बुधवार, 9 फ़रवरी 2011

सीमा के साथ सीमाजन का भी विकास जरुरी

बाड़मेर . सीमा क्षेत्र में असहाय एवं पीडि़त लोगों की सहायता करना पुनीत कार्य है, क्षेत्र के हर नागरिक का मजबूत होना जरूरी है। ये विचार सीमा जन कल्याण समिति की ओर से किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए कंपनी कमांडर शैलेंद्र यादव ने व्यक्त किए।

सीमावर्ती गांव गडरारोड में विभिन्न गांवों से आए असहाय लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सीमा जन कल्याण समिति की ओर से किए जा रहे रचनात्मक कार्य से देश व समाज मजबूत होगा। बैठक को संबोधित करते हुए कार्यक्रम अध्यक्ष प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य शंकरलाल गोली ने सीमा जन कल्याण समिति की ओर से किए जा रहे पिछले 25 वर्षों के कार्यों की जानकारी दी। शिव तहसील के अध्यक्ष प्रेमसिंह ने क्षेत्र में समिति के कार्यों की जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन सवाईसिंह ने किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में सरस्वती मां की तस्वीर पर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम में सीमा सुरक्षा बल के अधिकारी टीएस परमार व कार्यकर्ता किशनलाल, छगनलाल महेश्वरी, किशनलाल तामलोरी, तेजाराम दर्जी, बलदेव जोशी, कालूसिंह तामलोर उपस्थित थे।

निशुल्क कंबल वितरित

सीमा क्षेत्र के गांव गडरा रोड, त्रिमोही, जैसिंधर गांव, अकली, ऊनाड़ा, तामलोर, बांडासर, पीथाकर, मोती की बेरी, सुंदरा, जुम्मे फकीर की बस्ती, सजनानी से आए असहाय व पीडि़त पुरुष एवं महिलाओं को निशुल्क कंबलें वितरित की गईं।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित