मंगलवार, 18 सितंबर 2012

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व सरसंघचालक सुदर्शन को श्रद्धांजलि दी

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व सरसंघचालक सुदर्शनजी  को श्रद्धांजलि दी
जोधपुर।  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरदारपुरा डॉ. हेडगेवार भवन स्थित कार्यालय में सोमवार को पूर्व सरसंघचालक सुदर्शनजी  को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। राजस्थान क्षेत्र के क्षेत्रीय  प्रचारक दुर्गादास जी, कार्यालय प्रमुख हरिओम, विभाग सह संघचालक डॉ. शांतिलाल चौपड़ा, सत्यपाल हर्ष, महानगर संघचालक नरपतमल लोढ़ा, जिला संघचालक श्रीकिशन गहलोत, विहिप के प्रो. भवानीलाल माथुर, भंवरलाल चौधरी, गणपतसिंह राजपुरोहित, बजरंगदल के महेंद्रसिंह राजपुरोहित, महेंद्रसिंह गहलोत, मांगूसिंह सहित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, सेवा भारती, सीमा जन कल्याण समिति, भारत विकास परिषद, भारतीय मजदूर संघ सहित अनेक संगठनों के पदाधिकारियों ने सुदर्शनजी  को श्रद्धांजलि दी। 
क्षेत्रीय प्रचारक दुर्गादास जी एवं एनी पुष्पांजली अर्पित करते हुए 

श्रधान्जली देते हर क्षेत्रीय प्रचारक दुर्गादास  जी ने कहा की सुदर्शन जी ज्ञान के अथाह भंडार और अनेक विषयों के जानकर थे। उन्होंने संघ की शाखाओ  में नए प्रयोग करते हुए नियुद्ध योग को जोड़ा था।
जैसलमेर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व सरसंघचालक के.सी. सुदर्शन को संघ के स्थानीय स्वयंसेवकों ने भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस संबंध में स्थानीय आदर्श विद्या मंदिर के सभागार में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। जिसमें उपस्थित सभी स्वयंसेवकों ने स्व. सुदर्शन के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की।
संघ के बौद्धिक विभाग प्रमुख संग्रामसिंह काला ने पूर्व सरसंघचालक के जीवन मूल्यों और किए गए कार्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि स्व. सुदर्शन ने जीवन भर संघ कार्य का विस्तार करने का कार्य किया। उन्होंने सदैव स्वयंसेवकों के समक्ष कठोर परिश्रम, एकनिष्ठ ध्येय और संघ कार्य को सर्वोच्चता प्रदान करने की प्रेरणा दी। काला ने कहा कि, सरसंघचालक का दायित्व निर्वहन करते हुए सुदर्शन ने जनसंख्या असंतुलन जैसे अनेक ज्वलंत विषयों को राष्ट्र के समक्ष प्रमुखता से उठाया। काला ने बताया कि सुदर्शन ने उच्च शिक्षा अर्जित की थी तथा वे मैकेनिकल इंजीनियर बने। इसके पश्चात राष्ट्र की सेवा में संघ के प्रचारक के रूप में अपना जीवन समर्पित किया। उनके द्वारा स्थापित आदर्श एवं जीवन मूल्य सभी स्वयंसेवकों की अमूल्य थाती है। श्रद्धांजलि सभा में संघ के जिला संघचालक त्रिलोकचंद खत्री सहित विविध संगठनों के कार्यकर्ता उपस्थित थे।
 
समदड़ी सहायक खंड के कार्यवाहक संदीप अग्रवाल ने बताया कि स्वयं सेवकों ने केसी सुदर्शन की तस्वीर के समक्ष पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए जिला सेवा प्रमुख राहुल गुप्ता ने कहा कि केसी सुदर्शन बचपन से ही संघ के माध्यम से राष्ट्र सेवा कर आम आदमी में राष्ट्र भक्ति का संचार किया। विचारों के धनी सुदर्शन अंतिम क्षणों तक स्वयंसेवक बने रहे। इस अवसर पर जिला बौद्धिक प्रमुख जालम सिंह, तहसील कार्यवाहक रामधन सोनी, खंड कार्यवाहक नंदलाल सोनी, नगर कार्यवाहक दिलीप सोनी, रेवत राम मेघवाल, प्रवीण व्यास, अशोक मेघवाल, रेवतकुमार गोवा, खीमाराम प्रजापत, सेवा भारती नगर अध्यक्ष राजेन्द्र व्यास, मंत्री नृसिंह माली सहित स्वयंसेवक उपस्थित थे।

साभार: राजस्थान पत्रिका 
हनुमानगढ़ स्वदेशी जागरण मंच शाखा की ओर से रविवार को जंक्शन के दुर्गा मंदिर धर्मशाला में विचार गोष्ठी का आयोजन राजकुमार हिसारिया की अध्यक्षता में हुआ। मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयं संघ के प्रमुख सुभाष जोशी तथा विशिष्ट अतिथि गुरतेज सिंह बराड़ थे। इस मौके पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के पूर्व प्रमुख केएस सुदर्शन के निधन पर दो मिनट का मौन रखकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। स्वदेशी जागरण मंच के प्रदेश संयोजक भागीरथ चौधरी ने कहा कि मुद्रा व्यापार में विदेशी निवेश की अनुमति गलत है। उन्होंने कहा कि अमेरिका से आ रही कंपनियों से भारत के लघु कुटीर उधोग धंधे ठप हो रहे हैं। वक्ताओं ने भारत में पनप रही विदेशी वस्तुओं तथा विदेशी कंपनियों का विरोध किया। पूर्व मंत्री डॉ. राम प्रताप, उपसभापति कालू राम शर्मा, भाजपा के वरिष्ठ नेता जसपाल सिंह, पार्षद नगीना बाई, पूर्व पार्षद राजेंद्र चौधरी, गौरव अरोड़ा, भाजपा के नगर अध्यक्ष डॉ. भारत भूषण शर्मा आदि मौजूद थे। मंच संचालन नागराज ने किया।


विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित