शनिवार, 27 फ़रवरी 2010

शत शत नमन ! नाना जी देशमुख तथा श्रीपति जी शास्त्री को

मान श्रीपति जी शास्त्री
नाना जी देशमुख


अत्यंत दुखद समाचार



आज चित्रकूट में नाना जी देशमुख तथा पुणे में श्रीपति जी शास्त्री ने अंतिम सांस ली । श्रीपति जी शास्त्री का परिचय :
Dr। SRIPATI SHASTRI was basically from HARIHARA of CHITRADURGA district inKarnataka. A gold medalist from Mysore University in history. He did his Ph. D thesis on "history of constitution of the world". Then he joined department of history at Pune University and worked as professor of history for two decades.He was an active member of RSS from his student days. Dr. Shastry was a well known intellectual, speaker and thinker. He was a member of national executive committee. his lectures on "Partition of Bharat" and "1857 freedom movement" were highly inspiring. He visited several western countries and participated in many RSS functions. Unmarried, he dedicated much of his life for the cause of society. His famous book on "RSS on Christian activities" was a noted work.He was respected by all spectrum of the society irrespective of political and religious groups. His nature was acceptable to everyone and was a great teacher of history for thousands.


नाना जी देशमुख ने दीनदयाल शोध संस्थान की स्थापना की थी। नाना जी देशमुख का विस्तृत परिचय ---
प्रबुद्ध समाजसेवी और विचारक नानाजी देशमुख का शनिवार की शाम यहाँ से 80 किलोमीटर दूर सेवासंघ अस्पताल में निधन हो गया। वह 95 वर्ष के थे।नानाजी देशमुख लंबे समय तक जनसंघ और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे, लेकिन साढ़े चार दशक पूर्व उन्होंने खुद को राजनीति से अलग कर लिया और आदर्श समाज के निर्माण का बीड़ा उठाया।कुछ समय से बीमार चल रहे नानाजी को आज सुबह सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उन्होंने अंतिम साँस ली।महाराष्ट्र में जन्मे और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के जीवनव्रती प्रचारक नानाजी का जन्म महाराष्ट्र में हुआ था और वे राज्य सभा के सदस्य रह चुके थे।आजीवन समाज सेवा का व्रत ले चुके नानाजी ने दीनदयाल शोध संस्थान की स्थापना करके उत्तरप्रदेश-मध्यप्रदेश सीमा के दोनो तरफ के क्षेत्रों में शिक्षा स्वास्थ्य और लोगों को आर्थिक दृष्टि से आत्म निर्भर बनाने के लिए सराहनीय काम किया और 1999 में उन्हें 'पद्म विभूषण' से सम्मानित किया गया।उन्होंने मप्र और उप्र के 500 सीमावर्ती गाँवों में शिक्षा के प्रचार-प्रसार और लोगों को आर्थिक रूप से आत्म निर्भर बनाने के लिए उल्लेखनीय काम किया।नानाजी आरएसएस से जनसंघ में गए थे। उन्होंने 60 साल की उम्र पूरी होते ही राजनीति छोड़ दी थी क्योंकि उनका मानना था कि 60 साल की उम्र के बाद व्यक्ति को राजनीति छोड़ देनी चाहिए। इसके बाद वह नई ऊर्जा के साथ रचनात्मक कार्य में लग गए।इस बीच प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डॉ. रमापति राम त्रिपाठी एवं अन्य भाजपा नेताओं ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है और कहा है कि उनकी नि:स्वार्थ समाज सेवा मौजूदा एवं आने वाली पीढ़ियों को हमेशा प्रेरणा देती रहेगी। नानाजी देशमुख को लोकनायक जयप्रकाश नारायण और इंडियन एक्सप्रेस के रामनाथ गोयनका के बहुत करीबी माना जाता था।वह राजनीति में अटलबिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी जैसे भाजपा के नेताओं से वरिष्ठ थे और भाजपा के गठन के काफी पहले राजनीति को अलविदा कह चुके थे।नानाजी ने अपने जीवनकाल में दीनदयाल शोध संस्थान, ग्रामोदय विश्वविद्यालय और बालजगत जैसे सामाजिक संगठनों की स्थापना की। उन्होंने उत्तरप्रदेश के गोंडा जिले में भी उल्लेखनीय सामाजिक कार्य किया था।चित्रकूट स्थित दीन दयाल शोध संस्थान में पधारे पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने नानाजी देशमुख द्वारा कमजोर वर्ग के उत्थान में उठाए गए कदमों की सराहना की और इस क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों को अनुकरणीय बताया था। नानाजी उस वक्त विवाद के घेरे में आ गए, जब 1984 में उन्होंने कहा था कि अब समय आ गया है कि संघ राजीव गाँधी के साथ खड़ा रहे।नानाजी अटल बिहारी वाजपेयी समेत सभी भाजपा के बड़े नेताओं के पथप्रदर्शक रहे। उन्होंने सादगी और ईमानदारी की मिसाल पेश की। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सबसे वृद्ध प्रचारक नानाजी की दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में कितनी आस्था दृढ़ थी, इसकी मिसाल 2000 में उस वक्त देखने को मिली जब वे व्हीलचेयर पर बैठकर मतदान करने पहुँचे। नानाजी की भारतीय लोकतंत्र में गहरी आस्था थी और वे कहते थे कि देश के हर नागरिक को मतदान का उपयोग करके अपना कर्तव्य निभाना चाहिए। यही कारण था कि चलने-फिरने में लाचार होने के बावजूद उन्होंने मतदान में हिस्सा लिया था। (भाषा/वेबदुनिया)


Nanaji Deshmukh is a person who needs no introduction. His sharp intellect and extraordinary organizing skill has put an indelible mark in Indian politics. Born on October 11,1916 in a modest Maharashtrian family at Kadoli, a small town in Parbhani district, Nanaji had little money to pay for his tuition fees and books. But he had such a burning zeal and desire for education and knowledge that he did not shy away from working as a vendor and selling vegetables to raise money for realising his objective.Nanaji was deeply inspired by Lokamanya Tilak and his nationalist ideology. He showed keen interest in social service and activities. His family was in close contact with Dr. Hedgewar who was a regular visitor to the family of Nanaji. He could discern an immense hidden potential in Nanaji and encouraged him to attend RSS shakahas. In 1940, after the death of Dr. Hedgewar, many youngsters inspired by him joined the RSS in Maharashtra. Nanaji was among those enthused youths who joined the RSS devoting their whole life in service to the Nation. He was sent to Uttar Pradesh as a Pracharak. At Agra he met Deendayalji for the first time. Later, Nanaji went to Gorakhpur as a pracharak where he took great pains to introduce Sangh ideology in the eastern UP. It was not an easy task at that time as the Sangh had no funds to meet even day-today expenses. He had to stay in a Dharmashala but had to keep on changing Dharmashalas as no one was allowed to stay there for more than three days consecutively. Ultimately, he was given shelter by Baba Raghavdas on the condition that he would also cook meals for him.Within three years, his hard work bore fruits and almost 250 Sangh Shakhas cropped up in and around Gorakhpur. Nanaji always laid great emphasis on education. He established India's first Saraswati Sishu Mandir at Gorakhpur in 1950. It reflects Nanaji's love for education and knowledge. When in 1947 the RSS decided to launch two journals "Rashtradharma" and "Panchjanya" and a newspaper called "Swadesh" Shri Atal Bihari Vajpayee was assigned the responsibility of the editor and Shri Deendayalji was made the Margdharshak with Nanaji as the Managing Director. It was a challenging task as the organization was hard up for money to bring out the publications, yet it did never dampen their spirits and these publications gained popularity and recognition.Mahatma Gandhi's assassination led to imposition of ban on the RSS and publication work came to a grinding halt. A different strategy was adopted keeping the ban in mind and Nanaji was the brain behind underground publication work by the RSS those days. When the ban was lifted and it was decided to have a political organization, Jana Sangh came into being. Nanaji was asked by Shri Guruji to take charge of Bharatiya Jana Sangh in Uttar Pradesh as party Secretary. Nanaji had worked as RSS pracharak in Uttar Pradesh and his groundwork proved of a great help in organizing BJS at the grass roots. By 1957 BJS had established its units at each and every district in Uttar Pradesh and credit for this goes to the Nanaji who had extensively traveled all over the State. Soon, BJS became a force to reckon with in Uttar Pradesh. In 1967 BJS became the part of United Legislature Party Government headed by Chaudhary Charan Singh. Nanaji played a crucial role in evolving the alliance as he enjoyed good relations with Charan Singh and Dr. Ram Manohar Lohia. He was successful in bringing leaders of different political background on one platform to give Uttar Pradesh its first non-Congress government.A political giant, like Chandra Bhanu Gupta, had to face one of the biggest challenges of his life when Nanaji outwitted him not once but thrice. On one occasion, he planned a strategy to defeat the Congress nominee and CB Gupta's favorite in Rajya Sabha. When CB Gupta himself contested elections from Lucknow in 1957, Nanaji crafted an alliance with socialist groups and helped Babu Triloki Singh in registering an impressive win over Gupta. Shri Gupta faced another embarrassment when he was again defeated at Maudaha in Uttar Pradesh. In Uttar Pradesh BJS gained strength from Deendayalji's margdarhsan, Atalji's oratory skills and Nanaji's organizational work and it emerged as an important player in the State politics. Nanaji always shared good relations not only with his party colleagues but also with his Opponents. Shri CB Gupta, who suffered many humiliating, defeats at the hands of Nanaji, yet he continued to have great respect for him and called him 'Nana Phadanvis '. His relations with Dr. Ram Manohar Lohia changed the course of Indian politics. Once he invited Dr. Lohia in BJS karaykarta sammelan where he met Deendayalji for the first time and this association brought the BJS closer to socialist parties in exposing the Congress and its misrule.Nanaji actively participated in Bhoodan Movement started by Vinoba Bhave. By spending two months with Vinoba he was inspired by the success and appeal of the movement. When Jai Prakash Narayan gave the call for" Total Revolution" he responded by giving total support to this movement. When the Janata Party was formed Nanaji was one of its main architects. Janata Party stormed into power by sweeping off the Congress and Nanaji was elected from Balrampur parliamentary constituency in Uttar Pradesh. When he was offered ministerial berth by the then Prime Minister, Shri Morarjee Desai he politely refused it. For him politics was never a career but a mission. He was not the person who would stick to politics or office come what may. Of his own volition he announced his retirement from politics in presence of Jai Paraksh Narain and since then never looked back.Nanaji is now devoting his entire time to Deendayal Research Institute that he himself established way back in 1969. He established Chitarkoot Gramodya Vishwavidyalaya in Chitrakoot, India's first rural university and was its first Chancellor. NDA Government headed by Shri Atal Bihari Vajpyaee nominated him as an MP in Rajya Sabha in the year 1999 as recognition to his services to the nation.

चंद्रशेखर आजाद (23 जुलाई 1906 - 27 फरवरी 1931) - शत शत नमन!



चंद्रशेखर आजाद (23 जुलाई 1906 - 27 फरवरी 1931) भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अत्यंत सम्मानित और लोकप्रिय क्रांतिकारी स्वतंत्रता सेनानी थे। वे भगत सिंह के अन्यतम साथियों में से थे। असहयोग आंदोलन समाप्‍त होने के बाद चंद्रशेखर आजाद की विचारधारा में बदलाव आ गया और वे क्रांतिकारी गतिविधियों से जुड़ कर हिंदुस्‍तान सोशल रिपब्लिकन आर्मी में शामिल हो गए। उन्‍होंने कई क्रांतिकारी गतिविधियों जैसे काकोरी काण्ड तथासांडर्स-वध को अंजाम दिया।

जन्म तथा प्रारंभिक जीवन

चंद्रशेखर आजाद का जन्‍म मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले भावरा गाँव में 23 जुलाई सन् 1906 को हुआ। उस समय भावरा अलीराजपुर रियासत की एक तहसील थी। आजाद के पिता पंडित सीताराम तिवारी संवत १९५६ के अकाल के समय अपने निवास उत्तर-प्रदेश के उन्नाव जिले के बदरका गाँव को छोडकर पहले अलीराजपुर राज्य में रहे और फिर भावरा में बस गए। यहीं चंद्रशेखर का जन्म हुआ। वे अपने माता पिता की पाँचवीं और अंतिम संतान थे। उनके भाई बहन दीर्घायु नहीं हुए। वे ही अपने माता पिता की एकमात्र संतान बच रहे। उनकी माँ का नाम जगरानी देवी था। पितामह मूलतः कानपुर जिले के राउत मसबानपुर के निकट भॉती ग्राम के निवासी कान्यकुब्ज ब्राह्मण तिवारी वंश के थे.


संस्कारों की धरोहर

चन्द्रशेखर आजाद ने अपने स्वभाव के बहुत से गुण अपने पिता पं0 सीताराम तिवारी से प्राप्त किए। तिवारी जी साहसी, स्वाभिमानी, हठी और वचन के पक्के थे। वे न दूसरों पर जुल्म कर सकते थे और न स्वयं जुलम सहन कर सकते थे। भावरा में उन्हें एक सरकारी बगीचे में चौकीदारी का काम मिला। भूखे भले ही बैठे रहें पर बगीचे से एक भी फल तोड़कर न तो स्वयं खाते थे और न ही किसी को खाने देते थे। एक बार तहसीलदार ने बगीचे से फल तुड़वा लिए तो तिवारी जी बिना पैसे दिए फल तुड़वाने पर तहसीलदार से झगड़ा करने को तैयार हो गए। इसी जिद में उन्होंने वह नौकरी भी छोड़ दी। एक बार तिवारी जी की पत्नी पडोसी के यहाँ से नमक माँग लाईं इस पर तिवारी जी ने उन्हें खूब डाँटा ऑर चार दिन तक सबने बिना नमक के भोजन किया। ईमानदारी और स्वाभिमान के ये गुण आजाद ने अपने पिता से विरासत में सीखे थे।[तथ्य वांछित]

[संपादित करें]आजाद का बाल्य-काल

1919 मे हुए जलियां वाला बाग नरसंहार ने उन्हें काफी व्यथित किया 1921 मे जब महात्‍मा गाँधी के असहयोग आन्दोलन प्रारंभ किया तो उन्होने उसमे सक्रिय योगदान किया। यहीं पर उनका नाम आज़ाद प्रसिद्ध हुआ । इस आन्दोलन में भाग लेने पर वे गिरफ़्तार हुए और उन्हें १५ बेतों की सज़ा मिली। सजा देने वाले मजिस्ट्रेट से उनका संवाद कुछ इस तरह रहा -

तुम्हारा नाम ? आज़ाद
पिता का नाम? स्वाधीन
तुम्हारा घर? जेलखाना

मजिस्ट्रेट ने जब १५ बेंत की सजा दी तो अपने नंगे बदन पर लगे हर बेंत के साथ वे चिल्लाते - महात्मा गांधी की जय। बेंत खाने के बाद तीन आने की जो राशि पट्टी आदि के लिए उन्हें दी गई थी, को उन्होंने जेलर के ऊपर वापस फेंका और लहूलुहान होने के बावजूद अपने एक दोस्त डॉक्टर के यहाँ जाकर मरहमपट्टी करवायी।

सत्याग्रह आन्दोलन के दौरान जब फरवरी १९२२ में चौराचौरी की घटना को आधार बनाकर गाँधीजी ने आन्दोलन वापस ले लिया तो भगतसिंह की तरह आज़ाद का भी काँग्रेस से मोह भंग हो गया और वे १९२३ में शचिन्द्र नाथ सान्याल द्वारा बनाए गए उत्तर भारत के क्रांतिकारियों को लेकर बनाए गए दलहिन्दुस्तानी प्रजातात्रिक संघ (एच आर ए) में शामिल हो गए। इस संगठन ने जब गाँवों में अमीर घरों पर डकैतियाँ डालीं, ताकि दल के लिए धन जुटाया जा सके तो तय किया कि किसी भी औरत के उपर हाथ नहीं उठाया जाएगा। एक गाँव में रामप्रसाद बिस्मिल के नेतृत्व में डाली गई डकैती में जब एक औरत ने आज़ाद का तमंचा छीन लिया तो अपने बलशाली शरीर के बावजूद आज़ाद ने अपने उसूलों के कारण उसपर हाथ नहीं उठाया। इस डकैती में क्रान्तिकारी दल के आठ सदस्यों, जिसमें आज़ाद और बिस्मिल शामिल थे, की बड़ी दुर्दशा हुई क्योंकि पूरे गाँव ने उनपर हमला कर दिया था। इसके बाद दल ने केवल सरकारी प्रतिष्ठानों को ही लूटने का फैसला किया। १ जनवरी १९२५ को दल ने देशभर में अपना बहुचर्चित पर्चा द रिवोल्यूशनरी (क्रांतिकारी) बांटा जिसमें दल की नीतियों का खुलासा था। इस पैम्फलेट में रूसी क्रांति की चर्चा मिलती है और इसके लेखक सम्भवतः शचीन्द्रनाथ सान्याल थे।


अंग्रेजों की नजर में

इस संघ की नीतियों के अनुसार ९ अगस्त १९२५ को काकोरी कांड को अंजाम दिया गया । लेकिन इससे पहले ही अशफ़ाक उल्ला खान ने ऐसी घटनाओं का विरोध किया था क्योंकि उन्हें डर था कि इससे प्रशासन उनके दल को जड़ से उखाड़ने पर तुल जाएगा। और ऐसा ही हुआ। अंग्रेज़ चन्द्रशेखर आज़ाद को तो पकड़ नहीं सके पर अन्य सर्वोच्च कार्यकर्ताओं - रामप्रसाद बिस्मिल, अशफ़ाक उल्ला खाँ, रोशन सिंह तथा राजेन्द्र लाहिड़ी को क्रमशः १९ और १७ दिसम्बर १९२७ को फाँसी पर चढ़ाकर शहीद कर दिया। इस मुकदमे के दौरान दल निष्क्रिय रहा और एकाध बार बिस्मिल तथा योगेश चटर्जी आदि क्रांतिकारियों को छुड़ाने की योजना भी बनी जिसमें आज़ाद के अलावा भगत सिंह भी शामिल थे लेकिन यह योजना पूरी न हो सकी। ८-९ सितम्बर को दल का पुनर्गठन किया गया जिसका नाम हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एशोसिएसन रखा गया। इसके गठन का ढाँचा भगत सिंह ने तैयार किया था पर इसे आज़ाद की पूर्ण समर्थन प्राप्त था।


चरम सक्रियता

आज़ाद के प्रशंसकों में पंडित मोतीलाल नेहरू, पुरुषोत्तमदास टंडन का नाम शुमार था। जवाहरलाल नेहरू से आज़ाद की भेंट जो स्वराज भवन में हुई थी उसका ज़िक्र नेहरू ने 'फासीवदी मनोवृत्ति' के रूप में किया है। इसकी कठोर आलोचना मन्मनाथ गुप्त ने अपने लेखन में की है। यद्यपि नेहरू ने आज़ाद को दल के सदस्यों को रूस में समाजवाद के प्रशिक्षण के लिए भेजने के लिए एक हजार रूपये दिये थे जिनमें से ४४८ रूपये आज़ाद की शहादत के वक़्त उनके वस्त्रों में मिले थे। सम्भवतः सुरेन्द्रनाथ पाण्डेय तथा यशपाल का रूस जाना तय हुआ था पर १९२८-३१ के बीच शहादत का ऐसा सिलसिला चला कि दल लगभग बिखर सा गया। चन्द्रशेखर आज़ाद की इच्छा के विरुद्ध जब भगतसिंह एसेम्बली में बम फेंकने गए तो आज़ाद पर दल की पूरी जिम्मेवारी आ गई। सांडर्स वध में भी उन्होंने भगत सिंह का साथ दिया और फिर बाद में उन्हें छुड़ाने की पूरी कोशिश भी उन्होंने की । आज़ाद की सलाह के खिलाफ जाकर यशपाल ने २३ दिसम्बर १९२९ को दिल्ली के नज़दीक वायसराय की गाड़ी पर बम फेंका तो इससे आज़ाद क्षुब्ध थे क्योंकि इसमें वायसराय तो बच गया था पर कुछ और कर्मचारी मारे गए थे। आज़ाद को २८ मई १९३० को भगवतीचरण वोहरा की बमपरीक्षण में हुई शहादत से भी गहरा आघात लगा था । इसके कारण भगत सिंह को जेल से छुड़ाने की योजना खटाई में पड़ गई थी। भगत सिंह, सुखदेव तथा राजगुर की फाँसी रुकवाने के लिए आज़ाद ने दुर्गा भाभी को गाँधीजी के पास भेजा जहाँ से उन्हें कोरा जवाब दे दिया गया था। आज़ाद ने अपने बलबूते पर झाँसी और कानपुर में अपने अड्डे बना लिये थे । झाँसी में रुद्रनारायण, सदाशिव मुल्कापुरकर, भगवानदास माहौर तथा विश्वनाथ वैशम्पायन थे जबकि कानपुर मे शालिग्राम शुक्ल सक्रिय थे। शालिग्राम शुक्ल को १ दिसम्बर १९३० को पुलिस ने आज़ाद से एक पार्क में जाते वक्त शहीद कर दिया था।


शहादत

२५ फरवरी १९३१ से आज़ाद इलाहाबाद में थे और यशपाल रूस भेजे जाने सम्बन्धी योजनाओं को अन्तिम रूप दे रहे थे। २७ फरवरी को जब वे अल्फ्रेड पार्क (जिसका नाम अब आज़ाद पार्क कर दिया गया है) में सुखदेव के साथ किसी चर्चा में व्यस्त थे तो किसी मुखाविर की सूचना पर पुलिस ने उन्हें घेर लिया। इसी मुठभेड़ में आज़ाद शहीद हुए।

आज़ाद के शहादत की खबर जवाहरलाल नेहरू की पत्नी कमला नेहरू को मिली तो उन्होंने तमाम काँग्रेसी नेताओं व अन्य देशभक्तों को इसकी सूचना दी। पुलिस ने बिना किसी को इसकी सूचना दिए उनका अन्तिम संस्कार कर दिया । बाद में शाम के वक्त उनकी अस्थियाँ लेकर युवकों का एक जुलूस निकला और सभा हुई। सभा को शचिन्द्रनाथ सान्याल की पत्नी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि जैसे बंगाल में खुदीरामबोस की शहादत के बाद उनकी राख को लोगों ने घर में रखकर सम्मानित किया वैसे ही आज़ाद को भी सम्मान मिलेगा। सभा को जवाहरलाल नेहरू ने भी सम्बोधित किया। इससे पूर्व ६ फरवरी १९२७ को मोतीलाल नेहरू के देहान्त के बाद आज़ाद उनकी शवयात्रा में शामिल हुए थे क्योंकि उनके देहान्त से क्रांतिकारियों ने अपना एक सच्चा हमदर्द खो दिया था।


व्यक्तिगत जीवन

आजाद एक देशभक्त थे। अल्फ्रेड पार्क में अंग्रेजों से सामना करते वक्त जब उनकी पिस्तौल में आखिरी गोली बची तो उसको उन्होंने खुद पर चला कर शहादत दी थी। उन्होंने छिपने के लिए साधु का वेश बनाना बखूबी सीख था और इसका उपयोग उन्होंने कई दफ़े किया। एक बार वे दल के लिए धन जुटाने हेतु गाज़ीपुर के एक मरणासन्न साधु के पास चेला बनकर भी रहे ताकि उसके मरने के बाद डेरे के पाँच लाख की सम्पत्ति उनके हाथ लग जाए पर वहाँ जाकर उन्हें पता चला कि साधु मरणासन्न नहीं था और वे वापस आ गए। रूसी क्रान्तिकारी वेरा किग्नर की कहानियों से वे बहुत प्रभावित थे और उनके पास हिन्दी में लेनिन की लिखी एक किताब भी थी। हंलांकि वे कुद पढ़ने के बजाय दूसरों से सुनने मे ज्यादा आनन्दित होते थे। जब वे आजीविका के लिए बम्बई गए थे तो उन्होंने कई फिल्में देखीं। उस समय मूक फिल्मों का ही प्रचलन था पर बाद में वे फिल्मो के प्रति आकर्षित नहीं हुए।

चंद्रशेखर आजाद ने वीरता की नई परिभाषा लिखी थी। उनके बलिदान के बाद उनके द्वारा प्रारंभ किया गया आंदोलन और तेज हो गया, उनसे प्रेरणा लेकर हजारों युवक स्‍वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़े। आजाद की शहादत के सोलह वर्षों के बाद 15 अगस्‍त सन् 1947 को भारत की आजादी का उनका सपना पूरा हुआ।

मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

पर्दा इस्लाम का अभिन्न हिस्सा नहीं


नई दिल्ली। पर्दानशीं मुस्लिम महिलाओं की तस्वीर मतदाता सूची से हटाए जाने के मामले में चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि पर्दे के रवायत की न तो कोई कानूनी हैसियत है और न ही इसे इस्लाम का अभिन्न हिस्सा माना जा सकता है। चुनाव आयोग ने यह दलील सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में दी है।
सोमवार को इस मामले पर सुनवाई के दौरान भी आयोग की वकील मीनाक्षी अरोड़ा ने हाई कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा कि हाई कोर्ट कह चुका है कि पर्दा इस्लाम धर्म का अभिन्न हिस्सा नहीं है। उनकी इस दलील पर याचिकाकर्ता एम. अजमल खान के वकील ने ऐतराज जताया और कहा कि दो-तीन किताबों के निष्कर्ष के आधार पर यह बात नहीं कही जा सकती।
सुनवाई कर रही मुख्य न्यायाधीश की पीठ ने कहा कि उनके सामने विचार का यह मुद्दा ही नहीं है कि पर्दा इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है कि नहीं। पीठ ने याचिकाकर्ता के वकील नरसिम्हन से यह जरूर कहा कि अगर वे इस मामले में सिर्फ याचिकाकर्ता की फोटो हटाने का आदेश जारी करेंगे तो इसी तरह की मांग लेकर सैकड़ों अर्जियां दाखिल हो जाएंगी। इसलिए यह आदेश जारी करना मुश्किल होगा। कोर्ट ने मामले की सुनवाई दो सप्ताह के लिए टालते हुए याचिकाकर्ता से कहा कि वह स्वयं सोच कर बताएं कि ऐसा कौन सा आदेश पारित किया जा सकता है जो हर तरह से उचित हो।
केंद्र सरकार की ओर से पेश अतिरिक्त सालिसीटर जनरल मोहन जैन का कहना था कि याचिका में रखी गई मांग नहीं मानी जा सकती है। चुनाव आयोग ने कहा है कि फोटो के दुरुपयोग को ध्यान में रखा गया है। इसलिए मतदाता सूची की साफ्ट कापी यानी सीडी में फोटो नहीं रखी जाती। फोटो वाली मतदाता सूची की कागजी प्रति सिर्फ चुनाव कराने वाले अधिकारियों व राजनीतिक दलों के एजेंटों को दी जाती है।
याचिकाकर्ता का कहना था कि चुनाव अधिकारियों को फोटो वाली मतदाता सूची दिए जाने पर उन्हें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन राजनीतिक दलों के एजेंटों को फोटो वाली मतदाता सूची न दी जाए क्योंकि उनके हाथ में मतदाता सूची आने से वे उसकी अनगिनत प्रतियां करवा सकते हैं और उससे मुस्लिम धर्म में आस्था रखने वाली पर्दानशीं महिलाओं को ऐतराज हो सकता है। लेकिन चुनाव आयोग ने अपने हलफनामे में धीरे-धीरे पूरे देश में फोटो मतदाता सूची लागू करने की बात भी रखी।
यह मामला तमिलनाडु का है। मद्रास हाई कोर्ट से याचिका खारिज होने के बाद खान ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

सोमवार, 22 फ़रवरी 2010

सरस्वती बता रही है मेवाड़ का रिश्ता


उदयपुर. यदि हरियाणा के सैमाण व फरमाणा में वैदिक सरस्वती की प्रधान सहायक नदी दृषद्वती के प्रवाह क्षेत्र में हुई खुदाई में मिले अवशेषों की जुबानी जाने तो यह स्वीकारना होगा कि वैदिक काल में मेवाड़ का सरस्वती सिंधु निवासियों के साथ अच्छे ताल्लुकात थे।
यह सभ्यता का वह सांस्कृतिक दौर था जब हड़प्पावासियों की नगर नियोजन विधि और मेवाड़ की ग्राम्य निवेश विधि को देशवासी न केवल जान रहे थे बल्कि उसका अनुसरण भी करने लगे थे। डेकन कॉलेज, पुणो के पुरातत्वविद् प्रो. वसंत शिंदे ने यह खुलासा दृषद्वती नदी के किनारे पर बड़े क्षेत्र में उत्खनन के बाद किया।
हरियाणा के रोहतक के निकट बसे फरमाना के आसपास बड़े क्षेत्र में उत्खनन शुरू किया गया है। यह उत्खखन इन दिनों जारी है। जो अवशेष मिले हैं, वे बताते हैं कि यह उस काल में कस्बे की तरह आबाद था।
वहां करीब 3500 ईसा पूर्व कृषि के साथ ही व्यापारिक गतिविधियां अस्तित्व में थीं और इन गतिविधियों में मेवाड़ भी अपना योगदान दे रहा था। मेवाड़ की घग्घर नदी इसी सरस्वती, दृषद्वती का पुनरूप मानी जाती है।
क्या मिली समानताएं : डॉ. शिंदे के अनुसार उदयपुर संभाग में बनास बेसिन में गिलूंड (राजसमंद), बालाथल (उदयपुर) से जो बर्तन मिले हैं, वैसे ही बर्तन फरमाना में मिले हैं। ऐसे बर्तनों को रिजर्वस्लिप पोट्री के रूप में जाना गया है।
ये बर्तन मेवाड़ से ही वहां पहुंचे होंगे, इस बात की प्रबल संभावना है क्योंकि इसी क्षेत्र से ग्रेनाइट भी वहां पहुंचा था और वहां उसका उपयोग मोती बनाने के किया गया। वहां मोती निर्माण की कार्यशाला का भी पता चला है। इसके लिए कच्चे माल रूप में गार्नेट मेवाड़ के आसपास से ही वहां पहुंचा था।
उस समय दृषद्वती के आसपास के क्षेत्र में अनाज की भरपूर पैदावार थी और संभवत: वहां से अनाज मेवाड़ आता था। गिलूंड में अनाज के बड़े बड़े गोदाम होने की पुष्टि हो चुकी है। मेवाड़ और मेवाड़ के अन्य हिस्सों से तांबा भी वहां पहुंचता था। गुजरात से शंख और सिंध क्षेत्र से नीला पत्थर वहां पहुंचता था। बहुत संभव है कि यह व्यापार पशुओं पर माल का परिवहन करने वालों के मार्फत ही होता था।
क्या सीखा परस्पर : शिंदे का मानना है कि हड़प्पा के साथ मेवाड़ के रिश्तों पर पुनर्विचार की संभावना गिलूंड की खुदाई के साथ ही बनी। मेवाड़ में लगभग उसी काल में ग्राम निवेश का जोर था जबकि हड़प्पावासी नगर निवेश कर रहे थे। बाद में उन्होंने जहां भी बस्तियां बसाई, ग्राम निवेश किया और इसकी प्रेरणा मेवाड़ रहा।
दोनों ही क्षेत्रों में स्थानीय लोग ही थे किंतु वे एक दूसरे की सभ्यता व संस्कृति से सीख रहे थे। ईसा पूर्व 1500 के आसपास जबकि अकाल या अन्य कारणों से सरस्वती प्रवाह क्षेत्र से लोगों का पलायन हुआ तो मेवाड़ सहित पुष्कर-मेरवाड़ा, लूणी-मारवाड़, सौराष्ट्र, उत्तरी गुजरात में लोगों ने आश्रय लिया। बहुत संभव है ये सारस्वत कहे जाने लगे।
कहां है जिक्र : सप्तसैंधव प्रदेश व सरस्वती नदी का जिक्र ऋग्वेद (7, 95, 2; 2, 14, 6; 7, 95, 1; 6, 21, 2 से 9) और महाभारत (95, 24) में आया है। ब्रrावैवर्तपुराण को सूत ने दृषदृती के तट पर ही ऋषियों को सुनाया था।
इसी नदी के किनारे विद्या व वाक् की परंपरा रही और अन्य क्षेत्रों से सांस्कृतिक संबंधों, व्यापारिक गतिविधियों के चलते मेवाड़, सौराष्ट्र, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और वर्तमान पाकिस्तान में राजनीति के केंद्रों के विकास के साथ ही प्रशासन, जनतंत्र (जनपद), वाणिज्य, कृषि पद्धतियों का विकास हुआ ।

शनिवार, 20 फ़रवरी 2010

सुरक्षित सीमा सुरक्षित भारत विचार गोष्टी संपन्न

जोधपुर २० फ़रवरी २०१०। सीमा जन कल्याण समिति जोधपुर द्वारा रजत जयंती वर्षके उपलक्ष में एक विचार गोष्टी का आयोजन किया गया जिसमे मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल के सदस्य माननीय इन्द्रेश कुमार जी थे। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि सीमा जागरण के अखिल भारतीय संगटन मंत्री माननीय राकेश कुमार तथा अध्यक्ष प्रोफ़ेसर ओ पी एन कल्ला थे । कार्यक्रम ka शुभारंम्भ भारत माता के चित्र पर दीप प्रजव्ल्लन से हुआ।
सीमा जन कल्याण समिति के महामंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने सीमा जन कल्याण समिति जोधपुर के कार्यक्रम की गतिविधियों सरंक्षक कपूर vyas ji ne आभार व्यक्त किया

सरस्वती नदी पर फिर होगा मंथन

जोधपुर. वैदिक काल में बहने वाली सरस्वती नदी और उसके मार्ग को लेकर वैज्ञानिकों में चाहे कितने मतभेद है, लेकिन जैसलमेर व बाड़मेर के अलावा कच्छ, कुरुक्षेत्र, कैथल व जिंद में सरस्वती नदी पर अध्ययन का काम फिर नए सिरे से शुरू होने वाला है।
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान रिसर्च सेंटर (इसरो) के सेटेलाइट से लिए गए चित्रों व डाटाबेस अध्ययन के आधार पर राजस्थान, हरियाणा, पंजाब व गुजरात में खोजे गए सरस्वती नदी के मार्ग और उससे जुड़े तमाम पहलुओं पर फिर मंथन होगा। इसरो व ओएनजीसी सहित आठ एजेसियां और दो विश्वविद्यालय वेब एनेबल सरस्वती इंफोर्मेशन तैयार करेंगे। इसके लिए अगले महीने सभी एजेंसियों में सहमति पत्र पर हस्ताक्षर होंगे।
इसरो के वैज्ञानिकों ने वैदिक काल सभ्यता के प्रमाण देते हुए सरस्वती नदी के लुप्त होने का खुलासा कुछ साल पूर्व किया था। सेटेलाइट चित्रों के आधार पर वैज्ञानिकों ने दस से बारह हजार साल पूर्व वैदिक काल में सरस्वती नदी के बहने के प्रमाण दिए थे। साथ ही हरियाणा के कुरुक्षेत्र से गंगानगर होते हुए जैसलमेर व बाड़मेर से कच्छ तक सरस्वती नदी का मार्ग भी खोजा था व गर्भ में नदी की धारा बहने के संकेत दिए थे। इसरो के डाटाबेस अध्ययन के आधार पर भूजल विभाग ने जैसलमेर व बाड़मेर में 24 कुएं खोदे थे।
कुओं से मिले पानी की उम्र जानने के लिए मुंबई के भाभा एटोमिक रिसर्च इंस्टीट्यूट से टेस्ट कराने पर डेटिंग में पानी की उम्र दस से बारह हजार साल बताई गई थी। उससे वैदिक काल में सरस्वती नदी के बहने और किसी भूगर्भीय परिवर्तन की वजह से नदी के लुप्त होने के वैज्ञानिक के दावों को बल मिला था। हालांकि जयनारायण विश्वविद्यालय के भू-विज्ञान विभाग के तत्कालीन विभागाध्यक्ष प्रो. बीएस. पालीवाल ने उनके इस दावे को नकारते हुए कहा था कि सरस्वती नदी सिन्धु नदी की एक सहयोगी नदी थी, जो बाद में सूख गई। इसरो के डाटाबेस अध्ययन के आधार पर तीन साल पूर्व ओएनजीसी ने सरस्वती प्रोजेक्ट के नाम से जैसलमेर के डाबला गांव में सरस्वती नदी के मार्ग पर एक कुआं खोदा था।
वहां मीठा पानी मिलने पर वैज्ञानिक उत्साहित थे। अब ओएनजीसी, इसरो, सेंट्रल ग्राउंड वाटर बोर्ड, नेशनल जियोफिजिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट हैदराबाद, स्टेट ग्राउंड वाटर डिपार्टमेंट, पीएचईडी, हरियाणा एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट व वाटर सप्लाई एंड सीवरेज बोर्ड के अलावा गांधीनगर एसएम विश्वविद्यालय बड़ौदा व कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के साथ मिलकर अगले महीने सरस्वती नदी पर फिर से खोज शुरू करेगी।
इसरो के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. बीके भद्र ने बताया कि इसरो जोधपुर ने पन्द्रह साल पहले सरस्वती नदी को लेकर रिसर्च किया है। सेटेलाइट चित्रों व डाटा बेस अध्ययन के आधार पर नए सिरे से सभी एजेंसियां सरस्वती नदी की प्रामाणिकता, मार्ग, उसके लुप्त होने के कारण और उसके चैनल के बारे में जानकारियां एकत्रित करेंगी। इस आधार पर ओएनजीसी जैसलमेर व बाड़मेर में पानी के कुएं खोदेगी। वहीं सेंट्रल वाटर बोर्ड, जयपुर, चंडीगढ़ व गांधीनगर में सरस्वती मार्ग पर जियोफिजिकल सर्वे करेगा।

वायुशक्ति का फुल ड्रेस रिहर्सल 24 को

जोधपुर। पोकरण स्थित वायुसेना की चान्धण फील्ड फायरिंग रेंज में लगभग छह वर्ष बाद हो रहे भारतीय वायुसेना के युद्धाभ्यास 'वायुशक्ति-2010' की जोरदार तैयारियां की जा रही है। वायुसेना के प्रमुख अधिकारियों की मौजूदगी में वायुशक्ति का 25 फरवरी को फुल ड्रेस रिहर्सल किया जाएगा।
प्रतिरक्षा सूत्रों के अनुसार आगामी 28 फरवरी शाम शुरू होने वाला युद्धाभ्यास इस बार कई विशेषताओं वाला होगा। पहला तो वायुसेना पहली बार रात के अन्धेरे में अपनी प्रहारक क्षमता का प्रदर्शन करेगी, वहीं समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में भारतीय रक्षा सेनाओं की सुप्रीम कमाण्डर और राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का आगमन भी पहली बार हो रहा है। इसके मद्देनजर इस बार युद्धाभ्यास की खास तैयारियां की जा रही है।
वायुसेना की गांधीनगर (गुजरात) स्थित दक्षिण-पश्चिम वायुकमान (दपवाक) की मेजबानी में हो रहे युद्धाभ्यास में भारतीय वायुसेना की अग्र्रिम पंक्ति के लडाकू विमान शामिल होंगे। इनके अलावा लडाकू हेलिकॉप्टर एमआई-35 भी युद्धाभ्यास में बम वर्षा करते दिखाई देगा। सुखोई-30, मिराज, जगुआर, मिग शृंखला के सभी विमान और लडाकू हेलिकॉप्टर फुलड्रेस रिहर्सल में भी शामिल होंगे।
दपवाक के अधिकारी इसकी तैयारी में लगे हुए हैं। नई दिल्ली स्थित वायुसेना मुख्यालय व गांधीनगर से आए वायुसेना अधिकारियों ने शुक्रवार को फायरिंग रेंज में तैयारियों का जायजा लिया।
रात को पहली
बारयुद्धाभ्यास के दौरान वायुसेना के युद्धक विमान पहली बार होली की 'फुल मून नाइट' में दुश्मन के काल्पिनक ठिकानों पर बम-वर्षा कर अपनी मारक क्षमता का प्रदर्शन करेंगे। वायुसेना के इतिहास में पहली बार कोई 'डे-नाइट' युद्धाभ्यास हो रहा है। फुल ड्रेस रिहर्सल भी डे-नाइट ही होगा। युद्धाभ्यास 28 फरवरी की शाम पांच बजे शुरू होगा और रात आठ बजे तक चलेगा। इस दौरान राष्ट्रपति के साथ रक्षा मंत्री ए.के. एन्टनी, तीनों सेनाध्यक्ष व मित्र राष्ट्रों के रक्षा अटैची भी मौजूद रहेंगे।
इनका कहना है
'युद्धाभ्यास वायुशक्ति-2010 की तैयारियां जोरशोर से चल रही है। इसका फुलड्रेस रिहर्सल 24 फरवरी को किया जाएगा।'-ग्र्रुप कैप्टन एमजी मेहता, प्रवक्ता दपवाक, गांधीनगर

गुरुवार, 11 फ़रवरी 2010

ब्रिटेन में हिंदू ने जीती अंतिम संस्कार की जंग

लंदन। हिंदू धर्म के पक्के अनुयायी देवेंदर ने खुले में अंतिम संस्कार के लिए कानूनी जंग जीत ली है। 71 साल के हिंदू को कोर्ट ऑफ अपील ने उनकी अंतिम इच्छा के अनुरूप यह इजाजत दी है। साथ ही यह कह दिया है कि इसके लिए कानून में किसी बदलाव की जरूरत नहीं है। यह फैसला ब्रिटेन में रहने वाले 5 लाख 60 हजार हिंदुओं के लिए नजीर बन सकता है। देवेंद्र ने कोर्ट की यह बात मान ली है कि चिता के चारों तरफ दीवार तथा खुली छत हो। हाईकोर्ट ने पिछले साल मई में देवेंद्र को उनकी अंतिम इच्छा के तौर पर चिता पर जलाए जाने की इजाजत देने से मना कर दिया था क्योंकि ब्रिटिश कानून किसी भी मानव अवशेष को खुले में जलाए जाने की इजाजत नहीं देता।
स्त्रोत: http://www.bhaskar.com/2010/02/11/100211115850_britain_hindu_last_rituals.html

जय शिव शंकर

Shivratri is the time when Shiva takes a rest। Shiva rests for one 'prahar' (three hours) of the night। This 'prahar' is referred to as the Shivratri। When Lord Shiva takes rest, the function of 'Shivtatva' (Shiva Principle) ceases, i।e। Lord Shiva goes into a meditative state। Shiva's meditative state is the time when He is engrossed in His own spiritual practice। During that time, the 'Shivtatva' does not accept any tamogun (most base of the 3 elements in us - sattva, raja & tama) or any halahal (venom churned from the ocean) coming from the Universe। As a result, the ratio of halahal or the pressure of the negative energies increases. For protection from this pressure, things like 'bilva patra', white flowers, 'rudraksha' beads etc are offered to Lord Shiva. These things attract the 'Shivtatva' from the atmosphere, thus providing protection from the increasing effect of the negative energies. The Earth is a gross object. Gross objects have very low velocities i.e. they require more time to cover a specific distance in space. Gods on the other hand, are subtle hence they are capable of traversing space within a few seconds. That is why one year on the earth is equivalent to just one day of heaven. - Brahma-tatva (18.02.2004, 3.05 p.m.)

Science in the worship of Lord Shiva on Mahashivratri
The function of the 'Shivpindi'
1. Emitting waves of Knowledge, Devotion and renunciation
Predominantly 'sattva' waves of knowledge, 'raja' waves of devotion and 'tama' waves of Renunciation (Vairagya) are emitted by the 'Shivpindi'. During Mahashivratri, the emission increases by 30 percent.
2. Emission of subtle vibrations of chaitanya, bliss and peace
The 'Shivpindi' emits subtle vibrations of chaitanya, bliss and peace. During the Mahashivratri, the emission increases by 25 percent. This helps purify the subtle-body of one who worships the Shivpindi on this day. The 'sun' or the 'moon' channels in the body get activated as per necessity. The capacity to absorb the sattvaguna and chaitanya also increases. Due to the presence of the unmanifest Shiva principle in the Shivpindi and the vibrations of peace emitted, the Shivpindi remains cool and the mind too experiences peace. Worship of Shivpindi with devotion, activates the dormant Shiva principle. An offering of puffed rice and milk reaches Lord Shiva in the subtle form.
3. Receiving the 'tarak or marak tatva (element)' as required
There is a confluence of the manifest and the unmanifest elements along with the 'tarak and marak tatva' in the Shivpindi. (Tarak = Saviour; Marak = Destroyer). That is how worshipers receive the required element. The temperature of the Shivpindi increases due to the emission of the marak tatva and there one experiences bliss. Similarly, when the tarak tatva is emitted, the temperature drops and one experiences peace and bliss.
Bilvapatra (Bel leaves)
Bilvapatra contains 2% Shiva tatva. By offering bilvapatra to the Shivpindi on Mahashivratri, the manifest Shiva tatva near the stalk of the bilvapatra gets activated. Due to this, waves of chaitanya as well as Shiva tatva are emitted by the bilvapatra. The bilvapatra attracts 20% of the Shiva tatva present in the Shivpindi towards itself. By immersing this bilvapatra in water or by placing it in grains, the Shiva tatva present in the bilvapatra is transmitted to them. The Shiva tatva in the bilvapatra is activated to a larger extent on Mondays when it transmits 10% of the Shiva tatva and sattvikta. On other days only 1% of the Shiva tatva is activated in the bilvapatra.
Bilvarchan
Offering bilvapatra to the Shivpindi and chanting the mantra 'Om Namah Shivaya' with each offering is known as bilvarchan. Continue offering the bilvapatra until the pindi is completely covered. Offer the bilvapatra from the lower part of the pindi. By starting from the feet of the idol, more benefit is derived and the idol can be covered completely. - Brahma-tatva (22.02.2004, 9.30 p.m.)
Chanting on Mahashivratri 'Om Namah Shivaya'
Om represents an unmanifest state beyond the 3 gunas (elements of sattva, raja & tama). We bow to Lord Shiva, from whom Om was created.

Naampatti made by Sanatan Sanstha Seekers to remind Naamjap
What does the word 'Shiva' mean?
a.The word Shiva has been derived by reversing the letters of the word vash. Vash means to enlighten; thus the one who enlightens is Shiva. He remains radiant and also illuminates the universe.
b. He is the auspicious and prosperity-bestowing principle.

चीन व पाक का हर शहर होगा भारत की जद में


नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। जल्दी ही चीन और पाकिस्तान का हर शहर भारत के मिसाइल तरकश की जद में होगा। साढ़े तीन हजार किमी मारक क्षमता वाली अग्नि-3 के अंतिम परीक्षण के बाद रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन [डीआरडीओ] अगले एक साल के भीतर पांच हजार किमी से ज्यादा दूरी तक मार करने वाली अग्नि-5 मिसाइल को परीक्षण के लिए उतार देगा।
रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार और डीआरडीओ के मुखिया डा. वी के सारस्वत के अनुसार अग्नि-3 और अग्नि-5 के साथ चीन और पाकिस्तान का ऐसा कोई लक्ष्य नहीं होगा जिसे हम निशाने पर लेना चाहें और न ले पाएं। उनका कहना था कि भारत को अंतरमहाद्वीपीय मारक क्षमता दिलाने वाली अग्नि-5 मिसाइल को तैयार करने का काम शुरू हो चुका है। अग्नि मिसाइल कार्यक्रम के निदेशक अविनाश चंदर ने बताया कि भारत की सबसे अधिक दूरी तक मार करने वाली अग्नि-5 मिसाइल 17.5 मीटर लंबी होगी और इसका वजन मौजूदा अग्नि-3 से एक टन ज्यादा होगा। अग्नि-5 तीन चरणों वाला प्रक्षेपास्त्र होगा। एक सवाल के जबाव में डा. सारस्वत ने चीन और पाकिस्तान के प्रक्षेपास्त्रों के साथ भारतीय मिसाइलों की तुलना को भी खारिज किया।
मिसाइल कार्यक्रम की उपलब्धियों का ब्यौरा देने को मीडिया से मुखातिब हुए डा. सारस्वत ने बताया कि रविवार को उड़ान की आखिरी परीक्षा पास करने के बाद अग्नि-3 रक्षा सेनाओं के अस्त्रागार में शुमार के लिए तैयार है। गौरतलब है कि बंगाल की खाड़ी स्थित व्हीलर द्वीप पर 7 फरवरी को हुए परीक्षण में अग्नि-3 ने करीब 12 मिनट के समय में अपनी क्षमता का शानदार प्रदर्शन किया। डीआरडीओ के अनुसार परीक्षण के दौरान पूर्णत: स्वदेशी तकनीक से विकसित अग्नि-3 की सतह का तापमान तीन हजार डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था।
अग्नि-3 के सफल परीक्षणों के साथ ही भारत ने संचार उपग्रहों को मार गिराने की क्षमता भी हासिल कर ली है। हालांकि एक सवाल के जवाब में डा. सारस्वत ने साफ किया कि डीआरडीओ के पास सैटेलाइट रोधी मारक क्षमता के लिए कोई निर्धारित कार्यक्रम नहीं है। लेकिन जरूरत पड़ने पर उन्नत तकनीक से लैस 350 किमी ऊंचाई तक लक्ष्य संधान क्षमता वाली अग्नि-3 मिसाइल को सैटेलाइट मारक प्रक्षेपास्त्र में तब्दील किया जा सकता है।
अन्य मिसाइल कार्यक्रमों के संबंध में वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. सारस्वत ने बताया कि भारत अगले महीने अपने बैलेस्टिक मिसाइल रोधी कार्यक्रम का भी परीक्षण करेगा। इस कड़ी में वायुमंडल के भीतर 15 से 16 किमी के दायरे वाली प्रक्षेपास्त्र छतरी का परीक्षण किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि मिसाइल निरोधक तंत्र के विकास में चीन से आगे चल रहा भारत पहला चरण 2012 तक पूरा कर लेगा। वहीं अगले चरणों में अधिक ऊंचाई पर ही मिसाइल को मार गिराने की क्षमता विकसित की जाएगी। इसके अलावा डीआरडीओ प्रमुख का कहना था कि भारत स्वदेशी क्रूज मिसाइल 'निर्भय' का भी विकास कर रहा है। हालांकि उन्होंने साफ किया कि अभी यह कार्यक्रम प्रारंभिक चरणों में ही है।
चीनी दावों को तौलना होगा: नौसेना प्रमुख
नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। भारत ने चीन की पोत विध्वंसक प्रक्षेपास्त्र प्रणाली को अपने लिए खतरा मानने से इन्कार कर दिया है। चीनी दावों को दरकिनार करते हुए नौसेना प्रमुख एडमिरल निर्मल वर्मा का कहना है कि समंदर में किसी जहाज को चिह्नित करना ही बेहद मुश्किल है।
नौसेना प्रमुख के मुताबिक समंदर में एक समय में कई पोत मौजूद होते हैं। लिहाजा सही जहाज की पहचान होनी चाहिए जो मौजूदा निगरानी उपकरणों के सहारे बहुत जटिल काम है। उन्होंने कहा कि पारंपरिक मिसाइल से समुद्र में चलते किसी जहाज पर निशाना लगाना जमीनी लक्ष्य भेदने के मुकाबले कहीं अधिक कठिन है। वर्मा के अनुसार जो भी दावे किए गए हैं उन्हें तौलना होगा। गौरतलब है कि चीन ने हाल ही में जमीन से समंदर पर मौजूद पोत को मिसाइल के सहारे भेदने की क्षमता हासिल करने का दावा किया है।

मंगलवार, 9 फ़रवरी 2010

यह क्या हो रहा इस देश में ?

इस देश मेंक्या हो रहा है ? इक तरफ़ माननीय कोर्ट मना कर रहा है और दूसरी तरफ़ पश्चिम बंगाल सरकार दे रही है । समज से परे है यह सब कुछ .

सोमवार, 8 फ़रवरी 2010

सिख आतंकवाद को फिर भड़काना चाहता है पाक - अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री , राजस्थान

नई दिल्ली। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को कहा कि उनकी सरकार के पास इस बात के सबूत हैं कि सिख आतंकवाद को पुनर्जीवित करने के लिए पाकिस्तान में प्रयास किए जा रहे हैं।नई दिल्ली में रविवार को आंतरिक सुरक्षा पर मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में गहलोत ने कहा, "राजस्थान के आतंकवादी निरोधी दस्ते (एटीएस) की जांच में खुलासा हुआ है कि सीमा पार राष्ट्र विरोधी तत्व देश में सिख आतंकवाद को पुनर्जीवित करने के प्रयास में लगे हुए हैं।"अजमेर शरीफ की सुरक्षा बढ़ाने की मांगगहलोत ने केंद्र सरकार से कहा कि अजमेर स्थित मुस्लिमों के धार्मिक स्थल की सुरक्षा में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के जवानों को तैनात किया जाए।गहलोत ने कहा कि फिलहाल अजमेर में मुस्लिमों के धार्मिक स्थल की सुरक्षा में राज्य पुलिस बल के जवानों को तैनात किया गया है। उन्होंने कहा कि मुस्लिमों के धार्मिक स्थल में बड़ी संख्या में लोग आते हैं और वर्ष 2007 में यहां आतंकवादी हमला भी हुआ था। गहलोत ने कहा कि धार्मिक स्थल की सुरक्षा के लिए राज्य सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को एक प्रस्ताव भेजा है।

सेवा संगम २०१०






बंगलरु ७ जनवरी २०१०। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक परम पूजनीय डॉ मोहन भागवत ने सेवा भारती द्वारा आयोजित "सेवा संगम" कार्यक्रम में अपने उधबोधन में कहा कि सेवा सबसे बड़ा मानव धर्म है । माननीय भागवत जी ने सेवा तथा सामाजिक कार्यो में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की वर्षो से चल रही सहभागिता के बारे में भी बतलाया।



परम पूजनीय सरसंघचालक मोहन जी भागवत ने अपने उधबोधन में बतलाया कि सेवा की भावना का शक्तिशाली भारत निर्माण में महतवपूर्ण योगदान है। कार्यक्रम में योगगुरु बाबा राम देव भी उपस्थित थे।



सेवा संगम के इस राष्ट्रीय कार्यक्रम में करीब ६०० से अधिक NGO हिस्सा ले रहे है । तीन दिवसीय इस कार्यक्रम का ८ जनवरी को समापन समरोह आयोजित होगा .

रविवार, 7 फ़रवरी 2010

24 Hour Surya Namaskar Yogathon 2010 at Irvine,CA







Hindu Swayamsevek Sangh (HSS) brought together over 200 people to perform 12085 Surya Namaskars (Sun Salutations) for the 24 Hour Yogathon. People drove from distant places including Pasadena, Simi Valley, Thousand Oaks, Cerritos and Anaheim to participate in this unique Marathon.
Hindu Swayamsevak Sangh (HSS) organized a 24-hour Surya Namaskar Yogathon 2010 at the Irvine Temple beginning January 29 at 7:00 pm. Hundreds of volunteers gathered and performed the Surya Namaskars or Sun Salutations for the cause of "Health for Humanity".
Surya Namaskar has ten different physical postures, which includes stretching and bending. These alternating backward and forward bending postures flex and stretch the spinal column through their maximum range giving a profound stretch to the whole body. Surya Namaskar has a deep effect in detoxifying the organs through copious oxygenation and has a deeper relaxing effect.
Benefits of Surya Namaskars include improvement in the digestive system, strengthening abdominal muscles, ventilating lungs and oxygenating the blood, tones up nervous system and improves memory, promotes sleep and clams anxiety, normalizes the activity of thyroid glands, refreshes skin, improves muscle flexibility, prevents hair loss, reduces fat, and makes the spine and waist flexible. To say it in short, Surya Namaskars help in maintaining good health, strength, efficiency and longevity.
Swami Ishwarananda of Chinmay Mission, Tustin, inaugurated the Surya Namaskar Yogathon. Swamiji is a dynamic speaker and has given talks on Vedanta, stress management, management techniques and other spiritual topics. Swami Ishwarananda stated that we do not grow because of what we learn, but by doing what we have learnt. "Make your knowledge your experience, otherwise it is useless", he said. He also urged people to practice Yoga not only as a remedy over some health problem but also as a part of daily routine. "Sun gives brightness and nourishment to everyone. He is the one who gives energy and life sustainance to all living beings", he said while explaining the importance of worshiping the Sun god and performing Surya Namaskars at Sunrise.
HSS volunteers performed Surya Namaskars in a set of 13 as there are 13 names for Sun God. After performing one or two sets, next group of people replaced them. Irvine chapter of HSS compiled a list of volunteers and allotted time slots for each. Great effort was taken in coordinating this event. More interestingly, free Surya Namaskar training was provided by the volunteers at request. Many people who were not aware of the right postures for performing Surya Namaskar benefited through this service. Hindu Swayamsevak Sangh USA
Irvine Mayor and City Council could not join the Yogathon due to schedule conflicts. However, they sent their wishes and a letter of recognition. HSS hopes that they could participate in the event, next year.
Yogathon is part of the fourth annual Surya Namaskar Yajna (SNY) organized by HSS throughout USA between Jan 16 and Jan 31st. Our goal is to perform 1 million Surya Namaskars with the help of more than 10,000 participants by January 31st 2010. To mark the beginning with great enthusiasm, HSS also arranged `Surya Namaskar Yajna Lehar’ meaning - Wave. On Jan 16, HSS volunteers started the Lehar by contacting each other on the phone and performing Surya Namaskars in a series. 83 participants all over Southern California performed 2024 Surya Namaskars in first two hours. This included participation of volunteers from Salt Lake, Phoenix, Pasadena, Cerritos, San Diego, Simi Valley, Valencia, Irvine and students from University of California, Irvine (UCI). Irvine shakha is proud to announce that Jamin was a sole contributor of 1781 Surya Namaskars that is, 137 sets during this year’s Surya Namaskar Yajna.
Since 2006, HSS has been conducting Surya Namaskar Yajna, and in all these years various Yoga Centers, community organizations, regardless of individual faiths and beliefs, have participated in this "Health for Humanity" marathon all across the United States. Last year, over 6,500 people from 34 states participated in this unique marathon offering over 700,000 Surya Namaskar. Community leaders and many elected officials across USA have appreciated this initiative and encouraged their residents to participate and take the advantages for overall healthy life style. The latest number of namaskars is being worked out.
HSS invited community groups, Yoga centers and students of all ages to participate, learn, this unique Yoga, and continue practicing beyond the Health for Humanity Marathon. This program was open to people of all ages, gender, and races.
HSS meets at Heritage Park Community Center, Irvine every Sunday between 3:30pm to 5:00। Their activities include Yoga, games and spiritual lectures.






शनिवार, 6 फ़रवरी 2010

कश्मीर पर जेहाद की धमकी -

लाहौर. मुंबई आतंकी हमलों के प्रमुख आरोपी हाफिज मोहम्मद सईद ने धमकी दी है कि जम्मू-कश्मीर को आजाद नहीं किया गया तो जमात-उद-दावा राज्य में जेहाद छेड़ देगा। उसने कहा कि भारत-पाकिस्तान के बीच सभी समस्याओं का हल राज्य की आजादी है।


जमात का मुखिया सईद शुक्रवार को ‘कश्मीर एकता दिवस’ पर यहां करीब 10 हजार लोगों को संबोधित कर रहा था। उसने कहा, ‘हम समग्र-वार्ता के विरोधी नहीं हैं। लेकिन मैं चिदंबरम से कहूंगा कि वे इस्लामाबाद जाने से पहले लाहौर आएं और मुझसे बातचीत करें।


मैं उन्हें भारत और पाकिस्तान की समस्याओं का ठोस हल बताऊंगा। सभी समस्याओं का एक ही हल है जम्मू-कश्मीर की आजादी। नहीं तो हमारे लिए जेहाद का विकल्प खुला हुआ है।’ सईद ने यह भी कहा कि हैदराबाद की आजादी भी उसके संगठन के एजेंडे में शामिल है।


सईद ने कहा कि पाकिस्तान की सरकार भारत के साथ समग्र-वार्ता के नाम पर लोगों को बेवकूफ न बनाए। भारत कभी भी जम्मू-कश्मीर की आजादी के बारे में बात नहीं करेगा। पाकिस्तान को यह अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए।


पेड़ पर चढ़ गया पाकिस्तानी

घड़साना। श्रीगंगानगर सेक्टर में गुरूवार रात एक पाकिस्तानी युवक भारतीय सीमा में प्रवेशकर घड़साना क्षेत्र के 18 पी गांव तक पहुंच गया। ग्रामीणों ने उसे दबोचने के लिए पीछा किया। इधर-उधर खेतों में तलाश करने के बाद वह एक पेड़ पर छिपा मिला, जिसे बाद में पुलिस के सुपुर्द कर दिया।

घड़साना थाने से मिली जानकारी अनुसार पाकिस्तान के फोर्टअब्बास तहसील के गांव पक्का मुरब्बा निवासी अहसान अली (18) पुत्र नजीर शेख को घड़साना क्षेत्र के गांव 18 पी के पास पकड़ा। पूछताछ में बताया कि वह अन्तरराष्ट्रीय सीमा पर सीमा सुरक्षा बल की चित्रकुट व शेरपुरा पोस्ट के बीच तारबंदी को पार कर पाकिस्तान से भारतीय सीमा में घुसा। रात करीब 10 बजे 18 पी गांव के पास पहुंचा तो ग्रामीणों ने उसे पहचान लिया। बचने के लिए वह खेतों की तरफ भाग गया। ग्रामीणों ने उसका पीछा किया और खेतों में खड़ी फसलों के बीच उसकी तलाश शुरू की। इस दौरान वह एक पेड़ पर बैठा मिला। ग्रामीणों ने उसे पकड़कर पुलिस को सूचना दी। शुक्रवार सुबह सीमा सुरक्षा बल के अधिकारी पुलिस थाने पहुंचे और घुसपैठिए से पूछताछ शुरू की। तलाशी के दौरान उससे कोई आपत्तिजनक सामग्री बरामद नहीं हुई।

ग्रामीणों ने दिखाई सजगता
गांव 18 पी के खेतों में पकड़ा गया घुसपैठिया किसी हालत में नहीं पकड़ा जाता, यदि सीमा पर बसे ग्रामीण सजग नहीं होते। जैस ही उसने ग्रामीणों से अनजान भाषा में कुछ पूछा, उन्हें शक हो गया और उसका पीछा करने लगे। इस दौरान देवीदत नामक युवक ने घुसपैठिया होने का संदेह जताते हुए उसे पकड़ने की आवाज दी। इसी दौरान बचाव के लिए घुसपैठिया रोही की ओर भाग गया। ग्रामीणों ने तीन घंटे तक उसकी तलाश जारी रखी और अन्त में कामयाब हुए। ग्रामीणों की सजगता पर सीमाजन कल्याण समिति के सचिव सुनील सोनी ने उन्हें सम्मानित करने की घोषणा की है।

सरहद पर पांच सुराख

श्रीगंगानगर। उत्तरी राजस्थान के श्रीगंगानगर सेक्टर की 186 किलोमीटर लम्बी पाकिस्तान से सटी अन्तरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित पांच चौकियों को घुसपैठियों ने अपना "टारगेट" बना रखा है। कम से कम आंकड़ें तो यही खुलासा करते है। बीते एक साल के दौरान आधा दर्जन से अधिक घुसपैठियों को मार गिराने और इससे अधिक जिंदा पकड़ लेने के बावजूद घुसपैठ का सिलसिला थम नहीं रहा है। आंकड़ों पर नजर डालें तो पिछले साल में बीएसएफ ने एक दर्जन से अधिक घुसपैठिए पकड़े व मार गिराए। अनूपगढ़ व घड़साना उपखण्ड की मजनूं चैकपोस्ट सहित बीएसएफ की पांच ऎसी चौकियां हैं जहां से लगातार घुसपैठ के प्रयास हुए हैं। इसके पीछे सीमा से सटे इलाके में खड़े जंगल को भी जिम्मेदार माना जा रहा है।

यह है सुरक्षा चक्र
अन्तरराष्ट्रीय सीमा पर श्रीगंगानगर सेक्टर में सुरक्षा के लिए बॉर्डर पर सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान चौबीसों घंटे तैनात रहते हैं। सीमा पर तारबंदी है। बॉर्डर की सुरक्षा के लिए पुलिस थाने हैं, जिनमें आपराधिक मामले अधिक नहीं होने पर भी बॉर्डर एरिया के दृष्टिगत निरीक्षक स्तर के प्रभारी लगाए हुए हैं। इनके अलावा खुफिया एजेंसियों के दर्जनों अघिकारी-कर्मचारी बॉर्डर एरिया की हर गतिविधि पर नजर रखते हैं।

सर्दी में अधिक
अब तक घुसपैठ की वारदातों पर नजर डालें तो सामने आया है कि सर्दी में घुसपैठ के प्रयास अधिक होते हैं। इसका कारण कोहरे के साथ रबी की फसल को भी माना जाता है। घुसपैठिए सर्द रात में अंधेरे व कोहरे का फायदा उठाने का प्रयास करते हैं।

महफूज है सीमा
उत्तरी राजस्थान से सटी अन्तरराष्ट्रीय सीमा पूरी तरह महफूज है। श्रीगंगानगर सेक्टर के कुछ स्थानों को घुसपैठिए आसान टारगेट मानकर भारतीय सीमा में घुसने का प्रयास करते हैं। बीते एक साल के दौरान बड़ी संख्या में घुसपैठियों को बीएसएफ के जवानों ने मार गिराया या जिंदा पकड़ लिया, जो हमारी सतर्कता को जाहिर करती है। -सी.आर. चौहान, उप महानिरीक्षक, सीमा सुरक्षा बल
दिनेश स्वामी, Rajasthan Patrika

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2010

पाक अधिकृत कश्मीर में भारत विरोधी रैली -(ना)पाक के नापाक इरादे साफ़ है काहे को जाए चिदंबरम पाकिस्तान ?

संयुक्त जेहाद परिषद के सरगना सैयद सलाहुद्दीन ने रैली में कहा कि वे कश्मीर की भारत से आजादी से कम पर राजी नहीं होंगे।प्रत्यक्षदर्शियों ने आईएएनएस को फोन पर बताया कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के आतंकवादी गुटों के कई सदस्य रैली में उपस्थित थे। रैली में हजारों की संख्या में पुरुष, महिलाएं और बच्चे उपस्थित थे।भारत के विदेश सचिव स्तरीय वार्ता के प्रस्ताव संबंधी खबरों के बीच रैली हुई है।पाकिस्तान में पांच फरवरी के वार्षिक कश्मीर एकजुटता दिवस के एक दिन पहले यह रैली हुई। पाकिस्तान ने कश्मीर के संघर्ष से एकजुटता दिखाने के लिए शुक्रवार को राष्ट्रीय अवकाश घोषित कर दिया है।सलाहुद्दीन ने कहा कि भारत ने जेहाद के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं छोड़ा है क्योंकि इससे पहले हुईं सभी वार्ताएं विफल हो चुकी हैं।बहरहाल उसने कहा कि वह तत्काल नतीजों के लिए गंभीर वार्ता पर राजी है।जमात के कश्मीर क्षेत्र के प्रमुख अब्दुल अजीज अल्वी ने रैली को संबोधित करते हुए कश्मीर के स्वतंत्रता संघर्ष को समर्थन जारी रखने का संकल्प किया।इस रैली को देखते हुए माना जा रहा है कि लश्कर-ए-तैयबा अब अपना ध्यान कश्मीर पर केंद्रित कर रहा है।भारत लश्कर प्रमुख हाफिज सईद को मुंबई पर 26/11 को हुए आतंकवादी हमले का मुख्य सूत्रधार मानता है।पाकिस्तान की सरकारी समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस ऑफ पाकिस्तान के अनुसार कई संगठनों ने कई शहरों और कस्बों में रैलियों और प्रदर्शनों की घोषणा की है।एपीपी के अनुसार कश्मीरियों के संघर्ष के प्रति सम्मान जताने के लिए एक मिनट का मौन रखा जाएगा और पूरे देश में सड़क तथा रेल यातायात रुका रहेगा।रैली में आमंत्रित पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसिज इंटेलीजेंस (आईएसआई) के पूर्व प्रमुख हामिद गुल ने कहा कि पाकिस्तान सरकार को रैली की जानकारी है और इस पर भारत की आपत्ति को खारिज कर दिया।गुल ने समाचार चैनल टाइम्स नाउ से कहा कि एक महत्वपूर्ण मानवीय उद्देश्य के लिए रैली हुई और भारत को कश्मीर में कड़वी सच्चाई का सामना करना चाहिए।
इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

From Times of India

Publication: Times Of India Jaipur; Date: Feb 2, 2010; Section: Editorial; Page: 12
Isolate Sena
BJP must listen to RSS viewpoint on Mumbai for all Indians
For once, we think the BJP ought to listen to its big brother, the RSS. According to RSS chief Mohan Bhagwat, Mumbai is for all Indians. He finds no merit in the destructive regionalism of the Shiv Sena and Maharashtra Navnirman Sena (MNS), which wants Mumbai to be the exclusive preserve of Marathi speakers. He has asked RSS cadres to prevent the spread of anti-north Indian and anti-Hindi feelings. The Shiv Sena is plumbing new depths in competitive populism, in its attempt to fight off the MNS. Not content with bad-mouthing Sachin Tendulkar it has now taken to calling Bollywood icon Shah Rukh Khan a traitor, because of the reasonable position he has taken that some Pakistani players should have found a slot in the IPL. Both Tendulkar and industrialist Mukesh Ambani have reminded the Sena and MNS that Mumbai belongs to all of India. Despite eminent Mumbaikars having voiced their views on this, the absence of a serious political challenge to the Sena’s and MNS’s chauvinist plank has emboldened them to persist with their divisive campaign. In that context it’s a shrewd move on the part of the RSS to step into the debate and speak up for all Indians. We hope the BJP responds. The BJP has so far been reluctant to openly back the RSS on the issue. While it has allied with the Sena to battle the Congress-NCP combine in Maharashtra, the Sena has done it no favours. The BJP may now have no choice but to take on the Sena. Refusal to do so is likely to impact the BJP’s electoral prospects outside Maharashtra. Bhagwat’s remarks have come at a time when mainstream political parties including the Congress and the NCP have refused to challenge the Sena agenda. These parties have either kept mum or tried to echo Sena’s slogans whenever the latter has pushed its nativist credo. But there is an anti-chauvinist space that is crying out for political exploitation in a cosmopolitan city like Mumbai. It’s time political parties rose above shortsighted electoral calculations and confronted the divisive agenda of chauvinist politicians. The Sena and the MNS are most likely to represent a fringe section in the Marathi society. A majority of Maharashtrians, even those who may subscribe to a Hindutva agenda, are unlikely to support a campaign that seeks to isolate them from the rest of India. The likes of Sena are a threat to the unity of India.

Publication: Times of India Mumbai; Date: Feb 3, 2010; Section: Editorial; Page: 22
Mumbai and 370
Jug Suraiya
The Shiv Sena-sangh parivar spat about who has the right to live and work in Mumbai – with the Sena claiming that the city be reserved exclusively for Marathi manoos and the RSS and the BJP counter-claiming that the metropolis should be home to any Indian who chooses to make it home – has taken a curious turn। The BJP has likened the Sena’s stance to Article 370, which disallows non-Kashmiri Indians from buying immovable property in Kashmir, which is anathema to both parties। Apart from the Sainiks, the comparison will also put a lot of liberals in a bind. If Mumbai ought to be open to all – and all liberals will emphatically endorse that view, even at the discomfiture of for once having to side with the despised parivar – why shouldn’t Kashmir have a similar open-door policy for all Indians? The old argument that Article 370 of the Constitution was specifically put in to recognise and preserve Kashmir’s ‘special’ status has worn thin over the years. Instead of enabling that beleaguered state to become part of the so-called national mainstream, the ‘special’ status that it supposedly enjoys under Article 370 has, if anything, only served to entrench separatism in the Valley. The ‘protection’ that Article 370 affords Kashmiris has been made into a cruel mockery by the plight of thousands of Kashmiri Pandits who out of fear of extremist menace have been driven into exile in other parts of the country, and whose fate has largely been overlooked by successive central governments. The sangh parivar has long opposed Article 370. Now, by juxtaposing Mumbai with 370 – and, in effect, with Kashmir – the saffronites have added considerable force to their argument. What will – or what can – the liberal and secular response be? To say that the two cases – of Mumbai and of Kashmir – are very different is only to state the obvious. Of course they are very different; historically, politically, demographically, you name it. But equally without question they are both integrally a part of India. So, 60 years after the founding of the republic, shouldn’t the basis of their ‘Indianness’ be the same, in terms of rights of residence and the acquisition of property? The parivar’s game plan – which the secular-liberals have so far thwarted – has been to ‘saffronise’ the Valley through mass Hindu migration and so resolve the so-called ‘Kashmir problem’ once and for all. The liberal quandary now is how to continue to make a special case for Kashmir while siding, however uncomfortably, with the parivar’s assertion that all of India should be equally hospitable to all Indians. All the parties concerned – the Shiv Sena, the sangh parivar, the Congress and other self-styled ‘secularists’ – are playing votebank politics with an eye to their respective constituencies. Like everything else – from disinvestment and other economic reforms to Indo-Pak relations – it all boils down to vote-catching politics. Except that in this case – the case of Mumbai-Kashmir, or Mumbai 370, if you like – it’s not just a single or even a set of policies that is at stake but the very essence of the republic, of its pluralistic heart and soul. With or without economic reforms, India can – and indeed has for all these years – survived. So has it survived ups and downs, war and peace, with its neighbours and with other powers. But can India survive as India if Indianness is made subservient to regionalism, be it in the name of Marathi manoos or the Kashmiri ethos? If Kashmir is only for Kashmiris, then what’s wrong with the demand of the Thackerays, Bal and Raj, that Mumbai should only be for Marathis? Similarly, should Assam be only for the Assamese, Bengal for the Bengalis, and so on, till nothing remains of India but a name and a tattered rag that once was the proud tricolour? The Sena-parivar shouting match has opened a can of worms. All 370 of them.

गुरुवार, 4 फ़रवरी 2010

पत्नी को बुर्का पहनने पर बाध्य किया तो खैर नहीं


पेरिस। फ्रांस ने एक विदेशी नागरिक को उसकी फ्रांसीसी पत्नी को जबर्दस्ती बुर्का पहनने के लिए बाध्य करने के आरोप में उसे नागरिकता देने से इनकार कर दिया है। आव्रजन मंत्री एरिक बेसन ने बताया कि जांच में यह बात सामने आई है कि विदेशी व्यक्ति ने अपनी फ्रांसीसी पत्नी को बुर्का पहने के लिए बाध्य किया। उन्होने कहा कि किसी भी इंसान को अपना चेहरा खोल कर घूमने का हक है, जबकि इस व्यक्ति ने धर्मनिरपेक्षता के नियमों और स्त्री-पुरूष समानता को दरकिनार करते हुए अपनी पत्नी पर बंदिशें लगाई है। ली फिगारों समाचार पत्र के अनुसार फ्रांस की नागरिकता हांसलि करने के लिए वह व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ मोरक्कों से आया है। उल्लेखनीय है कि श्री बेसन का यह बयान उस वक्त आया है जब संसद ने स्कूलों अस्पताल और सरकारी दफ्तरों जैसे सार्वजनिक स्थलों पर सिर से लेकर पैर तक ढकने वाले बुर्के पर प्रतिबंध लगाने के लिए कानून बनाने का निर्णय लिया है। फ्रांस की पुलिस के मुताबिक यहां करीब 1900 महिलाएं बुर्को पहनती है जिसमें से सिर्फ उनकी आंखे दिखाई देती है।

मंगलवार, 2 फ़रवरी 2010


Swayamsevaks of Chennai defy an unjust ban and court arrest।


Citizens of Chennai had to miss on 31-1-2010 Route Marches of RSS because of the unjust ban on procession after having permitted it.

Pada Sanchalan in Chennai took place on 31-1-2010 with 1090 swayamsevaks. Police denied permission to conduct pada sanchalan. Our Swayamsevaks participated in large numbers in poorna ganavesh. In North Chennai out of 570 swayamsevaks, 419 got arrested. Sanchalan took place in 6 places. Sri R K Nathan of Nathan Driving School (also Honorary Chief of South Indian Driving School) presided over the programme. Sri Viswanathan, Vidya Bharathi addressed the gathering. Sri R K Nathan voluntarily got arrested on seeing the enthusiasm among the swayamsevaks. Mahilas filled the scheduled road for Route March with colourful Rangolis.

In Madhya Chennai, around 300 poorna ganavesh swayamsevaks participated in the pada sanchalan. 119 got arrested. Sri Stanumaalayan, Pranth Pracharak of RSS Uttar Tamilnadu, addressed the gathering. Sri Misa Ganesan (of Emergency fame), a staunch Dravidian leader and Ex-MP of DMK presided over the Pada Sanchalan function of Madhya Chennai. In his speech he said that though he belongs to a different ideology, he has agreed to preside over the function because he was an admirer of the discipline of RSS. Such discipline is all the more necessary for the present day youngsters who are prone to fall astray very easily. He was impressed by the solo song which highlighted the unity of the Hindus and to shed the caste differences.

In South Chennai, out of 305 poorna ganavesh swayamsevaks, 95 got arrested. Sri Rama Gopalan Ji, President Hindu Munnani addressed the swayamsevaks. Sri D S Raghavan, former Chairman of Indian Bank appreciated the discipline that is being followed by the RSS. Local people came to know more about RSS and they also took part in all places.

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित