गुरुवार, 11 सितंबर 2014

लव जेहाद गंभीर खतरा :मनमोहन वैद्य

खबरें  समाचार पत्रो से

मोदी सरकार धारा 370 एक वर्ष में हटाए: मनमोहन वैद्य


जालन्धर/लुधियाना: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने आज स्पष्ट रूप से कहा कि मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को एक वर्ष में हटाए। इस मुद्दे पर संघ मोदी सरकार को एक साल तक देखेगा और उसके पश्चात ही कोई फैसला लेगा। यह बात राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने कही। वह आज दोराहा में जैन वनस्थली में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। 
वैद्य ने कहा कि संघ का मानना है कि चुनावों में देश की जनता को राष्ट्रीय मुद्दों को ध्यान में रखकर वोट देना चाहिए न कि किसी पार्टी के संगठन को ध्यान में रखकर। संघ ने लोकसभा चुनावों में राष्ट्रीय हित के लिए कार्य किया ताकि एक राष्ट्रवादी सरकार का गठन हो। अब सरकार के मुद्दों में संघ का कोई दखल नहीं है। संघ केवल अपने संगठन के कार्य को देख रहा है। एक प्रश्न के उत्तर में मनमोहन वैद्य ने कहा कि अयोध्या में मुद्दा राम मंदिर को बनाने का नहीं है, राम मंदिर तो वहां बना हुआ है केवल उसे भव्य रूप देने का कार्य बाकी है। संघ के विरुद्ध भ्रामक प्रचार की निदा करते हुए मनमोहन वैद्य ने कहा कि संघ ने हिन्दुत्व को जीवन जीने की पद्धति के रूप में माना है, इसके गलत अर्थ नहीं निकाले जाने चाहिएं। 
 
उन्होंने कहा कि भारत और हिन्दुस्तान दोनों ही नाम एक-दूसरे के पूरक हैं। इस पर विवाद व्यर्थ है। वैद्य ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ एक सामाजिक संगठन है जो भारत मां की सेवा के लिए कार्य करता है। संगठन की ओर जहां युवाओं का रुझान बढ़ रहा है, वहीं आई.टी. क्षेत्र में काम करने वाले युवा बड़ी संख्या में अच्छे कार्यकत्र्ताओं के रूप में संगठन से जुड़ रहे हैं व प्रति वर्ष 1 लाख युवक ट्रेनिंग कैंपों में आ रहे हैं। इसके पश्चात आर.एस.एस. के सर संघ चालक मोहन भागवत, सहसर कार्यवाहक सुरेश सोनी, भईया जी जोशी, डा. कृष्ण गोपाल, दत्तात्रेय होसवले, इंद्रेश जी, दिनेश जी, राम माधव आदि की राष्ट्रीय स्तर की बैठक हुई जिसमें पिछले कार्यों की समीक्षा की गई और संघ के आगामी कार्यों की रूपरेखा तय हुई। 
  source:http://www.punjabkesari.in/news/article-283444


डोगर वर्मा, खन्ना : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मानना है कि 'लव
जेहाद' देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा है। वह इस पर नजर रखे हुए
है।
संघ के प्रमुख मोहन भागवत की गैरहाजिरी में संगठन के अखिल भारतीय
प्रचार प्रमुख डा. मनमोहन वैद्य ने बुधवार को दोराहा में प्रेसवार्ता में
कहा कि यह बेचैन करने वाला मुद्दा है। इस पर नजर है। उन्होंने कहा कि
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हिंदू राष्ट्र संबंधी बयान पर मचा बवाल
राजनीति से प्रेरित है। इस बात को कतई नकारा नहीं जा सकता कि भारत एक हिंदू
राष्ट्र है और हिंदुत्व ही इसकी सांस्कृतिक पहचान है। यह एक ऐतिहासिक तथ्य
भी है। जम्मू-कश्मीर में धारा 370 के सवाल को वह टाल गए।


नरेंद्र मोदी सरकार के 100 दिनों के कार्यकाल के प्रदर्शन पर उनका कहना
था कि सरकार के इतने थोड़े समय के कामकाज की समीक्षा संभव नहीं है। उसे कम
से कम एक साल का समय तो चाहिए। 

दोराहा के महावीर जैन मंदिर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों की छह दिवसीय बैठक चल रही है।
इसका आज चौथा दिन था। इस बैठक पर चर्चा करते हुए डॉ. वैद्य ने कहा कि
इसमें शामिल संघ के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ विभिन्न
कार्यक्रमों पर विचार-विमर्श किया गया। मुख्य मुद्दा हिंदुत्व ही रहा है।
राष्ट्रीय और सामाजिक विषयों पर भी चर्चा हुई।

संघ के भर्ती अभियान के बारे में डॉ. मनमोहन वैद्य ने खुलासा किया कि
आरएसएस सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र से जुड़े युवाओं पर ध्यान केंद्रित कर
रहा है, जिनके लिए विशेष शिविर भी आयोजित किए जा रहे हैं। इसका नतीजा यह
निकला कि इस वर्ष पहली जनवरी से 31 जुलाई तक 25 हजार युवाओं ने संघ की
सदस्यता ग्रहण की। अगस्त में ही 13 हजार युवक जुड़े। वर्ष 2012 में यह आंकड़ा
प्रतिमाह 1000 और 2013 में प्रतिमाह 2500 था।


सोर्स: http://www.jagran.com/punjab/ludhiana-11621454.html
लव जेहाद गंभीर खतरा :संघ 11621454

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित