शनिवार, 3 नवंबर 2012

चेन्नई में अखिल भारतीय कार्यकरी मंडल बैठक का उद्घाटन प्रेस वार्ता के प्रश्नोत्तर




चेन्नई में अखिल भारतीय कार्यकरी मंडल बैठक का उद्घाटन
मान दत्तात्रेय जी होसबोले , मान  मनमोहन जी वैद्य तथा श्री कुमारस्वामी 
दिनांक २ नवम्बर २०१२
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्रीय कार्यकारी मंडल बैठक जो पहली बार तमिलनाडु में आयोजित होने जा रही है, का उद्घाटन सरसंघचालक श्री मोहन भागवत के कर कमलों से दिनांक २ नवम्बर को हुआ| तमिल सूक्तियों और मंत्रोच्चार के बीच सर कार्यवाह श्री सुरेश जोशी की उपस्थिति में श्री भागवत ने दीप प्रज्ज्वलन किया | इस तीन दिवसीय बैठक में देश के सभी भागों से आए ४०० प्रतिनिधि भाग लेंगे | उद्घाटन के पश्चात् सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबले ने पत्रकारों को संबोधित कर अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल के उद्देश्य से अवगत कराया |
श्री दत्तात्रेय होसबले का उद्बोधन
आप सभी जानते हैं की आरएसएस की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक पहली बार तमिलनाडु में होने जा रही है | संगठन की दृष्टि से संघ ने तमिलनाडु को दो भागों में विभक्त किया है, उत्तर और दक्षिण तमिलनाड |उत्तर तमिलनाड में इस प्रकार की बैठक का यह पहला अवसर है | कुछ वर्ष पूर्व कन्याकुमारी में ऐसी ही बैठक हुयी थी | तमिलनाड के लोगों ने आत्मीय सत्कार से सभी पदाधिकारियों को अभिभूत कर दिया | चक्रवाती हवा और प्रतिकूल वातावरण के उपरांत ऐसी सुंदर व्यवस्था और तमिलनाड के व्यंजनों का रसास्वादन वास्तव में बहुत आनंद दायक रहे | श्री सरसंघचालक जी द्वारा आरंभ हुए कार्यक्रम का समापन ४ नवम्बर को होगा | इस प्रकार की बैठकें वर्ष में दो बार होती है | एक मार्च में और दूसरी दसहरा और दीपावली के मध्य | इस बैठक में हम अगले तीन वर्षों में विस्तार की योजनाओं पर चर्चा करेंगे | हम सभी जानते है कि स्वामी विवेकानंद की १५० वीं जयंती पूरे देश में मनाई जाएगी | विवेकानंद केंद्र और संघ प्रेरित संगठन मिल कर आयोजन समिति का गठन करेंगे, जिसकी घोषणा १९ नवम्बर को दिल्ली में की जाएगी | कार्यक्रमों का शुभारम्भ २५ दिसंबर से होगा | २५ दिसंबर का महत्त्व इसलिए भी है की इसी दिन से स्वामी विवेकानंद ने तीन दिन का ध्यान कन्याकुमारी के पास समुद्र के चट्टान पर बैठ कर किया था. आज वह चट्टान ‘विवेकानंद रॉक’ के नाम से प्रसिद्ध है | ये कार्यक्रम पञ्च आयामों – युवा, मातृशक्ति, प्रबुद्ध वर्ग, ग्रामीण और वनवासी क्षेत्रों के लिए आयोजित किये जायेंगे, जिनका आधार स्वामीजी के मूल सिद्धांत ‘त्याग और सेवा’ होंगे | इन कार्यक्रमों में संघ द्वारा योगदान के विषय पर भी हम चर्चा करेंगे | वास्तव में पिछले ६ महीनों से इस विषय में योजनायें चल रही थी प्रत्येक प्रान्त की एक प्रांतीय समिति और एक अखिल भारतीय समिति का गठन होगा |

हम दो प्रस्तावों पर यहाँ चर्चा करेंगे :-
१.       हाल ही में उत्तर पूर्व और असम में हुए घटनाक्रम : बंगलादेश से हो रही लगातार घुसपेठ के कारण जुलाई के अंतिम और अगस्त के प्रथम सप्ताह के मध्य बोडो क्षेत्र में हुए हिंसक आन्दोलन से हम सभी अवगत है | निरंतर हो रही घुसपेठ ने देश के सांप्रदायिक समीकरण बदल दिए | देश के सभी भागों यहाँ तक की तमिलनाडू में भी बंगलादेशी घुसपेठियों ने अपने घर बसा लिए हैं | इन में से अघिकांश ने चुनाव पहचान पत्र तक बना लिए और सांसद और विधायक के चुनाव में अब इनकी भूमिका निर्णायक हो गयी है | हाल ही में बोडो क्षेत्र में हुई हिंसा इसी से उत्पन्न हुए तनाव का परिणाम था | संघ के स्वयंसेवकों ने सभी आवश्यक राहत सेवाकार्य कर अपना कर्त्तव्य निभाया |
हम इस समस्या को देश की मुख्य धारा से जोड़ना चाहते हैं | सभी घुसपेठियों की पहचान कर उनका नाम चुनाव सूचि से हटाना होगा और उन्हें उनके देश भेजने के सभी प्रयास किये जाने चाहिए |
२.      चीन भी अपना वर्चस्व विशेषकर एशियाई क्षेत्र में बढाने के लिए आस्तीन तान रहा है| सन् १९६२ में चीन ने २१ अक्तूबर को हमारे देश में आक्रमण किया था और हमारी शर्मनाक हार के बाद ही पीछे हटा | वर्त्तमान पीढ़ी को देश पर आसन्न संकटों के प्रति जागरूक होना चाहिए | देश की वर्तमान सरकार पर भी दवाब बनाने की आवश्यकता है |डाक्टर एपीजे अब्दुल कलाम के नेतृत्व में देश के वैज्ञानिकों ने आतंरिक सुरक्षा को सशक्त बनाने की दिशा में प्रगति की है लेकिन चीन के मुकाबले हमारी सामरिक तैयारी अपर्याप्त है | बैठक में इस सन्दर्भ में चर्चा होगी और प्रस्ताव पारित किया जायेगा |
३.      जनवरी-फरवरी २०१३ में प्रयाग में पूर्ण कुम्भ मेला होगा | बड़ी संख्या में धर्मप्रेमी लोगों और साधू-संतों के आगमन के इस सुअवसर का सदुपयोग करते हुए गो रक्षा और मंदिरों की सुरक्षा आदि विषयों पर चर्चा करने की भी योजना है |
एक बार फिर तमिलनाडु की जनता और तमिलनाड के संघ स्वयंसेवकों का आभार व्यक्त करते हुए आशा करता हूँ की यह एक अविस्मरणीय आयोजन रहेगा |
प्रश्नोत्तरी :-
प्रश्न - १ : क्या तमिलनाडु के मुद्दों – मुल्लैपेरियार , कावेरी और श्रीलंका पर भी प्रस्ताव होगा ?
उत्तर : इन विषयों पर चर्चा हुई है | वस्तुतः श्रीलंका के विषय पर कुछ समय पर प्रस्ताव भी पारित किया था | संघ इस विषय को तमिल नाडू का नहीं बल्कि सारे देश का मानता है |   
प्रश्न -२ : सभ्यताओं का निर्माण लोगों के प्रवर्जन, स्थानांतरण से होता आया है| फिर संघ ने अकेले बंगलादेशी घुसपेठियों को ही क्यों निशाना बनाया है ?
उत्तर : सांस्कृतिक रूप से एक होते हुए भी बंगलादेश और पाकिस्तान राजनीतिक रूप से अलग हैं | उनकी अलग नागरिकता है | इसलिए गैर क़ानूनी रूप से हमारे देश की सीमाओं प्रवेश करनेवाले लोगों को घुसपेठिया ही समझा जायेगा |
इसे रोका जाना संभव है या नहीं यह लोगों और सरकार की इच्छा शक्ति पर निर्भर करता है |
प्रश्न -३ : यदि हिन्दू इस देश में शरण माँगते हैं तो आपका रुख क्या होगा ? क्या यह उनसे भिन्न होगा ?
उत्तर : किसी भी देश से भारत आनेवाले हिन्दुओं को शरणार्थी ही समझा जायेगा | संविधान ने भी १९४७ में यही स्वीकार किया है | हिन्दुओं के लिए यही उनका देश है | हिन्दू प्रताड़ना , अत्यचार और अपमानित होने पर यहाँ आते हैं |
प्रश्न – ४ : संघ की राय में विरोधाभास है | हिन्दुओं को शरणार्थी और अन्य सभी घुसपेठिये- ऐसा क्यों ?
उत्तर : सांस्कृतिक रूप से हम एक हैं | लेकिन बंगालदेश और पाकिस्तान ने खुद को धर्मतंत्र घोषित किया है | हमारा देश धर्म निरपेक्ष है | हिन्दुओं को वहां कोई अधिकार नहीं है | सामान नागरिकता भी नहीं है | बंगलादेशी यहाँ प्रताड़ित होकर नहीं आते हैं |
प्रश्न -५ : गणतंत्र और बहुसंख्यवाद इस देश के स्तम्भ रहे हैं | क्या यह विचार इसके विरुद्ध नहीं है ?
उत्तर : हम तो सारे विश्व को ही अपना कुटुंब मानते है | इसका अर्थ क्या यह माना जाये की चीन हम पर आक्रमण करे और हम कहें की हमारे भाई ने ही हमला किया है इसलिए चुचाप बैठे रहो ?
प्रश्नं – ६ : केजरीवाल भाजपा और कांग्रेस दोनों पर सामान रूप से आरोप लगा रहा है | आपकी इस विषय में क्या राय है ?
उत्तर : भाजपा और कांग्रेस को ही इस प्रश्न जवाब देना है | संघ ने अपना अभिमत प्रकट कर दिया है की जिन पर भी आरोप लगे हैं उन्हें जाँच का सामना कर स्वयं को निर्दोष साबित करना होगा |
प्रश्न -७ : गडकरी एक स्वयंसेवक है |क्या उनके विषय इस बैठक में इस पर चर्चा नहीं करेंगे? भ्रष्टाचार के मुद्दे पर आप कांग्रेस पर की इतनी भर्त्सना करते हैं, उनके बारे में क्या निर्णय होगा?
उत्तर : गडकरी स्वयंसेवक है | आतंरिक रूप से इस विषय में कुछ चर्चा हो सकती है | निर्णय तो भाजपा को ही लेना है | हम हस्तक्षेप नहीं करते |
प्रश्न- ८ : भूमि हड़पने के मामले में आपके एक प्रस्ताव में जिक्र था | गडकरी भी इन आरोपों से घिरे हैं ?
उत्तर- अकेले गडकरी ही क्यों ? हम किसी पर भी इस नरम नहीं हैं | कोई भिन्न मान दंड नहीं है | सामाजिक प्रमाणिकता और राष्ट्रीय अखंडता सर्वोपरि है |
प्रश्न –९ : राजनितिक स्थिति के विषय में आपके क्या विचार है ?
देश के अलग अलग हिस्सों में स्थिति अलग अलग है | कहाँ कठिन है | लेकिन एक बात है : लोगों ने एक बेहतर विकल्प के लिए परिवर्तन का मन बना लिया है |
प्रश्न – १० : येदुरप्पा बनाम गडकरी | येदुरप्पा को पदत्याग का निर्देश दिया था लेकिन गडकरी को नहीं, क्यों ?
उत्तर : लोकायुक्त की रिपोर्ट आने के बाद येदुरप्पा को पद छोड़ना पड़ा था | लेकिन गडकरी पर तो केवल मिडिया ही आरोप लगा रही है | येदुरप्पा के मामले में पार्टी का  निर्णय था की उन्हें पदत्याग कर देना चाहिए |
प्रश्न -११ : समाज का बहुत राजनैतिककरण होता अनुभव हो है ?
उत्तर  : यह चिंता का विषय है | यह ठीक नहीं है | डाक्टर एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा था की आवश्यकता अध्यात्मिकीकरण की है ना की  राजनीतिक करण की | यह अत्यंत चिता का विषय है की जनता राजनितिक दलों में अपना विश्वास खोती जा रही है |



विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित