मंगलवार, 21 अगस्त 2012

वंदनीय शांताक्का होंगी राष्ट्रीय सेविका समिती की प्रमुख संचालिका

वंदनीय शांताक्का होंगी राष्ट्रीय सेविका समिती की प्रमुख संचालिका

स्रोत: News Bharati Hindi      तारीख: 8/20/2012 9:43:25 PM
$img_titleनागपुर, अगस्त 20: वंदनीय व्ही शांता कुमारी उर्फ़ शांताक्का विश्व
की सबसे बडी हिंदू महिला स्वयंसेवी संस्था राष्ट्रीय सेविका समिती की प्रमुख संचालिका होंगी। प्रमुख संचालिका ये राष्ट्रीय सेविका समिती में सर्वोच्च उत्तरदायित्व है। आज यहा हुए राष्ट्रीय सेविका समिती की अखिल भारतीय प्रतिनिधी सभा में उनके नाम की औपचारिक घोषणा की गयी।
आंध्र प्रदेश की सीता अन्नादनम नयी प्रमुख कार्यवाहिका होंगी। शांताक्का (50) राष्ट्रीय सेविका समिती की पांचवी प्रमुख संचालिका होंगी। उनसे पहले ये उत्तरदायित्व वंदनीय मावशीजी लक्ष्मीबाई केळकर, सरस्वती ताई आपटे, उषा ताई चाटी और प्रमिला ताई मेढे निभा चुकी है।
शांताक्का का जन्म 5 फ़रवरी 1952 में हुआ। बंगलूरू में बीएस्सी और एम एड करने के बाद शांताक्का अध्यापिका बनी। सामाजिक कार्यों में अधिक समय देने के लिये उन्होंने स्वेच्छानिवृत्ति ली। 1970 में वो राष्ट्रीय सेविका समिती में शामिल हुई। उन्होंने बंगलूरू में बतौर नगर कार्यवाहिका कुछ साल काम किया। पश्चात उन्होंने प्रांत कार्यवाहिका, सहकार्यवाहिका जैसी जिम्मेदारियां संभाली। प्रमुख संचालिका बनने से पहले वो प्रमुख कार्यवाहिका पद पर काम कर रही थी।
राष्ट्रीय सेविका समिती ये भारतीय संस्कृति और परंपराओ के उत्कर्ष के लिये काम करने वाला  सबसे बडा हिंदू महिला स्वयंसेवी संगठन है। भारतीय संस्कृति के उन्नती के लिये वह कार्यरत हैं तथा लोगों में राष्ट्रीयता और सामाजिक अभिज्ञता करने का काम करता है। देश भर में राष्ट्रीय सेविका समिती के 5215 केंद्र है। 875  केंद्रों में प्रतिदिन शाखाए चलती है।
$img_titleराष्ट्रीय सेविका समिती ये संघ विचारी महिला संगठन है। हालांकि ये संगठन राष्ट्रीय सेवक संघ के समांतर कार्य करता है और संघ का महिला विंग नही है। इसकी सदस्यता और नेतृत्व महिलाओ के लिये सीमित है।
लक्ष्मीबाई केळकर ने राष्ट्रीय सेविका समिती की स्थापना की। संगठन स्थापना से पहले उन्होंने डा. हेडगेवार से लंबा वार्तालाप किया। संघ में महिलाओं के लिये अलग से विंग शुरु करने के लिये लक्ष्मीबाई केळकर ने डा. हेडगेवार को मनाने के पुरे प्रयास किये परंतु वे नही माने। अंत में डा. हेडगेवार ने उन्हे अलग से संगठन शुरु करने की सलाह दी साथ ही पुरा सहयोग देने का आश्वासन दिया। इस तरह लक्ष्मीबाई केळकर ने 25 अक्तुबर 1936 में वर्धा में राष्ट्रीय सेविका समिती की स्थापना की।
समिती पुरे भारत भर में गरीब और अल्पाधिकारप्राप्त लोगों के लिये 475 सेवा प्रकल्प चलाती है। इन में हर जाति, धर्म और पंथ के लोग शामिल है। इन प्रकल्पों में स्कूल, ग्रन्थालय, कंप्युटर प्रशिक्षण केंद्र और अनाथालय शामिल है।

 

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित