शुक्रवार, 19 जून 2015

चीनी भाषा में प्रकाशित हुई ;भगवद गीता, योग दिवस को लेकर भी उत्सुकता'

चीनी भाषा में प्रकाशित हुई भगवद गीता; योग दिवस को लेकर भी उत्सुकता'




बीजिंग, जून 18 : भारतीय सनातन संस्कृति की सबसे
प्रसिद्ध और पूजनीय ग्रंथ 'भगवद गीता' के चीनी संस्करण को अब चीन में
प्रकाशित किया गया है। मानवीय जीवनदर्शन के लिए पथप्रदर्शक के तौर पर सबसे
उपयुक्त इस ग्रंथ को अंतर्राष्ट्रीय योग सम्मेलन के दौरान सबके सामने लाया
गया।



पवित्र भगवद गीता का चीनी भाषा में अनुवाद झेजियांग विश्वविद्यालय के
प्रोफेसर वांग झू चेंग तथा लिंग हाई ने किया है एवं इसे सिचुआन पीपल्स
प्रकाशन ने प्रकाशित किया है। इसे ग्रंथ का विमोचन सिचुआन प्रांत के
दक्षिण-पश्चिम में स्थित दुजियानज्ञान में एक योग फेस्टिवल कार्यक्रम के
दौरान किया गया जिसमें भारत से आए योग प्रशिक्षकों ने भी हिस्सा लिया था।


गीता के चीनी संस्करण का विमोचन चीन में भारत के राजदूत अशोक के कंठ ने
बुधवार को किया। इसमें प्रस्तावना का योगदान के नागराज नायडू ने दिया जो
कुछ समय पहले तक गुआंगझू में भारतीय काउंसल जनरल थे।


हालांकि, प्राचीन बौद्ध लेखन और ग्रन्थों को चीन में काफी जाना जाता रहा
है क्योंकि सातवीं सदी में भारत की यात्रा पर आए चीनी विचारक हुएन सांग ने
चीन में इनका काफी प्रचार-प्रसार किया लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है जब एक
प्राचीन हिन्दू सनातनी ग्रंथ को चीन में प्रकाशित किया जा रहा है।


पिछले वर्ष ही भारत व चीन ने दोनों देशों के सदियों पुराने संस्कृति पर
आधारित एक एनसाइक्लोपीडिया का प्रकाशन किया था जिसमें इनकी 2000 वर्ष से भी
पुरानी सभ्यता का वर्णन किया गया।


हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग
द्वारा कई मौकों पर सौहार्दपूर्ण मेल-मिलाप किया गया। और तो और पिछले ही
महीने प्रधानमंत्री मोदी ने चीन का सफलतम दौरा किया था जिसमें दोनों देशों
ने व्यापार से लेकर तकनीक और सवास्थ्य से संस्कृति के क्षेत्र में
आदान-प्रदान एवं सहयोग पर सहमति जताई थी। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को
ज़ोर-शोर से मनाने में भी चीन तत्पर है और कई सारे कार्यक्रमों को आयोजित भी
कर रहा है।


इसी को देखते हुए भारत-चीन (चेंगड़ू) अंतर्राष्ट्रीय योग फेस्टिवल में 21
नामचीन योग प्रशिक्षक पूरे चीन से आए 700 उत्साहित लोगों को प्रशिक्षण भी
दे रहे हैं। पाँच दिवसीय योग फेस्टिवल 21 जून तक चलना है और उस दीं तो वैसे
भी पूरे चीन में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन होने वाला है।










विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित