शनिवार, 7 जुलाई 2012

जोधपुर प्रान्त में भी केंद्र सरकार के वार्ताकारों द्वारा कश्मीर पर तैयार रिपोर्ट के विरोध में व्यापक स्तर पर देशव्यापी धरने प्रदर्शन का आयोजन किया गया . प्रस्तुत है जोधपुर प्रान्त की खबरे


जोधपुर प्रान्त में भी केंद्र सरकार के वार्ताकारों द्वारा कश्मीर पर तैयार रिपोर्ट के विरोध में व्यापक  स्तर पर देशव्यापी धरने प्रदर्शन का आयोजन किया गया .
प्रस्तुत है जोधपुर प्रान्त की खबरे 

सिरोही  
सीमाजन कल्याण समिति सिरोही के तत्वावधान में शुक्रवार को जिले भर में जुलूस निकालकर विरोध जताया गया। जिला मुख्यालय पर समिति पदाधिकारियों ने नगर परिषद कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया। इसके पश्चात सभी कार्यकर्ता जुलूस के रूप में शहर के विभिन्न मार्गों से होते हुए कलेक्ट्रेट परिसर पहुंचे। इस बीच कार्यकर्ताओं ने भारत सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। समिति पदाधिकारियों ने रिपोर्ट को खारिज करने की मांग को लेकर राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन कलेक्टर को सौंपा। इस मौके पर आरएसएस के गोपाल प्रजापज, कैलाश जोशी, डूंगर सिंह जावाल, जय गोयल पुरोहित, कालूराम, भगवत सिंह सोलंकी सहित बीजेपी के जिलाध्यक्ष नारायण पुरोहित, विधायक ओटाराम देवासी, तारा भंडारी, लुंबाराम चौधरी, विरेंद्र सिंह चौहान, अशोक पुरोहित, अमराराम प्रजापत, बाबूलाल सगरवंशी, भवानी सिंह, नींबाराम, नारायण देवासी, सुरेश सगरवंशी, ताराराम माली, विहिप के अमृत खत्री सहित भीकमचंद जैन, मंछह्वाराम सुथार, दलपत लखारा, विरेंद्र सिंह भाटी, दीपाराम पुरोहित, धनपत सिंह, अरुण ओझा, शंकर सिंह परिहार, चैतन्य रावल, कमलेश दवे, हजारी मल, विक्रम पाल सिंह, प्रतापराज पुरोहित, हेमंत पुरोहित, मगन मीणा, भेराराम बरार, श्रवण, मनोज सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

जम्मू-कश्मीर वार्ताकारों की रिपोर्ट को खारिज करने की मांग, प्रदर्शन में कई संगठनों ने दिया समर्थन
 माउंट आबू. सीमाजन कल्याण समिति के तत्वावधान में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला प्रचारक स्वरूपदान के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने शहर में जुलूस निकाल कर उपखंड अधिकारी कार्यालय पहुंच राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में उन्होंने जम्मु कश्मीर वार्ताकारों की रिपोर्ट को खारिज करने की मांग करते हुए अलगाववाद एवं आतंकवादियों की पहचान कर उन्हें कठोर दंड देने की बात कही। प्रदर्शन के दौरान पूर्व पालिका अध्यक्ष जालमगिरी, पूर्व जिला उपाध्यक्ष लक्ष्मण बैरवा, पूर्व मंडल अध्यक्ष पवन शर्मा, मोहम्मद शाबिर कुरैशी, भाजयुमो पूर्व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य छोटेलाल चौरासिया, पूर्व जिला उपाध्यक्ष लालसिंह दहिया, पूर्व महिला मोर्चा अध्यक्ष राधा राणा, पूर्व महामंत्री लक्ष्मण प्रजापत, हरिराम सोलंकी, जितेंद्र राणा, नगर अध्यक्ष देवेंद्र सिंह चंपावत, महामंत्री अनिल अग्रवाल, महामंत्री प्रवीण सैनी, उपाध्यक्ष नरपतदान चारण, जिला सदस्य सुरेंद्र गिरी, दलपत सिंह, जोराराम देवासी, शंकर खंडेलवाल, जोगेंद्र आदिवाल, मनीष अग्रवाल, संतोष सैन, प्रकाश वैष्णव, शैतानसिंह बोराणा, मोहित बैरवा, धनवीर सिंह, कमल राणा, अजय जैसवाल, रिंकी परिहार, हरीराम, रमेश दवे, चंदन सिंह, अर्जुन सिंह परमार, जगदीश घारू, किरण परमार, दिनेश चौधरी, मंगल सिंह, दीपक सैन, भीम सिंह, गोपाल बंसल, प्रदीप अग्रवाल, खेमचंद सोनी, सुमेर सिंह, फुला शंकर, धनराज भाई, भाजपा मंडल अध्यक्ष सौरभ गांगडिय़ा, महामंत्री सुनील आचार्य, टेकचंद भंभानी, भाजपा जिला उपाध्यक्ष अर्चना देवी, महिला मोर्चा अध्यक्ष चंदना सिंह, नाथू सिंह, रूपेश जैन सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

रेवदर. सीमाजन कल्याण समिति एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दर्जनों कार्यकर्ताओं ने कस्बे में रैली निकाल कर जम्मू कश्मीर की स्थति पर भारत सरकार की ओर से समस्या समाधान के लिए गठित वार्ताकार दल की ओर से तैयार की गई रिपोर्ट का विरोध कर इसे खारिज करने के लिए उपखंड अधिकारी इंदाराम मेघंवशी को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौपा। ज्ञापन से पहले कस्बे केे सरेसी माता मंदिर परिसर में बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान आरएसएस के जिला प्रचारक स्वरूपदान चारण, भाजपा मंडल अध्यक्ष नारायणसिंह नागाणी, जिला उपाध्यक्ष जयसिंह राव, मंडल महामंत्री अनिल अग्रवाल, भाजयुमो मंडल अध्यक्ष गोविंद कर्मावत, जिला उपाध्यक्ष मणीलाल रावल, जिला चुन्नीलाल घांची, हरीसिंह देवड़ा, भारतीय किसान संघ प्रांत मत्री हीरालाल चौधरी, नगर अध्यक्ष मदन जोशी, भीखाराम चौधरी, भुराराम चौधरी, आशीक जैदी सहित दर्जनों कार्याकताओं ने भाग लिया।

आबूरोड. सीमाजन कल्याण समिति के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को राष्ट्रपति के नाम तहसीलदार आबूरोड को ज्ञापन सौंपकर भारत सरकार की ओर से नियुक्त जम्मू-कश्मीर वार्ताकारों की रिपोर्ट को खारिज करने की मांग की। शुक्रवार को कार्यकर्ता एकत्रित होकर जुलूस के रूप में तहसील कार्यालय पहुंचे। समिति के कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों को लेकर जमकर नारेबाजी की। ज्ञापन में बताया गया कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है एवं हजारों वर्षों से इसका उल्लेख आता रहा है। पिछले काफी समय से अलगाववादी ताकतों ने इस शांत व सौभ्यवती कश्मीर को आतंंक की भेंट चढ़ा दिया है। भारत सरकार ने 2010 में तीन सदस्यी वार्ताकार का गठन किया था, जिसकी रिपोर्ट मई 2012 में सार्वजनिक की गई है इस मौके पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, वनवासी कल्याण परिषद, विश्व हिन्दू परिषद, विद्या भारती, शिक्षक संघ राष्ट्रीय, भारतीय जनता पार्टी, स्वदेशी जागरण मंच, मजदूर संघ, पातांजलि योग समिति, युवा मोर्चा सहित अन्य संगठनों के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे।
 पिंडवाड़ा. सीमाजन कल्याण समिति की ओर से भारत सरकार द्वारा नियुक्त जम्मू-कश्मीर वार्ताकारों की रिपोर्ट को खारिज करने की मांग को लेकर शहर के तालाब पर सभा का आयोजन किया तथा रैली निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया। रैली शहर के प्रमुख मार्गों से गुजरते हुए तहसील कार्यालय परिसर पहुंची। वहां तहसीलदारा नंद किशोर राजौरा को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। रैली मे हंसराज पुरोहित, तहसीलकार्यवाह परबत सिंह राठौड़, नगर पालिका उपाध्यक्ष चंपत मेवाड़ा, व्यापार संघ अध्यक्ष नारायण टांक, भाजपा ग्रामीण अध्यक्ष किरण पुरोहित, घरट सरंपंच अर्जुन गरासिया, भाजपा नगर अध्यक्ष कैलाश रावल, भाजपा प्रवक्ता विक्रम राजपुरोहित, भरत गर्ग, जगदीश कुल्मी, शिवसेना जिला अध्यक्ष रमेश रावल, लक्ष्मण रावल, खेमचंद टांक, पूर्व विधायक समाराम गरासिया, रमेश रावल मालेरा, रामसिंह डाबी, अशोक रावल, कालूराम सेन, चंद्रवीर सिंह उदावत, रमेश मुमल, संतोष पुरोहित, जिला महामंत्री सुरेंद्र मेवाड़ा, सुरेश बी सोनी सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

हनुमानगढ़  सीमा-जन कल्याण समिति के सदस्यों ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट का घेराव कर विरोध प्रदर्शन किया। नारेबाजी करते राष्ट्रवादी संगठन से जुड़े लोगों ने कलेक्टर के चैंबर में घुसने की कोशिश की। गेट पर तैनात पुलिसकर्मियों ने समझा-बुझाकर कार्यकर्ताओं का गुस्सा शांत किया। इसके बाद सदस्यों ने कलेक्टर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। इससे पूर्व कलेक्ट्रेट के आगे धरना स्थल पर आयोजित सभा में प्रांतीय अध्यक्ष कैलाश भसीन ने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग ही नहीं भारत माता का मुकुट भी है। पिछले कुछ समय से अलगाववादी ताकतें वहां प्रभावी हो रही हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीर के साथ छेड़छाड़ करने वाले लोगों को किसी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। तल्ख अंदाज में उन्होंने कहा कि अलगाववादी ताकतों को कमजोर करने के लिए संगठन के कार्यकर्ता तैयार हैं। कश्मीर मुद्दे पर सरकार के उदासीन रवैये को देखते हुए कार्यकर्ताओं ने आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी। आत्माराम अग्रवाल, हरिदेव जोशी, मनोज शर्मा, विकास गुप्ता, गंगाधर शर्मा, देवेंद्र पारीक, बलराज दानेवालिया, नारायण राम नायक, नंदू गुर्जर, प्रताप सिंह शेखावत व सुखदेव मीणा आदि सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।
नोहर सीमा जन कल्याण समिति की ओर से उपखंड कार्यालय के सामने प्रदर्शन कर धरना दिया गया। यूपीए सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर में 1952 से पहले की स्थिति लागू करने की योजना के विरोध में कार्यकर्ताओं ने उपखंड कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया। इससे पहले कार्यकर्ता यहां अनाज मंडी स्थित कृषक विश्रामगृह में एकत्रित हुए। भाजपा जिलाध्यक्ष काशीराम गोदारा के नेतृत्व में जुलूस के रूप में नारेबाजी करते उपखंड कार्यालय पहुंचे। इस दौरान हुई सभा को संबोधित करते हुए काशीराम गोदारा ने कहा कि यूपीए सरकार ने एक कमेटी गठित कर जम्मू-कश्मीर की स्थिति रिर्पोट मांगी है। केंद्र सरकार की कमेटी को गठित करने को लेकर नियत साफ नहीं है। उन्होंने धारा 370 को स्थायी करने, नियंत्रण रेखा और अंतर्राष्ट्रीय सीमा के आर-पार जनता का आवागमन सुनिश्चित करने की मांग की। भाजपा देहात अध्यक्ष रमेश बेनीवाल ने कहा कि समिति व देश के नागरिक इस कमेटी की रिपोर्ट को सिरे से खारिज करते है। उन्होंने राष्ट्रपति से इस कमेटी को निरस्त करने की मांग की। इस मौके पर वाचस्पति व्यास, ओम बिजारणिया, प्रताप सहारण, हरदत्त घिंटाला, सुरेन्द्र सिहाग, राजू सैनी, दाताराम जांगिड़, हरीश आचार्य, मोहन डाबी, प्रभालता गौड़, बजरंग स्वामी, रमेश पारीक, हीरालाल लखारा, नंदलाल वर्मा, अमित साखी, महावीर खीचड, लक्ष्मी व कुतबुद्दीन आदि मौजूद थे।

भादरा कश्मीर विषय पर सरकार की वार्ताकार समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के विरोध में सीमा जन कल्याण समिति के बैनर तले क्षेत्र के लोगों ने उपखंड कार्यालय पर प्रदर्शन किया। धरना स्थल पर सभा को संबोधित करते रामस्वरूप कामड़ ने कहा कि केंद्र सरकार देश को तोडऩे वाली नीति पर चलते कश्मीर पाकिस्तान को सौंपने की तैयारी कर रही है। पूर्व विधायक डॉ. सुरेश चौधरी ने रिपोर्ट राष्ट्र विरोधी विखंडन कारी बताते कश्मीर में धारा 370 समाप्त कर समान नागरिक संहिता लागू करने की मांग की। धरने पर एबीवीपी के जिला सह-संयोजक संदीप सांई, रवि पूनियां, सत्यप्रकाश चाहर, राकेश सिहाग, सरपंच सुनील कारगवाल, अशोक सैनी, युवराज सिंह, अनूप सिंह शेखावत, राहुल ढूकिया, मानसिंह जास्ट, जगदीश मेहरिया, जयराम सिंधी, दयानंद खोखे वाला, सतवीर धायल, सुरेन्द्र महीपाल, तेजपाल पूनियां, विक्रम बोकड़ा, सतवीर धायल, सुनील बराला, महीपाल जाखड़, राजेश सोनी, राजेश कड़वासरा आदि लोग बैठे।

संगरिया सीमा जन कल्याण समिति के आह्वान पर शुक्रवार को केंद्र सरकार की जम्मू-कश्मीर नीतियों के विरोध में एक दिवसीय धरना लगाने के लिए जागरूक नागरिक व विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी व्यापार मंडल में एकत्रित हुए। सभा के बाद मुख्य मार्गों से जुलूस के रूप में उपखंड कार्यालय पहुंचे। उपखंड अधिकारी जेसी आर्य को राष्ट्रपति के नाम का ज्ञापन सौंपा। समिति संयोजक सुरेंद्र पाल सिंह सिद्धू, पंचायत समिति प्रधान हरदीप सिंह शाहपीनी, किसान नेता कृष्ण जाखड़,भाजपा देहात मंडल अध्यक्ष रणजीत सिंह बराड़, नगर मंडल अध्यक्ष मदन गुप्ता, जिला कार्यकारिणी सदस्य पूर्ण मिड्ढा, श्याम मित्तल, चरणदास गर्ग, एडवोकेट प्रमोद डेलू, किसान संघ अध्यक्ष जीतराम रॉयल,विश्व हिंदू परिषद के विनोद गुप्ता, संघ के नगर कार्यवाह मनोज गुप्ता, गोविंद खदरिया, बलराज सिंह रामगढिय़ा, भाजपा महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष परमजीत कौर रामगढिय़ा, राजविंद्र कौर एवं हरी सिंह गोस्वामी शामिल थे।

रावतसर  भाजपा कार्यकर्ताओं ने सीमा जन कल्याण समिति के राष्ट्रव्यापी धरने के तहत शु़क्रवार को उपखंड कार्यालय के आगे धरना दिया। पूर्व विधायक धर्मेंद्र मोची के नेतृत्व में उपखंड कार्यालय में तहसीलदार भानीराम को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। धरने में संदीप नाई, सरजीत न्यौल, इमीचंद झाझडिय़ा, नायब सिंह, कुलदीप खिलेरी, राजेंद्र थोरी, भाजपा महिला जिला उपाध्यक्ष द्रोपदी मेघवाल, गुरजीत बिडंग, पूर्व सरपंच भंवर सिंह रावतोत, बृजलाल शर्मा, अनिल पारीक, सुरेंद्र सिडाना, शंकर कलवानियां आदि शामिल थे।

टिब्बी  सीमा जन कल्याण समिति एवं भारतीय जनता पार्टी कार्यकत्र्ता ने संयुक्त रूप से शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर की समस्या को लेकर दी गई रिपोर्ट के विरोध में यहां के तहसील कार्यालय के समक्ष सांकेतिक धरना दिया। उपखंड अधिकारी को राष्ट्रपति के नाम का ज्ञापन सौंपा गया। इस मौके पर भाजपा जिला उपाध्यक्ष भीम सिंह राघव ने यूपीए सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि यूपीए की अध्यक्षा ने गुपचुप तरीके से तीन सदस्यीय कमेटी बनाकर जो जम्मू-कश्मीर पर रिपोर्ट ली है उसे तुरंत रद्द किया जाए। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट से देश की एकता व अखंडता पर खतरा पैद हो जाएगा, जिसे पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी। मंडल महामंत्री कृष्ण स्वामी ने कहा कि ऐसी रिपोर्ट लोकसभा में लाई गई तो पार्टी को जन आंदोलन करने पर मजबूर होना पड़ेगा।

 

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित