सोमवार, 27 दिसंबर 2010

जोधपुर प्रान्त में कई स्थानों से - यज्ञ में उमड़ा जनसैलाब

रामगढ़ व नाचना में 51 कुंडीय यज्ञ व हिंदू सम्मेलन से माहौल धर्ममय हुआ

रामगढ़

कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल के खेल मैदान में हनुमंत शक्ति जागरण समिति के तत्वावधान में रविवार को 51 कुंडीय महायज्ञ आयोजित किया गया। यज्ञ में 204 जोड़ों ने आहुतियां देकर देश में शांति, अमनचैन व भव्य राम मंदिर का निर्माण होने की कामना की। यज्ञ में दर्जनों गांवों के सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे। हर समुदाय के लोगों ने यज्ञ में आहुतियां दी। यज्ञ में मौजूद साधु—संतों का ग्रामीणों व आयोजन समिति के पदाधिकारियों ने फूलमालाओं से तथा शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया गया।

इस अवसर पर स्वामी प्रतापपुरी महाराज ने हिंदुओं को विश्वगुरु बताया तथा कहा कि वे आपस में झगड़ रहे हैं। महाराज ने कहा कि यह वह धरा है जहां गायों की रक्षा के लिए लोगों ने अपनी जान तक गवां दी। इस माटी में ऐसे शूरवीर पैदा हुए हैं जिनकी वीरगाथा सुनने से ही लोगों के रोंगटे खड़े होते हैं। प्रतापपुरी महाराज ने पन्नराज, पाबूजी के उदाहरण देकर लोगों को इस हनुमान यज्ञ में आहुतियां देने तथा देश, गायमाता, धरा के प्रति अपना कर्तव्य समझने पर जोर दिया।

इस अवसर पर स्वामी प्रतापपुरी महाराज सहित कमल भारती, सांवलाराम, निजानंद महाराज, संत गणपतराम, जिला संघ चालक त्रिलोकचंद खत्री, दौलतगिरी आदि मौजूद थे। मंच का संचालन केशरसिंह ने किया।

धर्ममय हुआ नाचना

नाचना में रविवार को हनुमत समिति जागरण के तत्वावधान में 51 कुंडीय यज्ञ व हिंदू सम्मेलन आदर्श विद्या मंदिर प्रांगाण मैदान में आयोजित किया गया। समारोह में शिवसुख महाराज आसेरी मठ, दीपक साहेब महाराज, क्षेत्र के संतों सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणों मौजूद थे। यज्ञ में दौ सौ जोड़ों ने भाग लिया। यज्ञ के चलते नाचना रविवार को धर्ममय हो गया। कार्यक्रम के शुभारंभ में आयोजन समिति की ओर से संतों का स्वागत किया गया। इस दौरान जोधपुर प्रांत प्रचारक विजय कुमार ने कहा कि अपनी धरती धर्म की अध्यात्म की धरती है। लोगों के बलिदान से ही देश का हित होगा। जिला प्रचारक बाबूलाल ने कहा कि जब-जब धर्म की हानि होती है, तब-तब भगवान इस धरती पर अवतार लेते हैं। दीपक साहेब महाराज ने धार्मिक कार्य करने पर जोर दिया।

‘भगवा रंग त्याग का प्रतीक’

झाब

कस्बे में श्रीहनुमंत शक्ति जागरण यज्ञ एवं हिन्दू सम्मेलन का आयोजन रविवार को राजकीय सीनियर विद्यालय में किया गया। इस दौरान भगवान राम के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन कर सम्मेलन का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूनासा महंत बाबूगिरी महाराज ने कहा कि समय की यह मांग है कि हिन्दू एकजुट हों। मंगलदास महाराज ने कहा कि भारतीय संस्कृति की जडें़ काफी गहरी है। इस संस्कृति का अनुसरण कई संस्कृतियों ने किया।

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ. प्रभुसिंह राठौड़ ने वर्तमान परिपेक्ष्य में संगठन की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि संगठन में ही शक्तिहै। राठौड़ ने कहा कि भगवा रंग त्याग और बलिदान का प्रतीक है। इसको आतंकवाद से जोडऩा ठीक नहीं है। राठौड़ ने कहा कि देश की रक्षा के लिए यह जरूरी है कि हिंदू एकजुट हो। उन्होंने कहा कि जब जब हिंदू कमजोर हुआ, असंगठित रहा तब देश को गुलामी का दंश झेलना पड़ा।

आज फिर राष्ट्र विरोधी शक्तियां सिर उठा रही हैं। इसलिए हिन्दुओं को संगठित होना होगा तभी इस देश कि संस्कृति को बचाया जा सकता है। सम्मेलन में भारतीय किसान संघ के प्रदेश मंत्री दलाराम चौधरी, भाजपा के दुर्गा राम चौधरी, दिनेश, गेनाराम मेघवाल, महेन्द्र सिंह चौहान, तगराज दर्जी, मनोहर सिंह व जयरूप सिंह सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन तहसील कार्यवाह गोपीलाल राव ने किया। कार्यक्रम में मंगलपुरी महाराज, देवाराम महाराज का सान्निध्य रहा। इससे पूर्व कलश यात्रा व झांकी निकाली गई, जो कस्बे के मुख्य मार्ग माधव चौक, प्रताप चौक, पीपली चौक से होते हुए विद्यालय पहुंचकर विसर्जित हुई। कलश यात्रा में बोरली, अणखोल, धरणावास, इटादा, देवड़ा की महिलाओं व युवतियों ने भाग लिया। कलश यात्रा में भगवान राम व शिव की झांकी आकर्षण का केन्द्र रही। सम्मेलन में पूनासा महंत बाबूगिरी महाराज, संतोषपुरी महाराज, मंगलपुरी महाराज व मंगलदास महाराज का सान्निध्य रहा।

हनुमंत शक्ति जागरण समिति की ओर से धर्मसभा का आयोजन

‘विश्वविख्यात है भारतीय संस्कृति’

आबूरोड

सदियों से भारत देश विश्व शांति व सद्भावना के लिए प्रसिद्ध है। भारतीय संस्कृति विश्वविख्यात है। यह विचार मानपुर स्थित दादूदयाल आश्रम में श्री हनुमंत शक्ति जागरण समिति की ओर से आयोजित धर्मसभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक प्रमुख नंदलाल जोशी ने व्यक्त किए। उहोंने कहा कि अमेरिका, चीन, रूस, ब्रिटेन सहित अन्य देशों के विद्वानों का मानना है कि भारत में कई संत आए और शांति का संदेश दिए। सऊदी अरब में मोरारी बापू की कथा होती है तो सभी सुनने जाते हैं। ओबामा 24 घंटे अपने साथ हनुमानजी की मूर्ति रखते हैं।

हाल ही में अमेरिका गए चीन के राजदूत ने भी कहा कि दो हजार वर्ष से एक भी सैनिक के बिना भारत ने अन्य देशों पर राज किया। राम मंदिर के निर्माण पर उहोंने कहा कि सर्वोच्च न्यायलय के फैसले से देश में नया उत्साह का संचार होगा। इससे पूर्व संत महेन्द्रदास ने कहा कि देश में धर्मान्तरण की प्रक्रिया चल रही है। इसको रोका जाना चाहिए। इसलिए सभी समाजबंधु संगठित रह कर कार्य करें। कार्यक्रम को तीर्थगिरी जी महाराज सहित अन्य ने सम्बोधित किया। कार्यक्रम में जिला कार्यवाह अशोक चतुर्वेदी, एडवोकेट ईश्वर आचार्य, राजेन्द्र गोयल, विष्णु स्वरूप गर्ग, संतोष भारद्वाज, मधुसूदन सर्राफ, मनीष परसाई, सुरेश कोठारी, भूरा राम पुरोहित, भरत दायमा, सुरेश सैनी, सुबोध नारायण शर्मा, भरत पंडित, प्रवीन शर्मा, भगवानदास कुमावत, अर्जुन सिंह, आंदी व्यास, शर्मिष्ठा शर्मा, दुर्गेश शर्मा सहित अन्य लोगों के अलावा शहर व आसपास के श्रद्धालु उपस्थित थे।

महायज्ञ में ५१ जोड़ों ने दी आहुतियां

शिवगंज
आदर्श विद्या मंदिर स्कूल में रविवार को हनुमंत शक्ति जरागरण महायज्ञ के आयोजन में ५१ जोड़ों ने आहुतियां दीं। बाद में स्कूल परिसर में धर्मसभा आयोजित की गई। इसमें साधु-संतों एवं अतिथियों ने विचार व्यक्त किए। सभा में शिवगंज सहित आसपास के गांवों से आए सैकड़ों पुरुष, महिलाओं व बच्चों ने शिरकत की। धर्मसभा को जूना जाखोड़ा के संत भरत मुनि व बडगांव स्थित एकलिंग महादेव तीर्थ के संत सीताराम महाराज व अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक के प्रांत कार्यवाह श्याम ने संबोधित किया। इसमें उन्होंने कहा कि हिंदू समाज ही एकमात्र समाज है जो पूरे विश्व को संस्कृति व धार्मिकता की दिशा दे सकता है। आयोजन के प्रवक्ता नरेंद्रसिंह ने बताया कि महायज्ञ में हनुमानजी के नाम पर ग्यारह हजार आहुतियां दी गईं। इसमें अयोध्या में राम मंदिर बनाने की मंगलकामना की गई। कार्यक्रम के प्रारंभ में साधु-संतों व अतिथियों को पुष्पहार पहनाकर आदर-सत्कार किया गया।

हवन का आयोजन

आबूरोड. श्री हनुमंत शक्ति जागरण समिति की ओर से रविवार सवेरे मानपुर दादूदयाल आश्रम पर यज्ञ व हवन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में हवन कुंडों पर पूजा अर्चना व आहुति के साथ राम मंदिर के निर्माण के लिए संकल्प लिया गया। आयोजन में शहर व आसपास के श्रद्धालुओं ने बड़ी संख्या में भाग लिया। इससे पूर्व कलश यात्रा का आयोजन किया। कलश व शोभायात्रा में शहर समेत आसपास के गांवों की सैकड़ों बालिकाओं व महिलाओं ने भाग लिया।


हनुमानगढ़. सुख व समृद्धि की कामना के साथ यजमानों ने जब यज्ञ में आहूतियां डाली तो माहौल श्रद्धामय हो गया। मौका था हनुमत शक्ति जागरण समिति की ओर से रविवार को 108 कुंडीय यज्ञ का। टाउन के आदर्श विद्या मंदिर माध्यमिक विद्यालय में सुबह शहर के 108 सपत्निक जोड़ों ने यज्ञ में आहूतियां डाली। मुख्य यजमान पक्कासारणा के नंदलाल तायल व त्रिलोक चंद्र अग्रवाल थे। इस मौके पर हुई धर्म सभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रांत सह संघ-चालक कैलाश भसीन ने कहा कि हवन में आहूतियां डालने से मनोकामना पूर्ण होती है। संघ चालक मोमन चंद मित्तल ने आयोध्या में मंदिर का संकल्प दोहराया। समिति के चेलाराम सुमरानी ने यज्ञ में भाग लेने वाले यमजमानों व अतिथियों का आभार जताया। इस मौके पर विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल,भारतीय किसान संघ, विद्या भारती सहित संघ परिवार ने सहयोग किया



विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित