सोमवार, 23 जनवरी 2012

खबरे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ बीकानेर द्वारा आयोजित सक्रांति महोत्सव की


'नापाक इरादों से हमें अलग-थलग करने की फिराक में है चीन'

बीकानेर.राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन मधुकर राव भागवत ने कहा कि देश बाहरी और आंतरिक संकट में है और इसके लिए अब हिंसा मुक्त क्रांति की जरूरत है। चीन लगातार कब्जा करता जा रहा है। पाकिस्तान षड्यंत्र कर रहा है।

चीन भारत के सभी मित्र देशों से नजदीकियां बढ़ाकर हमें अलग-थलग करने की फिराक में है। देश के भीतर भी संकट है। भ्रष्टाचार, अलगाववाद, निहत्थे लोगों पर लाठियां चलाई जा रही हैं। इन सभी से जूझने के लिए अब आपसी बैर-भाव भुलाकर आमजन को एकजुट होना पड़ेगा।

रविवार को रेलवे स्टेडियम में संघ के मकर संक्रांति महोत्सव को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा कि चीन या पाक से डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि भारतवासियों ने 500 वर्ष की मुगलों की सुल्तानी को कुचला है।

अंग्रेजों को लंबे संघर्ष के बाद खदेड़ा है, लेकिन कुछ स्वार्थ से देश के भीतर आपसी मतभेद पनप रहा है। आपसी फूट का फायदा उन लोगों को मिल रहा है जो भारत के शुभचिंतक नहीं है। उन्होंने कहा कि राजनीति, नेता या सरकारों से देश में परिवर्तन नहीं होगा, अगर होता तो आजादी के बाद अब तक हो चुका होता।

अब इसके लिए समाज को एकजुट होना पड़ेगा। समाज जब जातीय या धर्म के आधार पर मतदान करना बंद कर देगा नेता स्वयं उनकी पैरवी करेंगे और जो समाज चाहेगा वह करेंगे। मकर संक्रांति का महत्त्व बताते हुए भागवत ने कहा कि सूर्य स्थिर रहता है। पृथ्वी जब सूर्य की तरफ मुंह करती है तो दिन और पीठ करने पर रात होती है। संक्रांति क्रांति का संदेश दे रही है।

इससे पूर्व काव्य गीत हुआ। मंच पर सह प्रांत संघचालक कैलाश भसीन, विभाग संघचालक नंदकिशोर, आदि मौजूद थे। समारोह में संघ गणवेश में सांसद अर्जुनराम मेघवाल, कोलायत विधायक देवी सिंह भाटी, बीकानेर पश्चिम क्षेत्र विधायक डॉ।गोपाल जोशी, देहात भाजपा अध्यक्ष रामगोपाल सुथार सहित तमाम नेता मौजूद थे।

साभार : दैनिक भास्कर , बीकानेर

साभार : राजस्थान पत्रिका, बीकानेर

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित