मंगलवार, 25 अक्तूबर 2011

lekt esaa lHkh dks ijLijkoyEch gksuk pkfg; & lEekuh; Hkkxor th

dksVk @ dlkj 24 vDVwcj A jk’Vªh; Loa;lsod la?k ds ljla?kpkyd ekuuh; MkW-eksgu e/kqdjjko Hkkxor us dgk ß fodkl dh xfr /keZ ;qDr fu;af=r gksuh pkfg;s A e;kZnkghu fodkl rjDdh rks cgqr djrk gS fdUrq lkFk gh cgqr lh folaxfr;ka mRiUu djrk gSA blesa Ik;kZoj.k j{kk dk Hkh /;ku j[kk gh tkuk pkfg;sAÞ os xks;y izksVhU; fyfeVsM ]dlkj] ftyk dksVk m|ksx lewg dh f}rh; bdkbZ mn?kkVu lekjksg ds volj ij lEcksf/kr dj jgs FksA

lEekuh; Hkkxor us vius lEcks/ku esa dgk ß euq’; gh ,d ek= bl rjg dk izk.kh gS ftldh {kerk;sa bruh foLr`r gSa fd og Ik”kqvksa ls fHkUu] nwljksa ds ckjs esa Hkh lksp & le> ldrk gS vkSj ijekFkZ djrs gq, uj ls ukjk;.k in dks izkIr dj ldrk gS AÞ mUgksus dgk ß fgUnw laLd`fr esa ijLij lg;ksx vkSj ijksidkj dks gh loksZPp izkFkfedrk gS og ladqfpr fopkjksa dh vuqefr ughaaaa nsrh gS cfYd lHkh izdkj fØ;kdykiksa esa leUo; vkSj ln~Hkko dks LFkkfiR; djrh gSA Þ

mUgksus dgk lekt lHkh xfrfof/k;ksa dks vkSj lHkh xfrfof/k;ka lekt dks izHkkfor djrh gSa A vFkZ & dke lHkh dks vko”;d gSa exj euq’; esa fopkj dh “kfDr gS]og thou dks fu;a=.kk/khu j[k ldrk gS] og nq’deZ ls jk{kl vkSj ln~deZ ls ukjk;.k cu ldrk gSA fufeÙk euq’; dks gh cuuk iMrk gSA /keZ ds ca/ku esa pyus ij ln~xfr feyrh gS]eks{k Hkh ogh izkIr djrk gSA

mUgksus dgk olq/kSo dqVqEcde] vFkkZr lc ,d & nwljs ds dqN u dqN yxrs gSaA lcdh lkspsa ;gh /keZ gSa A eq>s rks thuk gh gS exj esa vkSjksa dks Hkh rk:axk ]nwljksa dh mUurh djus esa Hkh lgk;d cuwaxk ;gh euq’;Ro gSA

ekuuh; Hkkxorth us ia- nhun;ky mik/;k; dk m)j.k nsrs gq;s dgk ß lekt dks LokoyEch gksuk pkfg;s ]ijUrq lekt esaa lHkh dks ijLijkoyEch gksuk pkfg;sA Hkkxor us dgk ;g xks;y lewg dk m|ksx vo”; gS ysfdu ;g dsoy xks;y lewg ds fy;s ugha gSa cfYd lcdk fpUru lcdk Hkyk djus ds fy, iz;Ru”khy gks] ;g bldh fo”ks’krk cuuh pkfg;sA Þ

dk;ZØe dh v/;{krk dj jgs y?kq m|ksx Hkkjrh ds izkarh; v/;{k xksfoUnjke feÙky us dgk ljdkj ds feykoV jksdus lEca/kh dkuwu dh folaxfr ds ckjs esa crkrs gq; dgk Hkkjrh; [kk| fuxe ¼ ,Q lh vkbZ ½ ;k tuLokLFk vfHk;kaf=dh foHkkx ¼ ih,pbZMh ½ds fo:) feykoV dkuwu dke ugha djrh exj ,d cgqr NksVk O;kikjh ftldks feykoV dh tkudkjh ugha gS mls vkthou dkjkokl dk izo/kku gSa tks fd vuqfpr gSA

xks;y izksVhUl fyfeVsM ds rkjkpan xks;y us m|ksx ds izfrosnu dks i<+ dj lquk;k vkSj crk;k fd 500 Vu {kerk dh ;g bdkbZ lks;kchu dss izksVhu mRikn dks cuk;sxh vkSj blls LFkkuh; t:jrsa iwjh djsxhA

eap ij jk’Vªh; Loa;lsod la?k ds ljla?kpkyd ekuuh; MkW-eksgu e/kqdjjko Hkkxor] y?kq m|ksx Hkkjrh ds izkarh; v/;{k xksfoUnjke feÙky] jkeorkj xks;y]izdk”kpanz xks;y eapLFk FksA

dk;ZØe ds lapkyu esa vfrfFk ifjp; jk’Vªh; Loa;lsod la?k ds izkrh; ;g dk;Zokg f”koukjk;.k xqIrk us djok;k vkSj lapkyu ujsUnz dqekj xks;y us fd;k A

/keZ {kS= dh vksj ls egke.Mys”oj jkekuan ljLorh]ea>ys eqjkjh ckiw] izseukFk]ujsUnzukFk vo/kwr] gfjukjk/k.k th egkjkt]deynkl th egkjkt vkfn izeq[k :i ls mifLFkr FksA

la?k {kS= ls jktLFkku {kS=h; izpkjd nqxkZnklth ]Hkxokuth] f”kodqekjth]ek.kdth ikFks;d.k izeq[k :ils mifLFkr Fks A

LVsV cSad vkWQ bf.M;k ds v/;{k fl)kZFk lsuxqIrk izeq[k :ils mifLFkr FksA

jktuSfrd {kS= ls iwoZ dsUnzh; ea=h Hkqous”k prqosZnh]iwoZ ea=h yfyr fd”kksj prqosZnh]iwoZ ea=h j?kqohjflag dkS”ky] iwoZ ea=h gjhdqekj vkSfnP;] iwoZ ea=h enu fnykoj]iwoZlalnh; lfpo vkse fcjyk]fo/kk;d panzdkark es?koky]fo/kk;d vfuy tSu dkaxzsl izns”k egklfpo iadt esgrk] Hkktik ftyk v/;{k “;ke “kekZ ,oa nsgkr ftyk v/;{k izgykn iaokj vkfn izeq[k :Ik ls mifLFkr FksA


दुष्कर्म से राक्षस और सद्कर्म से नारायण बन सकता


कोटा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि पारस्परिक विकास की भावना को लेकर कार्य करना चाहिए। विकास मर्यादित व धर्म से नियंत्रित होना चाहिए। मर्यादाहीन विकास उन्नति तो बहुत करता है, लेकिन बहुत सी विसंगतियां उत्पन्न करता है। वे कोटा से करीब 25 किमी दूर कसार में गोयल प्रोन्टीन लि. की द्वितीय इकाई के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि पद से सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि बड़े औद्योगिक घराने और बहुराष्ट्रीय कम्पनियां खुद के विकास की सोचती है। वे ही खेती करते है, वे ही पशुपालन करते हैं और मुनाफा कमाते हैं। यह उचित नहीं है। पारस्परिक विकास की सोच होगी, तभी समाज उन्नति कर सकेगा। विकास में पर्यावरण सन्तुलन भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि मनुष्य में चिंतन करने की शक्ति है। वह जीवन को नियंत्रित रख सकता है। वह दुष्कर्म से राक्षस और सद्कर्म से नारायण बन सकता है। निमित्त मनुष्य को ही बनना पड़ता है। धर्म के बंधन में चलने पर सद्गति मिलती है। मोक्ष भी वही प्राप्त करता है।

भागवत ने पं. दीनदयाल उपाध्याय का उदाहरण देते हुए कहा कि समाज को स्वावलम्बी होना चाहिए, लेकिन समाज में सभी को परस्परावलम्बी होना चाहिए। उन्होंने कहा कि उद्योगों में सर्व विकास की भावना होनी चाहिए।

कार्यक्रम की अध्यक्षता लघु उद्योग भारती के प्रांतीय अध्यक्ष गोविंद राम मित्तल की। गोयल प्रोटीन्स लि. समूह के प्रबंध निदेशक ताराचंद गोयल ने संस्थान के गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर शहर के गणमान्य नागरिक, उद्योगपति, राजनीतिक दलों के पदाधिकारी मौजूद थे।
strot:http://www.pressnote.in/Kota-News_142787.html

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित