बुधवार, 23 दिसंबर 2015

रक्षा व खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का विरोध करता है स्वदेशी जागरण मंच

 रक्षा व खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का विरोध करता है स्वदेशी जागरण मंच

जोधपुर, 22 दिसम्बर 2015.   देश में आज सवा करोड़ फुटकर दुकाने है, चार करोड़ लोगों को इसमें रोजगार मिला हुआ है व 23 लाख करोड़ रूपयें का कुल वार्षिक करोबार इसके द्वारा होता है। लेकिन वाॅलमार्ट जो 23 लाख करोड़ का कारोबार पुरी दुनिया में करता है। उससे केवल 21 लाख लोगो को ही रोजगार मिला है। इससे अंदाजा होता है कि जब ये बड़े स्टोर्स हमारे देश में व्यापार करेगें तो कई लाखों फुटकर दुकाने बन्द हो जायेगी व करोड़ों लोगों से रोजगार छीन किया जायेगा। इसी कारणों से स्वदेशी जागरण मंच कई क्षेत्रों विशेषकर रक्षा व खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का विरोध करता है ये विचार मंगलवार को आयोजित हुई मंच के 26 दिसम्बर को होने वाले हंुकार सभा के समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए ज्ञानेश्वर भाटी ने व्यक्त किये। 

उन्होनें आगे बताया कि 25 से 27 दिसम्बर को होने वाले राष्ट्रीय सम्मेलन के दौरान गांधी मैदान में हुंकार सभा आयोजित होगी उसमें नई सड़क, सोजती गेट, जालोरी गेट, सरदारपुरा आदि के व्यापारिक संघों व जोधपुर के लघु, कुटीर व गृह उद्योगो से जुड़े उद्यमी, मजदूर संघ, किसान संघ, आस-पास के गांवो से भारी तादाद में ग्रामीण सम्मिलित होगें व अपनी जोरदार हुंकार से केन्द्र व राज्य सरकारों को चेताया जायेगा कि यदि आमजन व छोटे व्यापारी व उद्यमों के विपरित दिशा में यदि वे विश्व बैंक, डब्ल्यू टी ओ, अमेरिका, चीन आदि के दबाव में नीतियों बनाई जायेगी तो हम सब स्वदेशी जागरण मंच के बैनर तले इसका पूरजोर विरोध करेगे।

मंच के प्रदेश संयोजक भागीरथ चौधरी  ने कहा कि वर्तमान समय में पश्चिमी राजस्थान विशेष कर जोधपुर, बाड़मेर व जैसलमेर पुरे देश का ऊर्जा इंजिन बनता जा रहा है। यहां पर पेट्रोलियम पदार्थों के साथ सोलर व विंड एनर्जी आदि कार्याें में जोरदार वृद्धि हो रही है। लेकिन इनमे आने वाले अधिकांश उपकरण व सोलर पैनल विदेशी कंपनीयों के है। व मंच के द्वारा हमारा यह प्रयास रहेगा कि ये सारे उपकरण भविष्य में मेड बाई इंडिया के तहत भारतीयों द्वारा ही निर्मित हो।

 मिथिलेश झा मीडिया प्रभारी  ने बताया कि  राष्ट्रीय सम्मेलन के दौरान स्वदेशी दृष्टि स्मारिका पुस्तक का विमोचन भी होगा। इस स्मारिका निर्माण समिति के प्रमुख डाॅ. अमित व्यास के अनुसार इसके माध्यम से आज पुरे विश्व में विशेषकर भारत के संदर्भ में जो आर्थिक व सामाजिक परिदृश्य की चुनौतियां है इसके माध्यम से मंच का दृष्टिकोण प्रकट होाग। साथ इसमें मारवाड़ी सांस्कृति, इतिहास, परम्परा का समावेश भी होगा। इसकी प्रतियां सम्पूर्ण देश में केन्द्रीय व राज्य मंत्रियों संसदो, विद्यायकों अन्य प्रमुख संस्थाओं आदि को वितरित किया जायेगा।

इस बैठक में अतुल भंसाली, श्याम पालीवाल, कैप्टन उम्मेदसिंह राठौड, रेवन्तसिंह ईन्दा, संगीता सोलंकी, घनश्याम वैष्णव, जयंत सांखला, महेन्द्र ग्वाला, जितेन्द्रसिंह शेखावत, पवन आसोपा, राजेश कच्छावाह, विरेन्द्रसिंह शेखावत, धर्मेन्द्र दुबे, जेठूसिंह, शेलेन्द्रसिंह चैहान, कन्हैयालाल पंचारिया, बन्नाराम पंवार, मुकेश लोढा, शिवकुमार सोनी, नथमल पालीवाल, दीपक व्यास, मोहन छंगाणी, कैप्टन रामसिंह राठौड, किशन लढा, दशरत प्रजापत अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।
                           

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित