शनिवार, 13 मई 2017

देवऋषि नारद जयंती का आयोजन पत्रकार सम्मान समारोह सम्पन्न

देवऋषि नारद जयंती का आयोजन 
पत्रकार सम्मान समारोह सम्पन्न



जैसलमेर. 11 मई 2017.  विश्व संवाद केंद्र के तत्वाधान में गुरुवार को जनसेवा समिति में देवऋषि नारद जयंती के आयोजन किया गया।समारोह में स्वर्णनगरी के वरिष्ठ पत्रकारों को भी सम्मानित किया गया। जिसमे भास्कर के ब्यूरो चीफ विमल शर्मा व फोटो जर्नलिस्ट आरके व्यास को प्रशंसा पत्र व शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। इनके साथ ही जैसलमेर के प्रेम जगानी(वरिष्ठ पत्रकार,पूर्व ब्यूरो चीफ राज पत्रिका), हरदेवसिंह भाटी (PTI संवाददाता), आनन्द पुराहित (प्रधान संपादक दैनिक राजस्थान की पाती) व श्याम सुंदर डावाणी (प्रधान संपादक दैनिक मरु महिमा ) को भी सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बाड़मेर विभाग के संघचालक डॉ. दाऊलाल शर्मा, जनसंपर्क सहायक निदेशक श्रवण कुमार चौधरी मुख्य अतिथि, वरिष्ठ इतिहासकार नंदकिशोर शर्मा, वरिष्ठ साहित्यकार दीनदयाल ओझा व सेवानिवृत्त संयुक्त शिक्षा निदेशक बालकृष्ण जोशी विशिष्ट अतिथि तथा संघ के जिला प्रचारक इन्द्रसिंह मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे .

संघ के जिला प्रचार प्रमुख मांगीलाल बम्भणिया ने कार्यक्रम की रूपरेखा रखी। उन्होंने बताया कि देवऋषि नारद ने अपना सम्पूर्ण जीवन समाज के कल्याण व देवताओ के लिए समर्पित कर दिया। जिस प्रकार समाज मे देवऋषि नारद की गलत छवि को समाज में प्रचारित किया जा रहा है वो गलत है। विश्व संवाद केंद्र द्वारा जैसलमेर में पहली बार देवऋषि नारद जयंती मनाने का यह उद्देश्य है कि लोग नारद मुनि द्वारा किये गए लोक कल्याण को जान सके। बम्भणिया ने कहा कि 1826 में नारद जयंती के अवसर पर ही पहले अखबार उदंत मार्तंड में संपादक ने अपने संपादकीय को नारद मुनि को ही समर्पित करते हुए आद्य पत्रकार बताकर लोक कल्याण की परंपरा को बताया।
कार्यक्रम के मुख्य वक्ता जिला प्रचारक इन्द्रसिंह ने अपने संबोधन में देवऋषि नारद के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि महर्षि नारद धर्म के प्रचार व लोक कल्याण के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहे। इन्द्रसिंह ने कहा कि आज के समय मे पत्रकारों का निस्पक्ष रहने के साथ ही सही बात को हमेशा आगे रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि नारद मुनि को एक जगह नही टिकने का श्राप मिला था।लेकिन उन्होंने अपनी दूरगामी सोच के कारण ही उस श्राप को वरदान समझकर लोक कल्याण में लग गए। उन्होंने कहा कि विश्व संवाद केंद्र समाचार संस्था नही बल्कि विचार संस्था है। सूचना का संकलन वितरण करने के लिए विश्व संवाद केंद्र स्थापित किया गया है। विश्व संवाद केंद्र राष्ट्रीय विषय, राष्ट्रीयता संबंधी विचार एवं दृष्टिकोण की सूचना एवं जानकारी के संकलन एवं वितरण के लिए है। इसके साथ ही कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों ने भी उपस्थित गणमान्य लोगों को संबोधित करते हुए महर्षि नारद के व्यक्ति व उनके कार्यो पर प्रकाश डाला।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित