सोमवार, 30 जनवरी 2012

समाज को देश की धुरा संभालनी होगी- डॉक्टर मोहन भागवत


समाज को देश की धुरा संभालनी होगी- डॉक्टर मोहन भागवत

स्रोत: News Bharati

हुबली, जनवरी २९ : हुबली में संपन हो रहे तीन दिनों के हिन्दू शक्ति संगम-2012 के समारोप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक डॉक्टर मोहन भागवत ने कहा कि अब समय आ गया है कि समाज देश की धुरा आपने हाथ में लेले और उसे संभाले।

उन्होंने कहा कि इस हिन्दू शक्ति संगम के बारे में बोलने से अधिक इसका दर्शन ही सब कुछ कह देता हैं। देश में विचार भरपूर है तत्त्वज्ञान भी है परन्तु साधना नहीं है ।

डॉक्टर मोहन भागवत ने इस अवसर पर पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की एक बात को दोहराया कि हम लोग शक्ति की उपासना को भुला चुके हैं यही वजह की आज हम पिछड़ रहे हैं, समाज में उस शक्ति की उपासना को बढाने का काम आरएसएस कर रहा है । उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति प्रयास करता है उसे मिलता है। उन्होंने देश की वर्तमान में विद्यमान समस्याओं को देखते हुए कहा कि ये समस्याएं शतकों पुरानी है हमारे लिए कोई शक्ति असाध्य नहीं हैं सिर्फ शील के साथ शक्ति साधना होनी चाहिए हैं । तभी जाकर इन समस्यों का निवारण होगा।

गौरतलब है कि इस हिन्दू शक्ति संगम में २२ हजार लोगों ने शिरकत की थीं । डॉ भगवात ने कहा कि हमें शील संपन्न भारत निर्माण करने की जरुरत हैं । हमने संपत्ति अपार अर्जित की है लेकिन समस्या रत्ती भर नहीं मिटी है । डॉ भागवत ने कहा, "दुनिया में केवल शक्ति संपन्न लोग ही जीतते हैं। " इस देश को एक सूत्र में पिरोंने का काम हिन्दू करता हैं। संघ देश के हित में कम करने वालों का संगठन हैं आज पुरे देश में १.५७ लाख जगहों पर संघ के लोग अपने पैसों से समाज के उत्थान का काम कर रहे हैं ।

अंतत : उन्होंने कहा कि मातृभूमि, संस्कृति और पूर्वजों का गौरव से देश को एक बंधन में बांधा जा सकता हैं ।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित