बुधवार, 11 नवंबर 2009

विश्व मंगल गोऊ ग्राम यात्रा उडीसा से चली यात्रा अब आन्ध्र प्रदेश


कटक पहुंचा कुरुक्षेत्र से आने वाला गो रथ

कटक। गीता, गंगा, गायत्री की तरह गो माता हर एक हिन्दुओं के लिए पवित्र है। पूरे देश भर में गो-संपदा की सुरक्षा के लिए लोगों तक वार्ता पहुंचाने हेतु दशहरा से गो-मंगल रथ कुरुक्षेत्र से निकला है। यह रथ सोमवार को कटक पहुंचा तो इसे शताधिक संख्या में लोग स्वागत किए। अपराह्न 3 बजे कटक कालेज चौक तारिणी मंदिर के पास से यह रथ निकलकर शहर परिक्रमा कर सनसाइन मैदान पहुंचा। परिक्रमा के दौरान जगह-जगह इस रथ को लोगों ने स्वागत करने के साथ पूजा अर्चना किए। शाम 6 बजे सनसाइन मैदान में आयोजित एक बड़ी सभा में संत ड.रामविलास वेदांती, संत बालक दास एवं ड.नागेन्द्र जी प्रमुख उद्बोधन देकर गो माता की महानता के बारे में जानकारी दिए। दिन ब दिन हमारे देश से गो-संपदा घट रही है। गो माता हमें गोबर से लेकर दूध, घी आदि देने के बावजूद हम आधुनिक विज्ञान की पट्टी आंखों में डाल कर गो-माता को नजर अंदाज कर रहे है। इनका पहले जैसा आदर भी नहीं रहा। इससे गायों की कई नस्ल भी समय के साथ मिटती जा रही है। इस कार्यक्रम में काफी तादात में लोग मौजूद थे।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित