मंगलवार, 24 मार्च 2015

सीमाजन कल्याण समिति की जिला बैठक संपन्न कार्यकर्ता-निर्माण और मंडलों के विस्तार पर चर्चा

सीमाजन कल्याण समिति की जिला बैठक संपन्न
कार्यकर्ता-निर्माण और मंडलों के विस्तार पर चर्चा

जैसलमेर । सीमाजन कल्याण समिति के प्रदेश संगठन मंत्री नीम्बसिंह ने कहा कि जैसलमेर जिले का सीमावर्ती क्षेत्र विशाल है। यहां की समस्याएं भी अनेक हैं। परिस्थितियां विकट हैं इसलिए कार्यकर्ता कार्य की गति और बढ़ाएं। तहसील इकाइयां अत्यधिक मंडलों तक अपने कार्य क्षेत्र का विकास करें। वह स्थानीय सीमाजन छात्रावास में आयोजित समिति की जिला बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर जिला और तहसील कार्यकारिणी के पदाधिकारी उपस्थित थे।

सीमाजन कल्याण समिति के जिला मंत्री शरद व्यास ने बताया कि बैठक में तहसील व मंडल कार्यकारिणी के अभ्यास वर्ग आयोजित करवाने का निर्णय लिया गया ताकि कार्यकर्ताओं का निर्माण हो सके। जिले के शक्ति केन्द्रों पर समिति के स्थापना दिवस के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन की रूपरेखा पर विचार विमर्श किया गया। इसके साथ ही फतेहगढ़ तहसील क्षेत्र के बड़े भू भाग को सेना के लिए अवाप्त करने की कार्यवाही से उत्पन्न जनाक्रोश और गो शिविरों की अवधि बढ़ाये जाने तथा जिम्मेदार नागरिक होने के नाते अपने क्षेत्र में घटित होने वाली संदिग्ध व अराष्ट्रीय गतिविधियों पर दृष्टि रखकर प्रशासन व समिति के ध्यान में लाये जाने पर सहमति बनी।

जिलाध्यक्ष अलस गिरी ने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि सीमा पर समाज का पलायन रोकने के लिए गोवंश संरक्षण आवश्यक है। इस अवसर पर समिति के पदाधिकारी वीरेन्द्रसिंह बैरसियाला, भंवरूराम म्याजलार, माणक पालीवाल पोकरण, हमीरसिंह रामगढ़, सगताराम रामगढ़ आदि ने कार्य विस्तार के संबंध में सुझाव प्रस्तुत किये।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित