शनिवार, 14 मार्च 2015

सुरेश भय्या जी जोशी लगातार तीसरे कार्यकाल के लिये सर्वसम्मति से सरकार्यवाह चुने गए

सुरेश भय्या जी जोशी लगातार तीसरे कार्यकाल के लिये सर्वसम्मति से सरकार्यवाह चुने गए

नागपुर. नागपुर में आयोजित अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक के दूसरे दिन सुरेश भय्या जी जोशी को तीसरे कार्यकाल के लिये सर्वसम्मति के साथ सरकार्यवाह चुना गया. बैठक के दूसरे दिन यानि शनिवार को सरकार्यवाह के चुनाव की प्रक्रिया शाम करीब सवा चार बजे पूरी हुई, जिसमें सर्वसम्मित के साथ उनका चुनाव हुआ. भय्या जी जोशी अगले तीन वर्ष (2015 से मार्च 2018 तक) के लिये सरकार्यवाह का पद संभालेंगे. भय्या जी जोशी को संगठन कौशल का धनी माना जाता है, और पिछले तीन साल के दौरान संगठन को इसका लाभ भी मिला है.

सरकार्यवाह के चुनाव के पश्चात मीडिया द्वारा बेवजह  खड़ी की गई परिवर्तन की चर्चाओं पर भी विराम लग गया है.

अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में बिहार क्षेत्र संघचालक सिद्धिनाथ सिंह जी ने  जोशी के नाम का  सरकार्यवाह पद के   लिए प्रस्तावित किया जिसे राजस्थान के क्षेत्र संघचालक डॉ भगवती प्रसाद जी  , दक्षिण मध्य क्षेत्र कार्यवाह  श्री रामकृष्ण राव  तथा पश्चिम क्षत्र कार्यवाह श्री सुनील महता ने प्रस्ताव का समर्थन किया।

इस  पद के लिए एकमात्र भैया जी जोशी का नामांकन होने के कारण वह निर्विरोध सरकार्यवाह पद के लिए निर्वाचित घोषित हुए।

सरकार्यवाह पद के चुनाव उत्तर क्षेत्र संघचालक श्री बजरंग लाल गुप्त ने संविधान के अनुसार निर्वाचन अधिकारी के नाते संपन्न करवाये .

श्री नन्द कुमार, अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख ने नियमित प्रेसवार्ता में  सुरेश जी जोशी के निर्वाचन की जानकारी मीडिया को दी।


सुरेश भय्या जी जोशी मार्च 2009 से सरकार्यवाह के पद पर हैं, डॉ मोहन भागवत जी के सरसंघचालक बनने के पश्चात भय्या जी जोशी ने जिम्मेवारी संभाली थी. उनका पहला कार्यकाल 2009 से 2012 तथा दूसरा कार्यकाल 2012 से 2015 तक रहा. अब भय्या जी जोशी अगले तीन वर्ष के लिये दायित्व संभालेंगे.

सरकार्यवाह का दायित्व मिलने से पूर्व भय्या जी जोशी सह सरकार्यवाह, अखिल भारतीय सेवा प्रमुख सहित अन्य दायित्व संभाल चुके हैं.

 भय्या जी जोशी बचपन से ही स्वयंसेवक रहे है।  आपने बी.ए.  शिक्षा अर्जित की. कुछ समय मुंबई में नौकरी की।   १९७५ से आप प्रचारक है .








विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित