शुक्रवार, 7 अगस्त 2009

नाचे फौजी, झूमी बच्चयां

बाड़मेर।वात्सल्य ग्राम वृंदावन धाम की बालिकाओ ने गुरूवार को सीसुब सेक्टर मुख्यालय पर जवानों को राखी बांधने के बाद देशभक्ति गानों के सुर छेड़े तो फौजी अपने आपको रोक नहीं पाए और नाचने लग गए। सुर और ताल की संगत के साथ उत्साह और जज्बे का ऎसा माहौल बना कि यहां मौजूद हर किसी के चेहरे पर खुशी छा गई। वात्सल्य ग्राम की अघिष्ठात्री साध्वी ऋतंभरा के नेतृत्व मे वात्सल्य ग्राम की बालिकाएं गुरूवार को सीसुब हैडक्वार्टर पहुंची। यहां पर कमाण्डेंट प्रतापçंसंह चंदेल ने अभिनंदन किया। कमाण्डेंट चंदेल को साध्वी ऋतंभरा ने रक्षासूत्र बांधा इसके बाद बालिकाओं ने जवानो के रक्षासूत्र बांधे तो जवान भावुक हो गए।

इसके बाद बालिकाओं ने भजनों और गानों के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रारंभ किया। जैसे ही बालिकाओं ने देशभक्ति गानों को प्रस्तुत करना प्रारंभ किया सीसुब के जवान जोश में आ गए और नाचने लगे। करीब दो घंटे तक यह कार्यक्रम चला। इस दौरान कार्यक्रम का संचालन साध्वी शिरोमणि ने किया। इसके बाद थलसेना के जालिपा कैण्ट में साध्वी के साथ बालिकाओं का दल पहुंचा। यहां पर भी रक्षासूत्र बांधे गए व सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ। इस दौरान साध्वी ऋतंभरा ने जवानों को संबोघित करते हुए कहा कि देश की रक्षा के लिए तत्पर रहे। कितनी भी विकट परिस्थिति हों देश का जवान न झुका है न झुकेगा।

रात को हुआ कार्यक्रम- बुधवार रात को स्टेशन रोड विद्यालय में वात्सल्य ग्राम की बालिकाओं की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इसमें बालिकाओं ने गीत, भजन और देशभक्ति गीत प्रस्तुत किए। साथ ही नृत्य नाटिकाएं प्रस्तुत की। मौजूद लोग इन प्रस्तुतियों पर मोहित हो गए। साध्वी ऋतंभरा ने कहा कि राष्ट्र्रधर्म व मातृभूमि की सेवा से बढ़कर कुछ भी नहीं है। भारत विकास परिषद की ओर से वात्सल्य ग्राम के सभी सदस्यों को प्रतीक चिन्ह भेंट किए गए। स्थानीय केन्द्र अध्यक्ष ओमप्रकाश मूथा ने आभार व्यक्त किया।

शाम को हुई रवानगी- साध्वी ने उत्तरलाई रोड पर बन रहे वात्सल्य ग्राम का अवलोकन किया और इसका कार्य शीघ्र पूरा हों इसके लिए विचार विमर्श किया। शाम को मालाणी एक्सप्रेस से साध्वी की रवानगी हुई तो सैकड़ों लोगों ने जयघोष से माहौल को गुंजायमान कर दिया। वात्सल्य सेवा केन्द्र के अध्यक्ष ओम प्रकाश मूथा, पुरूषोत्तम गुप्ता,पुरूषोत्तम खत्री, किशोर शर्मा और इन्द्रप्रकाश पुरोहित सहित कई लोग यहां मौजूद थे।
Source:http://www.patrika.com/news.aspx?id=216733

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित