स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह

५ मार्च २० १ ३ 
साभार: दैनिक भास्कर, नागौर 


 vfrfFk;ks dk mn~cks/ku eq[; oDrk ekuuh; dSyk’k Hklhu us vius vkstLoh mn~cks/ku ,oa mifLFkrx.kks dks lacksf/kr djrs gq, dgk fd Hkkjr dk ;qok cy’kkyh cus fujksxh cus ,oa jk"Vª dh j{kk gsrq lnSo rRij jgsA bl gsrq ls ;g lw;Z ueLdkj egk;K dk;ZØe Lokeh foosdkuUn ds 150 osa o"kZ ds miy{; ij vk;ksftr fd;k x;kA vk;kstu lfefr ds ftyk la;kstd t; xksiky iqjksfgr us tkudkjh nsrs gq, crk;k fd vkt dk ;g dk;ZØe lEiw.kZ ftys Hkj ds 460 xkWaoksa esa ftuesa ‘f’koxat]  ikslkfy;k] vkcqjksM]  l:ixat]  fi.MokMk]  dkstjk]  jsonj]  e.Mkj]  vuknjk vkfn LFkkuksa ij eq[; lekjksg vk;ksftr gks jgk




tkyksj 18 Qjojh 13 Lokeh foosdkuan lk/kZ’krh lekjksg vk;kstu lfefr tkyksj uxj }kjk eyds’oj eB ds eSnku esa fo’kky lw;ZueLdkj egk;K dk;Zdze lEiUu gqvkAlekjksg dks jk"Vªh; Lo;alsod la?k ds tks/kiqj izkar la?kpkyd yyhr dqekjth 'kekZ us Lokehth dk thou ifjp;] ns’kHkfDr ,oa ;qokvksa ds fy, cy’kkyh gksus ls ns’k cy’kkyh ,o a’kkS;Zoku gksxkAlw;ZueLdkj dk egRo crk;k rFkk ;qokvksa dks iaf’pe ds lkaLd`frd vkdze.k ls cpus dk vkgoku fd;kAlekjksg dks fo’o izfl} tknwxj lezkV ‘'kadj us lacksf/kr djrs gq, dgk fd f’kdkxks es Lokehth us tks ns’k dk uke jks’ku fd;k mlh rjg vkt dk ;qok fofHkUu {kS=ks esa ns’k lekt dk uke jks’ku djsAtknwxj ‘’kadj us ,d tknw Hkh izLrqr fd;kAlekjksg esa jkt0 esa Lokeh fososdkuan iqLrd dk foekspu fd;kAlekjksg esa tkyksj fo/kk;d jkeyky es?koky]jfoUnzflag ckykor] dkuukFk HkkVh]psrkjke]lqjsUnz ukx]gfjflag vt; dqekj]txnh’k lksuh lesr ‘'kgj ds dbZ x.kekU; ukxfjd mifLFkr FksAdk;Zdze dk lapkyu uxj la;kstd mxeflag ckykor us fd;kA



स्वामी विवेकानंद शार्धशताब्दी समारोह के तहत स्कूलों व विभिन्न संस्थाओं में सूर्य नमस्कार का आयोजन
जिलेभर में निजी एवं सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों ने मंत्रोच्चार के साथ किया सूर्य को नमस्कार


सुमेरपुर

स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह आयोजन समिति के तत्वावधान में सोमवार को शिक्षा क्रांति रंगमंच में सूर्यनमस्कार महायज्ञ का आयोजन हुआ। तहसील संयोजक शैतानसिंह बिरोलिया ने बताया कि महायज्ञ में 22 विद्यालयों ने भाग लिया। जिसमें कुल 2300 छात्र-छात्राएं उपस्थित थी। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता मोतीलाल सोनी, प्रांत सहसंयोजक विशिष्ट अतिथि अशोकपालसिंह मीणा, सहसंयोजक शंकरसिंह, रघुवीरसिंह मीणा, मोहनलाल सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

बगड़ी नगर  कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में सोमवार को श्रीराम युवा निर्माण मंडल के तत्वावधान में सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम में कई विद्यालयों के विद्यार्थियों ने भाग लिया। इस अवसर पर डॉक्टर राजकुमार पड़लवाल, बजरंग दल के नरेंद्र टांक, कार्यवाहक प्रधानाचार्य ब्रजेश यादव, नेमीचंद जोशी, अशोक कुमार सोनी, राकेश आदिवाल आदि मौजूद थे।

रानी विवेकानंद सार्ध शती समिति के तत्वावधान में सूर्य नमस्कार महायज्ञ सोमवार को प्रात: स्कूल खेल मैदान में आयोजित किया गया। रानी मंडल संयोजक गोविंदसिंह राठौड़ ने बताया कि आदर्श विद्या मंदिर, महावीर उच्च माध्यमिक विद्यालय, सनातन माध्यमिक विद्यालय सहित अन्य विद्यालयों के विद्यार्थियों, नागरिकों आदि ने सूर्य नमस्कार किया। इस अवसर पर नगरपालिका प्रतिपक्ष नेता डालचंद चौहान, महावीर विद्यालय के संस्थापक राघव प्रसाद पांडेय, दिनेश चौधरी,, कमलेशसिंह राजपुरोहित, कुलदीप दत्ता, धर्मवीर खत्री, गोविंदलाल, महेंद्र कुमार, आदि मौजूद थे।

बाली सार्ध शती आयोजन समिति की ओर से सूर्य नमस्कार महायज्ञ नगर के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में हुआ। इस अवसर पर राजयोग केंद्र बाली संचालिका ब्रह्मा कुमारी स्नेहा, मोतीलाल गहलोत, जिला संघ चालक पकाराम चौधरी, जिला संयोजक ओमप्रकाश शर्मा, जगदीश परिहार, प्रधानाचार्य देवेंद्र गोयल, दिनेश माथुर आदि मौजूद थे।

सांडिया गांव के माध्यमिक विद्यालय में सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन हुआ। इस अवसर पर विहिप के जिला महामंत्री नरेंद्र टांक, मनीष लोहार,कमलकिशोर जोशी, गजेंद्र पंवार, बंशीधर वैष्णव आदि मौजूद थे।

फालना स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह के अवसर पर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर ओमप्रकाश आचार्य, मुकेश सेन, प्रधानाचार्य उगमसिंह पंवार, लकाराम चौधरी, भवानीसिंह राठौड़, कर्मवीर मेवाड़ा, देवेंद्र सिद्धावत, उज्ज्वलसिंह आदि मौजूद थे।

नाडोल  राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन हुआ। इस अवसर पर बलवीरसिंह राणावत, पुरुषोत्तम पुरी, रूपचंद, चुन्नीलाल चौधरी, हेमंत दवे, मदन मालवीय आदि मौजूद थे।


रोहट  कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में सामूहिक सूर्य नमस्कार हुआ। इस अवसर पर परमेश्वर जोशी, प्रधानाचार्य गोपालसिंह भाटी,पारस लखारा, भरत पटेल,गणपतलाल दवे, केसरसिंह सिसोदिया,खीमाराम मेघवाल आदि मौजूद थे।


दो हजार विद्यार्थियों ने किया सूर्य नमस्कार


सोजत. स्वामी विवेकानंद सार्ध शती महोत्सव के तहत शहर में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। सर्व प्रथम राजकीय महाविद्यालय के मैदान में यहां की विभिन्न स्कूलों के सैकड़ों विद्यार्थियों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ सात बार लगातार विभिन्न प्राणायामों के जरिए सूर्य नमस्कार किया। इस अवसर पर संयोजक सुरेश ओझा, चंद्रप्रकाश, प्रधानाचार्य भारतसिंह लखावत, प्रज्ञा प्रवाह के सहसंयोजक गंगाविशन आदि मौजूद थे।

रायपुर मारवाड़  स्थानीय पोलो मैदान पर सोमवार को सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर समाजसेवी बीआर शर्मा, सोमेश्वर शर्मा, प्रेम जीनगर, रामकिशोर राठौड़, समाजसेवी कालूराम छीपा, देवराज गौड़, गुलाबचंद सांखला आदि मौजूद थे।

देवलीकलां  यहां राजकीय प्रताप माध्यमिक विद्यालय में सोमवार को सामूहिक रूप से सूर्य नमस्कार किया गया। इसमें राजकीय प्रताप माध्यमिक विद्यालय, राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक विद्यालय आदर्श विद्या मंदिर देवली कलां के सभी विद्यार्थियों ने भाग लिया। इस मौके पर पुनीत यशा ने जीवन में सूर्य नमस्कार के महत्व के बारे में बताया। इस अवसर पर रामगोपाल शर्मा, खेतसिंह, अशोकसिंह, धर्मराज शर्मा, धर्मीचंद खारीवाल, चंद्रप्रकाश बागाणी, भीकीदेवी आदि मौजूद थे।

जैतारण  शहर के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के दीपसिंह राजावत व संपतराज राव के सानिध्य में सोमवार को सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। इसमें शहर के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इस दौरान शांतिलाल सोनी, लूणकरण जैन, धर्मीचंद उपाध्याय सहित गणमान्य नागरिक भी मौजूद थे। इसी तरह निमाज के सीनियर विद्यालय परिसर में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के तहसील कार्यवाहक श्रवण कुमार सुथार की देखरेख में सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया।

'भारतीय संस्कृति विश्व की पुरातन संस्कृति'

मारवाड़ जंक्शन. कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के खेल मैदान में स्वामी विवेकानंद जन्म शताब्दी के 150 वर्ष होने पर सूर्य नमस्कार आयोजन स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह समिति के तत्वावधान में किया। इस अवसर पर विधायक केसाराम चौधरी ने कहा कि भारत की संस्कृति विश्व की पुरातन संस्कृति है, जिसका कोई विकल्प नहीं है। चौधरी ने कहा कि देश के युवाओं को अपनी संस्कृति को जीवित रखकर आगे बढऩा होगा। वो दिन दूर नहीं जब भारत विश्व के मंच पर अपना परचम फिर से लहराएगा। इस अवसर पर गो सेवा प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष ताराचंद शर्मा, प्राचार्य भैरूसिंह सांदू, खंड संयोजक छोटू सिंह राजपुरोहित आदि मौजूद थे। तहसील संयोजक मिश्रीलाल बंजारा ने मंच संचालन किया।


बालोतरा
स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह आयोजन समिति की ओर से बालोतरा नगर के सरकारी व गैर सरकारी तथा निजी शिक्षण संस्थानों के छात्र-छात्राओं ने भाग लेकर सूर्य नमस्कार महायज्ञ में अपनी आहुतियां दी। कार्यक्रम वद्र्धमान आदर्श विद्या मंदिर स्कूल के प्रांगण में आयोजित किया गया।

प्रांतीय संवर्धिनी इकाई प्रमुख प्रमिता अरोड़ा ने बताया कि कार्यक्रम का शुभारंभ मां शारदा व स्वामीजी के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर वंदना के साथ किया गया। संवर्धिनी नगर प्रमुख नीतू बाहेती ने के अनुसार बालिका आदर्श विद्या मंदिर की बालिकाओं ने अतिथियों का तिलक व मोली से स्वागत किया। अध्यक्षता करते हुए पार्षद चंद्रा बालड़ ने कहा कि स्वामीजी ने अपने विचारों के द्वारा संपूर्ण विश्व में भारतीय संस्कृति का परचम लहराया था। हमें इस युगपुरुष के आदर्शों को अपने जीवन में अपनाना चाहिए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि वद्र्धमान स्कूल के प्रधानाचार्य जोस पीजे सर व विशिष्ट अतिथि के रूप में शिक्षाविद् प्राचार्य डूंगरचंद भाटिया उपस्थित थे। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता बालिका आदर्श विद्या मंदिर की प्रधानाचार्य प्रमिला अरोड़ा ने स्वामीजी के संपूर्ण जीवन का परिचय बताते हुए कहा कि स्वामीजी के चेहरे पर तेजस्वी भाव देखकर उनके गुरु ने कह दिया था कि विवेकानंद एक दिन अपने विचारों से संपूर्ण विश्व को चकित कर देगा। स्वामीजी ने शिकांगों सम्मेलन में एक कथन 'प्यारे भाईयों एवं बहनों' बोलने से पांडाल तालियों से गूंजायमान हो गया था। स्वामी को राष्ट्र से इतना प्रेेम था कि जब वे शिकांगों धर्मसभा में भाग लेकर आए, तब भारतभूमि पर पैर रखने से पहले धरती माता की गोद में लोट पोट हो गए थे। स्वामीजी ने अल्प जीवनकाल में अपने विचारों से संपूर्ण विश्व को आश्चर्यचकित कर दिया था। इसके बाद सूर्य नमस्कार कार्यक्रम आयोजित हुआ। बालिका आदर्श विद्या मंदिर, राबाउमावि, अग्रसेन विद्या मंदिर, वद्र्धमान विद्या मंदिर, मनु विद्या मंदिर, राबाउप्रावि सख्यां १ की करीब ५०० बालिकाओं ने भाग लिया। सभी बालिकाओं को स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह आयोजन समिति की संवर्धिनी इकाई की ओर से प्रतिभागिता प्रमाण पत्र दिए जाएंगे। कार्यक्रम का समापन नीतू बाहेती के धन्यवाद ज्ञापित व कल्याण मंत्र के साथ हुआ। इस दौरान इकाई की नगर संयोजिका धापूदेवी चौधरी, अशोक हुंडिया, प्रधानाध्यापक जवाहरलाल गहलोत, रतनीदेवी वैष्णव, रेखा चौपड़ा सहित इकाई के सदस्य मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन इकाई की नगर सह संयोजिका राजकुमार मानधना ने किया।

इसी प्रकार राउमावि गांधीपुरा में भी सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम प्रधानाचार्य विमला चौधरी की देखरेख में आयोजित हुआ। सवेरे ९ बजे सभी विद्यार्थियों ने सामूहिक रूप से सूर्य नमस्कार किया। अध्यापक मंगलाराम पंवार के मार्गदर्शन में सूर्य नमस्कार के दस चरण सभी मंत्रों सहित करवाए गए। उन्होंने सूर्य नमस्कार के होने वाले आध्यात्मिक तथा शारीरिक स्वाध्याय के फायदों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। प्रधानाचार्य विमला चौधरी ने विचार व्यक्त किए। इसी प्रकार आदर्श विद्या मंदिर उमावि माजीवाला में ८७५ छात्र-छात्राओं ने सूर्य नमस्कार महायज्ञ में भाग लिया। कार्यक्रम के दौरान 'विवेकानंद राजस्थान में' नामक पुस्तक का विमोचन लेखक हनुमानसिंह राठौड़ ने किया। इसी प्रकार राउप्रावि संख्या ८ नरेंद्र कॉलोनी के प्रधानाध्यापक चंद्रशेखर दवे ने बताया कि स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह के अवसर पर समदड़ी रोड स्थित माचरा मैदान में सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि मोहनलाल गहलोत ने संबोधित किया। सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ में भगवती बाल निकेतन उमावि, प्रो. ऋषिनाथ आर्य बाल विद्या मंदिर, मयूर शिक्षण संस्थान मावि, गुलशन पब्लिक स्कूल, राउप्रावि संख्या ८ के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया।

सिवाना. स्वामी विवेकानंद की १५० वीं जयंती वर्ष समारोह के उपलक्ष्य में स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह समिति के तत्वावधान में सूर्य रथ सप्तमी पर हजारों छात्र-छात्राओं व आमजन ने सूर्य नमस्कार में भाग लिया। सूर्य नमस्कार महायज्ञ का मुख्य समारोह राउमावि प्रांगण में बीईईओ सोनाराम गर्ग के मुख्य आतिथ्य व प्रधानाचार्य जगदीश मेघवाल की अध्यक्षता में आयोजित हुआ।

महायज्ञ में करीब ११०० छात्र-छात्राओं ने सामूहिक सूर्य नमस्कार किया। समारोह के मुख्य वक्ता बाबूलाल प्रजापत ने संबोधित कते हुए कहा कि हर दिन सूर्य नमस्कार करने से शारीरिक पुष्टता व मानसिक विकास को गति प्राप्त होती है तथा मन की एकाग्रता के साथ शरीर निरोग सुंदर लचीला व पूर्ण स्वस्थ बनता है। बीईईओ सोनाराम गर्ग ने भी सूर्य नमस्कार से होने से वाले फायदों के बारे में बताया।

कार्यक्रम का संचालन अजयसिंह कुसीप ने किया। इस आयोजन में कस्बे की सरस्वती विद्या मंदिर, आदर्श विद्या मंदिर राउप्रावि सीटी, ओम विद्या मंदिर, नवकार विद्या मंदिर, राजू बाल निकेतन, राबाउमावि, राउप्रावि सोलंकियों का वास, जीनगरों का वास, मैला मैदान सहित एक दर्जन स्कूलों के छात्र-छात्राओं ने महायज्ञ में भाग लिया।

पाटोदी. स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह आयोजन समिति पचपदरा की ओर से सोमवार को सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन राजकीय सीनियर सैकंडरी स्कूल पाटोदी में हुआ। महायज्ञ में स्थानीय स्कूल सहित श्री कृष्णा बाल निकेतन, सुुभाषचंद्र बोस मेमोरियल स्कूल, राजकीय बालिका उप्रावि एवं आदर्श विद्या मंदिर स्कूलों के करीब ८०० विद्यार्थियों ने भाग लेकर एक साथ सामूहिक रूप से सूर्य नमस्कार किया। इसी प्रकार चिलानाड़ी, सांगरानाड़ी व कालेवा भी सैकड़ों

मोकलसर. स्वामी विवेकानंद सार्धशती के अवसर पर सोमवार को कस्बे सहित रमणिया, धीरा, मांगी, जिनपुर, सैला, महिलावास, लुदराड़ा, वालु, फूलण, कुंडल, पादरु, ईटवाया सहित सभी गांवों के स्कूल में सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन हुआ। जिसमें सैकड़ों विद्यार्थियों ने सामूहिक सूर्य नमस्कार किया। इस मौके पर सैला सरपंच गेबाराम मेघवाल, संस्था प्रधान अमराराम बारड़, सुभाष, विशनाराम सहित ग्रामीण मौजूद थे।

कल्याणपुर. कस्बे के राजकीय उमावि में सोमवार को स्वामी विवेकानंद सार्धशती के अवसर पर सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में राउमावि कल्याणपुर, लक्ष्य ज्योति शिक्षण संस्थान आदि स्कूलों के विद्यार्थियों ने सामूहिक रूप से सूर्य नमस्कार किया।




जैसलमेर
विवेकानन्द सार्धशती समारोह समिति द्वारा विवेकानंद जी की 150वीं जयंती वर्ष में आयोज्य कार्यक्रमों की कड़ी में जैसलमेर शहर में दो स्थानों पर सूर्य नमस्कार महायज्ञ कार्यक्रम आयोजित किए गए। नगर संयोजक मानव व्यास ने बताया कि शहर के अमर शहीद पूनमसिंह स्टेडियम में छात्रों के लिए कार्यक्रम आयोजित हुआ जिसमेंं मुख्य अतिथि छोटूसिंह विधायक जैसलमेर एवं विशिष्ठ अतिथि अशोक तंवर अध्यक्ष नगरपरिषद जैसलमेर एवं मूलाराम चौधरी प्रधान पंचायत समिति जैसलमेर थे। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता जिले के वरिष्ठ शिक्षक दामोदर जोशी तथा मुख्य वक्ता एबीवीपी के राष्ट्रीय संगठन मंत्री सुनील आंबेकर थे।

कार्यक्रम की प्रस्तावना नगर संयोजक मानव व्यास ने प्रस्तुत की जिन्होंने सार्ध शती आयोजन के महत्व व वर्ष भर में आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों की जानकारी दी। मुख्य अतिथि छोटूसिंह ने विवेकानन्द के आदर्शों को अपने में समाहित कर चरित्रवान बन कर राष्ट्र की सेवा की बात कही। प्रधान मूलाराम ने छात्रों के द्वारा किए जाने वाले इस कार्यक्रम की भूरि-भूरि प्रशंसा की एवं मुख्य वक्ता सुनील आंबेकर ने विवेकानंद के जीवन के विभिन्न पहलुओं को उद्धत करते हुए बताया कि विवेकानंद जैसे राष्ट्रभक्त, तपस्वी, ओजस्वी व कीर्तिवान मनीषी बनने के लिए उनके जीवन चरित्र से सीख लेनी चाहिए थी। आंबेडकर ने विवेकानन्द की तुलना हनुमान से की। उन्होंने बताया कि स्वामीजी कर्मयोग पर सदैव बल दिया करते थे एवं उन्होंने छात्रों को मैदान से बाहर नहीं होने की बात कही। अपने प्रबोधन में आंबेकर ने बताया कि सूर्य नमस्कार योग द्वारा प्राप्त शक्ति दुर्जनों को नष्ट करने में काम आएगी।

मुख्य वक्ता आंबेकर के उदबोधन के पश्चात 25 विद्यालयों के लगभग 3000 छात्रों ने सामूहिक सूर्य नमस्कार किया एवं विभिन्न परिधानों में होते हुए एकरूपता का ठीक वैसा दृश्य उपस्थित किया जैसे भिन्न-भिन्न प्रदेशों से आए एक देश के वासी हो। कार्यक्रम के अंत में राजेश व्यास ने सभी आगंतुकों का धन्यवाद ज्ञापित किया।

इसी क्रम में मोंटेसरी बाल निकेतन उच्च माध्यमिक विद्यालय में 500 से अधिक छात्राओं ने सूर्य नमस्कार महायज्ञ में भाग लिया। छात्राओं के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रधान लक्ष्मीकंवर, विशिष्ठ अतिथि ज्योत्सना व्यास, अध्यक्ष सरस्वती छंगाणी एवं मुख्य वक्ता सुश्री ममता यादव राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एबीवीपी थी। इस अवसर पर हीरालाल साधवानी ने अतिथियों का परिचय करवाया। सुश्री ममता यादव ने अपने उदबोधन में विवेकानन्द द्वारा विश्व में भारतीय आध्यात्म एवं संस्कृति के प्रसार को सराहनीय बताया एवं विवेकानन्द का महात्मा गांधी पर क्या प्रभाव पड़ा भी बताया। उन्होंने विभिन्न विद्वानों की नजरों में विवेकानन्द के कृत्यों का व्याख्यान दिया। सरस्वती छंगाणी ने अध्यक्षीय उद्बोधन में सूर्य के ओज ग्रहण करने के लिए सूर्य नमस्कार का महत्व बताया। कार्यक्रम की भूमिका आशाराम सिंधी ने रखी एवं कार्यक्रम का संचालन राजलक्ष्मी थानवी ने किया।

स्वामीजी के बताए रास्ते पर चलने की जरूरत है

चांधन. स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह समिति द्वारा चांधन मे सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। समारोह को संबोधित करते हुए मिथिलेश गौतम ने कहा कि जहां सेवा और त्याग की भावना होती है वहां हमारे महापुरूषों द्वारा देखे सुनहरे भारत का वास होता है। प्रधानाचार्य बराईदीन सांवरा ने कहा कि एकता हिन्दुस्तान कि सबसे बड़ी ताकत है और स्वामीजी द्वारा बताई गई राह इस ताकत को और बढ़ाती है। युवा नेता कंवराज सिंह चौहान ने कहा कि स्वामीजी के विचार आज भी प्रासंगिक है। हर नागरिक को उनके द्वारा बताए रास्ते पर चलने की जरूरत है। इस अवसर पर भगवानाराम, रेवंतसिह, आईदान राम,भीम सिंह, मुकेश बारुपाल, पूनाराम, प्रेम सिंह आदि उपस्थित थे

रामगढ़. स्वामी विवेकानन्द सार्धसती समारोह के अंर्तगत आदर्श विद्या मंदिर माध्यमिक के खेल मैदान में 313 विद्यार्थियों सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ में भाग लिया। स्थानीय समारोह समिति के संयाजक डॉ. विष्णुराम विश्नोई तथा शिक्षक संघ के अध्यक्ष शैतानसिंह पूनमनगर मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे। सह संयोजक दीपक रामावत द्वारा समस्त विद्यार्थियों को सूर्य नमस्कार करवाया गया। सूर्य नमस्कार हायज्ञ के सफल संचालन में आचार्य पदमाराम, मनोज सोनी, राहुल बिस्सा, गणपतसिंह, दीपसिंह आदि का सराहनीय सहयोग रहा। मंच संचालन नरेन्द्र कुमार मेहरड़ा ने किया। इसी प्रकार सुल्ताना में आयोजित सूर्य नमस्कार महायज्ञ में विभिन्न विद्यालयों के 400 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

फतेहगढ़. उपखंड मुख्यालय में स्थित राउमावि में सोमवार को स्वामी विवेकानंद की 150वीं जयंती के अवसर पर उपखंड के विभिन्न गांवों में सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। सवाईदान ने बताया कि फतेहगढ़ में कानसिंह के नेतृत्व में 310 छात्रों ने, लखा में भवानीसिंह के नेतृत्व में 300, झिनझिनयाली में घेवरसिंह के नेतृत्व में 360 विद्यार्थियों ने सूर्य नमस्कार में हिस्सा लिया। प्रधानाचार्य उस्मान खां उपस्थित छात्र छात्राओं को संबोधित किया।

देवीकोट. सूर्यनमस्कार महायज्ञ आयोजन समिति देवीकोट द्वारा आयोजित सूर्यनमस्कार कार्यक्रम में देवीकोट क्षेत्र के विभिन्न विद्यालयों के विद्यार्थियों तथा ग्रामीण युवकों ने भाग लिया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि शारीरिक शिक्षक विनोद कुमार बिस्सा थे। मुख्य वक्ता के रूप में चतरसिंह कीता उपस्थित थे। इस अवसर पर ईश्वरसिंह, ओमसिंह, खेमाराम छोड़, अमृतसिंह, जीवराजसिंह, खेतदान, घनश्यामदास, अमरसिंह, पूंजराजसिंह, कमलकिशोर आदि ने सहयोग किया।


पोकरण. स्वामी विवेकानंद की 150 वीं जयंती समारोह के दौरान शहर के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय तथा राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में लगभग 600 बालक बालिकाओं ने सूर्य नमस्कार कार्यक्रम प्रस्तुत किया। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में मोहनलाल पालीवाल उपस्थित थे। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता रेवंताराम बारूपाल ने की। इसके साथ ही मुख्य वक्ता के रूप में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक प्रमुख नंदलाल जोशी उपस्थित थे। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक प्रमुख नंदलाल जोशी ने कहा कि सूर्य नमस्कार शरीर को स्वस्थ्य बनाने की ऐसी प्रक्रिया है जिसे हर उम्र का व्यक्ति कर सकता है। उन्होंने बताया कि विवेकानंद व्यक्तित्व के धनी थे। विवेकानंद द्वारा हिंदू संस्कृति तथा उसके संस्कारों को पूरे विश्व में फैलाना चाहते थे तथा इसके लिए उन्होंने कई देशों में जाकर भारतीय संस्कृति का प्रचार प्रसार भी किया। इस अवसर पर उपस्थित विशिष्ट अतिथि मोहनलाल पालीवाल ने उपस्थित बच्चों तथा लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि सूर्य नमस्कार शरीर की एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से पूरे शरीर में खून का बहाव तेज हो जाता है तथा शरीर में रोगों से लडऩे की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। इस अवसर पर विभिन्न विद्यालयों के कुल 348 विद्यार्थियों ने सूर्य नमस्कार का प्रदर्शन किया। इसके साथ ही राजकीय बालिका उमावि में भी 237 बालिकाओं द्वारा सूर्य नमस्कार कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में नगरपालिका अध्यक्ष छोटेश्वरी देवी तथा मुख्य वक्ता के रूप में रिचा चारण उपस्थित थे। कार्यक्रम के दौरान सीमाजन कल्याण समिति के प्रदेश मंत्री जयकिशन दवे, जुगल किशोर व्यास, मोहनलाल खत्री, खेताराम माली, शैतानसिंह राठौड़, मदनसिंह राजमथाई, मालमसिंह सनावड़ा सहित कई लोग उपस्थित थे।



नागौर


गांवों व शहरों की स्कूलों में सोमवार को सूर्य नमस्कार महायज्ञ के तहत कई कार्यक्रम हुए। इसमें विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों ने सूर्य नमस्कार किया। विद्यार्थियों को वक्ताओं ने विवेकानंद की जीवनी का सार समझा कर राष्ट्र के लिए कुछ हटकर करने की प्रेरणा दी।

नागौर स्टेडियम में सोमवार सुबह 11.30 बजे हुए कार्यक्रम में 30 से अधिक राजकीय व निजी शालाओं के लगभग 5 हजार विद्यार्थी सूर्य नमस्कार के सहभागी बने। कार्यक्रम संयोजक हेमंत जोशी, हनुमान सिंह देवड़ा, प्रेमचंद भाटी, सुशील गोदारा, शरद जोशी, शिंभू राम चोटिया, ओमप्रकाश व संजय सोनी द्वारा स्टेडियम में रेखांकन की व्यवस्था की गई। टैगोर सेंट्रल स्कूल, रानाबाई स्कूल, बाल गंगाधर स्कूल, सुप्रीम पब्लिक स्कूल, चौधरी पब्लिक स्कूल, सेंट जिवियर्स स्कूल व डेनियल मेयो स्कूल में विद्यार्थियों को सूर्य नमस्कार का अभ्यास किया। स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह समिति के तत्वावधान में केशव दास बगीची के महंत जानकीदास महाराज के सान्निध्य में सूर्य नमस्कार हुआ। इसमें निजी व राजकीय विद्यालयों के 3447 विद्यार्थियों ने भाग लिया। इस मौके पर रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन के पूर्व वैज्ञानिक हनुमान प्रसाद व्यास ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने भारतीय जनमानस में आत्मविश्वास व आत्म गौरव बढ़ाया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि वैद्य बंशीधर पारीक व कार्यक्रम अध्यक्ष माली समाज अध्यक्ष कृपाराम देवड़ा ने विचार व्यक्त किए। शारदा बालिका निकेतन की बालिकाओं ने विवेकानंद के जीवन पर आधारित गीत का समवेत गान करवाया। कार्यक्रम संयोजक हेमंत जोशी ने अतिथियों का परिचय करवाया। संचालन बालकिशन भाटी व सूरजमल ने किया। जस्साराम चौधरी ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस मौके पर शिवप्रताप, किशन नारायण रांकावत, फतेहचंद चौहान, हनुमान सिंह चौधरी, रामू राम सैनी, ओमप्रकाश खिलेरी व निजी स्कूल एसोसिएशन द्वारा सक्रिय सहयोग दिया।

अलाय में राउमावि के खेल मैदान में स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समिति द्वारा सूर्य नमस्कार महायज्ञ हुआ। इसमें विभिन्न स्कूलों के 500 छात्रों ने भाग लिया। इस मौके पर मुख्य अतिथि भाजपा के प्रांतीय कार्यकारिणी सदस्य मोहनराम चौधरी, मुख्य वक्ता प्रांत संस्कार केंद्र प्रमुख रुद्र कुमार शर्मा, अध्यक्षता सरपंच ताराचंद गर्ग ने की। विशिष्ट अतिथि राबासै स्कूल की प्रधानाचार्य मंजू सिरोहीवाल रही। गंगाविशन डेलू, उम्मेदाराम व्याख्याता, हजारी राम आदि उपस्थित थे। अतिथियों का स्वागत परिचय समिति के तहसील संयोजक भोजराज ने करवाया। विवेकानंद अवतरण कंचन विश्नोई ने सुनाया। संचालक गिरधारी राम ने व सूर्य नमस्कार प्रवीण कुमार ने करवाया।


रोल कस्बे के राउमावि में भंवरलाल डिडेल के मुख्य आतिथ्य में सूर्य नमस्कार महायज्ञ हुआ। इस दौरान विभिन्न शिक्षण संस्थानों के कई विद्यार्थियों ने सूर्य को नमन किया। प्रधानाचार्य रामनरेश भाटी, बजरंग पुरी ने विवेकानंद के बताए मार्ग पर चलने व उसके विचारों को अपने जीवन में उतारने की बात कही। इस दौरान स्नेहलता द्विवेदी, ऋचा वर्मा, सत्यनारायण रावत, लक्ष्मण सिंह कालवी, भोपाल सिंह, शारदा मेघवाल, राजकुमार, हरिप्रसाद इनाणिया सहित कई लोग उपस्थित थे। इसी प्रकार गगवाना के सरस्वती शिक्षण संस्थान में भी सूर्य नमस्कार कार्यक्रम हुआ।

छोटी खाटू कस्बे के निर्भय स्टेडियम में सोमवार को विवेकानंद सार्ध शती समारोह समिति द्वारा सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन रखा गया। इसमें कस्बे के अनेक सरकारी व गैर सरकारी विद्यालयों के बच्चों ने भाग लिया। समिति अध्यक्ष व समारोह के मुख्य वक्ता कपूरचंद बेताला ने स्वामी विवेकानंद के जीवनी के बारे में बताया। करीब 350 बच्चों ने मंत्रोच्चारण के साथ सूर्य नमस्कार व्यायाम प्रदर्शन किया। समारोह में जगदीश प्रसाद सारडा, पूर्व सरपंच पतासी देवी, समिति कार्यक र्ता प्रभुराम बेनीवाल, शेराराम चौधरी, प्रेम सिंह चौधरी, शरबतचंद धारीवाल, नानकदास महाराज, पवन जोशी, गौतमचंद धारीवाल, कुलदीप राखेचा, रवि धारीवाल, भागीरथ अग्रवाल, चंद्रशेखर जोशी, मोतीलाल जादम सहित अनेक ग्रामीण उपस्थित थे।

गोटन स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह के उपलक्ष्य में सोमवार को कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, आदर्श शिक्षण संस्थान, राज शिक्षण संस्थान व लाल बहादुर शिक्षण संस्थान सहित अन्य विद्यालयों में भी छात्र छात्राओं ने मंत्रोच्चार के साथ सूर्य नमस्कार किया।

जसवंतगढ़ कस्बे के संस्कृत महाविद्यालय खेल मैदान पर सोमवार को सभी विद्यालयों का सामूहिक सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन पाबोलाव धाम के महंत कमलेश्वर भारती के सान्निध्य में किया गया। स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह आयोजन समिति द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्य वक्ता बीकानेर विभाग के सह संपर्क प्रमुख कुंजीलाल ने स्वामी विवेकानंद के जीवन के बारे में पूर्ण जानकारी देते हुए छात्रों को उनके जीवन चरित्र से प्रेरणा लेने का आह्वान किया। कार्यक्रम में सूरजमल तापडिय़ा आचार्य संस्कृत महाविद्यालय, आदर्श विद्या मंदिर, शेखावाटी सैकंडरी विद्यालय, वंृदा फाउंडेशन इंग्लिश मीडियम स्कूल, कृष्णा कॉन्वेंट, सरस्वती शिक्षण संस्थान, भवानी निकेतन सैकंडरी विद्यालय,मोंटेसरी शिक्षा सदन सहित विद्यालयों के करीब 1000 छात्रों ,संस्था प्रधानों, व ग्राम के नागरिकों ने भाग लिया। कार्यक्रम में महावीर प्रसाद आसोपा, डॉ. हेमंत कृष्ण मिश्र, अंजनी कुमार सारस्वत, राजूराम, पूनमचंद टाक, मुरादखान,राजेंद्र सांखला सहित कई कार्यक र्ता उपस्थित थे।

मारवाड़ मूंडवा स्वामी विवेकानंद ने अपने कृतित्व से विश्व पटल पर भारत की जिस आध्यात्मिक चिंतन का प्रस्तुतीकरण आज उसको दुनिया मानती है। भारतीय जीवन दर्शन जीव मात्र के कल्याण की कामना करता है, यहां रिश्तों एवं संबंधों की जो प्रगाढ़ता है वो अन्यत्र कहीं नहीं मिलती है। उक्त विचार विधा भारतीय अखिल भारतीय शिक्षण संस्थान की बालिका शिक्षा सह संयोजिका प्रमिला शर्मा ने व्यक्त किए। शर्मा यहां राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय तथा शारदा बाल निकेतन में अलग अलग आयोजित सूर्य नमस्कार महायज्ञ कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के तौर पर बोल रही थी। उन्होंने जहां महिला उत्थान के प्रति जागरूकता दिखाई वहीं समाज की व्याप्त जाति प्रथा, भाई भतीजावाद जैसी कुरीतियों को अपने कृतित्व से मिटाने का प्रयास करते हुए एक स्वच्छ उदाहरण प्रस्तुत किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए संत राघवदास ने कहा कि मनुष्य के पतन का प्रमुख कारण पशुओं के आचरण को अपनाना है। प्रबुद्ध आयाम प्रमुख एवं प्रधानाचार्य प्रेमप्रकाश मिश्र, प्रधानाचार्या ऊषा रानी खन्ना, संवर्धिनी प्रमुख एवं व्याख्याता निर्मला ताखर, जिला युवा आयाम प्रमुख एवं व्याख्याता भंवरलाल कासणियां ने भी संबोधित किया।

खींवसर खींवसर के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के खेल मैदान में सोमवार को स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह आयोजन समिति के तत्वावधान में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन हुआ। इस दौरान कस्बे की सरकारी व निजी स्कूलों ने भाग लिया। इसी तरह क्षेत्र के गांव पांचला सिद्धा के जसनाथ आश्रम में व नारवा के राजस्थान पब्लिक शिक्षण संस्थान में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। महंत सूरजनाथ योगी के सान्निध्य में इस महायज्ञ में जसनाथ विद्या पीठ माध्यमिक विद्यालय, नेहरू शिक्षण संस्थान महर्षि शिक्षण संस्थान, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने रुचिपूर्ण व उत्साह से भाग लिया।

मेड़ता रोड स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह के तहत वर्षभर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों के तहत सोमवार को कस्बे में स्थित कल्पना चावला, मरुधर डिफेंस, मीरा बाल, सर्वोदय स्कूल आदि में बच्चों ने सूर्य नमस्कार किया।

रूण स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह के तहत राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय रूण में सूर्य नमस्कार महायज्ञ हुआ। प्रधानाध्यापक उम्मेद सिंह भाटी के मार्गदर्शन व विद्यार्थी मित्र पूसा मोहम्मद के निर्देशन में सभी विद्यार्थियों ने सामूहिक रूप से सूर्य नमस्कार किया। प्रधानाचार्य रामेश्वर लाल छीपा ने सूर्य नमस्कार के नियमित अभ्यास का आह्वान किया।

लाडनूं स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह के अवसर पर सोमवार को करंट बालाजी मंदिर के सामने दशहरा मेला मैदान में बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने सूर्यदेव के मंत्रोच्चार के साथ सूर्य नमस्कार की विभिन्न क्रियाएं संपन्न की। यह आयोजन स्वामी विवेकानंद की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में सूर्य सप्तमी के अवसर पर आयोजित किया गया। इस अवसर पर बीकानेर विभाग प्रचारक कुंजीलाल ने कहा कि डेढ़ सौ साल बाद भी स्वामी विवेकानंद आज भी युवा वर्ग के आइडियल बने हुए हैं। उन्होंने अपने संदेश में सबसे पहले इंसान बनने की बात कही थी तथा मानवता को सर्वोपरि बताया था। इस अवसर पर सार्ध शती समारोह समिति क
 


सिरोही

स्वामी विवेकानंद शार्धशताब्दी के उपलक्ष्य में सोमवार को जिलेभर में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। इसमें हजारों विद्यार्थियों ने एक साथ सूर्य नमस्कार कर बलशाली एवं निरोगी होने तथा स्वामी विवेकानंद के सपनों को साकार करने का संकल्प लिया। जिला मुख्यालय के अरविंद पैवेलियन में निजी एवं सरकारी स्कूलों के 4500 विद्यार्थियों ने एक साथ सूर्य नमस्कार कर भगवान सूर्य को नमन किया।

शहर के अरविंद पैवेलियन पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य वक्ता कैलाश भसीन ने कहा कि भारत का युवा बलशाली बने, निरोगी बने तथा राष्ट्र की रक्षा के लिए सदैव तत्पर रहे। इसके लिए सूर्य नमस्कार महायज्ञ कार्यक्रम स्वामी विवेकानंद के 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में किया गया। कार्यक्रम में समाजसेवी रघुनाथ माली, विधायक ओटाराम देवासी, समिति के जिला संयोजक जयगोपाल पुरोहित एवं संत शरणप्पा स्वामी का सानिध्य रहा। आयोजन समिति के जिला संयोजक पुरोहित ने बताया कि जिले के 460 गांवों सहित शिवगंज, पोसालिया, आबूरोड, सरूपगंज, पिंडवाड़ा, कोजरा, रेवदर, मंडार, अनादरा कस्बों में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। इस दौरान छात्रों को प्रतिदिन 13 सूर्य नमस्कार करने का संकल्प दिलाया।

शिवगंज शहर के पैवेलियन में सूर्यनमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। इसमें विभिन्न स्कूलों के करीब ढ़ाई हजार छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। कार्यक्रम का शुभारंभ संत निर्भयनाथ महाराज, पंछीदास महाराज, विजयदास महाराज व मोतीलाल सोनी ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम में जीवनसिंह ने मंचासीन अतिथियों का परिचय करवाया तथा लक्ष्मण सुंदेशा ने स्वामी की जीवनी पर गीत प्रस्तुत किया। सह संयोजक केशव त्रिवेदी ने सभी का आभार जताया। कार्यक्रम में हुकमसिंह, रणछोड़ जालोरा, दिनेश बिंदल, गोविंद सुथार, शिवलाल सुथार, प्रतापराम माली, माणक प्रजापत, नरेंद्रसिंह मौजूद थे।

सरूपगंज स्वामी विवेकानंद सार्धशाताब्दी के उपलक्ष में सरूपगंज खंड के भावरी, खाखरवाड़ा व काछोली में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। खंड संयोजक अमृत पुरोहित ने बताया कि आदर्श विद्या मंदिर में 500 छात्र, पुरानी भावरी में 400 छात्र, खाखरवाड़ा में 200 छात्र एवं काछौली में करीबन 400 छात्रों ने सूर्य नमस्कार कार्यक्रम में भाग लिया। आदर्श विद्या मंदिर में सूर्य नमस्कार समारोह समिति के अध्यक्ष गिरधारीलाल अग्रवाल ने स्वामी विवेकानंद के आदर्शों पर चलने का आह्वान किया तथा नित्य सूर्य नमस्कार करने की प्रेरणा दी, ताकि युवाओं में बल, बुद्धि, तेज, आयु बढ़े। कार्यक्रम में खंड सह संयोजक पवन जोशी, समिति सदस्य शेषमल रावल, नरपतसिंह सोलंकी मौजूद थे।

रेवदर स्वामी विवेकानंद की 150वीं जन्म जयंती के उपलक्ष्य में सोमवार को उपखंड क्षेत्र के कई गांवों के स्कूलों में विद्यार्थियों ने एक साथ सूर्य नमस्कार कार्यक्रम में भाग लेकर भगवान सूर्य को नमन किया। कस्बे के खेल मैदान में राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के तहसील कार्यवाह पुरुषोतम के सानिध्य में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उन्होंने छात्र-छात्राओं को सूर्य नमस्कार की महत्ता बताई। कार्यक्रम के अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद शर्मा, ओमप्रकाश वैष्णव, गोविंद सिंह, बृजकिशोर, रमेश प्रजापत, दरगाराम छीपा, नगर संयोजक रावताराम, मदन जोशी मौजूद थे। वहीं लुणोल में आयोजित कार्यक्रम में नारायणलाल पुरोहित, हरीसिंह देवड़ा मौजूद थे।

पोसालिया कस्बे समेत आसपास के गांवों में सोमवार को स्वामी विवेकानंद शार्धशताब्दी के उपलक्ष्य में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। कस्बे के आदर्श विद्या मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में 700 से अधिक विद्यार्थियों ने एक साथ सूर्य नमस्कार किया। कार्यक्रम में तहसील संयोजक विक्रम चौहान, सरपंच पोनी देवी, मोहन लाल जैन, बीईईओ सुनिल व्यास, हमीरसिंह राव, नैनाम माली, करणसिंह, दिनेश रावल, पीरसिंह, कैलाश परमार मौजूद थे। इसी क्रम में उथमण, अरठवाड़ा, पालड़ी एम, राडबर, चुली, रूखाड़ा, खंदरा, छीबागांव, बागसीन, मोसाल, भेव ओर वैरारामपुरा मे भी सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन हुआ।

रोहिड़ा स्वामी विवेकानंदजी के 150वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष में सोमवार को सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल रोहिड़ा के मैदान परिसर में किया गया। आरएसएस खंड कार्यवाद आकाश दीप रावल ने बताया कि सूर्य नमस्कार महायज्ञ आरएसएस के जिला बौद्धिक प्रमुख दशरत कुमार की अध्यक्षता में हुआ, जिसमें स्वामीजी के संदेश को युवा शक्ति तक पहुंचाया। इसके साथ ही वासा, सनवाड़ा आर, मांडवाड़ा देव, में सह संयोजक दिनेश पटेल एवं वाटेरा, भीमाणा, भारजा में तहसील सेवा प्रमुख हरीशंकर पुरोहित की ओर से कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें नरेश कुमार, राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल के प्रधानाचार्य मुकेश आढ़ा, गुरुकुल स्कूल के संस्था प्रधान विपुल जानी, खंड संयोजक दशरत प्रजापत एवं समस्त कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे।

पिंडवाड़ा वनवासी कल्याण परिषद की ओर से संचालित आदर्श विद्या मंदिर में सूर्य नमस्कार का आयोजन मुख्य वक्ता रामचंद्र रावल के मार्गदर्शन व नगर संयोजक तगाराम, सहनगर संयोजक अशोक रावल, अशोक सेन के उपस्थिति में हुआ। कार्यक्रम में विभिन्न स्कूलों के करीब 400 विद्यार्थियों ने सूर्य नमस्कार किया। इस दौरान जगदीश कुल्मी, परबत सिंह राठौड़, भाजपा नगर अध्यक्ष कैलाश रावल, शंकरलाल गहलोत, घरट सरपंच अर्जुन लाल गरासिया, लाडूराम गरासिया, सेामाराम रावल मौजूद थे। इसी क्रम में झाड़ोली के राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल के खेल मैदान में खंड संयोजक हरीसिंह और सहखंड संयोजक गणेश मीणा के सानिध्य में कार्यक्रम हुआ।

कोजरा कस्बे के सीनियर सैकंडरी स्कूल में सूर्य नमस्कार का आयोजन क्षेत्रीय कार्यकारी सदस्य कैलाश भसीण की अध्यक्षता में हुआ। उन्होंने स्वामी विवेकानंद की जीवनी पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में कस्बे के निजी व राजकीय स्कूलों के छात्र-छात्राओं ने सूर्य नमस्कार कर सूर्य को प्रणाम किया।

मंडार कस्बे के विद्या मंदिर उच्च प्राथमिक परिसर में सोमवार सुबह सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता व राष्ट्रीय सेवक संघ के जिला घोष प्रमुख भूराराम चौधरी ने कहा कि सूर्य नमस्कार सभी आसनों का महायोग है ओर प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करने के शारीरिक, बौद्धिक, नैतिक एवं अध्यात्मिक आसनों का विकास होता है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा के साथ धर्म का ज्ञान भी बच्चों में होना आवश्यक है। संस्था प्रधान प्रकाशचंद्र पुरोहित ने बताया कि कार्यक्रम में निजी एवं सरकारी स्कूलों के बच्चों ने भाग लिया।

इस मोके अध्यापक कालू जीनगर, सतीश कुमार जोशी, अंजुलता रावल, भैराराम, जीतू भाई, कांतिलाल, मुकेश कुमार, कैलाश कुमार मौजूद थे।


मंत्रोच्चार के साथ किए 13 सूर्य नमस्कार

आबूरोड. विवेकानंद सार्ध शताब्दी समारोह समिति आबूरोड व गोविंदानन्द आदर्श विद्या मंदिर आबूरोड के सयुंक्त तत्वाधान में सोमवार को विद्या मंदिर के क्रीड़ा परिसर में सूर्य नमस्कार महायज्ञ कार्यक्रम हुआ। इसमें करीब 600 बालक व बालिकाओं ने भाग लिया। विद्या मंदिर के शारीरिक शिक्षक ईश्वरलाल ने मंत्रोच्चारण के साथ 13 सूर्य नमस्कार करवाए। समिति के जिला सहसंयोजक शैतान सिंह ने सूर्य नमस्कार का महत्व बताया। प्राथमिक प्रधानाचार्य मोहन परिहार ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया ।



स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह पर जिले के विभिन्न स्कूलों व संगठनों की ओर से सूर्य नमस्कार के आयोजन, विद्यार्थियों ने उत्साह से लिया भाग


हनुमानगढ़ भास्कराय नम:, सूर्याय नम: जैसे मंत्रों के उच्चारण से सोमवार को हनुमानगढ़ गूंज उठा। मौका था स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह के उपलक्ष्य में आयोजित सूर्य नमस्कार महायज्ञ कार्यक्रम का। जंक्शन के गुरु हरकृष्ण सीनियर सेकंडरी स्कूल व टाउन के राजकीय महाविद्यालय में सुबह 11:30 बजे शुरू हुआ कार्यक्रम एक घंटे तक चला। इसमें विभिन्न स्कूलों के 1750 छात्र-छात्राओं ने विभिन्न मुद्राओं से सूर्य देव को नमस्कार किया। जंक्शन में मनोज शर्मा ने मंत्रोच्चारण से सूर्य नमस्कार करवाते हुए योग व आसन के फायदे बताए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बी डी सेतिया थे जबकि अध्यक्षता वीडी कटेवा ने की। मुख्य वक्ता जोधपुर के श्याम मनोहर थे। जिला संयोजक कैलाश, तहसील संयोजक अमित तरड़ आदि ने विचार रखे। इसी तरह टाउन के राजकीय कॉलेज में सूर्य नमस्कार समारोह की अध्यक्षता कृष्ण चंद्र शर्मा ने की। मुख्य वक्ता जिला प्रचारक गोविंद प्रसाद ने विवेकानंद के विचारों को आत्मसात करने की बात कही। इस मौके पर सुभाष सहारण, जिला कार्यवाह गंगाधर शर्मा, उग्रसेन, शीशपाल, ओम गोदारा, सावन पाइवाल, राघवेंद्र सिंह, मदन पुनियां, अंकुश सहारण, राज बेनीवाल आदि मौजूद थे। दून स्कूल, श्री देवी महिला पोलिटेक्निक कॉलेज, हरगोविंद सिंह, सेठ हंसराज मेमोरियल, एसजीएन खालसा, एमडी स्कूल, बेबी हैप्पी, शिवा पब्लिक स्कूल आदि के विद्यार्थियों ने भी सूर्य नमस्कार किया।

रावतसर. सोमवार को बाल नवजीवन शिक्षण संस्थान व सीकर इंटरनेशनल एकेडमी में सूर्य नमस्कार महायज्ञ कार्यक्रम हुआ। इसमें विद्यालय के 800 विद्यार्थियों ने भाग लिया। मुख्य वक्ता कैलाश मेघवाल, जिला संयोजक कैलाश मेघवाल ने सूर्य नमस्कार की विधि व मानव जीवन में इसके लाभों के बारे में विस्तार से बताया। तहसील संयोजक विष्णु शर्मा ने बताया कि रावतसर तहसील के लगभग सभी विद्यालयों व कॉलेज में सूर्य नमस्कार के कार्यक्रम हुए। इस अवसर पर शिव भगवान, कालूराम खाती, आनंद जोशी, बजरंग सिहाग, पुरुषोत्तम शर्मा, अरविन्द बिहाणी, नौरंग सोमानी, रामचंद्र अरोड़ा, कुलदीप चुघ, कुंदन जाजू, अमरसिंह सिहाग, धर्मवीर शर्मा आदि ने विद्यार्थियों का सूर्य नमस्कार करवाया। इस महायज्ञ में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, नेहरू मैमोरियल, डॉ. अम्बेडकर उच्च माध्यमिक विद्यालय,, स्वामी विवेकानंद, जयभारत, रविन्द्र नाथ टैगोर, आरएनटी कान्वेंट स्कूल, नेताजी सुभाषचंद्र बोस, पारीक पब्लिक, विकास मॉडल स्कूल चौधरी आईटीआई कॉलेज सहित अनेक शिक्षण संस्थाओं के छात्राओं ने भाग लिया।

भादरा. स्वामी विवेकानंद सार्ध शती समारोह आयोजन समिति की ओर से सोमवार को राउमा विद्यालय के खेल मैदान में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाराजा अग्रसेन शिक्षण संस्थान के चेयरमैन सुशील गुप्ता ने की। मुख्य अतिथि समाजसेवी जिला स्काउट मास्टर नंदलाल सिंह राठौड़ थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए तहसील कार्यवाहक रामस्वरूप कामड़ ने कहा कि सोमवार को पूरे देशभर में एक साथ सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया है। विद्यार्थियों एवं युवाओं में स्वामी विवेकानंद के विचारों एवं आदर्शों को स्थापित करने के लिए स्वामी विवेकानंद की 150वीं वर्षगांठ पर पूरे साल भर इस तरह के कार्यक्रम होते रहेंगे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सुशील गुप्ता ने इस प्रकार के आयोजनों को संस्कार पूर्ण बताते हुए कहा कि इससे भारतीय संस्कृति एवं योग के प्रति जागरूकता पैदा होगी और सभी विद्यार्थी लाभांवित होंगे। कार्यक्रम में तेजपाल पूनियां, सुरेंद्र महीपाल, पुनीत खोखेवाला, कपिल कुलडिय़ा, शक्ति, जयरामदास, रतनलाल बड़वेवाला, मदनलाल आर्य, छोटूराम, विजय शर्मा, चरण सिंह खोखर, महेन्द्र सहू, मोहनलाल वर्मा, कृष्णकुमार, मनीष सहू समेत भादरा क्षेत्र के विभिन्न विद्यालयों के 1760 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया।



नोहर. स्वामी विवेकानंद सार्दशती कार्यक्रम के अंतर्गत तहसील के विभिन्न विद्यालयों में सूर्य नमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया गया। स्वामी विवेकानंद सार्दशती समारोह आयोजन समिति के सह संयोजक रवींद्र शर्मा, अजय गुरू व तहसील कार्यवाह रमेश पारीक व सह कार्यवाह नानूराम द्वारा विभिन्न विद्यालयों में जाकर सूर्य नमस्कार को 13 मंत्रों सहित करवाय गया। इस अवसर पर वक्ताओं ने सूर्य नमस्कार को महत्व बताते हुए कहा कि नित्य सूर्य नमस्कार करने वाला व्यक्ति लंबी आयु, कुशाग्र बुद्धि, बल व तेज को प्राप्त करता है। उपस्थित विद्यार्थियों ने नियमित सूर्य नमस्कार का प्रण लिया। उधर, युवा सेवग समिति के तत्वाधान में सूर्य सप्तमी के अवसर पर सूर्य की आराधना कि गई। प्रभात फेरी व हवन किया गया। उपस्थित जनों ने जरूरतमंदों की सहायता करने का संकल्प लिया।

फेफाना. स्वामी विवेकानंद साद्र्धसती समारोह समिति के आयोजन में विभिन्न स्कूलों में बच्चों से सूर्य नमस्कार करवाकर सूर्य उपासना दिवस मनाया गया। समिति सदस्य मनोज चारण ने बच्चों को बताया कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास होता है। सूर्य नमस्कार शरीर का एक संपूर्ण व्यायाम है। इसे रोज सुबह करने से शारीरिक, मानसिक एवं आध्यात्मिकता की भी पूर्ति होती है। ग्रामोत्थान शिक्षण संस्थान के प्रधानाचार्य सोनाराम जांगिड़., भूपसिंह सुथार, जयपाल सहारण व राजस्थान पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य संतलाल गोदारा, विनोद कुमार, राकेश व विद्यादेवी ने ने भी विचार रखे।

संगरिया. स्वामी विवेकानंद साद्र्वशती समारोह आयोजन समिति द्वारा सोमवार को तहसील के विभिन्न शिक्षण संस्थाओं में सूर्य नमस्कार कार्यक्रम हुआ। तहसील संयोजक एडवोके ट प्रमोद डेलू ने बताया कि यह कार्यक्रम किसान शहीद स्मारक उच्च माध्यमिक विद्यालय, केआर आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय, टिन्नी ट्वायज स्कूल आदि स्कूलों बच्चों ने सूर्य नमस्कार किया।

टिब्बी. स्वामी विवेकानंद सार्धशति समिति द्वारा सोमवार को क्षेत्र के समस्त विद्यालयों में स्वामी विवेकानंद की 150वीं वर्षगांठ पर विद्यार्थियों को सूर्य नमस्कार करवाया गया। मुख्य कार्यक्रम यहां के सिद्धि विनायक शिक्षण संस्थान में हुआ। कार्यक्रम में तहसील प्रभारी कृष्ण स्वामी, विद्यालय व्यवस्थापक गौरीशंकर, ओमप्रकाश सुथार, प्रधानाचार्य घनश्याम दास, रामकुमार सारस्वत व मदनलाल सहारण आदि मौजूद थे।

श्रीगंगानगर 



ckM+esj
lw;Z ueLdkj egk;K esa oDrk ds :i esa cksyrs ekuuh; gLrheyA

lw;ZueLdkj egk;K esa eapklhu & cka, ls ekuuh; iq[kjkt xqIrk] ekuuh; gLrhey] iwoZ dsekMsaV dY;k.kflag lsrjkÅ] lektlsoh ve`ryky tSuA





xwats lw;Z ueLdkj ds ea= & Åa fe=k; ue%-----------------

ckM+esjA Lokeh foosdkuan lk)Z'krh lekjksg ds rgr fnukad 18 Qjojh 2013 lkseokj dks LFkkuh; vkn'kZ LVsfM;e esa lw;Z ueLdkj egk;K dk;ZØe dk vk;kstu fd;k x;kA blesa iPphl fo|ky;ksa ds fo|kfFkZ;ksa ds lkFk lSdM+ksa 'kgjokfl;ksa us Hkh Hkkx fy;kA dk;ZØe ds eq[; oDrk la?k ds vf[ky Hkkjrh; lEidZ çeq[k gLrhey Fks tcfd v/;{krk ch,l,Q ds iwoZ dekMsaV dY;k.kflag lsrjkÅ us dhA crkSj fof'k"V vfrfFk lektlsoh ve`ryky mifLFkr jgsA dk;ZØe dk la;kstd ftyk la?k pkyd iq[kjkt xqIrk us fd;kA dk;ZØe dk vkxkt nhi çTToy ls gqvkA blds ckn dkO; xhr çLrqr fd;k x;kA gLrhey us lw;Z ueLdkj dk;ZØe ds ckjs esa dgk fd lw;Z ueLdkj djus ls 'kjhj esa vk/;kfRed] 'kkjhfjd o ekufld 'kfDr dk fodkl gksrk gSA lw;Z ueLdkj çk.kk;ke] vklu ls Js"B gSA blls vfXu rRo dk lapkj gksrk gSA Lokeh foosdkuan us Hkh ;qokvksa ls bls djus dks dgk FkkA vkt ns'k esa ,d lkFk ,d djksM+ cPps blesa 'kkfey gks jgs gSa ckM+esj esa gtkjksa dh rknkn esa mifLFkfr Hkh gekjs laLdkj o laLÑfr ds çfr Hkkoh ih<+h dh lksp dks n'kkZrh gSA ;g vius vki esa fo'o fjdkWMZ gSA  
dY;k.kflag lsrjkÅ us dgk fd egkHkkjr dky esa lw;Z ueLdkj ds ri ls gh o`)koLFkk esa Hkh yksx ;q) yM+rs FksA ;g yEch vk;q esa lgk;d gksrk gSA blls 'kjhj ds vaxksa dk fodkl gksrk gSA eap lapkyu iwuepan ikyhoky us fd;kA







*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(**(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(**(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(**(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(**(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(**(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(**(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*(*





साभार: दैनिक भास्कर , जोधपुर


नाचना 14 फ़रवरी 2013 स्वामी विवेकानंद के सार्ध शती कार्यक्रम के तहत सूर्य नमस्कार महायज्ञ आयोजन की तैयारियां जोर शोर से की जा रही है।

नाचना तहसील संयोजक राजेन्द्र पालीवाल ने बताया कि तहसील कार्यवाहक उगम सिंह, दुर्गाप्रसाद टावरी, धर्मवीर स्वामी व ललित खत्री के नेतृ्त्व में कार्यकर्ताओं ने क्षेत्र के सत्याया, आसकंद्रा, दिधु व अजासर गांवों के विद्यालयों में तथा ग्रामीणों के घर घर जाकर विवेकानंद का चित्र, स्टीकर व पत्रक वितरण किए। दक्ष प्रशिक्षक तुलसीदास ने विद्यालयी छात्र छात्राओं को सूर्यनमस्कार की अवस्थाओं के बारे में प्रशिक्षण देकर अभ्यास करवाया। तहसील कार्यवाहक उगम सिंह ने स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय दिया तथा सूर्यनमस्कार करने से होने वाले शारीरिक व मानसिक फायदों के बारे में विस्तार से बताया। नाचना कस्बे के सभी सरकारी व निजी विद्यालयों के विद्यार्थियों द्वारा जमकर सूर्यनमस्कार का अभ्यास किया जा रहा है। 

 
जैसलमेर
04 फ़रवरी  2013  स्वामी विवेकानंद सार्ध शती आयोजन समिति जैसलमेर के तत्वावधान में 18 फरवरी को विशाल सूर्यनमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया जाएगा। नगर संयोजक मानव व्यास ने बताया कि इस संबंध में जन सेवा समिति भवन में रविवार को समस्त शैक्षणिक संस्था प्रधानों की बैठक आयोजित की गई। जिसमें छात्रों के लिए शहीद पूनम सिंह स्टेडियम व छात्राओं के लिए मांटेसरी विद्यालय में कार्यक्रम आयोजित करना तय किया गया। कार्यक्रम के लिए आयोजन समिति का गठन किया गया जिसमें वरिष्ठ शारीरिक शिक्षक दामोदर जोशी को अध्यक्ष, गीता सोलंकी उपाध्यक्ष, तुलछाराम को सचिव, भगतसिंह सहसचिव, नरसिंह कोषाध्यक्ष तथा जानकी वल्लभ,यादराम, आशीष थानवी, अभिषेक व्यास, पवन वैष्णव, बाबू दान सदस्य मनोनीत किए गए। व्यवस्था प्रभारी का दायित्व संजय चूरा व सुनीता भाटी को सौंपा गया। बैठक में विभिन्न व्यवस्थाओं का विभाजन किया गया एवं कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कार्यकर्ताओं को उनके दायित्व सौंपे गए। क्षेत्रीय आयोजक समिति के सदस्य बालकृष्ण जगाणी ने सूर्य नमस्कार के महत्व के बारे में बताया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जन सेवा समिति के अध्यक्ष डॉ. दाऊ लाल शर्मा ने की। इस अवसर पर नगर संयोजक मानव व्यास, संपर्क प्रमुख आशाराम सिंधी, हीरालाल साधवानी, मेहताबसिंह, दामोदर सोलंकी व आयोजक समिति के कार्यकत्र्ता उपस्थित थे। बैठक का संचालन राजेश व्यास ने किया। 
 भारत फिर बन सकता है विश्वगुरु : गंगा विशन  

देसूरी  2 फ़रवरी 2013 प्रज्ञा  प्रवाह प्रदेश सह संयोजक गंगाविशन ने कहा कि सामाजिक समरसता का महिला सशक्तिकरण के साथ में भारत को पुन: विश्व गुरु के सिंहासन पर आरूढ़ करना है। वे शनिवार को स्वामी विवेकानंद सार्ध शती के तहत आयोजित जिला स्तरीय व्याख्यानमाला को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी देशवासियों को रक्षात्मक रूख के साथ-साथ आक्रामक रूख भी अपनाना होगा, तभी भारत विश्व शक्ति के रूप में पहचान बना पाएगा। प्रांत सह संयोजक मोतीलाल सोनी ने कहा कि अगर भारत के बारे में कुछ जानना चाहते हैं तो स्वामी विवेकानंद की जीवनी का अध्ययन करें।


बाली विधायक पुष्पेंद्रसिंह राणावत ने कहा कि स्वामी विवेकानंद के बताए मार्ग पर चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस उद्देश्य को लेकर स्वामी देश के भ्रमण के लिए निकले थे। उस उद्देश्य को पूरा करना हर भारतीय का कर्तव्य है। युवा आयाम की जिला प्रमुख सुमित्रा राजपुरोहित ने कहा कि युवा पीढ़ी को स्वामी के बताए मार्ग पर चलना चाहिए। समारोह में शक्तिसिंह मेड़तिया, ओमप्रकाश शर्मा, खेतरपाल गर्ग, गुलाब खत्री, चंपालाल लोगेंसा, गजेंद्र देवड़ा, किरणसिंह राजपुरोहित, पुष्पेंद्र सोनी, अशोक दवे, गोविंद सिसोदिया आदि मौजूद थे। संचालन हितेश रामावत व गोविंद वैष्णव ने किया।

इन भामाशाहों का रहा सहयोग

समारोह को सफल बनाने में भामाशाह खरताराम चौधरी सोनाणा, वालाराम जणवा चौधरी दुदापुरा, राहुल मकरानी रानी, भंवरलाल घांची आदि का आयोजन समिति द्वारा स्वागत किया।


 समर्थ भारत प्रतियोगिता आयोजित
रामसीन
आदर्श विद्या मंदिर में गुरुवार को राजस्थान शिक्षक संघ राष्ट्रीय ब्लॉक जसवंतपुरा के तत्वावधान में विवेकानंद के १५०वें जन्म वर्ष के उपलक्ष्य में समर्थ भारत प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। परीक्षा संयोजक किशोर रामावत ने बताया कि जिला अध्यक्ष सुरेंद्रसिंह कि देखरेख में आयोजित परीक्षा में कुल १०० छात्रों ने भाग लिया। प्रतियोगिता में विजेताओं को समाजसेवी रूपाराम सुथार की ओर से पुरस्कृत किया गया। इस अवसर पर संस्था प्रधान अनिल व्यास, देवाराम, हिम्मत प्रजापत तथा सुमेरसिंह मौजूद थे।


रानीवाड़ा शिक्षक संघ (राष्ट्रीय) उपशाखा-रानीवाड़ा के तत्वावधान में स्वामी विवेकानंद के जीवन पर आधारित समर्थ भारत प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें 52 छात्र-छात्राओं को नामांकित किया गया, जिसमें से 49 छात्र-छात्राओं ने प्रतियोगिता में भाग लिया। प्रतियोगिता में जिला स्तर पर प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विजेताओं को पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। इस अवसर पर दीपसिंह देवल, हनुमान चौधरी, महेंद्र त्रिवेदी, विक्रम सिंह, विष्णुदान, मोहब्बतसिंह, अशोक सोलंकी, गणपत विश्नोई तथा विनयसिंह व आदर्श विद्या मंदिर के कर्मचारी उपस्थित थे।

सूर्यनमस्कार प्रशिक्षण हेतु वीडियो 

 

 सूर्यनमस्कार महायज्ञ 

Mega Suryanamaskar Event

आज से 350 वर्ष पूर्व समर्थ गुरु रामदास ने गाँव-गाँव में सूर्यनमस्कार को प्रचलित किया था। छत्रपति शिवाजी की सेना बनी व स्वराज्य का गौरवमय इतिहास लिखा गया। सूर्यनमस्कार राष्ट्रनिर्माण का मार्ग सिद्ध हुआ। सूर्यनमस्कार के नियमित अभ्यास से शरीर बलवान व लचीला, मन एकाग्र व शांत, बुद्धि तीक्ष्ण व समग्र तथा भावना संतुलित व उदात्त बनने के साथ ही आध्यात्मिक उन्नति भी होती है। सूर्यनमस्कार के सामूहिक अभ्यास से चमुत्व भाव (टीम स्पिरिट) का विकास व राष्ट्रनिर्माण का संस्कार सहजता से हो जाता है। आयोजन की भव्यता से समाज में सकारात्मक संदेश प्रसारित होता है। कार्यकर्ता, शिक्षक एवं समाज के प्रबुद्ध वर्ग में आत्मविश्वास का संचार होता है। स्वामी विवेकानन्द हमेशा कहा करते थे- ‘हमारे देश को चाहिए लोहे की मांसपेशियां और फौलाद के स्नायु। ऐसा शक्तिशाली शरीर और मन कि जिसका अवरोध दुनिया की कोई ताकत न कर सके।' स्वामीजी के इस शक्तिदायी विचार को ध्यान में रखते हुए भारत को शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, भावनात्मक और अध्यात्म के बलार्जन का संदेश देने के लिए स्वामी विवेकानन्द सार्ध शती समारोह समिति ओर से देशभर ‘सूर्यनमस्कार महायज्ञ' का आयोजन किया जा रहा है। स्वामी विवेकानन्द की 150वीं जयंती उपलक्ष्य में आयोजित इस उपक्रम का विद्यालय के प्राचार्य, शिक्षक तथा विद्यार्थियों ने हार्दिक स्वागत किया है। इसके लिए सबसे पहले नागपुर सभी विद्यालयों के चयनीत विद्यार्थियों का अग्रेसर के रूप में प्रशिक्षित किया जाएगा। तत्पश्चात विद्यालयों में उन प्रशिक्षित विद्यार्थियों के माध्यम से अन्य छात्र-छात्राओं को सूर्यनमस्कार का प्रशिक्षण दिया जाएगा। सोमवार दि.18 फरवरी, 2013 को सम्पन्न होने वाले इस सूर्यनमस्कार महायज्ञ के लिए जोधपुर के सभी विद्यालयों से संपर्क किया जा रहा है। नगर के सभी विद्यालयों के प्रचार्य, शिक्षक, छात्र-छात्राएं तथा अभिभावकों से आह्वान किया जाता है कि इस सामूहिक सूर्यनमस्कार के अभिनव आयोजन में सहभागी होकर स्वामीजी के इस सार्ध शती के अवसर पर उन्हें वीरता से पूर्ण कृति अर्थात ‘सामूहिक सूर्यनमस्कार' के द्वारा नमन करें।

 स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह - जोधपुर प्रान्त के विभिन्न केमेरो से किये क्लिक

12जनवरी 2013
सभी चित्र के लिए साभार : दैनिक भास्कर 


साभार:दैनिक भास्कर 

11 जनवरी 2013
शोभायात्रा की तैयारी में जुटे कार्यकर्ता
  समदड़ी
स्वामी विवेकानंद की१५० वीं जयंती वर्ष के उद्घाटन समारोह १२ जनवरी की शोभायात्रा के लिए सरकारी व गैर सरकारी शिक्षण संस्थान, सामाजिक संगठन व विभिन्न स्वयं सेवी संस्थाओं के कार्यकर्ता संपर्क में लगे हुए हैं।

तहसील संयोजक दलीचंद माली ने बताया कि शोभायात्रा में समदड़ी व आसपास के सैकड़ों लोग भाग लेेंगे। समदड़ी, अजीत एवं कल्याणपुर में भी शोभायात्रा निकाली जाएगी।

समदड़ी में दोपहर २ बजे शोभायात्रा बजरंग वाटिका से प्रस्थान करेगी, जो गौर का चौक, बावड़ी चौक, देवल माता मंदिर, वाटर बोक्स होती हुई गोंविदरामजी बगेची पहुंचेगी। जहां से सभी झांकियों का विसर्जन होगा। १२ जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाने के भारत सरकार के निर्देशानुसार सभी युवा वर्ग इस राष्ट्रीय कार्य के लिए उत्साह से भाग ले रहे हैं तथा देश एवं देशवासियों को स्वामीजी के भारत जागो विश्व जगाओ के नारे को साकार करना है। 


सार्धशती समारोह को लेकर शोभायात्रा
भीनमाल  स्वामी विवेकानंद सार्धशती समारोह के कार्यक्रमों की शृंखला में शनिवार को नगर में शोभायात्रा एवं सभा का आयोजन किया जाएगा। आयोजन समिति के तहसील संयोजक सांवलसिंह लोल ने बताया कि शोभायात्रा शनिवार दोपहर 1 बजे कचहरी रोड विद्यालय परिसर से रवाना होकर महावीर चौराहा, हाई स्कूल, होली चौक, जुंजाणी बस स्टैंड, बड़ा चौहटा, गणेश चौक, वराहश्याम मंदिर, पीपली चौक से माघ चौक होते हुए दोपहर 2:30 बजे स्वामी विवेकानंद सर्किल पर सभा में तबदील होगी। शाम को हिंदू धर्म एवं युवा शक्ति के प्रखर प्रणेता योद्धा संन्यासी विवेकानंद के जन्म के 150 वर्ष पूर्ण होने पर स्वामीजी का संदेश जन-जन तक पहुंचाने के लिए विवेकानंद सर्किल पर दीपयज्ञ का आयोजन किया जाएगा।
 

साभार:: दैनिक भास्कर 

9 जनवरी 2013




विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित