बुधवार, 26 अगस्त 2009

Idhar Udhar se


चाक-चौबंद होगी थार एक्स. की सुरक्षा
Bhaskar News Tuesday, August 25, 2009 06:25 [IST]

जोधपुर. थार एक्सप्रेस पर आतंकी हमले की आशंका के मद्देनजर मुनाबाव व भगत की कोठी रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा बंदोबस्त मजबूत किए जाएंगे। सीमा पार से मादक पदार्र्थो की बढ़ती तस्करी रोकने के लिए तमाम एजेंसियों को चाक चौबंद किया जाएगा। साथ ही पाकिस्तान से आने वाले यात्रियों के लगेज की सीमा तय करने के बारे में वहां की रेलवे से बातचीत की जाएगी।

सीमा सुरक्षा बल के मुख्यालय में सोमवार को हुई खुफिया एजेंसियों की त्रैमासिक बैठक में यह निर्णय हुआ। सीसुब के महानिरीक्षक के एल मीणा की अध्यक्षता में हुई इस बैठक के दौरान विभिन्न एजेंसियों ने आपसी तालमेल बढ़ाने पर जोर देते हुए थार एक्सप्रेस की सुरक्षा पर चिंता जताई। साथ ही मुनाबाव में दो और नई तथा भगत की कोठी रेलवे स्टेशन पर एक एक्सरे मशीन शीघ्र लगाने का निर्णय किया गया। इन दोनों स्टेशनों पर थार एक्सप्रेस का सुरक्षा घेरा बंदोबस्त मजबूत करने के लिए जीआरपी की नफरी बढ़ाने का प्रस्ताव मुख्यालय भेजने पर विचार विमर्श किया गया।

बैठक के दौरान यह मुद्दा भी उठा कि थार एक्सप्रेस में पाकिस्तान से आने वालों की लगेज सीमा तय नहीं है। इस कारण वहां से आने वाले यात्री अधिक सामान साथ लाते हैं जो सुरक्षा की दृष्टि से घातक है। सामान अधिक होने से इसकी जांच सही तरीके से नहीं हो पाती। ऐसे में जाली नोटों की खेप और मादक पदार्र्थो के आने की आशंका बनी हुई है।

इस स्थिति से निपटने के लिए पाकिस्तान रेलवे के अधिकारियों को वहां लगेज सीमा तय करने के लिए पर कहा जाएगा। बैठक में बीएसएफ, आईबी, रॉ, कस्टम, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, सीआईडी, बॉर्डर इंटेलिजेंस सहित विभिन्न सुरक्षा व खुफिया एजेंसियों के प्रतिनिधि मौजूद थे

http://www.bhaskar.com/2009/08/25/090825062617_thar_expresss_securety.html

पोटा के डर से पाक भागा था आदम
जोधपुर। बाड़मेर के मुनाबाव अंतरराष्ट्रीय रेलवे स्टेशन पर दो दिन पूर्व इमिग्रेशन जांच के दौरान सीआईडी के हत्थे चढ़ा गोधरा काण्ड का आरोपी धनिया इब्राहिम आदम आतंकवाद निरोधक कानून (पोटा) के डर से वर्ष 2004 में अपनी पत्नी के साथ पाकिस्तान भाग गया था। सुरक्षा व खुफिया एजेन्सियों की आदम से यहां की गई संयुक्त पूछताछ में यह अहम खुलासा हुआ है। पूछताछ में उससे और भी कई अहम जानकारियां मिली है। संयुक्त पूछताछ के बाद गुजरात से आया पुलिस दल आदम को सोमवार को अपने साथ ले गया।
सूत्रों के अनुसार रविवार सुबह थार एक्सप्रेस से पाकिस्तान से लौटे गोधरा के मोहम्मदी मोहल्ला निवासी धनिया इब्राहीम आदम पुत्र आदम युसूफ ने पूछताछ के दौरान बताया कि गोधरा काण्ड के बाद तत्कालीन एनडीए सरकार की ओर से बनाए गए "पोटा" के तहत कई आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। इनकी अब तक जमानत तक नहीं हुई। पोटा के भय से वर्ष 2004 में वह अपनी पत्नी के साथ अटारी के रास्ते पाकिस्तान भाग गया। वह कराची स्थित गोधरा कॉलोनी में रहा। गोधरा काण्ड शांत होने के बाद ही उसका भारत लौटने का इरादा था। पोटा हटने के बाद सर्वोच्च न्यायालय की देखरेख में मामले की सुनवाई शुरू होने पर वह थार एक्सप्रेस से भारत लौटा।
ऎसे धरा गया
इब्राहीम के पाकिस्तान भागने के बाद केन्द्र सरकार के आग्रह के बाद इंटरपोल ने उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था। मुनाबाव में इमिग्रेशन जांच के दौरान उसके पासपोर्ट नम्बर से उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस की जानकारी मिलते ही सीआईडी ने उसे दबोच लिया, लेकिन उसकी पत्नी को छोड़ दिया गया। सोमवार को दिन भर पूछताछ के बाद गुजरात पुलिस की स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) उसे लेकर गोधरा रवाना हो गई।
इब्राहिम गोधरा जीआरपी के हवाले
भास्कर न्यूज Monday, August 24, 2009 07:39 [IST]

जोधपुर. थार एक्सप्रेस में पकड़े गए गोधरा कांड के वांटेड इब्राहिम से रविवार को यहां स्टेशन पर जीआरपी थाने में गुप्तचर एजेंसियों के अधिकारियों ने पूछताछ की। इसके बाद उसे गोधरा से उपनिरीक्षक की अगुवाई में आई पुलिस टोली के हवाले कर दिया गया। पुलिस अधीक्षक (इंटेलीजेंस) पी. रामजी के अनुसार आरोपी इब्राहिम को कड़ी सुरक्षा में रविवार को बाड़मेर से जीआरपी की टोली यहां लेकर पहुंची।

यहां जीआरपी थाने में उससे पूछताछ की गई। इसके बाद गुजरात के गोधरा से आई टोली उसे अपने साथ ले गई। गोधरा कांड वर्ष 2002 की घटना का वांटेड इब्राहिम अगस्त, 04 में अटारी के रास्ते पाकिस्तान चला गया था और शनिवार को थार एक्सप्रेस से लौटते समय मुनाबाव स्टेशन पर उसे आव्रजन विभाग ने गिरफ्तार किया था

source : http://www.bhaskar.com/2009/08/24/090824074036_ibrahim_referred_to_the_godhra_grp.html

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित