शनिवार, 22 जून 2013

महाप्रलय की स्थिति से निबटने हेतु संघ प्रेरित उत्तरांचल आपदा पीडि़त सहायता समिति को सामाग्री तथा आर्थिक सहयोग प्रदान करें


महाप्रलय की स्थिति से निबटने हेतु संघ प्रेरित उत्तरांचल आपदा पीडि़त सहायता समिति को सामाग्री तथा आर्थिक सहयोग प्रदान करें

देहरादून, 21जून 2013
।  आज यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उत्तराखंड के प्रान्त कार्यवाह लक्ष्मी प्रसाद जायसवाल ने एक प्रेस वक्तव्य जारी कर उत्तराखंड में आई प्राकृतिक आपदा में संघ के द्वारा किये जा रहे राहत कार्यो की विस्तृत जानकारी दी है। ज्ञात होकि विगत 15 जून की रात्रि से उत्तराखंड के केदारनाथ,गंगोत्री,बद्रीनाथ,यमुनोत्री की तीर्थ यात्रा में आए हजारों यात्री अचानक आई आपदा के शिकार हुए है। मरने वालों की संख्या विभिन्न क्षेत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अनुमानतः हजारों में पहुंच चुकी है और लगभग पचास हजार यात्री जहां तहां फंसे हुए हैं। यद्यपि राहत कार्य सेना तथा सरकारी प्रशासन द्वारा किए जा रहे हैं इसके बावजूद हताहत यात्रियों को सुरक्षित निकालने,भोजन की सुविधा उपलब्ध कराने और गुम यात्रियों को ढूढने आदि की विकराल समस्या है।

संघ के द्वारा किये जा रहे राहत कार्यो का ब्योरा देते हुए प्रान्तकार्यवाह लक्ष्मीप्रसाद जायसवाल ने आज यहां बताया कि संघ के स्वयंसेवकों को प्रभावित क्षेत्रों में राहत सामग्रियों के साथ भेजे जाने का क्रम जारी है। इसके तहत आज प्रातः यहां से दो गाडि़यां खाद्य पदार्थ एवं पका हुआ भोजन,पानी,कंबल,दवाईयां आदि लेकर उत्तरकाशी,उखीमठ,गुप्तकाशी और जोेशीमठ के लिए रवाना हुई है 20 जून को भी दो गाड़ी राहत सामग्री देहरादून से भेजी गई। ऋषिकेश में 171 लोगों को रात्रि प्रवास,चिकित्सा सेवाएं और उनके गंतव्य तक पहुंचाने में मदद संघ के स्वयंसेवकों द्वारा किया गया है। इसी तरह उत्तरकाशी मनेरी,जोशीमठ चमोली आदि स्थानों पर संघ के राहत शिविरों में लोगों को भोजन,मेडिकल एवं रात्रि प्रवास की सुविधाएं लगातार उपलब्ध कराई जा रही है।



श्री जायसवाल ने बताया कि पूरे देश के संघ कार्यालयों द्वारा प्रदेश की पलपल की जानकारी ली जा रही है और हर तरह की मदद देने की ईच्छा भी जताई जा रही है।उन्होंने बताया कि संघ के वरिष्ठ अधिकारी क्षेत्र प्रचारक शिव प्रकाश क्षेत्रकार्यवाह मनवीर सिंह देहरादून पहुंच चुके है और प्रान्त प्रचारक डा.हरीश एवं प्रान्त व्यवस्था प्रमुख सुरेन्द्र मित्तल सहित सभी प्रान्तीय संघ के प्रमुख पदाधिकारी राहत एवं बचाव अभियान पर खुद नजर रख रहे है। कम्बल, नये वस्त्र, त्रिपाल, बर्तन, दवाईयां आदि भी प्रभावित व्यक्तियों एवं परिवारों को उपलब्ध कराये जा रहे है। उन्होंने कहा है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रान्तीय कार्यालय पर नियंत्रण कक्ष बनाया गया है तथा इसके अलावा ऋषिकेश, श्रीनगर, पौड़ी गढ़वाल, रूद्रप्रयाग, अगस्तमुनी, बद्रीनाथ, उत्तरकाशी आदि नौ स्थानों पर छोटे सम्पर्क केन्द्र स्थापित किये गये है। उत्तरकाशी गंगोत्री मार्ग पर केशव सेवा आश्रम मनेरी पर 500 से 1000 तक यात्रियों के प्रतिदिन भोजन व रूकने की व्यवस्था संघ के कार्यकर्ताओं द्वारा की जा रही है।
श्री जायसवाल ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता के कारण सदैव की भांति कर्तव्य भाव से इस राहत कार्य में अपने स्तर से संलग्न है साथ ही प्रशासन और सेना को भी हरसंभव सहयोग करने को तैयार है। श्री जायसवाल ने प्रशासन और सेना से अपील किया है कि भोजन पैकेट की आपूर्ति,राहत कार्य में सहयोग तथा शवों को हटाने में संघ का सहयोग प्राप्त करे।

श्री जायसवाल ने अपने वक्तव्य में संपूर्ण देशवासियों से अपील की है कि इस महाप्रलय की स्थिति से निबटने हेतु संघ प्रेरित उत्तरांचल आपदा पीडि़त सहायता समिति को सामाग्री तथा आर्थिक सहयोग प्रदान करें। सहायता समिति को दिए गए सहयोग राशि आयकर अधिनियम 80जी  के अन्तर्गत आयकर मुक्त है। श्री जायसवाल ने देशभर से सहयोग राशि व राहत सामग्री भेजने वालों के प्रति आभार प्रदर्शन किया है।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित