शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

चीन ने 3 महीने में 50 बार की घुसपैठ

चीन ने 3 महीने में 50 बार की घुसपैठ

‘सीमा पर चीन कर रहा अवांछनीय गतिविधियां’

आबूरोड आदर्श विद्या मंदिर गोविंदधाम में चीन एक सुरक्षा संकट विषय पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस मौके पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के विभाग प्रचारक राजेश कुमार ने कहा कि चीन हमारे लिए हमेशा से ही सामरिक संकट बना हुआ है। प्रतिदिन वह भारतीय सीमा पर तरह-तरह की अवांछनीय गतिविधियां कर रहा है। इन घटनाओं पर भारत सरकार आंखें मूंदे बैठी है। चीन की लेह व लद्दाख में हो रही गतिविधियां सरकार जान बूझकर अनदेखी कर रही है। वियतनाम से हुए तेल समझौते में चीन ने हर तरह की नीति अपनाकर इस समझौते को रोकने का प्रयास किया। चीन भारतीय बाजार में 3.50 लाख करोड़ का सामान बेच रहा है। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। वहीं भारत के उद्योग धंधे चौपट होने के कगार पर हैं। इसके लिए आने वाली पीढ़ी को सावचेत कर चीनी सामान का बहिष्कार करना होगा। वहीं चीन की महत्वाकांक्षा को रोकने के लिए जनमत तैयार करना होगा।

लगातार संकट खड़ा कर रहा है चीन

जनजाति छात्रावास स्कूल में जिला कार्यवाहक अशोक चतुर्वेदी ने कहा कि चीन हमारे देश की आंतरिक व बाहरी सुरक्षा के लिए लगातार संकट खड़ा कर रहा है। चीन की कूटनीति व राजनीति हमेशा भारत की विरोधी रही है। इसे भारत के वर्तमान राजनीतिज्ञ नहीं समझ पा रहे हैं। इसके लिए भारत की जनता को सचेत होकर आने वाले संकट से निपटने के लिए अभियान चलाना होगा। चीन की धमकियों पर भारत सरकार आंखें मूंदे हुए हैं। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में चीन की ओर से 5183 वर्ग किलोमीटर व 1962 की लड़ाई में 38 हजार वर्ग किलोमीटर पर किए गए कब्जे को वे नहीं छोड़ रहे हैं। चीन अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा कर रहा है। बैठक को संस्था प्रधान नारायण सिंह सिसोदिया ने संबोधित करते हुए चीन के खतरे के प्रति आगाह किया।
स्त्रोत: http://epaper.bhaskar.com/epapermain.aspx?edcode=93&eddate=9/30/2011&querypage=३

गुरुवार, 29 सितंबर 2011

स्वदेशी जागरण मंच ने बांटे परचे

जैसलमेर स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने शहर के विभिन्न भागों में परचे बांटकर चीन की कुटिल चालों के बारे में जानकारी दी गई। मंच के सह संयोजक आशाराम सिंधी, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के जिला संघ चालक त्रिलोकचंद, डा. दाऊलाल शर्मा, डा. एलएन नागौरी, मुरलीधर खत्री, सह संयोजक पदमाराम, नटवर व्यास, शरद व्यास, उमेश बिस्सा, पवन वैष्णव, अमृत भूतड़ा, अनिल लखारा, हरी राम खत्री आदि कार्यकर्ताओं ने गीता आश्रम से लेकर चुंगी नाका तक पत्रक बांटे तथा स्वदेशी सामान खरीदने एवं चीन में निर्मित वस्तुओं का बहिष्कार करने की अपील की।

मंगलवार, 27 सितंबर 2011

sabhar : dainik bhaskar
जोधपुर . स्वदेशी जागरण मंच तथा स्टेनलेस स्टील री -रोलेर्स एशोशिएशन के संयुक्त तातावाधन में चीन एक आर्थिक एवं सामरिक संकट विषयक गोष्टी का आयोजन स्थानीय मेडिकल कॉलेज आडिटोरियम में आज सम्पन्न हुआ. गोष्टी के मुख्य वक्ता स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह संयोजक तथा विचारक भगवती प्रसाद जी थे.

गोष्टी के कुछ द्रश्य




‘भारत के लिए संकट बन रहा है चीन’


नागौर .
महत्वकांक्षा के कारण भारत के लिए चीन सामरिक व आर्थिक संकट बनता जा रहा है। भारतवासी शासन पर जनदबाव बना कर इस संकट से देश को उबार सकते हैं। रामपोल में बुधवार को स्वदेशी जागरण मंच के तत्वावधान में ‘चीन एक सुरक्षा संकट’ विषय पर आयोजित विचार गोष्ठी में स्वदेशी विचारक जसवंत खत्री ने कही।
महंत संपतराम महाराज के पावन सान्निध्य में पूर्व डिप्टी कमांडेंट सीआरपीएफ मालूराम गोदारा की अध्यक्षता में हुई गोष्ठी में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख नंदलाल जोशी द्वारा मार्गदर्शन किया गया। खत्री ने कहा कि चीन द्वारा कश्मीर व अरुणाचल प्रदेश की भूमिका का अनाधिकृत रूप से हथियाने के बाद आर्थिक आक्रमण किए जा रहे हैं। कार्यक्रम में जानकीदास महाराज क्षेत्रीय प्रचारक प्रमुख नंदलाल जोशी ने विचार रखे। संचालन सुखवंत खत्री ने किया। हेमंत जोशी ने अतिथियों का स्वागत किया।

भीनमाल स्वदेशी जागरण मंच की ओर से सोमवार शाम को विकास भवन में चीन एक सुरक्षा संकट विषय पर संगोष्ठी का आयोजन हुआ। जिसमें बड़ी संख्या में नगर के गणमान्य नागरिकों ने भाग लिया। मुख्य वक्ता मंच के प्रांतीय सेवा प्रमुख अजय गुप्ता ने वर्तमान समय में देश पर मंडराते चीनी संकट पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए इसके घातक दुष्परिणामों से अवगत करवाया। गुप्ता ने बताया कि चीनी उत्पादक भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए बड़े घातक साबित हो रहे हैं। उन्होंने चीन द्वारा सामरिक और आर्थिक दृष्टि से ड्रेगन भारत को अपने शिकंजे में जकडऩे का प्रयास करना बताया।
गुप्ता ने कहा कि चीन ने पूर्वोत्तर राज्यों को सूखा ग्रसित करने के लिए ब्रह्मपुत्र नदी को अवरुद्ध करने के उद्देश्य से उस पर बांध का निर्माण करवा रहा है। वहीं अरुणाचल प्रदेश को भी अपने देश का हिस्सा बताया जा रहा है। उन्होंने देश पर मंडराते चीनी संकट से मुक्ति के लिए चीन की विस्तारवादी, उपनिवेशवादी नीति और उसकी कुत्सित चालों को समझने की आवश्यकता जताई। अंत में गुप्ता ने चीनी उत्पादकों का बहिष्कार कर स्वदेशी वस्तुओं को अपनाने का आह्वान किया। डा. अमृत पटनी ने चीनी नीति की आलोचना करते हुए इस नीति को हिन्दूस्तान के लिए घातक बताया। साथ ही सभी देशवासियों को स्वदेशी अपनाकर देश को बचाने की अपील की।

तहसील संयोजक गुलाबसिंह ने आभार व्यक्त किया। जबकि महिपालसिंह राव द्वारा काव्य गीत के माध्यम से स्वदेशी अपनाने और देश को बचाने की अपील कर श्रौताओं की जमकर तालियां बटौरी। मंच का संचालन भावेश ने किया।

इस अवसर पर जिला संघ चालक श्रवणकुमार मोदी, भाजपा पशुपालन प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष खेमराज देसाई, पूर्व प्रधान मुरारदान चारण, अधिशाषी अभियंता बीएल सुथार, भाजपा मंडल महामंत्री आंबाराम चौधरी, जोरावरसिंह राव, भाजपा नगरध्यक्ष दिनेश दवे नेता, पूर्व नगरध्यक्ष गुमानसिंह राव, प्रताप पुरोहित, एबीवीपी प्रदेश प्रतिनिधि अशोकसिंह ओपावत, वचनाराम मेघवाल, अशोक सोनी, मफाराम, रमेश रावल, नरेन्द्र आचार्य, चेलाराम, संजीव माथुर, सतीश दुआ, घनश्याम दवे, सूर्यप्रकाश शर्मा, भरतसिंह राव सहित बड़ी संख्या में गणमान्य लोग मौजूद थे।

भीनमाल. विचार गोष्ठी में मौजूद नागरिक।

चीन निर्मित वस्तुओं के बहिष्कार का संकल्प
रोहट स्वदेशी जागरण मंच द्वारा ‘चीन एक सुरक्षा संकट’ विषय पर कस्बे के आदर्श विद्या मंदिर कंसारों के मठ में गोष्ठी आयोजित की गई। इसमें मुख्य अतिथि एसडीएम चूनाराम विश्नोई व मुख्य वक्ता बैंक अधिकारी ललित शर्मा ने उपस्थित जनों को आगामी समय में चीन से होने वाले खतरे के प्रति सावधान करते हुए वहां निर्मित वस्तुओं के बहिष्कार का संकल्प दिलाया।

दीप प्रज्वलन से शुभारंभ : गोष्ठी का शुभारंभ विश्नोई ने दीप प्रज्वलित कर किया। बालिका करिश्मा गोयल, हिमांगी कंसारा व दीपिका वैष्णव ने दीप मंत्र ‘दीप: ज्योति पर ज्योति’ प्रस्तुत किया। मुख्य वक्ता शर्मा ने अपने संबोधन में चीन द्वारा भारत के विरुद्ध किए जा रहे षड्यंत्र व द्वेषतापूर्ण कारनामे को सामने रखा। उन्होंने बताया कि चीन द्वारा भारत की सीमाओं में घुसपैठ की जा रही है। विश्व समुदाय को बताने के लिए अवैध अतिक्रमण के सबूत भी बताए गए हैं। भारत की चारों तरफ से घेराबंदी करने के लिए वह पड़ोसी देशों में अपने बंदरगाह, सैनिक अड्डे, रेलवे लाइन बिछाने आदि के कार्य करते हुए उन्हें भारत के विरोध में खड़ा करने की कोशिशें कर रहा है। अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी भारत को नीचा दिखाने के कृत्य किए जा रहे हैं। यही नहीं, भारत की अर्थव्यवस्था को भी नुकसान पहुंचाने के कार्य योजनाबद्ध तरीकों से कर रहा है, जिसमें चीन की कंपनियों द्वारा भारत में सस्ते टेंडर भरकर संवेदनशील क्षेत्रों में कार्य भी भारत की सुरक्षा के लिए खतरा है। चीन निर्मित उत्पाद खिलौने, इलेक्ट्रॉनिक्स, दूध पाउडर, मोबाइल आदि सामग्री घटिया व अन्य लिहाज से भी खतरनाक हैं। स्वदेशी वस्तुएं इस्तेमाल का आग्रह : मुख्य अतिथि विश्नोई ने कहा कि हम सबको मजबूत बनना है, इसके लिए समाज में व्यक्ति निर्माण के कार्य करने होंगे। इसके लिए संकल्प लेना होगा, व्यक्ति निर्माण से ही परिवार व समाज का निर्माण होगा। देश व समाज के अच्छे मुद्दों पर हमें मनन व चिंतन करना होगा। जीवन में स्वदेशी का व्रत धारण करने के लिए उन्होंने आगाह किया। कार्यक्रम का समापन वंदे मातरम् गीत के साथ हुआ। इस अवसर पर बालचंद शर्मा, प्रह्लाद चंद प्रजापत, मांगीलाल दवे, शांतिलाल सोनी, जवरीलाल कंसारा, इंदर सिंह गहलोत, केसर सिंह परिहार, पारस लखारा, केसर सिंह सिसोदिया आदि उपस्थित थे।

सूरतगढ़ में निकली स्वदेशी जागरण यात्रा के चित्र



सोमवार, 26 सितंबर 2011

सांप्रदायिक हिंसा बिल घातक - डा. मोहनराव भागवत


जम्मू, जागरण ब्यूरो : राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत ने सांप्रदायिक हिंसा बिल को झगड़ा फैलाने वाला बताते हुए कहा कि यह देश के नागरिकों में भेदभाव पैदा करेगा। उन्होंने स्वयंसेवकों से आह्वान किया कि वे निजी स्वार्थ से उपर उठकर देश के लिए काम करें। जम्मू दौरे पर भागवत ने वेद मंदिर जम्मू में रविवार सुबह स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि आने वाले सांप्रदायिक हिंसा बिल में जिस तरह के प्रावधान शामिल किए जा रहे हैं वे सही नहीं है। जिस किसी के दिमाग की यह उपज है वह राष्ट्रहित में नहीं है। इसे राष्ट्रीय एकता काउंसिल में ले जाया गया था लेकिन विरोध होने पर इसे पेश नहीं किया गया। अब प्रधानमंत्री कह रहे हैं इसे बदलकर लाएंगे। बिल लाकर देश को तोड़ने का इरादा है क्या। भागवत ने स्वयंसेवकों को देश की समस्याओं के समाधान का पाठ पढ़ाते हुए कहा कि समस्याएं देखकर डरना या निराश नहीं होना है बल्कि उपाय करना है। समस्याओं से निजात पाने और हिंदू तरीके से ही समाज को खड़ा करना है। अगर हम तरीका ढूंढ लेंगे तो वह हिंदू तरीका ही होगा। हम सब आपस में मिलजुल कर चले, आपस में मत लड़े, इससे संपूर्ण राष्ट्र का भला होगा। समस्याओं का रोना-रोने से कुछ नहीं होने वाला। पूरे राष्ट्र को अपना समझो, विविधता में ही एकता है। भारत के नाम से हिंदू जुड़ा है। भारत में सब हिंदुओं के पूर्वज हैं। यह बात पिछले चालीस वर्षो से किए गए डीएनए सामान पाए जाने की बात सामने आई है। संपूर्ण समाज को राष्ट्रवाद सेवक संघ बनाना है। उन्होंने स्वयंसेवकों से कहा कि अपने स्वार्थ के लिए नहीं बल्कि राष्ट्रहित में सोचना है। उन्होंने जम्मू कश्मीर का जिक्र करते हुए कहा कि एक तरफ सीमा पार से घुसपैठ, चीन की धमकी है। पाक चीन से दोस्ती करके अब अमेरिका को ही धमका रहा है। सीमाएं सुरक्षित नहीं है, कई जगह तारबंदी नहीं है, देश के भीतर की समस्याओं में नक्सलवाद, माओवाद है। ऐसी स्थिति में समाज को दिशा देने की जरूरत है, भ्रष्टाचार बढ़ने से सरकार की साख शून्य तक पहुंच गई है। सत्ता पाने के लिए किसी भी हद तक पहुंचा जा रहा है। इस मौके पर डॉ. गौतम मैंगी, सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर सुचेत सिंह व अन्य उपस्थित थे।

चीन एक सुरक्षा संकट - खबरे इधर उधर से


चीन एक सुरक्षा संकट विषय पर गोष्ठी

रोहट स्वदेशी जागरण मंच रोहट द्वारा सोमवार को रात आठ बजे आदर्श विद्या मंदिर मठ में ‘चीन एक सुरक्षा संकट’ विषय पर गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। इसमें मुख्य अतिथि एसडीएम चुन्नीलाल विश्नोई व मुख्य वक्ता बैंक अधिकारी ललित शर्मा होंगे।
‘चीन एक सुरक्षा संकट’ विषय पर संगोष्ठी आज
भीनमाल स्वदेशी जागरण मंच की बैठक रविवार को आदर्श विद्या मंदिर में संयोजक गुलाबसिंह राव की अध्यक्षता में हुई। बैठक में सोमवार रात आठ बजे विकास भवन में ‘चीन एक सुरक्षा संकट’ विषय पर संगोष्ठी का आयोजन करने का निर्णय लिया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. अमृत पटनी करेंगे, जबकि मुख्य वक्ता के रूप में प्रान्त सेवा प्रमुख अजय गुप्ता मौजूद रहेंगे। इस अवसर पर आरएसएस के जिला सरसंचालक डॉ. श्रवण कुमार मोदी, भाजपा नगर अध्यक्ष दिनेश दवे, नरेंद्र आचार्य, रतिराम गुप्ता और उत्तमसिंह राव सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहेंगे।

शनिवार, 24 सितंबर 2011

चीन एक सुरक्षा संकट - खबरे अभियान की



चीन की नजर भारतीय बाजार पर
बाड़मेर स्वदेशी जागरण मंच की ओर से शुक्रवार को किसान केसरी उमावि में गोष्ठी का आयोजन हुआ। मुख्य अतिथि बाल सिंह राठौड़ ने कहा कि भारत के लिए चीन पहले से ही खतरा है। उन्होंने कहा आमजन को राष्ट्रीय भावना से आगे आकर सहयोग करना चाहिए। शिक्षाविद कमल सिंह ने कहा चीन भारत के लिए संकट है। भारतीयों को हमेशा जवाब देने के लिए तैयार रहना होगा। स्वदेशी जागरण गोष्ठी के अध्यक्ष प्रेमाराम भादू ने कहा भारत जैसे बड़े बाजार को चीन ने अपने सस्ते माल से पाट रखा है। उन्होंने अधिक से अधिक स्वदेशी माल खरीदने का आग्रह किया। गोष्ठी में प्रधानाचार्य किशना राम कड़वासरा ने अपने विचार व्यक्त किए।

चीनी वस्तुओं का बहिष्कार जरूरी
जालोर शहर के तिलक द्वार स्थित बालिका आदर्श विद्या मंदिर में गुरुवार शाम को स्वदेशी जागरण मंच जालोर की ओर से विचार गोष्ठी का आयेाजन किया गया। प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य कृष्णपाल सिंह की अध्यक्षता में ‘चीन एक सुरक्षा संकट’ विषय पर आयोजित विचार गोष्ठी में चीन के दुस्साहस पर चर्चा की गई। मंच के विभाग संयोजक विक्रमसिंह करणोत ने चीन को भारत के लिए पाकिस्तान से भी अधिक खतरनाक बताया।

इस दौरान आदर्श विद्या मंदिर माध्यमिक के छात्र प्रद्युमन कंसारा ने काव्य गीत की प्रस्तुति दी। गोष्ठी में मुख्यवक्ता राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख संजयकुमार ने कहा कि भारत को लेकर चीन का रवैया आक्रामक होता जा रहा है। चीन ने 1962 में आक्रमण करके भारत की 3800 वर्ग किमी भूमि पर कब्जा किया था। इसके अतिरिक्त पाक अधिकृत कश्मीर का काफी बड़ा भू-भाग पाकिस्तान ने चीन को दे दिया था। जिस पर वह पाकिस्तान के साथ मिलकर भारत विरोधी षड्यंत्रों को अंजाम दे रहा है। केंद्र सरकार इस ओर कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। उन्होंने कहा कि चीन ने ब्रह्मपुत्र नदी को रोककर बांध बनाया है। भविष्य में भारत के ब्रह्मपुत्र नदी क्षेत्र में भीषण अकाल की संभावनाएं बन रही है। युद्ध की स्थिति में ब्रह्मपुत्र नदी पर बने बांध का पानी एक साथ छोड़े जाने पर उत्तरी भारत में बाढ़ की संभावना भी बढ़ जाएगी। भारत में चीनी वस्तुओं का बाजार काफी बढ़ा है। जिससे भारतीय उद्योग बंद होने के कगार पर हैं। भारत में रोजगार के संकट पैदा हो रहे हैं। चीन को रोकने के लिए देशवासियों को जागरूक होना पड़ेगा। साथ ही चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करना होगा। विचार गोष्ठी में कार्यक्रम संयोजक के.एन. भाटी ने भी विचार व्यक्त किए।

स्वदेशी जागरण मंच की बैठक

नागौर स्वदेशी जागरण मंच की ओर से 27 सितंबर को शाम 8 बजे रामपोल में ‘चीन एक सामरिक व आर्थिक सुरक्षा संकट’ विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। आयोजन समिति की संयोजक सुखवंत खत्री ने बताया कि कार्यक्रम में स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक नंदलाल जोशी व संघ के प्रांत कार्यवाह जसवंत खत्री अपने ज्वलंत मसले पर विचार रखेंगे। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए केशव कृपा भवन में बैठक रखी गई। इसमें कार्यकर्ताओं को अलग-अलग व्यवस्थाएं सौंपी गई। बैठक में रुद्रकुमार जांगिड़, हेमंत जोशी, जयवीर छाबा, कैलाश, काकड़, पुखराज सांखला, सहित अनेक सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ता मौजूद थे।


स्वदेशी जागरण यात्रा 25 को

सूरतगढ़। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के तत्वावधान में 25 सितम्बर को स्वदेशी जागरण यात्रा यहां भारत माता चौक से शुरू होगी। स्वंय सेवक मोटर साइकिल रैली के जरिए लोगों से चीनी सामान के बहिष्कार की अपील करेंगे। यात्रा के दौरान आमजन को चीन की साम्राज्यवादी नीतियों की जानकारी दी जाएगी तथा सरकार को ठोस कदम उठाने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

नगर कार्यवाह महेन्द्रसिंह राठौड़ के अनुसार यात्रा शहर के विभिन्न मार्गो से होते हुए मानकसर, अमरपुरा, सिलवानी, 2 पीपीएम, जानकीदासवाला, 10 सरकारी, जैतसर से होकर 9 जीबी स्थित राधास्वामी डेरे पर सम्पन्न होगी।

चीन की दोहरी नीति पर चिंता

भादरा। यहां के श्री श्याम बीएड कॉलेज में गुरूवार को राष्ट्र सुरक्षा के विरूद्ध चीन का षड़यंत्र एवं इसके समाधान में नागरिक कर्तव्य विषय पर विचार गोष्ठी हुई।

इसमें मुख्य वक्ता गंगाबिशन जोधपुर ने अरूणाचल प्रदेश व जम्मू कश्मीर राज्यों पर चीन की दोहरी नीति पर चिंता जताते हुए संभावित खतरे से सावधान रहने का आह्वान किया। प्राचार्य डॉ. सत्यपाल शर्मा ने चीनी उत्पादों को नहीं खरीदकर स्वदेशी वस्तुओं को बढ़ावा देने पर बल दिया। संस्था संचालक अमरनाथ शर्मा, प्राचार्य राजसिंह सोम आदि ने भी विचार व्यक्त किए।













शुक्रवार, 23 सितंबर 2011

भादरात्नश्रीश्याम शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय में गुरुवार को राष्ट्र सुरक्षा के विरूद्ध चीन का षडयंत्र एवं इसके समाधान में नागरिक कर्तव्य विषय पर विचार गोष्ठी हुई। मुख्य वक्ता गंगाबिशन ने भारत के अरूणाचंल प्रदेश व जम्मू कश्मीर जैसे राज्यों पर चीन की दोहरी नीति पर चिंता जताते हुए कहा कि भारत को चीन के संभावित खतरे से सावधान रहना होगा। प्राचार्य डॉ. सत्यपाल शर्मा, संस्थापक अमरनाथ शर्मा, राजसिंह सोम, विकास कुमार शर्मा, केआर बेनीवाल सहित महाविद्यालय स्टाफ सदस्य व विद्यार्थी मौजूद थे।






गुरुवार, 22 सितंबर 2011

मंगलवार, 20 सितंबर 2011

चीन एक संकट - स्वदेशी जागरण मंच के कार्यक्रमों की खबरे

साभार : दैनिक भास्कर
विदेशी वस्तुओं की होली जलाई

जैसलमेर फतेहगढ़ कस्बे में सोमवार को स्वदेशी जागरण मंच के तत्वावधान में विदेशी वस्तुओं की होली जलाई गई। मंच के तहसील संयोजक स्वरूपसिंह ने बताया कि कस्बे के भवानी बस स्टैंड पर विदेशी वस्तुओं की होली जलाकर बहिष्कार किया गया। इस अवसर पर धर्म जागरण के सह संयोजक धेवरसिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में भारतीय बाजार में चीनी माल की भरमार है। जिसमें कपड़े, दूध पाउडर, इलेक्ट्रोनिक्स, पटाखें, राखियां, जूते सहित कई वस्तुएं चीन से आयात हो रही है। ये माल सस्ता व भरपूर मात्रा में उपलब्ध होने व विक्रेताओं के लिए लाभप्रद होने के कारण हर जगह उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि चीन से आने वाले खिलौनों ने में सीसे की मात्रा 900 गुणा अधिक होने से वह बच्चों के लिए नुकसान देह भी है।

उन्होंने उपस्थित ग्रामीणों से विदेशी को छोड़ स्वदेशी वस्तुओं के उपयोग की अपील की। इस अवसर पर चतुराराम, रमेशकुमार, कानसिंह, लजपतसिंह, सुरेशकुमार सहित कई ग्रामीण उपस्थित थे।

जनजागरण अभियान की दी जानकारी

जालोर स्वदेशी जागरण मंच की ओर से सोमवार को एक निजी होटल में चीन एक सुरक्षा संकट विषय पर जनजागरण अभियान को लेकर प्रेसवार्ता हुई। प्रेसवार्ता में विभाग संयोजन विक्रम सिंह ने कहा कि चीन का भारत की सीमा में दिनों दिन अतिक्रमण बढ़ता जा रहा है। वर्तमान में चीन अरुणाचल प्रदेश समेत देश की 90 हजार वर्ग किमी भूमि पर अवैध कब्जा कर दबाव बना रहा है। भारतीय बाजारों में चीन का व्यापार बढऩे से एक तिहाई तक पहुंच गया है। व्यापार साथ ही बेरोजगारी फैल रही है। जिला संयोजक आवड़दान चारण ने बताया कि मंच की ओर से 15 से 30 सितंबर तक देश कोने-कोने में चीन एक सुरक्षा संकट विषय को लेकर व्यापक जनजागरण अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत आम सभाएं, गोष्ठियां, परिसंवाद आयोजित जनता को जागरूक किया जा रहा है। साथ ही लोगों को स्वदेशी अपनाने पर जोर दिया जा रहा है। वार्ता में कार्यक्रम संयोजक के.एन. भाटी ने भी संबोधित किया।

चीन देश की सुरक्षा पर संकट
गांव खेदासरी में स्वदेशी जागरण मंच ने की बैठक
हनुमानगढ़ रावतसर. गांव खेदासरी के केशव विद्यापीठ उच्च माध्यमिक विद्यालय में सोमवार को स्वदेशी जागरण मंच की ओर से बैठक हुई, जिसमें स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकारिणी सदस्य व विद्यापीठ के प्रधानाचार्य अमर सिंह सिहाग ने सदस्यों को संबोधित किया। वक्ताओं ने चीन को देश की सुरक्षा के लिए संकट बताते हुए कहा कि यह आए दिन भारत की सीमाओं पर आक्रमण कर रहा है तथा अपने देश के चाइनीज माल को भारतीय बाजार में सस्ते दामों में बेच रहा है। इससे चीनी अर्थव्यवस्था कमजोर हो रही है। अगर भारतीय नागरिक चाइनीज सामान को न खरीदकर स्वदेशी सामान को खरीदें तो आने वाले दिनों में विश्व की महाशक्ति बनने वाले देशों में भारत के सर्वोच्च स्थान पर आने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती। इस मौके पर तहसील संयोजक विष्णु शर्मा व सह संयोजक विनोद सहारण, विद्यालय शिक्षक व छात्र उपस्थित रहे।

गुरुवार, 15 सितंबर 2011

25 साल, 145 हत्याएं, ज्यादातर स्वयंसेवक

कोलकाता, 14 सितंबर : वह विख्यात मामला जिसके कारण सीपीएम के पूर्व मंत्री सुशांत घोष जेल में बंद हैं, की वजह से पार्टी के दो पूर्व सांसदों के बीच कटु शब्दों की लड़ाई शुरू हो गई है। सीपीएम के टिकट पर कन्नूर (केरल) से दो बार सांसद रह चुके अब्दुल्ला कुट्टी ने आरोप लगाया कि केरल और पश्चिम बंग में विपक्ष के खिलाफ मार्क्सवादी कार्यक्रम चलाया जाता है। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा करने के कारण कुट्टी को पार्टी छोड़नी पड़ी थी। उन्होंने बताया कि हैदराबाद में पिछले सप्ताह हुए एक सेमिनार में आरामबाग से सीपीएम सांसद अनिल बसु ने उन्हें बताया कि बंगाल के वामपंथी नेता विपक्षी दलों के नेताओं से किस प्रकार छुटकारा पाते हैं।

बाद में इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कुट्टी ने कहा संसद की कैंटीन में हम चाय पीते थे। इस दौरान बसु ने उन्हें बताया कि उन लोगों ने तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के साथ क्या किया। उन्होंने बताया कि उन समर्थकों की हत्या करने के बाद शव को वैज्ञानिक तरीके से जमीन में गहरा गड्ढा करके दबा दिया गया। कुट्टी, जो अब कांग्रेस विधायक हैं, ने बताया पिछले 25 सालों में केवल कन्नूर में सीपीएम ने 145 विपक्षी समर्थकों की हत्या की है जिनमें ज्यादातर आरएसएस से जुड़े सदस्य शामिल थे। सीपीएम एक कट्टरपंथी पार्टी है।

इसी बीच, अनिल बसु ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कुट्टी के दावों का खंडन किया है। वह (कुट्टी) पागल हो गए हैं। वे मुझसे काफी जूनियर हैं और हमारे बीच इस तरह की वार्तालाप नहीं हुई। मैं सात बार सांसद रह चुका हूं जबकि वह केवल दो बार सांसद बने हैं। वे मेरी छवि बिगाड़ने के लिए इस तरह की बातें कह रहे हैं।
source : http://www.newsbharati.com/%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%96%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%AA%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%A0.aspx

भारत को घरेलू इस्लामी आतंक से खतरा : सीआरएस

वाशिंगटन, 14 सितंबर : भारत को घरेलू इस्लामी आतंकवाद से खतरा है। भले ही नई दिल्ली इसे खुले तौर पर स्वीकार करने में हिचकिचाहट महसूस करे। कांग्रेसनल रिसर्च सर्विस (सीआरएस) की एक रिपोर्ट में यह बातें कही गई हैं। रिपोर्ट में कहा गया कि इस ग्रुप का नाम इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) है।

रिपोर्ट में कहा गया कि आईएम को स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट आफ इंडिया (सिमी) की ईकाई माना जा रहा है। हाल के दिनों में कई बम विस्फोटों में आईएम का नाम आया है। यहां तक कि सरकारी नेताओं ने भी पाकिस्तान पर आरोप लगाया कि वह इस तरह की गतिविधियों को बढ़ावा दे रहा है। अमेरिकी कांग्रेस से जुड़े सीआरएस ने 1 सितंबर को 94 पृष्ठों वाली यह रिपोर्ट जारी की। फेडरेशन आफ अमेरिकन साइंटिस्ट (एफएएस) ने मंगलवार को इसकी एक प्रति सार्वजनिक की।

रिपोर्ट के मुताबिक नई दिल्ली सरकार ने 2010 में आईएम पर प्रतिबंध लगा दिया था। कुछ महीनों बाद आईएम ने वाराणसी में दिसंबर विस्फोटों की जिम्मेदारी लेने का दावा किया। उक्त विस्फोट में एक बच्चे की मौत हो गई थी और करीब 20 लोग घायल हुए थे।

जुलाई 2011 में मुम्बई में हुए तीन बम विस्फोटों में 17 लोग मारे गए और करीब 130 लोग गंभीर रुप से घायल हुए। आज तक इस धमाके की किसी संगठन ने विश्वसनीय जिम्मेदारी नहीं ली। भारतीय अधिकारियों ने भी इसके लिए किसी विदेशी अथवा घरेलू संगठन का नाम संदिग्ध के तौर पर नहीं लिया। इन धमाकों से साफ पता चलता है कि इसके लिए प्रशिक्षण दिया गया था (पाकिस्तान के दो प्रमुख नेताओं ने तत्काल इन विस्फोटों की निंदा की थी)।

प्रारंभिक संकेत बताते थे कि विस्फोट करने वाले संभवतः सिमी से जुड़े भारतीय थे न कि पाकिस्तान से जुड़े किसी संगठन के सदस्य। भारत के कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि आईएम के प्रमुख संचालकों को पाकिस्तान में प्रशिक्षण दिया जाता है।

2008 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने स्वीकार किया था कि आतंकी हमलों में स्थानीय तत्वों की संलिप्तता ने भारत के घरेलू आतंकवाद की समस्या को और भी बढ़ा दिया है।

स्त्रोत: स्रोत: PTI तारीख: 9/14/2011 5:26:02 पम, http://www।newsbharati।com/%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%96%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%AA%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%A0.aspx



बुधवार, 14 सितंबर 2011

ABVP condemns the land deal with Bangladesh and hoists tricolor near disputed land (Lathitila-Domabaroi, Karimganj, Assam)



Karimganj, September 9th ,2011: Chalo Lathitila- Dumabari - A movement to protest against the deal of the Indian land to Bangladesh. ABVP opposes the decision of the Govt. Of India and will be marched to the disputed place.

Around one thousand activists of Akhil Bharitiya Vidyarthi Parishad (ABVP) of different units of Cachar, Karimganj and Hailakandi district assembled at Kukithal village of Patharkandi circle, Karimganj to condemn land deal with Bangladesh and hoisted Tricolour near Lathitila-Domabaroi, a bordering village and the actual site of dispute.

On reaching the Kukithal BPO of BSF, the security man detained the activists but allowed a four member student delegates to go to the no-mans land ad hoists the national flag (the tricolour) near the disputed land.

Addressing a gathering there, ABVP’s northeast organizing secratory Manoj Nikra criticized Priminister Manmohan Singh and Chief minister Tarun Gogoi for giving nod to the agreement without consulting the owners of the land in question.

According to Apangshu Shekher Seal, organizing secretary of the valley, the benefits of Assam as stated by Tarun Gogoi from the controversial and unaccepted deal “remaining vague and undefined”. He wanted to know would the endemic influx of Bangladeshis come to end ? Did the agreement get any assurance from Bangladesh prime Minister that the detected and deported people of their country after pushback be taken back? It was also not clear, as he said , What would be the quantum of the land to be returned by Bangladesh as India does not have any land of that country it it’s adverse possession. Nothing was also clear about trade and transit facilities that would pace up the economic and social development of the North-East.

The student delegates of Akhil Bharitiya Vidyarthi Parishad (ABVP) including Sumit Paul (State Joint Secretary), Anupam Acharjee (Bibhag Pramukh) , Sailashwer Mishra (Saha-Bibhag Pramukh), Sabyasachi Das (Unit President), Rupam Dutta (Cachar Zilla Joint Incharge), Bijaya Chakraborty (State Joint Secretary) and other Pramukh karyakarta.

Lastly, if the land deal is not scraped, then ABVP would launch nation wide agitation and sought the co-operation of students communities, youths and common people throughout the country.


‘लक्षित हिंसा अधिनियम विखंडनकारी’ - संजय कुमार

सोजत (पाली)

सांप्रदायिक लक्षित हिंसा अधिनियम के विरोध में मंगलवार को स्थानीय मोतीचंद सेठिया आदर्श विद्या मंदिर परिसर में गोष्ठी आयोजित की गई। इसमें वक्ताओं ने अधिनियम को विखंडनकारी बताते हुए इसका विरोध करना जरूरी बताया।

आरएसएस के राजस्थान क्षेत्र प्रचार प्रमुख संजय कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय सलाहकार समिति के निर्देश पर केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तावित सांप्रदायिक लक्षित हिंसा अधिनियम 2011 अराजकता फैलाने व समाज को तोडऩे का षड्यंत्र है। इसका विरोध किया जाना आवश्यक है। राष्ट्रीय एकता परिषद की प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में देश के विभिन्न मुख्यमंत्रियों ने भाग लिया, जिसमें कई ने इस अधिनियम को समाज को तोडऩे व कमजोर करने वाला बताकर इसका विरोध भी किया। अधिनियम की धारा 8 के अनुसार लक्षित हिंसा की बात जिसमें बोलकर, लिखित, संकेत अथवा चित्र द्वारा किसी अल्पसंख्यक को ठेस पहुंचती है, तो उसके विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज किया जाएगा। इसी प्रकार धारा 9 के अनुसार लक्षित हिंसा के लिए किसी प्रकार का आर्थिक सहयोग भी अपराध की श्रेणी में आएगा। धारा 12 से 17 के अनुसार सरकारी कर्मचारी, प्रशासनिक अधिकारी भी दोषी माने जाएंगे, साथ ही कार्रवाई नहीं करने वाले अधिकारी के विरुद्ध 3 से 5 वर्ष की सजा एवं 3 से 5 लाख का जुर्माना की सजा भी दी जाएगी। अधिनियम के तहत कानून बन जाने पर कोई भी अल्पसंख्यक व्यक्ति किसी भी व्यक्ति या संगठन के विरुद्ध झूठी रिपोर्ट देकर निशाना बना सकेगा। इससे समाज में अल्पसंख्यकों द्वारा ब्लैकमेलिंग का धंधा शुरू हो जाएगा। इसके तहत अनुसूचित जाति व जनजाति के व्यक्ति को भी अल्पसंख्यकों के विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज कराने का अधिकार नहीं होगा।

इससे पूर्व अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर गोष्ठी का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर जिला संघ चालक डॉ। श्रीलाल, विहिप के जिला अध्यक्ष भंवरलाल जोशी, क्षेत्रीय विधायक संजना आगरी, विहिप के जिला मंत्री नरेंद्र टांक, अरविंद कुमार द्विवेदी, भाजपा मंडल अध्यक्ष मांगीलाल चौहान, ग्रामीण मंडल अध्यक्ष घीसू सिंह राजपुरोहित, अविनाश जांगिड़, सुगन सिंह, सोहन मेवाड़ा, शारीरिक प्रमुख मनोहरलाल सोलंकी, गोविंदराम सांवलानी, जिला प्रचार प्रमुख रामकिशोर, तहसील कार्यवाहक सुरेश कुमार, ललित कातरेला, मोहन जाट, कैलाश चावला आदि उपस्थित थे।
स्त्रोत : http://epaper.bhaskar.com/epapermain.aspx?edcode=201&eddate=9/14/2011&querypage=१४

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित