मंगलवार, 16 अगस्त 2011

अन्ना हजारे की गिरफ्तारी पर अभाविप द्वारा तानाशाही यूपीए सरकार की तीव्र निंदा

अन्ना हजारे की गिरफ्तारी पर अभाविप द्वारा तानाशाही यूपीए सरकार की तीव्र निंदा

आज सुबह केंद्र की यूपीए सरकार द्वारा श्री अन्ना हजारे को गिरफ्तार करने की अभाविप के राष्ट्रिय महामंत्री श्री उमेश दत्त ने तीव्र निंदा की है | जिस प्रकार से बाबा रामदेव के आन्दोलन को कुचलने तथा आज अन्ना हजारे को गिरफ्तार किया गया वह लोकतंत्र के लिए घातक है | शांतिपूर्ण तथा लोकशाही तरीके से आन्दोलन को कुचलने का यह कुत्सित प्रयास यूपीए सरकार की तानाशाही वृत्ति को उजागर करता है | विगत कई महिनों से उजागर हो रहे घोटालों से भ्रष्टाचार में लिप्त केंद्र सरकार के विरोध में लोगों का आक्रोश स्पष्ट रूप से दिखायी दे रहा है | वर्तमान में चल रहे भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन का अ. भा. विद्यार्थी परिषद् पूर्णरूप से समर्थन करती है |

भ्रष्टाचार विरोधी इस व्यापक लड़ाई में जन लोकपाल बिल, काला धन जैसे कई मुद्दे है और अभाविप सक्षम जन लोकपाल विधेयक बनने की पक्षधर भी है | "भ्रष्टाचारियों सत्ता छोडो" इस नारे के साथ विद्यार्थी परिषद् विगत कई महिनों से भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलनरत है | भ्रष्टाचार के विरोध में उठ रही हर आवाज को दबाने के प्रयासों से यह लड़ाई ख़त्म तो नहीं होगी लेकिन इसके परिणाम केंद्र सरकार को भुगतने पड़ेंगे | उमेश दत्त ने कहा की इस आन्दोलन को अंतिम छोर तक ले जाने के संकल्प के साथ अभाविप हर प्रकार के प्रयास के लिए कटिबद्ध है |

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित