मंगलवार, 13 अप्रैल 2010

ओ जट्टा आई वसाखी



सिखों के दसवें गुरू गोबिन्द सिंह ने बैसाखी के दिन खालसा पंथ की नींव रखी और इस तरह फसल कटने के उल्लास में मनाए जाने वाले इस पावन दिन पर खुश होने की दो वजह हो गईं।
बैसाखी पर्व दरअसल एक लोक त्यौहार है जिसमें फसल पकने के बाद उसके कटने की तैयारी का उल्लास साफ झलकता है। पंजाब और हरियाणा सहित कई क्षेत्रों में बैसाखी मनाने के आध्यात्मिक सहित तमाम कारण हैं। सिख धर्म के विशेषज्ञों के अनुसार पंथ के प्रथम गुरू बाबा नानक देव ने वैशाख माह की आध्यात्मिक साधना की दृष्टि से काफी प्रशंसा की है।देश के अधिकांश भागों में हालांकि गर्मी का प्रकोप शुरू हो चुका है, लेकिन बैसाखी को जाड़ा खत्म होने और गर्मी की शुरूआत के रूप में मनाया जाता है, जब खेतों में फसल पककर सुनहरी हो जाती है और नये पत्तों से सजे पेड़ पौधे हरी चादर ओड़ लेते हैं। लोकजीवन में बैसाखी फसल पकने का त्यौहार है। फसल पकने को ग्रामीण जीवन की समृद्धि से जोड़कर देखा जाता है। बैसाखी के दिन ही दशम गुरू गोबिन्द सिंह ने आनंदपुर साहिब में वर्ष 1699 में खालसा पंथ की स्थापना की थी। इस दिन उन्होंने खालसा पंथ पर जान न्यौछावर करने के लिए अपने अनुयायियों को आगे आने को कहा था। लेकिन जब गुरू के लिए सिर देने की बात आयी तो केवल पांच शिष्य ही सामने आये।इन्हीं पांचों शिष्यों को पंज प्यारा कहा गया। गुरू गोबिन्द सिंह ने इन पंज प्यारों को अमृत छका कर अपना शिष्य बनाया और खालसा पंथ की स्थापना की थी। खालसा पंथ की स्थापना के दिन गुरू गोबिन्द सिंह ने पहले अपने शिष्यों को अमृत छकाया और फिर स्वयं उनके हाथों से अमृत छका। इसी लिए कहा गया है... ’’ प्रगट्यो मर्द अगमण वरियाम अकेला, वाह वाह गुरू गोबिन्द आपै गुरू आपै चेला। ’’उन्होंने कहा कि चूंकि खालसा की स्थापना के दिन गुरू गोबिन्द सिंह ने अपने शिष्यों को अमृत छकाया था, लिहाजा बैसाखी के दिन कुछ लोग उसी घटना की याद में अमृत छकते हैं। वैसे खालसा पंथ में साल के अन्य दिनों भी अमृत छका जाता है कि लेकिन इस मामले में बैसाखी का दिन सबसे विशिष्ट होता है।
गुरूद्वारा रकाबगंज में प्रचारक शिवतेज सिंह ने बताया कि सिख धर्म में बैसाखी का आध्यात्मिक महत्व है। जीवन में हमेशा नेकी और बदी की लड़ाई चलती रहती है। बैसाखी के दिन गुरू गोबिन्द सिंह ने अपने शिष्यों को बुराई से दूर करते हुए नेकी की राह पर चलने की शिक्षा दी थी।उन्होंने कहा कि खालसा पंथ में शामिल होने का आध्यात्मिक अर्थ ही नेकी की राह पर चलते हुए एक नये जीवन की शुरूआत करना है। सिंह ने बताया कि बैसाखी पर्व पर आनंदपुर गुरूद्वारे में विशष्टि आयोजन किया जाता है। देश के अन्य गुरूद्वारों में इस दिन अखंड पाठ का आयोजन होता है। कड़ाह प्रसाद वितरित किया जाता है और अमृत छकाया जाता है।
विशेषज्ञों का मानना है कि हिन्दू पचांग के अनुसार गुरू गोबिन्द सिंह ने वैशाख माह की षष्ठी तिथि के दिन खालसा पंथ की स्थापना की थी। इसी दिन चूंकि मकर संक्रांति भी थी, लिहाजा यह बैसाखी का पर्व सूर्य की तिथि के अनुसार मनाया जाने लगा। उन्होंने कहा कि सूर्य मेष राशि में प्राय: 13 या 14 अप्रैल को प्रवेश करता है, इसीलिए बैसाखी भी इसी दिन मनायी जाती है। बैसाखी का भारतीय स्वाधीनता संग्राम में भी विशिष्ट स्थान है। अमृतसर में स्वर्ण मंदिर के समीप 13 अप्रैल 1919 में हजारों लोग जलियांवाला बाग में एकत्र हुए थे। लोगों की भीड़ अंग्रेजी शासन के रालेट एक्ट के विरोध में एकत्र हुई थी।
जलियांवाला बाग में जनरल डायर ने निहत्थी भीड़ पर गोलियां बरसाई जिसमें करीब 1000 लोग मारे गये और 2000 से अधिक घायल हुए। अंग्रेजी सरकार के इस नृशंस कृत्य की पूरे देश में कड़ी निंदा की गयी और इसने देश के स्वाधीनता आंदोलन को एक नयी गति प्रदान कर दी। जलियांवाला बाग की घटना ने बैसाखी पर्व को एक राष्ट्रीय स्वरूप प्रदान कर दिया। आज भी लोग जहां इस पर्व को पारंपरिक श्रद्धा एवं हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं वहीं वे जलियावाला बाग कांड में शहीद हुए लोगों के प्रति श्रद्धा व्यक्त करना भी नहीं भूलते।
स्त्रोत : http://samaylive.com/article-hindi/day_spacial-hindi/77256.html

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित