सोमवार, 31 अक्तूबर 2011

'संघ को पहले समझो, फिर करो कोई टिप्पणी' - प. पू. सरसंघचालक डॉ.मोहन भागवत




नागपुर। संघ की शह के आरोपों के साथ अण्णा आंदोलन का विरोध करनेवालों को सरसंघचालक डॉ.मोहन भागवत ने आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि जिन्हें संघ से परहेज हैं वे 2 साल तक संघ की शाखा में आएं। विचारधारा व दृष्टिकोण को समझें। उसके बाद ही संघ पर टीका टिप्पणी करें।

यह भी कहा कि राष्ट्रभक्ति से जुड़े हर कार्यो में संघ योगदान के लिए तैयार है। भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में भी वह सहभागी था। विचारों में मतभेद हो सकता है, लेकिन राष्ट्रीय एकात्मता के लिए सभी विचारों को प्रत्यक्ष सुनने व परखने की जरूरत है। आंखों में धूल झोंककर देश नहीं चलाया जा सकता। नीति व दृष्टि के मामले में सरकार की बुद्धि में स्वार्थ है।

फिलहाल देश में अविश्वास का वातावरण बनाया जा रहा है। खुद पर विश्वास नहीं, अपनों पर भी विश्वास नहीं किया जा रहा है। सरसंघचालक ने चेतावनी भरे स्वर में कहा कि कोई देश में निराशा फैलने का भ्रम न पाले। रोजी-रोटी की जुगाड़ में जुटे 60 प्रतिशत भारतीय अभी भी किसी विचारधारा या संगठन से जुड़े नहीं हैं। वे शुद्ध चरित्र पर विश्वास करनेवाले हैं। वे ही सत्ता परिदृश्य बदल देंगे। भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के विरोध में सत्ताधारियों की भूमिका दंभी प्रतीत हो रही है।

रविवार की शाम जरीपटका स्थित महात्मा गांधी सेंटेनियल महाविद्यालय में विश्व, भारत और हम विषय पर सरसंघचालक मार्गदर्शन कर रहे थे। कार्यक्रम का आयोजन भारतीय विचार मंच की ओर से किया गया था। सरसंघचालक ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद भारत ने हर क्षेत्र में विकास किया है। विश्व शक्ति बनने की क्षमता रखता है। पड़ोसी देशों को भी भारत पर विश्वास है।

समस्याओं से जूझते पश्चिमी देश भी भारत की ओर आशा भरी निगाह से देख रहे हैं। इस देश की संस्कृति व आचार-विचार को अपनाने की बात हो रही है। ऐसे में भारत की ओर से सही प्रयास हो तो वह विश्व का चारित्रिक मार्गदर्शक भी बन सकता है। इस प्रगतिशील दौर में उन्नत देशों की वर्चस्व की भावना व प्रयासों को भी समझने की जरूरत है।

चीन भारत को दबाये रखना चाहता है। इसके लिए वह पड़ोसी देशों का से संबंध सुधार रहा है। भारत में अपनी वस्तुएं बेचकर आर्थिक तौर पर कमजोर बनाये रखने का प्रयास कर रहा है। वैश्विक बाजारवाद के लाभ-हानि को समझने की आवश्यकता है। वैश्वीकरण के साथ बढ़ते कट्टरपन को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

वह आतंकवाद का पोषक है। केवल उदार बने रहना ठीक नहीं। पाकिस्तान ने भारत की जिस जमीन से अपना दावा छोड़ दिया था, वह बांग्लादेश को दे दी गई। समय रहते ठोस प्रयास होता तो बांग्लादेश वह जमीन भारत को दे देता। गुंडागर्दी करके कोई जमीन छीन ले व अपना कब्जा बताए तो उसे मान लेना राष्ट्रीयता के लिए ठीक नहीं है।

सरसंघचालक ने विश्वास जताया कि आनेवाले दिनों में भारत का राष्ट्रधर्म और अधिक सक्षम होगा। 3 दशकों बाद यह देश दुनिया को सुख, शांति देने वाला धर्म देगा। सभी को प्रांत, भाषा, जाति, धर्म के भेद से उपर उठकर भारतीय की भूमिका का निर्वहन करना होगा। अपने कर्तव्यों को समझकर परिवार से ही नैतिक, वैचारिक सुधार की शुरुआत हो तो देश, दुनिया में अपेक्षित बदलाव लाया जा सकता है। वज्रबोधी मेश्राम ने प्रस्तावना रखी। राहुल गजभिये ने संचालन किया। नगरसेविका अलका शेरकुले ने गीत पेश किया।
स्त्रोत: http://www.bhaskar.com/article/MH-chief-dr-mohan-bhagwat-2531703.हटमल

भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन को दबा रहा केंद्र

सरसंघचालक भागवत का आरोप



किसान खुदकुशी कर रहे हैं. व्यापारी भी परेशानी मेंहै. साथ ही महंगाई, आतंकवाद, बेरोजगारी भी बढ.ी है. देश की सीमाओंपर भी असुरक्षा का माहौल है. ऐसे में आम नागरिक अब यह सवाल पूछने लगा है कि आखिर राज करने वाले कर क्या रहे है? यह सवाल नागरिकोंकी ओर से आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने किया. वे आज यहां 'विश्‍व, भारत और हम' विषय पर व्याख्यान दे रहे थे.
जरीपटका स्थित महात्मा गांधी सेंटेनियल शाला में भारतीय विचार मंच की ओर से इस व्याख्यान का आयोजन किया गया था.
इस मौके पर डॉ. भागवत ने वैश्‍विक परिस्थितियों का जायजा लेते हुए भारतीय नेतृत्व को आडे. हाथोंलिया. उन्होंने कहा कि भारत ने 64 वर्षों में अच्छी प्रगति की. इसे देखते हुए विश्‍व को भरोसा होने लगा था कि भारत उसे राह दिखाएगा. किंतु भारत के नागरिकोंको ही अब यह भरोसा नहीं रहा. भारत को विश्‍व एक बाजार की दृष्टि से देखता है. चीन की नजर यहां के बाजार पर जमी हुई है. वह सीमा पर भी हमें परेशान कर रहा है. किंतु सरकार इससे नजर चुरा रही है. पाकिस्तान भी तिरछी निगाहों से देख ही रहा है. सरसंघचालक ने कहा कि दूसरी ओर देश मेंकिसान आत्महत्या कर रहा है.
बहुराष्ट्रीय कंपनियों के आने की वजह से व्यापारी भी संकट में है. बेरोजगारी, महंगाई को दरकिनार कर भावनात्मक एकता तोड.ने वाले कानून बनाए जा रहे है. सूचना का अधिकार कानून को भी कमजोर बनाने की कोशिश चल रही है.
कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह का नाम लिये बगैर उन्होंने आरोप लगाया कि एक ओर सरकार यह दावा कर रही है कि भ्रष्टाचार नहीं है, जबकि दूसरी ओर इसके खिलाफ चल रहे आंदोलन को दबाने का प्रयास किया जा रहा है. आंदोलनकर्ताओं पर संघ का एजेंट होने का आरोप लगाया जा रहा है. आपसी भरोसा भी टूट रहा है. इसका सीधा अर्थ यह है कि सरकार की नीतियां ही गड.बड. है.
डॉ. भागवत ने कहा कि विज्ञान की वजह से विकास को गति मिली. संपर्क सुलभ हुआ और दुनिया की दूरी मिट गई. किंतु हमारे यहां आतंकवाद बढ. रहा है. निर्दोष नागरिकोंका खून बह रहा है. अब साम्राज्य स्थापित करने की नहीं, बल्कि सब कुछ हड.पने का प्रयास हो रहा है.
उन्होंने कहा कि शांति के लिए अलग-अलग प्रयोग कर रहे विश्‍व को भारतीय विचारोंकी आवश्यकता है. निराश होने का नहीं, बल्कि खुद को पहचानने का वक्त है. हमें वक्त की चुनौती को स्वीकार करना होगा.
प्रस्तावना एवं परिचय वज्रबोधि मेश्राम ने करवाया. स्वागत डॉ. सत्यप्रकाश मंगतानी ने किया. अलका शेरकुले ने गीत पेश किया. संचालन राहुल गजभिये ने किया.

स्त्रोत: http://epaper.lokmat.com/lokmatsamachar/epapermain.aspx?queryed=58


साभार : दैनिक भास्कर , उदयपुर

‘प्रताप गौरव केन्द्र : एक परिकल्पना’ को लेकर बैठक

प्रताप गौरव केन्द्र के बारे में बतलाते हुए प्रान्त प्रचारक माननीय मुरलीधर जी


बैठक में जनसमूह को संबोधित करते तारातरा मठ के प्रतापपुरी महाराज साथ में प्रान्त प्रचारक माननीय मुरीधर जी
साभार : दैनिक भास्कर
गौरव केंद्र के निर्माण में सहयोग के लिए बैठक आयोजित

फलौदी उदयपुर में टाइगर हिल पर निर्माणाधीन प्रताप गौरव केन्द्र के निर्माण में सहयोग देने के लिए रविवार को महाराणा प्रताप गौरव केन्द्र समिति शाखा फलौदी की बैठक स्थानीय तुलसीबाई पालीवाल छात्रावास में हुई। बैठक में आरएसएस के प्रांत प्रचारक मुरलीधर, अमृतलाल व्यास तहसील संघ संचालक व महंत गोपालदास ने केन्द्र के बारे में विस्तार से जानकारी दी और सहयोग के लिए आह्वान किया।

वक्ताओं ने कहा कि भक्ति और शक्ति के प्रतीक रूप में मेवाड़ के प्रत्येक जन ने श्रेष्ठ भारतीय संस्कृति को अपने में समाहित किया है। इस गौरवपूर्ण विरासत को वर्तमान पीढ़ी से सुपरिचित कराने के लिए समिति एक भव्य संग्रहालय का निर्माण करने जा रही है। समिति द्वारा वर्ष 2008 में टाइगर हिल पर नीमच माता मंदिर के पीछे 25 बीघा जमीन पर केन्द्र का निर्माण प्रारंभ किया है। बैठक में जगदीश राजपुरोहित, दिलीपसिंह, जयराम गज्जा, तुलछाराम चौधरी, विजय पालीवाल आदि उपस्थित थे।
स्त्रोत: http://epaper।bhaskar.com/Details.aspx?id=114117&boxid=१०३१०१९४८४

अपनी प्रवृत्ति से ही लोग महान बनते हंै- प्रतापपुरी
‘प्रताप गौरव केन्द्र : एक परिकल्पना’ को लेकर बैठक
पोकरण व्यक्ति अपनी प्रवृत्ति से ही महान होता है। उदार तथा त्याग प्रवृत्ति वाला मनुष्य ही लोगों के लिए आदर्श बन सकता है। भोगी प्रवृत्ति मनुष्य को गर्त में ले जाती है। यह उद्गार तारातरा मठ के प्रतापपुरी महाराज ने नगरपालिका सभागार में प्रताप गौरव केन्द्र एक परिकल्पना के निर्माण के संबंध में आयोजित बैठक के अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए।

प्रतापपुरी महाराज ने कहा कि आज के समय में व्यक्ति हर समय अपना स्वार्थ देखता है। किसी भी कार्य करने से पूर्व मनुष्य उस कार्य से अपने स्वार्थ को जोड़ता है। जिसके कारण उस कार्य को करने की भावना में स्वार्थ निहित हो जाता है तथा कार्य करने में मनुष्य को जो आनंद की अनुभूति होनी चाहिए वह नहीं हो पाती है। आज कल विद्यालयों तथा महाविद्यालयों की किताबों में हिंदुत्व के गौरवशाली इतिहास के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है, जो कि बर्दाश्त से बाहर है। इसी महान इतिहास को बचाने के लिए उदयपुर में प्रताप गौरव केन्द्र की स्थापना की जा रही है। इस केंद्र पर लोगों को भारत में जन्म लेने वाली महान विभूतियों तथा उनके द्वारा किए गए त्याग बलिदान के बारे में बताया जाएगा। प्रचारक ओमप्रकाश शर्मा ने महाराणा प्रताप, वीर शिवाजी, पृथ्वी राजसिंह, पन्नाधाय, लक्ष्मीबाई सहित कई महान तथा विभूतियों के जीवन का परिचय दिया। उन्होंने कहा कि शहीदों के इतिहास को संजोए रखने के लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा प्रताप गौरव केन्द्र एक परिकल्पना का निर्माण करवाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा उदयपुर में 25 बीघा जमीन खरीदी गई है। प्रताप गौरव केन्द्र के निर्माण की कुल राशि 100 करोड़ रुपए आंकी गई है। जिसमें से तीन करोड़ तक का कार्य हो चुका है। आगामी 10 वर्ष में इस प्रोजेक्ट के पूरा होने की उम्मीद है। उन्होंने बैठक के दौरान इस कार्य में अपना सहयोग देने की भी अपील की। उन्होंने बताया कि इस केन्द्र में भारत, राजस्थान, मेवाड का इतिहास निहित है। इस अवसर पर महंत मेघानंद महाराज, कल्याणपुरी महाराज तथा प्रचारक मुरलीधर ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित किया। बैठक में जिला सह संघ चालक चिरंजीलाल सोनी, खेताराम लीलड़, भाजपा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य व वरिष्ठ नेता शैतानसिंह, पूर्व विधायक सांग सिंह भाटी, नगरपालिका अध्यक्ष छोटेश्वरी देवी माली, उपाध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा, पार्षद धूड़ाराम सोनी, खेताराम माली, युवा नेता आईदान सिंह भाटी, मदनसिंह राजमथाई, महेश गुचिया, अनिल रंगा, जुगलकिशोर व्यास, रणवीरसिंह गोदारा, दलपतसिंह पूनमनगर आदि उपस्थित थे।
स्त्रोत: http://epaper.bhaskar.com/epapermain.aspx?edcode=147&eddate=10/30/२०११


थार विचार गोष्ठी का आयोजन
आहोर कस्बे के खारा मार्ग पर स्थित आदर्श विद्या मंदिर में शनिवार को थार विचार मंच आहोर के तत्वाधान में विचार गोष्ठी का आयोजन हुआ। जिसमें राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक प्रमुख नंदलाल ने मुख्य वक्ता के रूप में कहा कि सरकार द्वारा आगामी सत्र में सांप्रदायिक एवं लक्षित हिंसा अधिनियम 2011 को लाया जा रहा है। जो कि अलोकतांत्रिक व सांप्रदायिक कानून है। गोष्ठी में तहसील के विभिन्न गांवों से आए 150 लोगों ने भाग लिया। गोष्ठी में कई वक्ताओं ने अपने विचार प्रकट करते हुए इस विधेयक के प्रति गहरी नाराजगी जताई तथा आवश्यकता पडऩे पर विरोध प्रदर्शन करने का भी आह्वान किया। इस मौके पर सह विभाग कार्यवाह खीमाराम, मगाराम, गोपालसिंह, छगन सिंह, दीपाराम, लकमा राम, बंशीलाल, सुखदेव, देवेन्द्र, हनुमानसिंह, ओटरमल, दशरथ, गोमा राम, नृसिंहदान, विजेंद्रसिंह, तेजकरण बालोत सहित कई लोग उपस्थित थे।
स्त्रोत: http://epaper।bhaskar.com/epapermain.aspx?edcode=92&eddate=10%2f30%2f2011&querypage=२
सोजत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिलाध्यक्ष डॉ. श्रीलाल ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लाया जा रहा ‘सांप्रदायिक और लक्षित हिंसा अधिनियम 2011’ कानून देश के लोकतांत्रिक ढांचे को कमजोर करेगा। वे रविवार को आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इसका ड्राफ्ट एक गैर संवैधानिक संस्था ने तैयार किया है, जिसे राजकीय मान्यता दी जा रही है। यह कानून देश की एकता को कमजोर करने वाला है। इसके विरोध में आगामी दिनों में उपखंड अधिकारी के द्वारा राज्यपाल को इस कानून को न बनाने के लिए ज्ञापन दिया जाएगा। साथ ही क्षेत्र की प्रत्येक ग्राम पंचायत से भी इस नियम के विरोध में ज्ञापन भिजवाया जाएगा। इस अवसर पर संभाग संपर्क प्रमुख कमल गोयल ने उदयपुर में संघ द्वारा निर्माणाधीन प्रताप केंद्र के बारे में जानकारी दी। कार्यक्रम में विश्व हिंदू परिषद के भंवरलाल जोशी, दलवीर भटनागर, नरेंद्र टांक, अविनाश जांगिड़, अरविंद कुमार द्विवेदी, नेमीचंद गहलोत, कैलाश चावला, हीरालाल कांठेड़, प्रवीण सांदू, मोहन जाट आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे।
स्त्रोत: http://epaper।bhaskar.com/Details.aspx?id=114173&boxid=१०३११२०३९६८७

मंगलवार, 25 अक्तूबर 2011

lekt esaa lHkh dks ijLijkoyEch gksuk pkfg; & lEekuh; Hkkxor th

dksVk @ dlkj 24 vDVwcj A jk’Vªh; Loa;lsod la?k ds ljla?kpkyd ekuuh; MkW-eksgu e/kqdjjko Hkkxor us dgk ß fodkl dh xfr /keZ ;qDr fu;af=r gksuh pkfg;s A e;kZnkghu fodkl rjDdh rks cgqr djrk gS fdUrq lkFk gh cgqr lh folaxfr;ka mRiUu djrk gSA blesa Ik;kZoj.k j{kk dk Hkh /;ku j[kk gh tkuk pkfg;sAÞ os xks;y izksVhU; fyfeVsM ]dlkj] ftyk dksVk m|ksx lewg dh f}rh; bdkbZ mn?kkVu lekjksg ds volj ij lEcksf/kr dj jgs FksA

lEekuh; Hkkxor us vius lEcks/ku esa dgk ß euq’; gh ,d ek= bl rjg dk izk.kh gS ftldh {kerk;sa bruh foLr`r gSa fd og Ik”kqvksa ls fHkUu] nwljksa ds ckjs esa Hkh lksp & le> ldrk gS vkSj ijekFkZ djrs gq, uj ls ukjk;.k in dks izkIr dj ldrk gS AÞ mUgksus dgk ß fgUnw laLd`fr esa ijLij lg;ksx vkSj ijksidkj dks gh loksZPp izkFkfedrk gS og ladqfpr fopkjksa dh vuqefr ughaaaa nsrh gS cfYd lHkh izdkj fØ;kdykiksa esa leUo; vkSj ln~Hkko dks LFkkfiR; djrh gSA Þ

mUgksus dgk lekt lHkh xfrfof/k;ksa dks vkSj lHkh xfrfof/k;ka lekt dks izHkkfor djrh gSa A vFkZ & dke lHkh dks vko”;d gSa exj euq’; esa fopkj dh “kfDr gS]og thou dks fu;a=.kk/khu j[k ldrk gS] og nq’deZ ls jk{kl vkSj ln~deZ ls ukjk;.k cu ldrk gSA fufeÙk euq’; dks gh cuuk iMrk gSA /keZ ds ca/ku esa pyus ij ln~xfr feyrh gS]eks{k Hkh ogh izkIr djrk gSA

mUgksus dgk olq/kSo dqVqEcde] vFkkZr lc ,d & nwljs ds dqN u dqN yxrs gSaA lcdh lkspsa ;gh /keZ gSa A eq>s rks thuk gh gS exj esa vkSjksa dks Hkh rk:axk ]nwljksa dh mUurh djus esa Hkh lgk;d cuwaxk ;gh euq’;Ro gSA

ekuuh; Hkkxorth us ia- nhun;ky mik/;k; dk m)j.k nsrs gq;s dgk ß lekt dks LokoyEch gksuk pkfg;s ]ijUrq lekt esaa lHkh dks ijLijkoyEch gksuk pkfg;sA Hkkxor us dgk ;g xks;y lewg dk m|ksx vo”; gS ysfdu ;g dsoy xks;y lewg ds fy;s ugha gSa cfYd lcdk fpUru lcdk Hkyk djus ds fy, iz;Ru”khy gks] ;g bldh fo”ks’krk cuuh pkfg;sA Þ

dk;ZØe dh v/;{krk dj jgs y?kq m|ksx Hkkjrh ds izkarh; v/;{k xksfoUnjke feÙky us dgk ljdkj ds feykoV jksdus lEca/kh dkuwu dh folaxfr ds ckjs esa crkrs gq; dgk Hkkjrh; [kk| fuxe ¼ ,Q lh vkbZ ½ ;k tuLokLFk vfHk;kaf=dh foHkkx ¼ ih,pbZMh ½ds fo:) feykoV dkuwu dke ugha djrh exj ,d cgqr NksVk O;kikjh ftldks feykoV dh tkudkjh ugha gS mls vkthou dkjkokl dk izo/kku gSa tks fd vuqfpr gSA

xks;y izksVhUl fyfeVsM ds rkjkpan xks;y us m|ksx ds izfrosnu dks i<+ dj lquk;k vkSj crk;k fd 500 Vu {kerk dh ;g bdkbZ lks;kchu dss izksVhu mRikn dks cuk;sxh vkSj blls LFkkuh; t:jrsa iwjh djsxhA

eap ij jk’Vªh; Loa;lsod la?k ds ljla?kpkyd ekuuh; MkW-eksgu e/kqdjjko Hkkxor] y?kq m|ksx Hkkjrh ds izkarh; v/;{k xksfoUnjke feÙky] jkeorkj xks;y]izdk”kpanz xks;y eapLFk FksA

dk;ZØe ds lapkyu esa vfrfFk ifjp; jk’Vªh; Loa;lsod la?k ds izkrh; ;g dk;Zokg f”koukjk;.k xqIrk us djok;k vkSj lapkyu ujsUnz dqekj xks;y us fd;k A

/keZ {kS= dh vksj ls egke.Mys”oj jkekuan ljLorh]ea>ys eqjkjh ckiw] izseukFk]ujsUnzukFk vo/kwr] gfjukjk/k.k th egkjkt]deynkl th egkjkt vkfn izeq[k :i ls mifLFkr FksA

la?k {kS= ls jktLFkku {kS=h; izpkjd nqxkZnklth ]Hkxokuth] f”kodqekjth]ek.kdth ikFks;d.k izeq[k :ils mifLFkr Fks A

LVsV cSad vkWQ bf.M;k ds v/;{k fl)kZFk lsuxqIrk izeq[k :ils mifLFkr FksA

jktuSfrd {kS= ls iwoZ dsUnzh; ea=h Hkqous”k prqosZnh]iwoZ ea=h yfyr fd”kksj prqosZnh]iwoZ ea=h j?kqohjflag dkS”ky] iwoZ ea=h gjhdqekj vkSfnP;] iwoZ ea=h enu fnykoj]iwoZlalnh; lfpo vkse fcjyk]fo/kk;d panzdkark es?koky]fo/kk;d vfuy tSu dkaxzsl izns”k egklfpo iadt esgrk] Hkktik ftyk v/;{k “;ke “kekZ ,oa nsgkr ftyk v/;{k izgykn iaokj vkfn izeq[k :Ik ls mifLFkr FksA


दुष्कर्म से राक्षस और सद्कर्म से नारायण बन सकता


कोटा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि पारस्परिक विकास की भावना को लेकर कार्य करना चाहिए। विकास मर्यादित व धर्म से नियंत्रित होना चाहिए। मर्यादाहीन विकास उन्नति तो बहुत करता है, लेकिन बहुत सी विसंगतियां उत्पन्न करता है। वे कोटा से करीब 25 किमी दूर कसार में गोयल प्रोन्टीन लि. की द्वितीय इकाई के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि पद से सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि बड़े औद्योगिक घराने और बहुराष्ट्रीय कम्पनियां खुद के विकास की सोचती है। वे ही खेती करते है, वे ही पशुपालन करते हैं और मुनाफा कमाते हैं। यह उचित नहीं है। पारस्परिक विकास की सोच होगी, तभी समाज उन्नति कर सकेगा। विकास में पर्यावरण सन्तुलन भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि मनुष्य में चिंतन करने की शक्ति है। वह जीवन को नियंत्रित रख सकता है। वह दुष्कर्म से राक्षस और सद्कर्म से नारायण बन सकता है। निमित्त मनुष्य को ही बनना पड़ता है। धर्म के बंधन में चलने पर सद्गति मिलती है। मोक्ष भी वही प्राप्त करता है।

भागवत ने पं. दीनदयाल उपाध्याय का उदाहरण देते हुए कहा कि समाज को स्वावलम्बी होना चाहिए, लेकिन समाज में सभी को परस्परावलम्बी होना चाहिए। उन्होंने कहा कि उद्योगों में सर्व विकास की भावना होनी चाहिए।

कार्यक्रम की अध्यक्षता लघु उद्योग भारती के प्रांतीय अध्यक्ष गोविंद राम मित्तल की। गोयल प्रोटीन्स लि. समूह के प्रबंध निदेशक ताराचंद गोयल ने संस्थान के गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर शहर के गणमान्य नागरिक, उद्योगपति, राजनीतिक दलों के पदाधिकारी मौजूद थे।
strot:http://www.pressnote.in/Kota-News_142787.html

रविवार, 23 अक्तूबर 2011

परम पूजनीय सरसंघचालक मोहन जी भागवत द्वारा दिए गए उधबोधन के कुछ अंश


परम पूजनीय सरसंघचालक मोहन जी भागवत द्वारा अलवर में आयोजित संकल्प -२०११ में दिए गए उधबोधन के कुछ अंश

video
साभार HBC News

संघ का संकल्प-2011 कार्यक्रम आज

source: Dainik Bhaskar

संघ प्रमुख आज करेंगे लोगों को संबोधित

अलवर

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का संकल्प-2011 कार्यक्रम रविवार दोपहर 3 बजे मालवीय नगर स्थित आदर्श विद्या मंदिर के सामने स्थित ग्राउंड में होगा। इस अवसर पर संघ प्रमुख मोहन भागवत स्वयंसेवकों की ओर से शारीरिक प्रदर्शन कार्यक्रम का अवलोकन करने के बाद वहां उपस्थित संघ, भाजपा और इससे जुड़े अन्य संगठनों के कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे।

संघ के विभाग संघचालक डॉ. केके गुप्ता के अनुसार संकल्प-2011 कार्यक्रम की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इसके लिए संघ से जुड़े कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारियां सौंपी गई है। संघ के अनुसार प्रस्तावित कार्यक्रम में करीब दस हजार स्वयंसेवक और कार्यकर्ता उपस्थित रहेंगे।

इधर, शनिवार को संघ प्रमुख भागवत ने शाम को मालवीय नगर ग्राउंड में शारीरिक प्रदर्शन का अभ्यास कर रहे स्वयंसेवकों के अभ्यास सत्र में कुछ समय बिताया और शाखा में भाग लिया। इस अवसर पर विधायक ज्ञानदेव आहूजा और बनवारी लाल सिंघल संघ प्रमुख से मिले। शनिवार को संघ प्रमुख से पूर्व विधायक जीत मल जैन, वरिष्ठ स्वयंसेवक गोपा दास भार्गव, तिलकराज गांधी, डॉ. एलके जोशी, राजेंद्र अग्रवाल आदि ने मुलाकात कर चर्चा की।


भारतीय संस्कृति का प्रतीक है भर्तृहरि नाटक

अलवर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघ चालक मोहनराव भागवत ने कहा कि कला मनोरंजन नहीं बल्कि भगवान की सेवा करना है। शुक्रवार रात राजर्षि अभय समाज के रंगमंच पर चल रहे ऎतिहासिक भर्तृहरि नाटक देखने पहुंचे संघ प्रमुख ने संक्षिप्त उद्बोधन में भारतीय कला और संस्कृति के बारे में ही बात की। उन्होंने कहा कि कला मनोरंजन का साधन होने से ज्यादा भगवान की सेवा करना है। सत्यम, शिवम् सुन्दरम् का सूत्र वाक्य हमारी संस्कृति में रचा बसा है।
महाराजा भतृüहरि नाटक का मंचन पिछले 57 वर्षोंं से प्रति वर्ष मंचन किया जा रहा है। यह अपने आप में विश्व रिकार्ड है। नाटक मंचन के कलाकारों के संवाद कंठस्थ है, लेकिन हमारी संस्कृति के प्रतीक ऎसे नाटक का वर्णन कम ही है। अंग्रेजी में कोई नाटक होता है तो उसका वर्णन जरूर मिल जाता है। अलवर में भतृüहरि नाटक देखना अविस्मरणीय है और जहां भी जाऊंगा वहां इसका वर्णन करूंगा।
sabhar :raj patrika

चार मिनिट का उद्बोधन
राजर्षि अभय समाज के रंगमंच पर शुक्रवार रात करीब सवा बारह बजे संघ प्रमुख ने चार मिनिट का उद्बोधन दिया। उन्होंने महाराजा भतृüहरि नाटक मंचन का संचालन करने वाली संस्था का भी आभार व्यक्त किया।

शनिवार, 22 अक्तूबर 2011

“RSS to celebrate 150th birth anniversary of Vivekananda, nationwide” says Dattaji at Bangalore

October 22nd, 2011, 2:20 am

Press Meet by Sri Dattatreya Hosabale at Bangalore ,Today

Sri Dattatreya Hosabale, (Saha Sarakaryavah) Joint General Secretary of RSS

Bangalore, October 22: Sri Dattatreya Hosabale, (Saha Sarakaryavah) Joint General Secretary of RSS addressed press persons on Saturday, October 22nd, at Rashtrotthana Parishad, Bangalore.

He was briefing the media of Bangalore about the proceedings and discussions of recently held 3-day meeting of the Akhil Bharatiya Karyakari Mandal (ABKM) of the Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS), from October 14 to 16 at Gorakhpur Uttarapradesh.

Speaking on the occasion Hosabale told, “Akhil Bharatiya Karyakari Mandal, has passed a major resolution on National Security. ABKM is gravely concerned about the indifferent attitude of the Government towards growing tensions along the borders; rising incidents of encouragement to separatism and terrorism from across the borders; emerging challenges across aerial and oceanic borders; and increasing threats in the international seas and outer space”.

“In flood affected areas of Orissa, regions of Earthquake at Sikkim, hundreds of RSS Swayamsevaks involved in rehabilitation activities. Uthkal Seva Samithi, Seva Bharati and several onther co-organisations are doing their services to the victims of these natural calamities. RSS Swayamsevaks reached these spots soon and within 12hours and they initiated the rehabilitation process” said Dattaji.

150th birth anniversary of Vivekananda

“It will be the 150th birth anniversary of Swami Vivekananda on January 12 of 2013. Hence Sangh has decided to launch massive nationwide celebrations on Vivekananda on 3 issues. First, a compilation of various social organisations which are working in small and large scales across India so that a commonness will be achieved and this task will be headed by Swami Vivekananda Kendra of Kanyakumari. Vivekananda, even after 150years, still an inspiration for social works” says Dattaji. “Secondly, Vivekanda and his thoughts on Women, and Third Vivekananda and Rural India. Vivekananda was very much keen on Rural development specifically the upliftment of poor and backwards. His quotes like ‘Daridra Devobhava’ symbolises his in deeper concerns on common man,” Dattaji opinioned.

“At the very spot where in 1893 September 11 Vivekananda’s historic speech took place at Chicago, we are planning for a permanent multimedia presentation which could give basic information on Life sketch and contributions of Vivekananda. His thoughts on universal brotherhood and others can be taken to a larger scale for new generation” said Dattaji.

RSS calls to ban Chinese goods

RSS Joint Secretary further said “In ABKM, we discussed many issues on national security. RSS feels the borders of the nation should be highly secured. As per reports in last one year, more than 70 times there were incidents of exchange of bullets by Pakistan at the borders. Osama Bin Laden was hiding in Pak, Dawood is hiding in Pak according to reports, and hence it is clear that Pakistan is highly supportive for terror activities. Recent Delhi High court blast is a fresh example”

“China is a major threat, it is eyeing Indian geography from all four corners. Through Burma, Trincomalee, Sri Lanka and Gadwar Harbour of Pakitan, China selectively planned for India lands. The strategy of China is Encircling, Encouraging and Engaging. China has already captured 38000 sq kms of areas. Now it is claiming for 90,000 sqkm of land. China will make this as an International issue, and may take Indian Land areas near the Chinese border. Already China is welcoming citizens of Arunachal Pradesh even without Visa; so that mentally they can influence people of Arunachal as if they are belong to China. Hence as George Fernandes said China is Indeed our threat no 1” said Dattaji.

‘China is preparing its national army stronger day by day. Nuclear submarine war heads was recently developed by China, which India doesn’t have at all. The Country which attached India 50years ago, may repeat the same after 50 years, is an alarm for us’

“RSS calls the public to ban the use of Chinese products which has a large scale impact on Indian economy in multiple ways. Chinese goods like toys, electronic devices, utensils, even Idols of Hindu God like Ganesh are in Market. Hence we need to promote our Industrial growth rather than buying Chinese goods”, says Hosabale.

Sri Dattatreya Hosabale, (Saha Sarakaryavah) Joint General Secretary of RSS, with Sri M Ventakaram Pranth Sanghachalak of Karnataka

http://samvada.org/2011/news/rss-to-celebrate-150th-birth-anniversary-of-vivekananda-nationwide-says-dattaji-at-bangalore/

गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

माननीय भागवत जी के दौरे को लेकर तैयारी शुरू

माननीय भागवत जी के दौरे को लेकर तैयारी शुरू
अलवर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की ओर से प्रस्तावित संकल्प-2011 कार्यक्रम की तैयारियों बैठक हुई। संकल्प-2011 शिविर की शुरुआत गुरुवार शाम से मालवीय नगर आदर्श विद्या मंदिर में होगी तथा इसका समापन रविवार को होगा, जिसमें सरसंघ चालक मोहन भागवत भाग लेंगे। भागवत शुक्रवार शाम को आश्रम एक्सप्रेस से अलवर आएंगे तथा इसके बाद रविवार तक यहीं रहेंगे।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विभाग संघ चालक डॉ. के. के. गुप्ता के अनुसार सरसंघ चालक मोहन भागवत के तीन दिवसीय अलवर प्रवास की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।
इधर मालवीय नगर आदर्श विद्या मंदिर के प्राचार्य विजयसिंह पूनिया के अनुसार सरसंघ चालक के आतिथ्य में रविवार को संपन्न होने वाले संकल्प-2011 शिविर की शुरुआत गुरुवार से होगी। इसमें अलवर विभाग से जुड़े संघ के अनुसार भिवाड़ी, कोटपूतली और अलवर जिले के स्वयंसेवक भाग लेंगे। पूनिया ने बताया कि गुरुवार शाम तक शिविर के लिए नामांकित सभी स्वंयसेवक विद्यालय पहुंच जाएंगे। यहां वे शनिवार तक अभ्यास करेंगे और इसके बाद समापन दिवस रविवार को शारीरिक प्रदर्शन करेंगे।

मंगलवार, 18 अक्तूबर 2011

काला धन विदेश से वापस लाने के लिए धरना

यूथ अगेंस्ट करप्शन की इकाई ने राष्ट्रपति के नाम प्रशासन को ज्ञापन को सौंपा

जोधपुर। विदेश से काला धन वापस लाने के मुहिम के पक्ष में यूथ अगेंस्ट करप्शन की इकाई ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट के बाहर धरना दिया। यूथ अगेंस्ट करप्शन के प्रदेश सह संयोजक सुभाष गहलोत व जिला संयोजक पप्पूराम विश्नोई के नेतृत्व में मंगलवार सुबह कलेक्ट्रेट के मुख्यद्वार के बाहर धरना दिया।


प्रदेश सह संयोजक
सुभाष गहलोत एवं जिला संयोजक पप्पूराम विश्नोई ने बताया कि देश में भ्रष्टाचार के विरुद्ध युवाओं ने धरना दिया । उन्होंने बताया कि हमारी मांग है कि विदेशों में जमा काला धन राष्ट्रहित में फिर से भारत में लाया जाए। दोपहर एक बजे धरना समाप्त होने पर प्रशासन को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देकर विदेशों से काला धन देश में लाने के लिए आवश्यक कदम उठाने की मांग की गई है।

रविवार, 16 अक्तूबर 2011

We supported anti-graft campaign: RSS : India: News India Today

हेड लाइन टुडे की टीवी रिपोर्ट के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करे

संघ का अल्टीमेटम, मुगालते में न रहे केंद्र

सांप्रदायिक हिंसा निवारण विधेयक आया तो होगा बड़ा आंदोलन : भागवत

-समय आने पर ताकत दिखाने को तैयार रहें कार्यकर्ता

-हिंदुओं को मिटाने पर आमादा है कांग्रेस, पर हम मिटेंगे नहीं

सिटी रिपोर्टर, गोरखपुर : केन्द्र सरकार को अल्टीमेटम के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक का रविवार को समापन हुआ। समापन भाषण में सरसंघ चालक मोहन राव मधुकर राव भागवत ने सांप्रदायिक हिंसा निवारण विधेयक का जिक्र करते साफ तौर पर कहा केंद्र सरकार संघ की ताकत को लेकर मुगालते में न रहे। सांप्रदायिक हिंसा निवारण विधेयक अगर संसद में आया तो संघ देश में इतना बड़ा आंदोलन खड़ा करेगा, जिसकी कल्पना भी केंद्र सरकार ने नहीं की होगी। संघ ऐसा करने में सक्षम है। स्वयंसेवकों का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि समय आने पर अपनी ताकत दिखाने के लिए वे तैयार रहें। उन्होंने कहा कि कांग्रेस से हिंदुओं के हित की उम्मीद मत करिए। स्थापना काल से ही यह हिंदू समाज का वजूद मिटाने पर आमादा है, पर हम मिटने वाले नहीं हैं। देश की समग्र प्रगति का मार्ग हिंदुत्व से ही प्रशस्त होगा।

संघ प्रमुख ने स्वयंसेवकों से अपनी ताकत पर यकीन रखने को कहा। उन्होंने कहा कि हम बड़े संगठन का हिस्सा हैं और इसके नाते दिल और सोच दोनों बड़ी रखें। किसी की घटती-बढ़ती संख्या स्वयंसेवक के लिए चिंता का विषय नहीं होना चाहिए। हर स्थिति से मुकाबले के लिए अपनी ताकत बढ़ाने के बारे में सोचें।

इसके पहले रोज की तरह बिलंदपुर खत्ता स्थित सरस्वती शिशु मंदिर वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में सुबह 8.30 बजे बैठक की शुरुआत हुई। तीन सत्रों में चली बैठक में तीन दिनों के दौरान आए प्रस्ताव व मुद्दों पर भी चर्चा हुई। 'सांप्रदायिक हिंसा निवारण विधेयक' ही रहा तीसरे व अंतिम दिन की बैठक में चर्चा का मुख्य विषय।

संघ व उसके सहयोगी संगठनों के अधिकतर पदाधिकारियों ने इस विधेयक पर अपनी चिंता जताई और कहा कि अपने हित के लिए समाज को बांटकर कमजोर करना कांग्रेस की फितरत रही है। अपनी सारी नाकामियों को छिपाने के लिए कांग्रेस ने फिर 'बांटो और राज करो' की नीति का सहारा लिया है। उसके द्वारा प्रस्तावित यह विधेयक इसी का सबूत है। संघ पदाधिकारियों का मानना था कि यह विधेयक न केवल हिंदुओं और मुसलमानों, बल्कि हिंदुओं के बीच भी ऐसी खाई पैदा कर देगा, जिसे पाटना मुमकिन नहीं होगा। विधेयक के प्रारूप नैसर्गिक न्याय के सिद्धांतों के भी विरुद्ध है। इसमें एक पक्ष द्वारा आरोप लगाने के बाद से दूसरे को दोषी मान लिया जाएगा। खुद को निर्दोष साबित करना उसकी जवाबदेही होगी। यह विधेयक देश की एकता व अखंडता के लिए खतरनाक है। आखिर में एलान हुआ, देश व समाज विरोधी विधेयक की असलियत उजागर करने के लिए संघ जनता के बीच भी जाएगा

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_8363111.html

source :

अन्ना के आंदोलन को था समर्थन : संघ

अमर उजाला - ‎2 hours ago‎
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के सहकार्यवाह सुरेश जोशी ने कहा है कि पिछले दिनों भ्रष्टाचार के खिलाफ संघ के समर्थन को खारिज करने संबंधी सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे का रवैया न केवल समझ से परे है बल्कि काफी दुखद भी है। श्री जोशी ने कल रात यहां जारी बयान में कहा कि श्री हजारे जैसे व्यक्ति का कुटिल राजनीतिक चालों में आना खेदजनक भी है। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा पत्र में व्यक्त इस प्रकार की टिप्पणियां भ्रष्टाचार ...

हमें अन्ना हज़ारे से परहेज़ नहीं है: आरएसएस

star.newsbullet - ‎3 hours ago‎
गोरखपुर: कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोलनेवाले गांधीवादी समाजसेवी अन्ना हजारे से आरएसएस को परहेज नहीं है. संघ ने रविवार को कहा है कि भले ही अन्ना उनसे दूर भाग रहे हों लेकिन उन्हें अन्ना से कोई दिक्कत नहीं है. ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या अन्ना को डर है कि संघ का साथ देने पर उन्हें बाकी राजनीतिक पार्टियां दरकिनार कर सकतीं हैं और संघ का साथ मिलने से उनपर बीजेपी का करीबी होने का आरोप लग सकता है. आरएसएस सरकार्यवाह सुरेश भैयाजी ...

आरएसएस ने चेताया, ओछी राजनीति से रहें सावधान

दैनिक भास्कर - ‎11 hours ago‎
भोपाल/गोरखपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने अन्ना हजारे पर पलटवार किया है। संघ ने कहा है कि यह बहुत खेदजनक है कि अन्ना जैसे व्यक्ति भी कुटिल राजनीतिक चाल से प्रभावित हो गए। गांधीवादी समाजसेवी को सलाह देते हुए संघ ने कहा है कि अन्ना को ओछी राजनीति से सावधान रहना चाहिए। इनदिनों गोरखपुर में संघ का तीन दिनों का अखिल भारतीय प्रतिनिधियों का सम्मेलन चल रहा है। अन्ना को सलाह देते हुए आरएसएस के सरकार्यवाह सुरेश जोशी ने ...

संघ विरोधी रूख से भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम कमजोर होगी..सुरेश जोशी

यूनिवार्ता - ‎Oct 15, 2011‎
गोरखपुर. 15 अक्टूबर वार्ता 1 राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ ने े सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे को आज आगाह किया कि संघ के बारे में उनकी टिप्पणियों से भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन कमजोर होगा1 संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की यहां चल रही बैठक के दौरान संघ के सरकार्यवाह .महासचिव. सुरेश जोशी ने कहा कि संघ के बारे में अन्ना के कथन को वह समझ नहीं पा रहे हैं तथा उनकी टिप्पणियों से उन्हें पीडा हुई है1 उन्होंने कहा कि अन्ना जैसी ऊंची ...

संघ को अन्ना से कोई परहेज नहीं

Patrika.com - ‎3 hours ago‎
गोरखपुर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को अन्ना हजारे से कोई परहेज नहीं है। संघ के राष्ट्रीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य ने कहा है कि अन्ना के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन को संघ का पूरा समर्थन था। वैद्य ने कहा कि दिल्ली सहित पूरे देश में संघ के लोग अन्ना के आन्दोलन और इससे जुड़ी व्यवस्था में मौजूद थे। प्रशांत भूषण के कश्मीर संबंधी बयान पर वैद्य ने कहा कि इससे टीम अन्ना का अन्तर्विरोध जाहिर होता है। इतने संवेदनशील मुद्दे पर ...

पीएम पद के उम्मीदवार का फैसला बीजेपी करेगीः संघ

Hindi- Economic times - ‎6 hours ago‎
नई दिल्ली ।। प्रधानमंत्री पद के लिए बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी की उम्मीदवारी के सवाल को अब आरएसएस ने भी खुला मान लिया है। आरएसएस ने कहा है कि इस बारे में बीजेपी फैसला करेगी। आडवाणी पहले ही कह चुके हैं प्रधानमंत्री पद के लिए उनकी उम्मीदवारी पर फैसला बीजेपी करेगी। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री पद के लिए आडवाणी की उम्मीदवारी का संघ नेतृत्व विरोध करता रहा है। संघ इस पद के लिए किसी युवा चेहरे की वकालत करता रहा है। ...

अन्ना पर भड़का आरएसएस

P7News - ‎10 hours ago‎
जनलोकपाल कानून को लेकर सरकार की नींद उड़ा देने वाले गांधीवादी समाज सेवक अन्ना हजारे और कांग्रेस महासचिव दिग्विजय की आपसी जंग में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को लेकर की गई टिप्पणियों से संघ भड़क गया है। संघ के सर कार्यवाह सुरेश उर्फ भैयाजी जोशी ने एक बयान जारी करके कहा है कि संघ प्रमुख भागवत पर कांग्रेस से मिलकर साजिश रचने का अन्ना का बयान गलत है। जोशी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना का आंदोलन ...

संघ के समर्थन पर अन्ना का रवैया दुखद : भैय्याजी

Pressnote.in - ‎11 hours ago‎
गोरखपुर | राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सर कार्यवाह सुरेश जोशी भैय्याजी ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ संघ के समर्थन को खारिज करने संबंधी अन्ना हजारे का रवैया दुखद है। ऐसे बयानों से भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन की धार कमजोर हो सकती है। उन्होंने कहा कि अन्ना ध्येय समर्पित व्यक्ति हैं। आंदोलन का सफलतापूर्वक नेतृत्व करने का श्रेय उन्हीं को जाता है। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह की साजिश में फंसकर उनके द्वारा दिए बयान ...

आरएसएस ने फिर दोहाराया, हमें अन्ना से नहीं है परहेज, आंदोलन में दिया था साथ

दैनिक भास्कर - ‎2 hours ago‎
गोरखपुर। अण्णा हजारे के आंदोलन में संघ के स्वयंसेवको के भाग लेने के प्रश्न पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश जोशी ने कहा कि, '' स्वयंसेवकों ने आम जनसमुदाय के रूप में अण्णा हजारे के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में भाग लिया। संघ की यह परंपरा रही है कि वह देशहित में किए किसी भी कार्य को किए जाने का श्रेय लेने को आवश्यक नहीं मानता। अण्णा हजारे को संघ से क्यों परहेज है इस पर उन्होंने कहा हमें अण्णा से कोई परहेज नहीं ..

प्रशांत भूषण की भाषा अलगाववादियों जैसी

गोरखपुर : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि टीम अन्ना के सदस्य प्रशांत भूषण की भाषा अलगाववादियों जैसी है। ऐसे लोगों को जनता जवाब देती रही है। समय आने पर श्री भूषण को भी जवाब मिल जाएगा।

संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में आए जोशी रविवार को मीडिया से मुखातिब थे। अन्ना के बारे में उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के अगुआ होने का श्रेय भी उनको ही जाता है। लालकृष्ण आडवाणी के बयान के हवाले से भाजपा में प्रधानमंत्री पद के दावेदार के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि यह काम भाजपा को करना है।

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदयुरप्पा के जेल जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अब सब कुछ न्यायालय में है। उसके फैसले की प्रतीक्षा कीजिए। उन्होंने कहा कि कार्यकारी मंडल में आए प्रस्ताव और मुद्दों पर चर्चा जारी है। इन पर आगे कैसे काम किया जाए, इस पर भी बात हो रही है। अगले साल स्वामी विवेकानंद की जयंती मौके पर ऐसे कार्यक्रम किए जाने की योजना है, जिसमें समाज के सभी वर्गो खासकर युवाओं, महिलाओं को भी शामिल किया जा सके।

भय्याजी ने बताया कि केंद्र द्वारा प्रस्तावित सांप्रदायिक हिंसा निवारण विधेयक के पीछे कांग्रेस की असली मंशा और इसके संभावित खतरे को लेकर जनता के बीच जाने की भी योजना है। गंगा के शुद्धिकरण के अभियान में संघ की सहभागिता को और तेज किया जाएगा।

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने जानकारी दी कि कार्यकारी मंडल की बैठक में देश के बाह्य और आंतरिक सुरक्षा पर आसन्न गंभीर खतरे पर भी चर्चा हुई। कहा गया कि चीन की आक्रामकता देश की सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा है। उत्तरी-पूर्वी सीमा पर हाल के कुछ वर्षो में चीन का रवैया बेहद आक्रामक रहा है। मोर्चे तक अपने सैनिकों और सैन्य साजो-सामान ले जाने के लिए वह अपनी आधारभूत संरचना को लगातार बेहतर कर रहा है। पड़ोसी देशों से सामरिक और आर्थिक समझौते कर वह भारत को लगातार घेरने के प्रयास में है। हमारी सरकार से अपेक्षा है कि चीन से लगने वाली सीमा पर आधारभूत ढांचे को मजबूत करे और सेनाओं को भी संसाधनों के मुकाबले चीन के समक्ष लाए।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_8362225.html

source:

माननीय सरकार्यवाह भय्या जी जोशी की प्रेसवार्ता


vf[ky Hkkjrh; dk;Zdkfj.kh eaMy cSBd] xksj[kiqj 16@10@2011

jk’Vªh; Lo;alsod la?k ds ljdk;Zokg Jh lqjs”k ¼Hk¸;kth½ tks”kh us vkt la?k dh vf[ky Hkkjrh; dk;Zdkfj.kh e.My dh cSBd ds rhljs fnu nksigj ds l= ds ckn i=dkjksa ls okrkZ dh A loZçFke mUgksaus rhu fnu pyh cSBd esa dh xbZ ppkZvksa dk iw.kZ o`r ehfM;k ds lEeq[k j[kk A mUgksaus dgk gekjh ijaijk jgh gS fd fopkj foe”kZ }kjk gh lc dk;Z pysa A Lokeh foosdkuUn th dh vkxkeh 150oha tUe “krkCnh lekjksg ds vk;kstukas dks lkjs ns”k esa vk;ksftr fd, tkus ds ckjs esa Jh Hk¸;kth tks”kh us crk;k fd blesa la?k dk iw.kZ lg;ksx jgsxk A Lokeh foosdkuUn th dh 150oha t;arh 2013 esa vkus okyh gS A cSBd esa bldh foLr`r ppkZ gqbZ ftlesa fdl çdkj lekt ds cqf)thoh] ekrk,a&cgus ,oa lekt ds vU; yksxksa rd foosdkuUn th dk fopkj igqaps bl ij ppkZ gqbZ A lkEçnkf;d fgalk fo/ks;d tks ,u-,-lh- is”k djus tk jgh gS bl ckjs esa Hkh foLr`r ppkZ gqbZA ;g fcy lekt dh ,drk ,oa v[k.Mrk dks rksM+us okyk gksxkA cgqla[;d rFkk vYila[;d dh nwjh c<+k,xk ,oa ns”k dh ,dkRerk dks [krjk gksxk A lekt esa blls vfo”okl vk,xk A fgUnw lekt esa Hkh vuqlwfpr tkfr ,oa vuqlwfpr tutkfr esa Hksn mRié djus okyk gksxk A bl fcy ls u rks ns”k dk fgr gksxk u gh lekt dk fgr gksxk A jk’Vªh; Lo;alsod la?k lkjs ns”k esa blds f[kykQ tutkxj.k vfHk;ku “kq# djsxk A

xaxk ij c<+rs çnw’k.k vkSj mldks fueZy ,oa LoPN dSls cuk;k tk, bl ij cSBd esa foLr`r ppkZ gqbZ A la?k ds laxBukRed dk;ksZa dh leh{kk ,oa vius Lo;alsod tks lekt ds vU; dk;ksZa esa yxs gq, gSa mudh Hkh foLr`r ppkZ gqbZ A

vkt ns”k dk tks ifjn`”; curk gS ml esa fons”kh “kfDr;ksa }kjk Hkfo’; esa tks ladV ds ckny fn[kkbZ ns jgs gSaA mlesa fo”ks’kdj phu dk c<+rk gqvk opZLo ,oa Hkkjr dh lhekvksa ij mldh utj] lhekvksa ij mldk c<+rk lSU; tekoM+k rFkk Hkkjr dks pkjksa vksj ls ?ksjus dh mldh j.kuhfr gSA ns”k ds j.kuhfrdkjksa dks bl vksj lkspus rFkk j.kuhfr cukus dh vko”;drk gSA phu viuh lhekvksa dh vksj ls Hkkjr dh lhekvksa ij cgqr cM+h ysfdu vkt lk/kuksa ds vHkko dh otg ls og nqcZy fn[ks] ;g ge lcds fy, fpark dh ckr gSA ge ljdkj ls vuqjks/k djrs gS fd og ns”k dh lqj{kk ds fy, bldh vksj xaHkhjrk ls igy djs vkSj ns”k dh lhekvksa dh lqj{kk lqfuf”pr djsA

ç”kkar Hkw’k.k ds lanHkZ esa d”ehj ds fo’k; esa iwNs x, ç”u ds mÙkj esa mUgksaus dgk la?k blls dHkh Hkh lger ugh gks ldrk fd d”kehj dks ns”k ls vyx djus ds ç;kl gksaA ;g rks vyxkookfn;ksa dh Hkk’kk gSA bl ij vk”;;Z gksrk gSA D;k ,slk cksy dj og ns”kHkfDr dk çdfVdj.k dj jgs gSaA v..kk gtkjs ds vkanksyu esa la?k ds Lo;alsodks ds Hkkx ysus ij iwNs ç”u ds mÙkj esa mUgksaus dgk Lo;alsodksa us vke tuleqnk; ds :i esa v..kk gtkjs ds Hkz’Vkpkj fojks/kh vkanksyu esa Hkkx fy;kA mUgksaus dgk la?k dh ;g ijaijk jgh gS fd og ns”kfgr esa fd, fdlh Hkh dk;Z dks fd, tkus dk Js; ysus dks vko”;d ugha ekurkA v..kk gtkjs dks la?k ls D;ksa ijgst gS bl ij mUgksaus dgk gesa v..kk ls dksbZ ijgst ugha gS ;fn v..kk dks la?k ls ijgst gS rks ;g v..kk ls gh iwNuk pkfg,A v..kk th ds ekSu /kkj.k ij iwNus ij mUgksaus dgk fd og vDlj ekSu /kkj.k djrs gSaA v..kk gtkjs ij iwNs vU; ç”uksa ds mÙkj esa mUgksaus dgk og bldk mÙkj rFkk er dy fn, x, oDrO; esa Li’V dj pqds gSaA ykyd`’.k vkMok.kh th ds ç/kkuea=h in dh nkosnkjh ds ç”u ds mÙkj esa mUgksaus dgk fd vHkh rks le; gS ;g fu.kZ.k ikVhZ dks djuk gS le; vkus ij ikVhZ bls r; Hkh djsxh A ,d iwNs x, ç”u esa fd vkt ikjnf”kZrk dk le; gS ,sls esa la?k dh cSBdsa xksiuh; :i ls gksrh gSaA ljdk;Zokg th us dgk ge vkids lkeus mifLFkr gq, gSa lHkh fo’k;ksa ij ppkZ dh gSA blesa xksiuh;rk dgka gSA çslokrkZ esa jk-Lo-la?k ds vf[ky Hkkjrh; çpkj çeq[k MkW- eueksgu oS| th Hkh mifLFkr FksA vUr esa ljdk;Zokg th us lHkh i=dkjksa dk /kU;okn fn;kA

स्टार न्यूज़ पर इंटरव्यू के कुछ अंश

video
video

शनिवार, 15 अक्तूबर 2011

अन्ना की टिप्पणी समझ से परे: संघ

अन्ना की टिप्पणी समझ से परे: संघ

गोरखपुर। आरएसएस ने भ्रष्टाचार के खिलाफ सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के आंदोलन से बहुत हद तक जुड़े होने की बात पर जोर देते हुए शनिवार को कहा कि जन लोकपाल अभियान में संघ से किसी तरह का समर्थन हासिल नहीं होने के बारे में हजारे की टिप्पणी उसके समझ से परे है।

आरएसएस के महासचिव सुरेश 'भैयाजी' जोशी ने एक बयान में कहा कि अन्ना ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बारे में कुछ टिप्पणी की और संकेत दिया कि उनके आंदोलन के समर्थन में मेरे लिखे पत्र को उन्होंने एक साजिश के तौर पर देखा। मीडिया में प्रकाशित यह विचार मेरे समझ से परे है और इससे मुझे काफी तकलीफ पहुंची है।

जोशी ने कहा कि यह दुखद बात है कि अन्ना जैसे कद्दावर लोग भी चुच्छ राजनीतिक साजिश से प्रभावित हो गए।

उन्होंने कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के पत्र के जवाब में हजारे द्वारा लिखे गए एक पत्र का हवाला देते हुए यह बात कही।

जोशी ने कहा कि उनके पत्र में प्रकट किए गए विचार भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के लिए सिर्फ नुकसानदायक ही साबित होंगे। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण होगा।

जोशी के बयान में हजारे की सराहना करते हुए उन्हें एक ऐसा व्यक्ति कहा गया है जो उच्च आदर्शों के लिए प्रतिबद्ध हैं और जिन्होंने देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ एक विशाल जन आंदोलन का नेतृत्व किया है।

उन्होंने कहा कि इस पूरे आंदोलन की सफलता का श्रेय सिर्फ उन्हें जाता है। मैं और देश के अन्य हजारों कार्यकर्ता इससे अवगत हैं तथा कई मौकों पर उनके द्वारा प्रकट किए विचारों एवं उनकी विकासपरक गतिविधियों से प्रेरित हुए हैं।

आरएसएस ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हजारे के आंदोलन का रामलीला मैदान में और देश भर में वह भी हिस्सा रहा है।

आंदोलन का हिस्सा संघ के नहीं होने संबंधी हजारे के दावे को झूठा बताते हुए आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने कहा कि साधारण आरएसएस कार्यकर्ता सैकड़ों हजारों की तादाद में रामलीला मैदान और देश भर में भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में मौजूद रहे।

यह पूछे जाने पर कि अब हजारे आरएसएस से अपना पल्ला क्यों झाड़ रहे हैं, वैद्य ने कहा कि शायद ऐसा इसलिए है कि खबरों में आरएसएस को ही आंदोलन चलाने वाला कहा जा रहा है।

उन्होंने बताया कि सुरेश जोशी ने हजारे को समर्थन पत्र आठ अप्रैल को भेजा था लेकिन इस बारे में अफवाह पांच अप्रैल से गर्म थी, जिस दिन हजारे ने अपना अनशन [जंतर मंतर] शुरू किया था।

वैद्य ने कहा कि आरएसएस ने हजारे के अंदोलन की सफलता का कभी श्रेय लेने की कोशिश नहीं की।

source:http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_8358378.html


आरएसएस ने अन्ना को ओछी राजनीति से सावधान रहने की सलाह दी

भोपाल/गोरखपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने अन्ना हजारे पर पलटवार किया है। संघ ने कहा है कि यह बहुत खेदजनक है कि अन्ना जैसे व्यक्ति भी कुटिल राजनीतिक चाल से प्रभावित हो गए। गांधीवादी समाजसेवी को सलाह देते हुए संघ ने कहा है कि अन्ना को ओछी राजनीति से सावधान रहना चाहिए। इनदिनों गोरखपुर में संघ का तीन दिनों का अखिल भारतीय प्रतिनिधियों का सम्मेलन चल रहा है।

अन्ना को सलाह देते हुए आरएसएस के सरकार्यवाह सुरेश जोशी ने कहा है कि ऐसे आंदोलनों को ओछी, निम्न स्तर की कुटिल और विकृत राजनीति से सुरक्षित रखने का दायित्व आंदोलन के नेतृत्व का ही रहता है। उनके मुताबिक ऐसे में नेतृत्व को सावधान और सजग रहना चाहिए।
जोशी ने कहा कि भ्रष्टाचार के विरोध में चल रहे आंदोलन में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सहभागिता को लेकर चलाई जाने वाली चर्चा दुर्भावनापूर्ण है और इस आंदोलन को दुर्बल करने के राजनीतिक साजिश को ही जाहिर करती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के महासचिव द्वारा साजिशन उठाए गए बेमतलब विवाद के जवाब के तौर पर अन्ना हजारे द्वारा लिखी गई चिट्ठी में संघ के सरसंघचालक मोहन राव भागवत जी के संदर्भ में व्यक्त किए गए विचार एवं आंदोलन के समर्थन में मेरे द्वारा भेजे गए पत्र को साजिश बताना, मेरे समझ से परे है और दुख की बात है।
अन्ना के पत्र पर प्रतिक्रिया देते जोशी ने कहा कि पत्र के द्वारा व्यक्त इस प्रकार की टिप्पणियां भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन को ही कमजोर करने वाली साबित होंगी। जोशी के मुताबिक यह दुर्भाग्यपूर्ण है। दरअसल, कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह की चिट्ठियों के जवाब में अन्ना ने लिखा था कि संघ उनको बदनाम करने की कोशिश कर रहा है।

RSS says it is very much part of Anna's movement

Times of India - ‎10 minutes ago‎
PTI | Oct 15, 2011, 07.43PM IST GORAKHPUR: Insisting that it was very much part of his movement against corruption, RSS today said social activist Anna Hazare's comments that there was no support from the Sangh founthead to his Jan Lokpal campaign was ...

RSS says it is very much part of Anna's movement

IBNLive.com - ‎1 hour ago‎
PTI Gorakhpur: Insisting that it was very much part of his movement against corruption, RSS on Saturday said social activist Anna Hazare's comments that there was no support from the Sangh founthead to his Jan Lokpal campaign was beyond its ...

Very much part of Anna's movement, says RSS

Hindustan Times - ‎2 hours ago‎
PTI The RSS on Saturday said that it was very much part of Anna Hazare's movement against corruption and that the Gandhian's denial was beyond its comprehension. support of his movement as a conspiracy. These views, which were published widely in the ...

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित