गुरुवार, 15 सितंबर 2011

25 साल, 145 हत्याएं, ज्यादातर स्वयंसेवक

कोलकाता, 14 सितंबर : वह विख्यात मामला जिसके कारण सीपीएम के पूर्व मंत्री सुशांत घोष जेल में बंद हैं, की वजह से पार्टी के दो पूर्व सांसदों के बीच कटु शब्दों की लड़ाई शुरू हो गई है। सीपीएम के टिकट पर कन्नूर (केरल) से दो बार सांसद रह चुके अब्दुल्ला कुट्टी ने आरोप लगाया कि केरल और पश्चिम बंग में विपक्ष के खिलाफ मार्क्सवादी कार्यक्रम चलाया जाता है। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा करने के कारण कुट्टी को पार्टी छोड़नी पड़ी थी। उन्होंने बताया कि हैदराबाद में पिछले सप्ताह हुए एक सेमिनार में आरामबाग से सीपीएम सांसद अनिल बसु ने उन्हें बताया कि बंगाल के वामपंथी नेता विपक्षी दलों के नेताओं से किस प्रकार छुटकारा पाते हैं।

बाद में इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कुट्टी ने कहा संसद की कैंटीन में हम चाय पीते थे। इस दौरान बसु ने उन्हें बताया कि उन लोगों ने तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के साथ क्या किया। उन्होंने बताया कि उन समर्थकों की हत्या करने के बाद शव को वैज्ञानिक तरीके से जमीन में गहरा गड्ढा करके दबा दिया गया। कुट्टी, जो अब कांग्रेस विधायक हैं, ने बताया पिछले 25 सालों में केवल कन्नूर में सीपीएम ने 145 विपक्षी समर्थकों की हत्या की है जिनमें ज्यादातर आरएसएस से जुड़े सदस्य शामिल थे। सीपीएम एक कट्टरपंथी पार्टी है।

इसी बीच, अनिल बसु ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कुट्टी के दावों का खंडन किया है। वह (कुट्टी) पागल हो गए हैं। वे मुझसे काफी जूनियर हैं और हमारे बीच इस तरह की वार्तालाप नहीं हुई। मैं सात बार सांसद रह चुका हूं जबकि वह केवल दो बार सांसद बने हैं। वे मेरी छवि बिगाड़ने के लिए इस तरह की बातें कह रहे हैं।
source : http://www.newsbharati.com/%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%96%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%AA%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%A0.aspx

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित