मंगलवार, 19 अगस्त 2014

मालानी गो संवर्धन केंद्र जसोल का भूमि पूजनसंपन्न

मालानी गौ संवर्धन केंद्र का भूमि पूजन संपन्न  

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख माननीय सुरेशचंद्र उध्बोधन देते हुए



मारवाड़ गो ग्राम संवर्धन न्यास के अध्यक्ष घनश्याम ओझा ने न्यास के कार्यों की प्रस्तावना रखते हुए 2009 की विश्व मंगल गो ग्राम यात्रा की दिशा में एक प्रभावी कदम बताया। 
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुखमाननीय सुरेशचंद्र ने पंचगव्य की महत्ता के साथ गो विज्ञान अनुसंधान, जैविक खेती से अच्छी फसलों के उत्पादन, गोमूत्र से असाध्य बीमारियों का इलाज का वर्णन करते हुए इस क्षेत्र में और तेजी से अनुसंधान की आवश्यकता की बात कही। 
माननीय सुरेश चन्द्र ने  पंजाब हरियाणा में कैंसर फैलने का मुख्य कारण यूरिया का अत्यधिक प्रयोग होना बताया। संत प्रतापपुरी ने कामधेनु की विवेचना करते हुए गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करते हुए सरकार की मनरेगा जैसी योजनाओं के माध्यम से गोपालकों संबल देने के लिए ग्राम सदन खोलने की कार्य योजना की मांग रखी। कृपारामजी महाराज ने कहा कि हमारे जीवन एवं संस्कृति का आधार गाय माता है। भगवान कृष्ण का गोपालक के रूप में अवतार हुआ। कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर न्यास का यह कार्यक्रम प्रेरणादायी है। अपनी काव्य रचना के द्वारा व्यंग्य करते हुए कहा कि आज घरों में गाय का स्थान नहीं बल्कि कुत्ते का है।

उन्होंने कहा कि गौशाला तो एक विश्राम केंद्र है। गाय का वास्तविक निवास किसान का घर होना चाहिए। संवर्धन केंद्र की ओर से नस्ल सुधार तथा संरक्षण का कार्य किया जाता है। साथ ही उपस्थित जनों से गौ-सेवा का संकल्प करवाया। प्रकल्प प्रमुख शांतिलाल बालड़, रामेश्वर भूतड़ा, मदनलाल चैपड़ा, हरिराम भूतड़ा ईश्वरसिंह जसोल सहित सभी दानदाताओं का प्रकल्प संयोजक भीमाराम माली द्वारा आभार ज्ञापित किया गया। कार्यक्रम का संचालन मेघाराम सुथार सतीश व्यास ने किया। इस अवसर पर सिवाना विधायक हम्मीरसिंह भायल, बालोतरा नगर परिषद के अध्यक्ष महेश बी चौैहान सहित बालोतरा, जसोल, सिवाना, समदड़ी, पचपदरा, सिणधरी तथा आसपास के गांवों से बड़ी संख्या में किसान एवं गोभक्त एकत्रित हुए।


साभार:  

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित