शनिवार, 4 अक्तूबर 2014

नारी रूपी शक्ति का सम्मान करता है वही उन्नति कर पाता है - इन्द्रेश कुमार जोधपुर महानगर का विजयादशमी उत्सव एवं द्विधारा पथ संचलन सम्पन्न

 नारी रूपी शक्ति का सम्मान करता है वही उन्नति कर पाता है - इन्द्रेश कुमार
जोधपुर महानगर का विजयादशमी उत्सव एवं द्विधारा पथसंचलन  सम्पन्न






जोधपुर ३ अक्टूबर २०१४। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जोधपुर महानगर का विजयादशमी उत्सव एवं द्विधारा पथसंचलन शुक्रवार प्रातः सम्पन्न हुआ। प्रातः 8.00 बजे हजारों गणवेशधारी स्वयंसेवक राजकीय उम्मेद स्टेडियम में विजयादशमी उत्सव के निमित्त एकत्र हुए जहां शस्त्र पूजन एवं शारीरिक प्रदर्शन के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य माननीय इंद्रेश कुमार जी का उद्बोधन हुआ।


इंद्रेश कुमार जी ने कहा की शक्ति पूजा एवं नवरात्रि उत्सव हमें संदेश देता है कि नारी शक्ति स्वरूपा है और जो समाज नारी रूपी शक्ति का सम्मान करता है वही उन्नति कर पाता है। जिस प्रकार शक्ति या ऊर्जा सम्मान करने पर हमारे लिए सहायक होती है किंतु उसके असम्मान से वही शक्ति नष्ट भी कर सकती है।हिंदू समाज को शक्ति सम्पन्न बनने हेतु जाति, वर्ण के नाम पर विकसित कुरीतियों से बाहर निकलना होगा। उन्होंने कहा की विश्व में किसी भी व्यक्ति की पहचान उसकी राष्ट्रीयता से होती है। इसलिए राष्ट्रीयता का भाव अन्य किसी भी वैशिष्ट्य से सदैव ऊपर रहना चाहिए।


माननीय इंद्रेश कुमार जी के उद्बोधन के बाद द्विधारा पथसंचलन का प्रारंभ ठीक 10.30 बजे स्टेडियम से हुआ। अनुशासित एवं मर्यादित हजारों स्वयंसेवक विभिन्न वाहिनियों के रूप में घोष की ताल के साथ सधे कदमों के साथ दो भिन्न-भिन्न धाराओं में शहर के विभिन्न प्रमुख मार्गो से होते हुए गुजरे। 

डाॅ. अभिनव राजपुरोहित महानगर प्रचार प्रमुख ने बताया कि अनेक सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं तथा मुस्लिम समुदाय के अनेक लोगों द्वारा उत्साह पूर्वक संचलन का स्वागत किया गया। जब ठीक 11.25 पर सोजती गेट बारी पर दोनों धाराओं का संगम हुआ तो वहा उपस्थित जनसमूह एवं कार्यकर्ताओं ने भारत माता की जय व वंदे मातरम से आकाश को गुंजायमान कर दिया। संगम के बाद संचलन पुनः स्टेडियम पहुंचा जहां कार्यक्रम का समापन हुआ।

                                   





विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित