के लिए आयोजित गौ-ग्राम रक्षा संकल्प यात्रा देश के विभिन्न हिस्सों से गुजरती हुई शुक्रवार को सिलीगुड़ी पहुंची। यहां पर तीनबत्ती मोड़ पर 40-45 दुपहिया वाहनों पर सवार हरि सत्संग सेवा समिति के लोगों ने रथ यात्रा का जोरदार स्वागत किया। भीड़ में शामिल लोग ही गौ-ग्राम यात्रा की सुरक्षा का जिम्मा संभाले रथ के साथ- साथ चल रहे थे। यात्रा शुक्रवार दोपहर जलपाईगुड़ी से चलकर शाम 4 बजे सिलीगुड़ी पहुंची। सिलीगुड़ी में यात्रा एक दिन विश्राम करेगी। विजयादशमी को कुरुक्षेत्र से प्रारम्भ हुई 108 दिनों की यह 20, 000 किमी की इस यात्रा के साथ गौ-माता का सुसज्जित रथ हर किसी के लिए आकर्षण व प्रेरणा का केन्द्र रहा, हर कोई यहां आकर गौ-माता के रथ का दर्शन कर प्रसाद ग्रहण कर रहे थे। सचिव कमलजी पुगलिया ने कहा कि यह गौ-ग्राम रक्षा संकल्प यात्रा मात्र धार्मिक यात्रा नहीं है, बल्कि इस यात्रा के माध्यम से गाय के आर्थिक, सामाजिक और वैज्ञानिक पक्षों को भी उजागर करना एक उद्देश्य है। इसी को ध्यान में रखते हुए हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया है, जिसमें 20-22 करोड़ लोगों को शामिल करने का लक्ष्य है।
जयगांव (जलपाईगुड़ी): जीवन का अभिन्न हिस्सा है गौ माता। इसी उद्देश्य के तहत बुधवार को यहां विश्व मंगल गौ ग्राम यात्रा ने शहर का भ्रमण किया। जिसके माध्यम से लोगों को गौ माता के सिद्वांत, संकल्प, मार्ग, मंत्र,ध्येय व कार्य आदि की जानकारी देनी थी। कार्यक्रम में प्रमुख भूमिका निभाने वाले विनोद गर्ग ने बताया कि हिन्दू समाज में गाय को माता माना जाता है इसकी जानकारी देने के उद्देश्य से ही यहां यात्रा आयोजित की गयी। यात्रा का शुभारंभ स्थानीय हनुमान मंदिर से हुआ। जिसमें गंगा शर्मा, लीलाधर राठी, कृपाशंकर जायसवाल, विकास मित्तल, श्याम शर्मा,काफी संख्या में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सदस्य व लोगों ने हिस्सा लिया।

गो ग्राम यात्रा के भव्य स्वागत की तैयारी
तेजकालियागंज (उत्तर दिनाजपुर): भारत की अध्यात्मिक और सात्विक शक्तियों के जागरण, गोवंश रक्षा एवं समूचे देश में सत्यम शिवम सुन्दरम की स्थापना के लिए हस्ताक्षर अभियान पर निकली विश्व मंगल गो ग्राम यात्रा के एक नवंबर रविवार को प्रात: 8 बजे कालियागंज पहुंचेगी। यहां आगमन पर श्रीराम लीला देवी गोशाला परिसर में भव्य स्वागत समारोह तथा संकल्प अनुष्ठान का आयोजन किया जायेगा। उक्त आशय की जानकारी गोशाला के अध्यक्ष सुरेश कुमार सर्राफ एवं सचिव बनबारी लाल ने संयुक्त रूप से जागरण को दी। उन्होंने बताया कि इसे लेकर व्यापक तैयारी चल रही है। विश्व मंगल गो ग्राम यात्रा के कालियागंज आगमन की खबर से स्थानीय धर्म प्रेमी गोभक्तों में अपार उत्साह दिखाई दे रहा है। उल्लेखनीय है कि कृषक और गोवंश को संकट मुक्त कराना, ग्राम पलायन रोकना, अन्नदाता किसानों के पुनस्र्थापना, घर-घर में गो सेवा भावना तथा सनातन आध्यात्मिक चेतना की अलख जगाना, रोग मुक्त, कर्ज मुक्त, प्रदूषण मुक्त और अन्नयुक्त ऊर्जायुक्त, मूल्याधारित, धर्मपरायण, स्वाधीन, स्वाभिमानी और समृद्ध राष्ट्र की आकृति में रंग भरने के लिए सत्य शिव सुदरम उद्देश्य को लेकर विश्व मंगल गो ग्राम यात्रा का शुभारंभ पिछले 30 सितंबर 09 विजयादशमी के दिन कुरूक्षेत्र से हुआ।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित