मंगलवार, 8 फ़रवरी 2011

आरएसएस बताएगा हकीकत - संजय कुमार

बीकानेर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रदेश क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख संजय कुमार ने कहा है कि लोगों को जागृत करने के लिए संघ का सम्पर्क अभियान दस से बीस फरवरी तक चलेगा। इसके लिए दलों का गठन किया जाएगा। इस दौरान स्वयंसेवक गांव-ढाणी जाकर लोगों को देश की समस्याओं से अवगत कराएंगे।

संजय ने सोमवार को शकुंतला भवन में पत्रकारों से बातचीत में बताया कि अयोध्या में राम जन्म भूमि पर मंदिर बनाने, जम्मू कश्मीर की अखंडता और हिन्दू विरोधी दुष्प्रचार की राजनीति की जानकारी देने के लिए सम्पर्क अभियान चलाने का निर्णय किया गया है। उन्होंने बताया कि राज्य के शहरी इलाकों के साथ-साथ 36 हजार गांवों के पचास लाख परिवारों से सम्पर्क किया जाएगा। बीकानेर जिले को दो भागों में बांटा गया है। शहर की 71 बस्तियों व जिले के 600 गांवों में 102 दल घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगे। एक दल में पांच कार्यकर्ताओं को शामिल किया गया है।

उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि कांग्रेस संतों और संघ से जुड़े लोगों को हिन्दू आतंककारी कह कर बदनाम करने का षड़यंत्र रच रही है। स्वामी असीमानन्द, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, संघ प्रचारक इन्द्रेश कुमार पर झूठे आरोप लगाकर सीबीआई एवं एटीएस के माध्यम से प्रताडित किया जा रहा है।

संघ तो शाखा के माध्यम से व्यक्ति निर्माण के कार्य में लगा है। देश में पर जब भी कोई विपदा आई तब संघ का स्वयंसेवक सबसे पहले राहत के लिए पहंुचा है। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। कश्मीर में अलगाव का मूल कारण धारा 370 है। इस धारा को तुरन्त समाप्त करना चाहिए।

घर-घर अपना पक्ष रखेगा संघ

बीकानेर . बम धमाकों सहित विभिन्न मुद्दों से घिरा राष्ट्रीय स्वयंसेवक सघ (आरएसएस) अब अपना पक्ष रखने के लिए घर-घर जाएगा। प्रदेश के 36 हजार गांव और 50 लाख परिवारों तक संपर्क के लिए वृहद योजना तैयार कर ली गई है। सोमवार को संघ के क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख संजय कुमार ने पत्रकारों को बताया कि 10 से 20 फरवरी तक संघ का कार्यकर्ता प्रत्येक परिवार तक जाएगा और देश की तीन प्रमुख समस्याओं से अवगत कराएगा। इसमें रामजन्म भूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण कराना, जम्मू कश्मीर की अखंडता व हिंदू विरोधी दुष्प्रचार की राजनीति प्रमुख हैं। संपर्क के दौरान कार्यकर्ता एक पेंफलेट, एक पुस्तक और हिंदूओं के पक्ष में लिखे स्लोगन भी पविारों तक पहुंचाएगा। पुस्तक में संघ पर लग रहे आरोपों और सच्चाई से अवगत कराया जाएगा। कुमार ने बताया कि बम धमाकों में जानबूझकर केन्द्र सरकार के इशारे पर संघ के प्रचारकों को घसीटा जा रहा है। असीमानंद से जबरदस्ती बयान दिलवाए गए जबकि संघ कभी भी आतंककारी घटनाओं के न पक्ष में रहा और न ही उसमें शामिल हुआ। संघ हमेशा हिंदूओं को एकजुट करने और राष्ट्रीयता से जुड़े मुद्दों पर कार्य करता है। उन्होंने कहा कि लोगों को राममंदिर के पक्ष में आवाज उठाने के लिए कहा जाएगा। जिस तरह सरकार वल्लभभाई पटेल ने सोमनाथ मंदिर का निर्माण कराया उसी प्रकार राममंदिर का निर्माण भी सरकार कराए। जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर कुमार ने कहा कि 26 अक्टूबर 1947 को तत्कालीन महाराजा हरिसिंह ने पूर्ण विलय पत्र पर हस्ताक्षर किए थे लेकिन आज कश्मीर में अलगाववाद का मूल कारण धारा-370 है जिसे समाप्त करने के लिए भी जनजागरण का कार्य किया जाएगा। इसके अलावा 1962, 1971, 1999 के कारगिल युद्ध की याद दिलाते हुए संजय ने कहा कि संघ ने हमेशा राष्ट्र की सेवा की है लेकिन आज राजनीतिक कारणों से संघ के खिलाफ जांच एजेंसियों का उपयोग किया जा रहा है।
source
http://epaper.bhaskar.com/epapermain.aspx?edcode=191&eddate=2/8/2011&querypage=4

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित