शुक्रवार, 18 नवंबर 2016

आटोग्राफ देना नहीं है संघ की परंपरा : डॉ भागवत

आटोग्राफ देना नहीं है संघ की परंपरा : डॉ भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत जी शुक्रवार को अपने पानीपत प्रवास के दूसरे दिन एस डी विद्या मंदिर स्कूल में दोपहर को स्वंयसेवकों के साथ भोजन करने के पश्चात जैसे ही भोजन कक्ष से निकलने लगे तो एक बाल स्वयंसेवक उनके पास आकर एक नोटबुक पर आटोग्राफ मांगने लगा। इस पर भागवत जी ने बाल स्वयंसेवक को समझाते हुए कहा कि आटोग्राफ देने की संघ की परंपरा नहीं है। डॉ. भागवत ने कहा के वे संघ के मुख्य स्वयंसेवक हैं और यदि वे स्वयं ही संघ की परंपरा को तोड़ेंगे तो वो दूसरे स्वयंसेवकों को क्या सिखाएंगे। यदि उन्होंने ऐसा किया तो इससे संघ में एक नई परम्परा चल पड़ेगी जो संघ के नियमों के अनुसार सही नहीं है। डॉ. भागवत जी ने बाल स्वयंसेवक को प्यार से समझातेे हुए कहा कि यदि आप की इच्छा आटोग्राफ लेने की है तो इसके लिए आप मुझे एक पत्र लिखें आप के पत्र के जवाब में मैं जो पत्र लिखूंगा उस पत्र में मैं अपने जवाब के साथ अपने हस्ताक्षर भी करूँगा। ऐसा करने से आप की इच्छा भी पूरी हो जाएगी और संघ की परंपरा भी नहीं टूटेगी। डॉ. भागवत जी के जवाब से बाल स्वयंसेवक तो संतुष्ट हो ही गया साथ साथ इस घटना से डॉ. भागवत जी दूसरे स्वयंसेवकों के लिए भी प्रेरणा दे गए।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित