रविवार, 23 अक्तूबर 2011

संघ का संकल्प-2011 कार्यक्रम आज

source: Dainik Bhaskar

संघ प्रमुख आज करेंगे लोगों को संबोधित

अलवर

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का संकल्प-2011 कार्यक्रम रविवार दोपहर 3 बजे मालवीय नगर स्थित आदर्श विद्या मंदिर के सामने स्थित ग्राउंड में होगा। इस अवसर पर संघ प्रमुख मोहन भागवत स्वयंसेवकों की ओर से शारीरिक प्रदर्शन कार्यक्रम का अवलोकन करने के बाद वहां उपस्थित संघ, भाजपा और इससे जुड़े अन्य संगठनों के कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे।

संघ के विभाग संघचालक डॉ. केके गुप्ता के अनुसार संकल्प-2011 कार्यक्रम की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इसके लिए संघ से जुड़े कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारियां सौंपी गई है। संघ के अनुसार प्रस्तावित कार्यक्रम में करीब दस हजार स्वयंसेवक और कार्यकर्ता उपस्थित रहेंगे।

इधर, शनिवार को संघ प्रमुख भागवत ने शाम को मालवीय नगर ग्राउंड में शारीरिक प्रदर्शन का अभ्यास कर रहे स्वयंसेवकों के अभ्यास सत्र में कुछ समय बिताया और शाखा में भाग लिया। इस अवसर पर विधायक ज्ञानदेव आहूजा और बनवारी लाल सिंघल संघ प्रमुख से मिले। शनिवार को संघ प्रमुख से पूर्व विधायक जीत मल जैन, वरिष्ठ स्वयंसेवक गोपा दास भार्गव, तिलकराज गांधी, डॉ. एलके जोशी, राजेंद्र अग्रवाल आदि ने मुलाकात कर चर्चा की।


भारतीय संस्कृति का प्रतीक है भर्तृहरि नाटक

अलवर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघ चालक मोहनराव भागवत ने कहा कि कला मनोरंजन नहीं बल्कि भगवान की सेवा करना है। शुक्रवार रात राजर्षि अभय समाज के रंगमंच पर चल रहे ऎतिहासिक भर्तृहरि नाटक देखने पहुंचे संघ प्रमुख ने संक्षिप्त उद्बोधन में भारतीय कला और संस्कृति के बारे में ही बात की। उन्होंने कहा कि कला मनोरंजन का साधन होने से ज्यादा भगवान की सेवा करना है। सत्यम, शिवम् सुन्दरम् का सूत्र वाक्य हमारी संस्कृति में रचा बसा है।
महाराजा भतृüहरि नाटक का मंचन पिछले 57 वर्षोंं से प्रति वर्ष मंचन किया जा रहा है। यह अपने आप में विश्व रिकार्ड है। नाटक मंचन के कलाकारों के संवाद कंठस्थ है, लेकिन हमारी संस्कृति के प्रतीक ऎसे नाटक का वर्णन कम ही है। अंग्रेजी में कोई नाटक होता है तो उसका वर्णन जरूर मिल जाता है। अलवर में भतृüहरि नाटक देखना अविस्मरणीय है और जहां भी जाऊंगा वहां इसका वर्णन करूंगा।
sabhar :raj patrika

चार मिनिट का उद्बोधन
राजर्षि अभय समाज के रंगमंच पर शुक्रवार रात करीब सवा बारह बजे संघ प्रमुख ने चार मिनिट का उद्बोधन दिया। उन्होंने महाराजा भतृüहरि नाटक मंचन का संचालन करने वाली संस्था का भी आभार व्यक्त किया।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित