शनिवार, 2 जुलाई 2011

मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब भगवत गीता की शिक्षा

भोपाल, जुलाई : मध्यप्रदेश सरकार के स्कूलों में इस शैक्षणिक सत्र से पहली से लेकर दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों को ‘भगवत गीता’ का पाठ पढ़ाया जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि भगवत गीता की शिक्षा पर आधारित पाठों की किताबें तैयार हैं और इन्हें शीघ्र ही सरकारी स्कूलों को भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर स्कूली बच्चों को गीता की शिक्षा देने का कदम उठाया गया है।

उल्लेखनीय है कि अन्य धर्मों के नेताओं के विरोध के बावजूद प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पहली से दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों को गीता का पाठ पढ़ाने का निर्णय लिया गया है। अधिकारियों ने कहा है कि भगवत गीता की शिक्षा के पाठ सरकारी स्कूलों के नियमित शैक्षणिक विषयों का हिस्सा नहीं होंगे, बल्कि इसे अतिरिक्त रूप से नीति शास्त्र, शारीरिक शिक्षा जैसे विषयों की तरह पढ़ाया जाएगा और इसे पाठ्यक्रम में हिन्दी विषय के साथ जोड़ा गया है।

शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव रजनीश वैश्य ने बताया कि भगवत गीता की शिक्षा पर आधारित पाठ तैयार हैं और इन्हें इसी शैक्षणिक सत्र से पढ़ाया जाएगा।

स्त्रोत : http://www.newsbharati.com/

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित