बुधवार, 25 नवंबर 2009

मंदिर के लिए एक और रथयात्रा जरूरी: उमा


नागपुर. लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट पर पूरे देश में मचे बवाल के बीच भारतीय जनशक्ति पार्टी की अध्यक्ष उमा भारती ने कहा है कि बाबरी मस्जिद ढहाए जाने का जिम्मेदार बताते हुए यदि उन्हें फांसी पर भी चढ़ाया जाता है, तो वे इसे खुशी-खुशी स्वीकार कर लेंगी। इसके साथ ही उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में एक और रथ यात्रा निकालने की आवश्यकता बताई है।
नागपुर में एक प्रेस कांफ्रेंस में भारती ने लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट पर जमकर तीखे शब्दों में टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि यदि आयोग अपनी रिपोर्ट को सही बता रही है, तो हम भी बाबरी मस्जिद ढहाए जाने का समर्थन करते हैं। इस प्रकरण में पी.वी. नरसिंहराव की भूमिका की उन्होंने खुलकर तारिफ की है। लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट पर बरसते हुए उमा भारती ने कहा कि यह राजनीतिक दस्तावेज है न की न्यायिक। यदि इस रिपोर्ट में उन्हें दोषी ठहराया गया होगा, तो वे इसके खिलाफ कानून मदद लेंगी।
एक सवाल के जवाब में उमा भारती ने कहा कि अयोध्या स्थित बाबरी मस्जिद परिसर में उस दिन बड़ी संख्या में कारसेवकों के आने की वजह से लालकृष्ण आडवाणी ने मुझे कारसेवकों को समझाने-बुझाने के लिए वहां भेजा था। मैंने कारसेवकों को शांत करने की पूरी कोशिश की, परंतु सफलता नहीं मिली और बाबरी मस्जिद ढहा दी गई। उन्होंने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने सरकार के कार्यकाल के दौरान राम मंदिर का निर्माण न होने पर दु:ख व्यक्त करते हुए कहा था कि विधेयक लाकर और मुस्लिम समाज की सहमति हासिल कर मंदिर का निर्माण किया जा सकता है।
आंदोलन होगा : तोगड़िया
विवादित बाबरी ढांचा को ध्वस्त करने के लिए हमें गर्व है। राम जन्मस्थल पर भव्य मंदिर निर्माण हेतु हम संकल्पबद्ध हैं और इसके लिए बलिदान देने की तैयारी भी है। किसी भी कीमत पर बाबर के नाम की एक भी वस्तु का अस्तित्व नहीं रहने दिया जाएगा। केंद्र सरकार मुस्लिमों को खुश करने के लिए निदरेष ंिहंदुओं को लिब्रहान आयोग के नाम पर दंडित करेगी तो केंद्र के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन शुरू किया जाएगा।’

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित