सोमवार, 23 जून 2014

सोमवार, 16 जून 2014

जोधपुर में श्रदांजलि सभा

स्व राकेश कुमार जी एवं स्व. भीक  सिंह जी के चित्रों  पर पुष्पांजलि

राजस्थान क्षेत्र कार्यवाह श्री हनुमान सिंह श्रद्वांजलि सभा में अपने विचार व्यक्त करते हुए


जोधपुर १५ जून २०१४. सीमा जागरण के राष्ट्रीय  संगठन मंत्री राकेश  कुमार जी तथा सीमा जनकल्याण समिति , जैसलमेर के संगठन मंत्री  सिंह जी सीमाजन कल्याण समिति के राष्ट्रीय संगठन मंत्री स्वर्गीय राकेश कुमार और जैसलमेर जिला संगठन मंत्री स्वर्गीय भीक सिंह को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए रविवार शाम नेहरू पार्क सरदारपूरा स्थित हल्दी-घाटी मैदान (गणगोर उद्यान) समिति की जोधपुर इकाई द्वारा श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया जिसमें अनेक राष्ट्रवादी संगठनो के पदाधिकारियों ने दिवंगत वरिष्ठ अधिकारीयों के निधन को देश और समाज के लिए अपूरणीय क्षति बताया। 
        सभा को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के राजस्थान क्षेत्र कार्यवाह श्री हनुमान सिंह बताया की देश और समाज के लिए निश्वार्थ भाव से काम करने वाले समर्पित कार्यकर्ताओं का असमय चले जाना एक अपूरणीय क्षति है लेकिन उन्होंने समाज के लिए अपनी भूमिका निभाई है जिसे सभी को आगे बढ़ाना चाहिए। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जोधपुर प्रान्त प्रचारक श्री मुरलीधर ने संघ की तरफ से दोनों दिवंगत कार्यकर्ताओं को श्रद्धा सुमन अर्पित कर उनके काम को आगे बढ़ाने का आग्रह सभी से किया।
       सीमाजन कल्याण समिति के प्रदेश अध्यक्ष कांतिलाल ठाकुर ,अतिरिक्त महाधिवक्ता ने इन अधिकारीयों के साथ अपने कार्य अनुभव बताते हुए जानकारी दी की मृदु भाषी राकेश जी का सहज और सरल स्वभाव किसी को भी बहुत जल्दी अपना बना लेने वाला था और इसी के चलते बहुत काम समय में उन्होंने देश की जमीनी सीमा पर प्रभावी संगठन खड़ा करने में सफलता पायी। 
        श्रद्धांजलि सभा को सीमाजन कल्याण समिति के पूर्व प्रदेश संगठन मंत्री अरुण कान्त ने भी सम्बोधित कर अपने अनुभव सभी के साथ बांटते हुए बताया की इनकी कार्य शैली हमें भी अधिक प्रभावी तरीके से कार्य करने को प्रेरित करेगी। 
श्रद्वांजलि  सभा में उपस्थित गणमान्य जन
        सभा में अखिल भारतीय विद्यार्थी परीक्षण, विश्व हिन्दू परिषद, सेवा भारती, पूर्व सैनिक सेवा परीक्षण, भारत विकास परिषद, अधिवक्ता परिषद, विद्या भारती, मजदूर संघ, किसान संघ, शिक्षक संघ जैसे अनेक राष्ट्रवादी संगठनो के पदाधिकारियों ने बड़ी संख्या में सहभागी बन दिवंगत हुए साथियों को श्रद्धा सुमन अर्पित किये। सीमाजन कल्याण समिति राजस्थान के प्रदेश महामंत्री बंशीलाल भाटी ने सभा का सञ्चालन किया। 
        उल्लेखनीय है की इन पदाधिकारियों का १२ जून २०१४ को जैसलमेर जिले के चांधन ग्राम के पास सड़क दुर्घटना में निधन हो गया था। इस दुर्घटना में हिन्दू जागरण मंच के अखिल भारतीय संगठन मंत्री अशोक प्रभाकर तथा सीमाजन कल्याण समिति, राजस्थान के प्रदेश संगठन मंत्री नीम्ब सिंह घायल भी हुए जिनका अब उपचार होकर ठीक हालत में हैं। स्व. राकेश कुमार जी का अंतिम संस्कार उनके पेट्रिक ग्राम पंजाब प्रान्त के संगरूर जिले के अहमदगढ़ कसबे में १३ जून को किया गया जबकि स्व. भीक सिंह जी का अंतिम संस्कार १२ जून को ही उनके ग्राम जैसलमेर जिले के मोहनगढ़ में किया गया। को श्रंदांजलि अर्पित की गयी. गयी। 
हल्दी घाटीपार्क  में आयोजित श्रदांजलि सभा में स्वयंसेवको, अधिकारियो एवं गणमान्य नागरिको ने दोनों दिवंगत आत्माओ को सपनी  श्रदांजलि अर्पित  की।  
समिति के प्रदेश महामंत्री बंशीलाल भाटी ने जानकारी दी की प्रदेश के सभी जिलों और तहसील केन्द्रों पर दिवंगत अधिकारीयों को श्रद्धांजलि देने के लिए सभाएं आयोजित की गयी जिसमे समाज के सभी वर्गों के व्यक्तियों ने बड़ी मात्र में सहभाग किया विशेष रूप से देश की अंतर्राष्ट्रीय सीमा से जुड़े जिलों में बड़ी मात्रा  में जन सहभाग रहा और लोगों ने इनके निधन को देश और विशेष रूप से सीमा क्षेत्र में राष्ट्रवादी गतिविधियों के लिए अपूरणीय क्षति बताया।


राकेश कुमार जी और भीख सिंह जी को श्रद्वांजलि - समाचार पत्रो से

शनिवार, 14 जून 2014

स्व श्री राकेश कुमार जी  परिचय 

स्व श्री राकेश कुमार जी  परिचय 





हजारों नम आंखों ने दी राकेश कुमार को विदायी

हजारों नम आंखों ने दी राकेश कुमार को विदायी

मंडी अहमदगढ़. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक व सीमा जागरण मंच के अखिल भारतीय संगठन मंत्री श्री राकेश कुमार का शुक्रवार, 13 जून को यहां बजरंग अखाड़े के पास अंतिम संस्कार किया गया. जैसलमेर के पास 12 जून को एक सडक़ दुर्घटना में उनका निधन हो गया था. श्री राकेश कुमार के भतीजे श्री भूपेश कुमार ने जब दिवंगत देह को मुखाग्नि दी, उन्हें सदा के लिये विदा करने को उपस्थित हजारों आंखें नम हो गईं.



जोधपुर प्रांत के प्रांत प्रचारक श्री मुरलीधर के नेतृत्व में राजस्थान के कार्यकर्ता श्री राकेश कुमार की पार्थिव देह लेकर मंडी अहमदगढ़ पहुंचे. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह-सरकार्यवाह श्री सुरेश सोनी, अखिल भारतीय सह-बौद्धिक प्रमुख श्री महावीर,  हिंदू जागरण मंच के अखिल भारतीय संयोजक श्री अशोक प्रभाकर, अखिल भारतीय सह-सेवा प्रमुख श्री गुरवंत सिंह कोठारी, क्षेत्रीय प्रचारक श्री रामेश्वर, सह-क्षेत्रीय प्रचारक श्री प्रेम कुमार, राजस्थान के क्षेत्रीय प्रचारक श्री दुर्गादास, जोधपुर प्रांत के प्रांत प्रचारक श्री मुरलीधर, पंजाब के संघचालक स. बृजभूषण सिंह बेदी, सह-प्रांत संघचालक ब्रिगेडियर (से.नि.) जगदीश गगनेजा, प्रांत प्रचारक श्री किशोरकांत, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्री कमल शर्मा, पंजाब के कैबिनेट मंत्री श्री अनिल जोशी, मुख्य संसदीय सचिव श्री सोमप्रकाश, विधायक श्री अश्विनी कुमार, श्री मनोरंजन कालिया सहित अनेक गणमान्य लोगों ने अंतिम संस्कार में शामिल हो कर दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि दी.

श्री राकेश कुमार की आत्मिक शांति के लिये 22 जून को दोपहर 1 बजे मंडी अहमदगढ़ के रॉयल पैलेस में श्रद्धांजलि सभा आहूत की गई है. श्री राकेश कुमार चार भाई हैं जिनमें से एक का कुछ समय पूर्व ही देहांत हुआ है. सभी भाइयों के परिवार मंडी अहमदगढ़ में सम्मानपूर्वक जीवन व्यतीत कर रहे हैं.

राकेश जी का रहा आदर्श प्रचारक जीवन: भय्याजी जोशी

नागपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री सुरेश (भय्याजी) जोशी ने श्री राकेश कुमार के असामयिक निधन पर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा, “बंधुवर राकेश जी का आकस्मिक निधन हम सभी के लिये एक गहरा आघात है . सर्वशक्तिमान ईश्वर हमारे धैर्य की परीक्षा ले रहा है. स्वयंस्वीकृत मार्ग पर चलकर संगठन की अपेक्षानुसार जो-जो भी दायित्व आता गया उसे पूरी निष्ठा-लगन और परिश्रमपूर्वक करने वाला एक आदर्श प्रचारक जीवन श्री राकेश जी का रहा है.”

सरकार्यवाह ने अपने शोक संदेश में कहा है कि एक अत्यंत कर्मठ, विकसित कार्यकर्ता की कमी हमें सदा ही वेदना देती रहेगी. जम्मू जैसे कठिन क्षेत्र में और वर्तमान में सीमा क्षेत्र में उनके द्वारा निर्माण किया गया कार्य,यही अब हम सब की स्मृति में रहेगा .आज देश भर में सैकड़ों कार्यकर्ता इस दुर्घटना से आहत हैं . ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि परिवारजन एवम् हम सभी को यह आघात सहने की शक्ति प्रदान करें. उनकी स्मृति में, मैं अपने श्रध्दासुमन अर्पित करता हूँ. ईश्वर दिवंगत आत्मा को सदगति प्रदान करे .




शुक्रवार, 13 जून 2014

समाज के सहयोग से साकार परिवर्तन – डॉ मोहनजी भागवत



 समाज के सहयोग से साकार परिवर्तन – डॉ मोहनजी भागवत 



jk”Vh; Lo;lsod la?k ds r`rh; la?k f’k{kk oxZ ds lekiu dk;Zdze esa Lo;lsodksa dks lacksf/kr djrs gq, la?k izeq[k eksgu Hkkxor us dgk fd vkt Hkh f’kokth ds ;’k xkFkk ge lqurs gS vkSj f’kokth dks cM+h f’knnr ds lkFk djrs gS bldk dkj.k ;g gS fd ns’k dks f’kokth ds :Ik esa ,d mRre ‘kkld feykA f’kokth ds jkt esa U;k;iw.kZ] lerk;wDr vkSj ‘kks”k.keqSr ‘kklu FkkA f’kokth dk ‘kklu vuq’kklu ij dM+kbZ ls pyus okyk ‘kklu FkkA f’kokth dk ‘kklu nhu nqf[k;ks ds HkykbZ ls dke djus okyk ‘kklu FkkA

eksgu Hkkxor us dgk fd vc yksxksa dks yxus yxk gS fd ns’k ds vPNs fnu vkus okys gSA ns’k ds vketu dks  bl ljdkj ls dkQh mEehn gSA bl ckj lc yksxks us fopkj fd;kA vius eu dk lqukA bl ljdkj dks ns[kdj yxrk gS fd ljdkj dk bjknk iDdk gSA flQZ ljdkj ls Hkh ugha gksxkA laiw.kZ ns’k dks txkuk gksxkA laiw.kZ ns’kokfl;ksa dks txkus ds fy, lcdks tkx`r djuk gksxkA 

eksgu th us dgk fd gekjk ns’k ekuork dks ekuus okyk gSA la?k izeq[k us dgk fd la?k ds ikl dksbZ fjeksV dVªksy ugha gSA la?k izR;sd O;fDr ds vanj vuq’kklu iSnk djrk gSA la?k dk dke ‘kfDr lEiUu] ’khy lEiUu vkSj oSHko lEiUu jk”Vª dk fuekZ.k djuk gSA fofo/krk esa ,drk ns[kdj vkSj laiw.kZ lekt dks viuk ekudj dke djus okys ns’kokfl;ksa dh t:jr gSA la?k ;gh dke djrk gSA izR;sd O;fDr ds vk[k esa vius ns’k ds izfr xkSjo dh n`f”V iSnk djrk gSA 

Hkkxor us dgk fd ns’k ds fy, ejus ds fy, vko’;d gksus ij ns’k ds fy, ej feVus okys ;qokvksa dk fuekZ.k la?k djrk gS ysfdu vkt ejus ughs ns’k ds fy, thus dk le; gSA Hkkxor us dgk fd lqukeh gks ;k pquko gks la?k ds Lo;lsod lcls igys igqpus yxk gSA ifjorZu vk;k gS ysfdu flQZ ljdkj cnyus ls dqN ugha gksxkA lekt vxj ifjorZu ds fy, rS;kj ughs gS rks ljdkj ls dqn gksuk ughas gSA lekt dks ifjorZu ds fy, [kqn dks rS;kj djuk gksxkA
dk;Zdze ds eq[; vfrfFk Jh Jh jfo’kadj FksA




गुरुवार, 12 जून 2014

Nagpur: RSS Sangh Shiksha Varg Concludes, Sarasanghachalak Bhagwat, Sri Sri Ravishankar attends Valedictory

Nagpur: RSS Sangh Shiksha Varg Concludes, Sarasanghachalak Bhagwat, Sri Sri Ravishankar attends Valedictory

Date posted: June 12, 2014 | Short URL: http://samvada.org/?p=21342 | Share: Facebook Twitter
Nagpur June 12: Annual Training camp Sangh Shiksha Varg concludes at Reshimbagh at Nagpur this evening. Sri Sri Ravishankar ji, RSS Sarasanghachalak Mohan Bhagwat, Nagpur Mahanagar Sanghachalak were present on the dais during the valedictory held at Reshimbagh grounds, Nagpur.
Sri Sri Ravishankar addressing the RSS Sangha Shiksha Varg valedictory
Sri Sri Ravishankar addressing the RSS Sangha Shiksha Varg valedictory
In his brief speech Sri Sri Ravishankar said ‘RSS was engaged in crafting good nationalists for a long time and along with that they have contributed many able leaders who brought changes in the country which is unbelievable and the process is still on which we have seen recently also ‘
‘Whatever RSS swayamsevaks do, they devote themselves completely in to that. Whether it is the drill we have seen now or during tsunami or during flood. They do it with the same devotion’ said Sri Sri Ravishankar.
RSS Sarasanghachalak Mohan Bhagwat addressed the valedictory, said “Shivaji decided to lead the nation and rouse from the common man against the evils of the nation. Today we see a person similar to that rose from a poor family to lead the nation. Now we are lead by our own man not a videshi body and soul”


Sangh Shiksha Varg Samarop Nagpur-June-12-2014
Sangh Shiksha Varg Samarop Nagpur-June-12-2014
RSS Chief Bhagwat further added, “The development, reform or upliftment of the society can be made better by the people of the society only.”
(Details will be updated  later)
Nearly 716 RSS volunteers are taking part in the camp, which includes 144  Swayamsevaks from Central India comprising Malwa Prant.  The highest number of participants – 144 – was from Central India comprising Malwa, Madhya Bharat, Mahakaushal and Chattisgarh. Among those attending are 460 professionals, including six doctors, 14 engineers, a chartered accountant and 14 lawyers, while 91 are self-employed. There were as many as 147 teachers, five journalists, 49 agriculturists and 153 students.

source: http://samvada.org

 

सीमा जागरण के राष्ट्रीय संगठन मंत्री वरिष्ठ प्रचारक राकेश कुमार जी का निधन


सीमा जागरण के राष्ट्रीय संगठन मंत्री वरिष्ठ प्रचारक राकेश कुमार जी का निधन



स्व श्री राकेश कुमार जी 
जोधपुर 12 जून 2014 । राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के एक आनुषंगिक संगठन  सीमा जागरण के राष्ट्रीय संगठन मंत्री वरिष्ठ प्रचारक राकेश कुमार जी का सड़क दुर्घटना में प्रात: 11:30बजे निधन हो गया। जैसलमेर से जोधपुर आते वक्त सोडाकोर ग्राम के पास वाहन के पलटने से यह दुर्घटना हुई। इनके साथ यात्रा कर रहे सीमाजन कल्याण समिति जैसलमेर के संगठन मंत्री भीक सिंह जी का भी निधन हो गया।

गाड़ी में श्री अशोक प्रभाकर जी और सीमाजन कल्याण समिति के प्रदेश संगठन मंत्री निम्ब सिंह भी सवार थे. श्री निम्ब सिंह जी इस दुर्घटना में घायल हो गये है जोधपुर के महात्मा गांधी अस्पताल में उनका उपचार चल रहा है. निम्ब सिंह जी कालर बॉन में फ्रैक्चर है।

श्री राकेश जी का अंतिम संस्कार शुक्रवार, 13 जून को लुधियाना के पास मंडी अहमदगढ़ में बजरंग अखाड़ा के पास होगा.

1955 में जन्मे श्री राकेश कुमार जी मूलत: लुधियाना के थे. सीमा जागरण मंच (पंजाब में सरहदी लोक सेवा समिति) के राष्ट्रीय संगठन मंत्री का दायित्व सम्भालने से पूर्व वे जम्मू कश्मीर के प्रान्त प्रचारक रहे थे. वे आपात्काल के दौरान सामाजिक जीवन में आये और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक बने. उन्हें पहले गुरदासपुर का जिला प्रचारक नियुक्त किया गया. इसके बाद वे अमृतसर के विभाग प्रचारक, पंजाब के सह-प्रांत प्रचारक व जम्मू-कश्मीर के प्रांत प्रचारक बने. राकेश कुमार जी अपनी संगठनात्मक कार्य शैली और मृदु व्यवहार के कारण कार्यकर्ताओं के बीच बहुत प्रिय थे. पिछले वर्ष आयोजित सरहद को प्रणाम कार्यक्रम में उनकी महती भूमिका रही थी.
निर्भीक, साहसी और कर्मठ कार्यकर्ता रहे श्री राकेश कुमार को उनके गुणों के कारण उन राज्यों में भेजा गया जो आतंकग्रस्त रहे. देश की सीमाओं पर बढ़ रही विदेशी शक्तियों की गतिविधियों के दृष्टिगत सीमावासियों के जनजागरण का काम उन्हें सौंपा गया. इसी उद्देश्य से प्रवास के लिये वे राजस्थान गये थे.
सीमा जागरण मंच को 1984 में स्थापित किया गया था, जिसका मुख्य उद्देश्य देश की सीमा की सुरक्षा हेतु सामाजिक चेतना जागृत करना है. वस्तुत: भारत-नेपाल सीमा, भारत-पाक सीमा, भारत-चीन सीमा का सर्वेक्षण करने पर पाया गया कि सीमा पर सैन्य बल पद स्थापना के पश्चात सीमांत के लोग निश्चिंत हो जाते हैं. सैन्य बल की मर्यादा निर्धारित है तथा सीमांत के निवासियों का एक वर्ग भारत विरोधी ताकतों की सहायता करता है.


राकेश कुमार जी की पार्थिव देह के साथ जोधपुर प्रान्त प्रचारक मुरलीधर जी अन्य कार्यकर्ताओं के संग उनके पैतृक निवास की और रवाना हो चुके हैं।

शनिवार, 7 जून 2014

नारी के सम्मान से ही देश का विकास- इंद्रेश कुमार जी जोधपुर प्रांत के संघ शिक्षा वर्ग-प्रथम वर्ष का समारोप

नारी के सम्मान से ही देश का विकास- इंद्रेश कुमार जी
जोधपुर प्रांत के संघ शिक्षा वर्ग-प्रथम वर्ष का समारोप


नियुद्ध का इक दृश्य

शारीरिक प्रदर्शन करते स्वयंसेवक

घोष प्रदर्शन करते हुए स्वयंसेवक

दंड युद्ध का प्रदर्शन करते स्वयंसेवक

समारोप कार्यक्रम में उपस्थित प्रबुद्ध नागरिकगण

अनुशाषित स्वयंसेवको का इक दृश्य



माननीय इन्द्रेश कुमार जी उध्बोधन देते हुए

 
गंगाशहर,बीकानेर ६ जून २०१४ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, जोधपुर प्रांत के संघ शिक्षा वर्ग-प्रथम वर्ष का समारोप कार्यक्रम शुक्रवार को आदर्श विद्या मंदिर, गंगाशहर मे आयोजित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व ब्रिगेडियर मोहन लाल वर्मा और कार्यक्रम के मुख्य वक्ता संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इंद्रेश कुमार थे। कार्यक्रम मे वर्ग कार्यवाह अमृतलाल दैया और वर्गाधिकारी शंकर सिंह भी उपस्थित रहे।
        ज्ञातव्य है कि यह शिविर पिछले बीस दिनों से चल रहा है जिसमे पश्चिमी राजस्थान के 17 जिलों के 646 शिक्षार्थी संघ का शारीरिक और बौद्धिक प्रशिक्षण ले रहे हैं। साथ ही घोष वर्ग भी आयोजित किया जा रहा है, जिसमे विभिन्न वाद्यों की रचनाओं का प्रशिक्षण दिया जाता है। शिविर मे 38 शिक्षक और 81 प्रबंधक निरंतर सक्रिय रहकर अपना कार्य कर रहे हैं।
        अपने उद्बोधन मे इंद्रेश कुमार जी ने बीकानेर के लक्ष्मीनाथ जी, राव कर्ण सिंह का उल्लेख किया और इसे साहित्य संस्कृति के साथ ही खाद्य पदार्थों के उत्पादन की प्रसिद्ध भूमि बताया। उन्होने संघ और इसके विचार के देश-विदेश मे चल रहे  सांस्कृतिक-सामाजिक और सेवा कार्यों का परिचय दिया। उन्होने कहा कि भारत देश के सभी मतावलंबियों के पूर्वज इसी देश के मूल विचार और सभ्यता से जुड़े हुए हैं। उनमे आज भी अपने पूर्वजों के संस्कार हैं। उन्होने कहा कि भारत के अल्पसंख्यकों के लिए हकीम खान सूर, गुलाम गोसाईं, अशफाक़ उल्लाह खान आदि का मार्ग ही आदर्श है। 
इंद्रेश कुमार जी ने धारा 370 को केंद्र मे रखकर इसके दुष्प्रभावों की चर्चा की। उन्होने कहा कि धारा 370 के कारण ही देश के अन्य नागरिक वहाँ व्यापार, उद्योग आदि के लिए नहीं बस पा रहे हैं और वहाँ का विकास रुक गया है। उमर अब्दुल्ला का अलगाववादी बयान देशद्रोह से कम नहीं हैं। आम कश्मीरी भारत की मुख्य धारा मे सम्मिलित होकर विकास की गंगा बहाना चाहता है, वह पाकिस्तान के मार्ग पर नहीं चलना चाहता। इसी धारा 370 के परिणामस्वरूप कश्मीर के अलगाववाद प्रेरित आतंकवादी सारे देश मे हिंसा और षड्यंत्र फैला रहे हैं। उन्होने अविलंब धारा 370 के प्रति समाज मे चर्चा से मार्ग प्रशस्त करने की बात कही। 
इंद्रेश कुमार जी  ने कहा कि नारी के सम्मान के लिए भारत भूमि के राम और कृष्ण ने बड़े बड़े युद्धों की रचना कर दी थी, आज अमेरिका के भोगवाद और चीन के भ्रूण हत्या जैसे दुर्गुणों को लेकर नारी के प्रति समाज मे दृष्टिकोण हानिकारक रूप धारण कर रहा है। नारी के सम्मान से ही देश का विकास होगा। उन्होने सभी स्वयंसेवकों और उपस्थित लोगों से महिलाओं के प्रति सम्मान और सुरक्षा के लिए कार्य करने का आह्वान किया। उन्होने कहा कि 2014 के राष्ट्रीय परिवर्तन के साथ एकजुट होकर सब लोगों को अपने अपने क्षेत्र मे परिवर्तन के लिए कार्य करने की आवश्यकता है। आज देश मे परिवर्तन, विकास और उन्नति का आगाज होने वाला है, बस सब लोगों को इसमे भागीदार बनकर कार्य करने की आवश्यकता है। भारत माता को अब वैभव की ओर ले जाने का समय आ रहा है।
        विभाग संघचालक नरोत्तम व्यास ने बताया कि कार्यक्रम मे स्वयंसेवकों ने दंडयुद्ध, नियुद्ध, घोष, योगासन आदि का प्रदर्शन भी किया। कार्यक्रम मे शहर के अनेक गणमान्य लोग, महिला-पुरुष उपस्थित थे। स्वयंसेवकों के परिवारों से सपरिवार उपस्थिति  रही। शनिवार को प्रातः स्वयंसेवकों का दीक्षांत होगा जिसके बाद सभी शिक्षार्थी अपने क्षेत्रों मे जाएंगे।    

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित