गुरुवार, 4 फ़रवरी 2010

पत्नी को बुर्का पहनने पर बाध्य किया तो खैर नहीं


पेरिस। फ्रांस ने एक विदेशी नागरिक को उसकी फ्रांसीसी पत्नी को जबर्दस्ती बुर्का पहनने के लिए बाध्य करने के आरोप में उसे नागरिकता देने से इनकार कर दिया है। आव्रजन मंत्री एरिक बेसन ने बताया कि जांच में यह बात सामने आई है कि विदेशी व्यक्ति ने अपनी फ्रांसीसी पत्नी को बुर्का पहने के लिए बाध्य किया। उन्होने कहा कि किसी भी इंसान को अपना चेहरा खोल कर घूमने का हक है, जबकि इस व्यक्ति ने धर्मनिरपेक्षता के नियमों और स्त्री-पुरूष समानता को दरकिनार करते हुए अपनी पत्नी पर बंदिशें लगाई है। ली फिगारों समाचार पत्र के अनुसार फ्रांस की नागरिकता हांसलि करने के लिए वह व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ मोरक्कों से आया है। उल्लेखनीय है कि श्री बेसन का यह बयान उस वक्त आया है जब संसद ने स्कूलों अस्पताल और सरकारी दफ्तरों जैसे सार्वजनिक स्थलों पर सिर से लेकर पैर तक ढकने वाले बुर्के पर प्रतिबंध लगाने के लिए कानून बनाने का निर्णय लिया है। फ्रांस की पुलिस के मुताबिक यहां करीब 1900 महिलाएं बुर्को पहनती है जिसमें से सिर्फ उनकी आंखे दिखाई देती है।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित