शुक्रवार, 5 जुलाई 2013

संघ ने भेजी उत्तराखंड में करोड़ों की राहत सामग्री

संघ ने भेजी उत्तराखंड में करोड़ों की राहत सामग्री

Share this

स्रोत: News Bharati Hindi      तारीख: 6/27/2013 7:41:42 PM
undefined
एक दर्जन कैम्पों में जारी है सेवाकार्य
देहरादून, जून 27 : उत्तराखंड में आए प्राकृतिक आपदा से हुई भयंकर तबाही से वहां का जनजीवन घोर त्रासदी में है। उनके इस विपद परिस्थिति में सुधार के लिए जहां देशभर में प्रार्थना की जा रही है, वहीँ हर तबके के लोग सहयोग राशि तथा जीवनावश्यक सामग्री भेज रहे हैं। इस राहत और बचाव कार्य के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक दिन-रात कड़ी मेहनत कर रहे हैं। ज्ञातव्य है कि संघ के आह्वान पर देशभर से सहयोग राशि और जीवनावश्यक सामग्री एकत्रित की जा रही है। संघ ने अबतक आपदा प्रबंधन के लिए करोड़ों की राहत सामग्री उत्तराखंड भेजी है।
तिलक रोड स्थित संघ कार्यालय ने क्षेत्र प्रचारक शिव प्रकाश, प्रान्त प्रचारक डॉ. हरीश तथा प्रान्त कार्यवाह लक्ष्मीप्रसाद जायस्वाल के नेतृत्व में अबतक 24 से अधिक मिनी ट्रक आपदा राहत सामग्री के साथ प्रभावित क्षेत्रों में भेजी जा चुकी है।
पत्रकारों को इस बात की जानकारी देते हुए भारत चौहान ने बताया कि 24 जून तक आपदा प्रभावित क्षेत्रों को 1800 क्विंटल चावल, 14 क्विंटल दाल, 600 क्विंटल आटा, 900 क्विंटल खाद्य तेल, 700 क्विंटल चीनी, 55 किलो चाय, 25 क्विंटल आलू तथा ९५० कम्बल भेजा जा चुका है। इसके साथ ही दवाएं, नए वस्त्र तथा मोमबत्ती, माचिस जैसी जीवनावश्यक सामग्री तथा भारी मात्र में पानी की बोतलें भेजी गई हैं। 1500 से अधिक संघ स्वयंसेवक प्रभावित क्षेत्रों में सेवाकार्यों का संचालन कर रहे हैं। इतना ही नहीं मुस्लिम समाज के एक प्रख्यात मदरसे के लोगों ने भी सहारनपुर से आकर लाखों की सामग्री संघ कार्यकर्ताओं को सौंपी है। संघ द्वारा आपदा पीड़ितों के लिए घनसाली, मनेरी, गुप्तकाशी, रूद्रप्रयाग, ऋषिकेश, जौली ग्रांट, देहरादून समेत एक दर्जन स्थानों पर सेवा केन्द्र चलाए जा रहे हैं।
जौली ग्रांट स्थित एयरपोर्ट पर संघ के कार्यकर्ताओं द्वारा पीड़ितों और प्रभावितों से उनके परिजनों से बातचीत करवाने का कार्य किया जा रहा है। संघ कार्यकर्ताओं के 2 दल पर्वतीय इलाकों में सर्वेक्षण का कार्य कर रहे हैं। एक दल का नेतृत्व रणजीत सिंह ज्याला तथा दूसरे दल का नेतृत्व गजेन्द्र खंडूरी कर रहे हैं। ये दल तात्कालिक राहत के बाद होनेवाले स्थायी कार्यों के सन्दर्भ में ब्यौरा एकत्र करेंगे।
गौरतलब है कि भारतीय जनमानस में आपदा पीड़ितों के प्रति गहरी संवेदना है और यही कारण है कि उनके राहत कार्य के लिए वे बड़ी आत्मीयता से सहयोग दे रहे हैं। पर सबके मन में एक ही शंका थी कि राहत सामग्री और राशि आपदा पीड़ितों को ठीक से मिलेगा या नहीं? पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विश्वसनीयता को ध्यान में रखते हुए देश की सामान्य जनता सहयोग राशि संघ को सौंप रही है। मुस्लिम समाज द्वारा आपदा पीड़ितों के लिए लाखों की राहत सामग्री संघ को सौंपना इसी विश्वसनीयता का परिचायक है।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित