शुक्रवार, 28 मई 2010

नारद जयंती पर विशेष




नारद मुनि, हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, ब्रह्मा के सात मानस पुत्रो मे से एक है। उन्होने कठिन तपस्या से ब्रह्मर्षि पद प्राप्त किया है। वे भगवान विष्णु के अनन्य भक्तों मे से एक माने जाते है।
देवर्षि नारद धर्म के प्रचार तथा लोक-कल्याण हेतु सदैव प्रयत्नशील रहते हैं। शास्त्रों में इन्हें भगवान का मन कहा गया है। इसी कारण सभी युगों में, सब लोकों में, समस्त विद्याओं में, समाज के सभी वर्गो में नारदजी का सदा से प्रवेश रहा है। मात्र देवताओं ने ही नहीं, वरन् दानवों ने भी उन्हें सदैव आदर दिया है। समय-समय पर सभी ने उनसे परामर्श लिया है। श्रीमद्भगवद्गीता के दशम अध्याय के २६वें श्लोक में स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने इनकी महत्ता को स्वीकार करते हुए कहा है - देवर्षीणाम्चनारद:। देवर्षियों में मैं नारद हूं। श्रीमद्भागवत महापुराणका कथन है, सृष्टि में भगवान ने देवर्षि नारद के रूप में तीसरा अवतार ग्रहण किया और सात्वततंत्र(जिसे <न् द्धह्मद्गद्घ="द्वड्डद्बद्यह्लश्र:नारद-पाञ्चरात्र">नारद-पाञ्चरात्र भी कहते हैं) का उपदेश दिया जिसमें सत्कर्मो के द्वारा भव-बंधन से मुक्ति का मार्ग दिखाया गया है।
वायुपुराण में देवर्षि के पद और लक्षण का वर्णन है- देवलोक में प्रतिष्ठा प्राप्त करनेवाले ऋषिगण देवर्षिनाम से जाने जाते हैं। भूत, वर्तमान एवं भविष्य-तीनों कालों के ज्ञाता, सत्यभाषी,स्वयं का साक्षात्कार करके स्वयं में सम्बद्ध, कठोर तपस्या से लोकविख्यात,गर्भावस्था में ही अज्ञान रूपी अंधकार के नष्ट हो जाने से जिनमें ज्ञान का प्रकाश हो चुका है, ऐसे मंत्रवेत्तातथा अपने ऐश्वर्य (सिद्धियों) के बल से सब लोकों में सर्वत्र पहुँचने में सक्षम, मंत्रणा हेतु मनीषियोंसे घिरे हुए देवता, द्विज और नृपदेवर्षि कहे जाते हैं।
इसी पुराण में आगे लिखा है कि धर्म, पुलस्त्य,क्रतु, पुलह,प्रत्यूष,प्रभास और कश्यप - इनके पुत्रों को देवर्षिका पद प्राप्त हुआ। धर्म के पुत्र नर एवं नारायण, क्रतु के पुत्र बालखिल्यगण,पुलहके पुत्र कर्दम, पुलस्त्यके पुत्र कुबेर, प्रत्यूषके पुत्र अचल, कश्यप के पुत्र नारद और पर्वत देवर्षि माने गए, किंतु जनसाधारण देवर्षिके रूप में केवल नारदजी को ही जानता है। उनकी जैसी प्रसिद्धि किसी और को नहीं मिली। वायुपुराण में बताए गए देवर्षि के सारे लक्षण नारदजी में पूर्णत:घटित होते हैं।
महाभारत के सभापर्व के पांचवें अध्याय में नारदजी के व्यक्तित्व का परिचय इस प्रकार दिया गया है - देवर्षि नारद वेद और उपनिषदों के मर्मज्ञ, देवताओं के पूज्य, इतिहास-पुराणों के विशेषज्ञ, पूर्व कल्पों (अतीत) की बातों को जानने वाले, न्याय एवं धर्म के तत्त्‍‌वज्ञ, शिक्षा, व्याकरण, आयुर्वेद, ज्योतिष के प्रकाण्ड विद्वान, संगीत-विशारद, प्रभावशाली वक्ता, मेधावी, नीतिज्ञ, कवि, महापण्डित, बृहस्पति जैसे महाविद्वानोंकी शंकाओं का समाधान करने वाले, धर्म-अर्थ-काम-मोक्ष के यथार्थ के ज्ञाता, योगबलसे समस्त लोकों के समाचार जान सकने में समर्थ, सांख्य एवं योग के सम्पूर्ण रहस्य को जानने वाले, देवताओं-दैत्यों को वैराग्य के उपदेशक, क‌र्त्तव्य-अक‌र्त्तव्य में भेद करने में दक्ष, समस्त शास्त्रों में प्रवीण, सद्गुणों के भण्डार, सदाचार के आधार, आनंद के सागर, परम तेजस्वी, सभी विद्याओं में निपुण, सबके हितकारी और सर्वत्र गति वाले हैं। अट्ठारह महापुराणों में एक नारदोक्त पुराण; बृहन्नारदीय पुराण के नाम से प्रख्यात है। मत्स्यपुराण में वर्णित है कि श्री नारदजी ने बृहत्कल्प-प्रसंग में जिन अनेक धर्म-आख्यायिकाओं को कहा है, २५,००० श्लोकों का वह महाग्रंथ ही नारद महापुराण है। वर्तमान समय में उपलब्ध नारदपुराण २२,००० श्लोकों वाला है। ३,००० श्लोकों की न्यूनता प्राचीन पाण्डुलिपि का कुछ भाग नष्ट हो जाने के कारण हुई है। नारदपुराण में लगभग ७५० श्लोक ज्योतिषशास्त्र पर हैं। इनमें ज्योतिष के तीनों स्कन्ध-सिद्धांत, होरा और संहिता की सर्वागीण विवेचना की गई है। नारदसंहिता के नाम से उपलब्ध इनके एक अन्य ग्रंथ में भी ज्योतिषशास्त्र के सभी विषयों का सुविस्तृत वर्णन मिलता है। इससे यह सिद्ध हो जाता है कि देवर्षिनारद भक्ति के साथ-साथ ज्योतिष के भी प्रधान आचार्य हैं। आजकल धार्मिक चलचित्रों और धारावाहिकों में नारदजी का जैसा चरित्र-चित्रण हो रहा है, वह देवर्षि की महानता के सामने एकदम बौना है। नारदजी के पात्र को जिस प्रकार से प्रस्तुत किया जा रहा है, उससे आम आदमी में उनकी छवि लडा़ई-झगडा़ करवाने वाले व्यक्ति अथवा विदूषक की बन गई है। यह उनके प्रकाण्ड पांडित्य एवं विराट व्यक्तित्व के प्रति सरासर अन्याय है। नारद जी का उपहास उडाने वाले श्रीहरि के इन अंशावतार की अवमानना के दोषी है। भगवान की अधिकांश लीलाओं में नारदजी उनके अनन्य सहयोगी बने हैं। वे भगवान के पार्षद होने के साथ देवताओं के प्रवक्ता भी हैं। नारदजी वस्तुत: सही मायनों में देवर्षि हैं.

-*-*-*-*-

Hkkjr dh lukru oSfnd laLd`fr ds iqjks/kk]foy{k.k peRdkjh pfj= ds /kuh] len'khZ] yksd dY;k.k dkjh egkRek nsof"kZ ukjn bl l`f"V ds vkfn laokn okgd vkssssssssssssSj izkekf.kd o jpukRed i=dkfjrk ds vkn'kZ gaSA Jhen~HkkxoRk~ esa HkfDr egkjkuh us nsof"kZ ukjn dh Lrqfr djrs gq, dgk gS fd & nsof"kZ ukjn th dh opu pkrqjh bruh foy{k.k rFkk vn~Hkqr gSa fd muds ,d ckj ds mins'k dks /kkj.k dj izgykn us ek;k ij fot; izkIr djrs gq, bZ'oj dh Hkh izkfIr dj yh vkSj muds mins'kkuqlkj /kzqo us HkfDr iFk dk voyEcu dj vpy /kzqoin izkIr dj fy;k vkSj leLr HkDrksa ds vkn'kZ cu x;sA ,sls loZ eaxye; Jh czg~ek th ds ekul iq= nsof"kZ ukjn th dks eSa lknj ueLdkj djrh gwWA ukjn th dh egRrk Lo;a Hkxoku Jhd`".k us vtZqu dks xhrk dk mins'k nsrs gq, ;g dg dj izdV dj fn;k gS fd EkSa nsof"kZ;ksa esa ukjn gwwWA okLro esa ukjn dk vFkZ gS ftldh ok.kh feF;k ugha gksrhA laaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaLd`r esa ukjn dh O;k[;k djrs gq;s dgk x;k gS &^ukja nnkfr l% ukjn%*vFkkZr tks fujUrj Kku nku ls txr dk dY;k.k djrk jgs] og ukjn gSA ukjn th Hkfo";osRRkk]f=dkyn'khZ o T;ksfr"k 'kkL= ds Hkh eeZK FksA

os nSoh; ;qx ls ysdj vkt rd ds lcls cM-s laokn okgd izrhr gksrs gaSA vkt ds ;qx dks lwpuk &lapkj Økafr dk ;qx dgrs gSaA ^lwpuk* ,d egr~ 'kfDr gSA tu lapkj rFkk lwpuk izkS|ksfxdh vkt egRoiw.kZ fo"k; cu x;k gSA Hkys gh dqqN fo}kuksa us lapkj ds fl)kUrksa dks dqN iqjkus ik'pkR; izrhdksa] izfrekuksa]fpUgksa ls le>kus dk iz;kl dj ;g fu#fir djus dh dksf'k'k dh gS bl ns'k esa Kku foKku] n'kZu vkfn if'pe ls vk;k gSA ijUrq izkphu Hkkjrh; fpUru eas l`f"V jpuk ds lkFk gh fopkj gqvk gSSA l`f"V dk fodkl gh vukfn o ije pSrU; dh bl bPNk ls gqvk gS fd ,dks ge cgq';kfeA lkjs l`f"V esa gh bZ'oj dk fuokl gSA bZ'kkokL;ksifu"kn esa mYYks[k gS & bZ'kkokL;fene~ loZe~ ;fRdafpr~ txR;ke txrA--- vkfnA tc lkjs tM- psru esa ml bZZ'oj dk okl gS mldk gh fuokl gS rks izR;sd euq"; esa bl l`f"V ds jgL; dks tkuus dh mRlqdrk LokHkkfod Hkh gSA bl vikS#"ks; oSfnd lR; dks gekjs ea=nz"Vk _f"k &egf"kZ;ksa us tu&tu rd igqwWpkus ds fy, Kku ijEijk dk lw=ikr fd;kA'kCn czg~e ds ek/;e ls laokn lapkj 'kq# fd;k vkSj oSfnd lkfgR;ksa ] mifu"knksa]iqjk.kksa ds of.kZr ^ okRkZkyki laoknksa * ls vuUr Kku jkf'k dk lapkj gqvkA Hkkjrh; ijEijk eas lR; izpkj gh lapkj dk eq[; y{; ekuk x;kAlr~ vkSj vlr~ esa ijLij LIk/kkZ gksrh jgrh gSA bZ'oj lR; dk laj{k.k vkSj vlR; dk fouk'k djrk gSA blfy, laokn dk ewy Hkkjrh; Lo#i gS lR;] izkekf.kd]yksdfgrS"kh lekt esa 'kqfprk tkxzr djus okys fopkjksa] laoknksa]lans'kksa dk izlkjA blh ls lEiw.kZ Hkkjrh; okaXe; dk foLrkj gqvkA blfy, lR;]yksd dY;k.kdkjh ^laokn* tu tu rd igqWpkus okys ukjn th gekjs oSfnd Kku ] ikSjkf.kd dFkkvksa] yksd xkFkkvksa ds lw=/kkj rFkk lcls cM+s laokn okgd cu x;sA blfy;s mUgsa vkfn laoknnkrk dgk tkrk gS tcfd laiknd ds #i esa egf"kZ osnO;kl izfrf"Br gSa] ftUgksaus osnksa dh fc[kjh _pkvksa dks laxzfgr dj mudk lE;d foHkktu dj osnksa dk Lo#i iznku fd;kA f=dky n'khZ]=SyksD; &lapkjh nsof"kZ ukjn us le; le; ij fdl rjg l`f"V ds dY;k.k ds fy;s viuk ekXkZ n'kZu iznku fd;k] blds vusdkusd mnkgj.k feyrs gSaA vkt ds i=dkjksa dksa vkn'kZoknh] izkekf.kdrkiw.kZ]lS)kafrd i=dkfjrkds fy, ukjn th dks viuk vkn'kZ ekuuk pkfg;sA ,d le; Fkk tc bl ns'k dh i=dkfjrk ,d fe'ku FkhA vkxs pydj og izksWQs'ku cu xbZA blds vuUrj lsU'ks'ku vkSj fLaVx vkijs'ku dk ;qx vk x;k gSA ijUrq i=dkfjrk ds bl u;s #i ij pkjksa rjQ ls mxfy;k Hkh mBus yxh gSa vkt gesa lEikndkpk;Z vfEcdk izlkn cktis;h ds bu 'kCnks dksa ;kn djuk gksxk&opu nks]ftl fo"k; ij fy[kksxs] laaLFkk vkSj O;fDr fujis{k gksdj mlds lkFk U;k; djksxsA* vxj bl ckr dks /;ku esa j[kk tk; rks gekjh i=dkfjrk dh n'kk &fn'kk LoSPNkpkfjrk vkSj LoSjk pkfjrk rd pgqpus ls cp ldrh gSA bl fn'kk esa nsof"kZ ukjn dk pfj= mfpr ekxZn'kZu gh ughs nsxk cfYd fnXHkzfer gksus ls Hkh cpk;sxkA ladVksa dfBu voljks] uktqd {k.kksa esa nsof"kZ ukjn us tks fn'kk cks/k fn;k mudk Lej.k djuk Hkh lehphu gksxkAvkfn dfo ckfYedh ds g`n; esa]ØkSp i{kh ds f'kdkj ij ftl vUrjosnuk ls dkO; dk l`tu gks x;k rks mUgksus nsof"kZ ukjn ls gh iwNk fd eS fdl vkn'kZiq#"k dk pfj= fy[kWwA ukjn th us mUgsa Hkxoku Jhjke ds egku pfj= dk ifjp; fn;k ftlds vk/kkj ij bl l`f"V dks jkek;.k TkSlk egk dkO; izkIr gqvkA osnksa dh jpuk ds ckn Hkh Hkxoku osn O;kl ds eu dks tc 'kkafr ugha feyh rks ukjn th us gh mUgsa HkfDr xzaFk Hkkxor fy[kus dk mins'k fn;kA Hkxoku okeu us tc nSR; jkt jktk ckfy dks rhu ixksa esa uki dj canhx`g esa Mky fn;k rks ukjn th us okeu Hkxoku dh Lrqfr dj jktk ckfy dks u dsoy ca/kueqDr djk;k oju mUgs lIr yksadksa esa ls ,d lqry yskd dk jktk cuok fn;kA

lnSo yksd eaxy dh dkeuk ls ukjn th u dsoy nsorkvksa dk dY;k.k djrsa gSA vfriq nSR;ksa dks Hkh lnqins'k nsdj lriFk ij pyus dks izsfjr djrs gSaA ;gh dkj.k gS nso nkuo ;{k xa/koZ uj fdUuj lHkh ds os fo'oklik= vksj J)s; jgs gsaA iqjk.kksa ds dFkkudksa esa os lnSo nhu&ghuksa ]f\nfyrks ihfM-rksa ds i{k esa [kM-s fn[kkbZ nsrs gS

nsof"kZ ukjn dh ok.kh esa bruk izHkko Fkk ds nsork gkh ugha nSR; rd mudh ckr eku dj tx eaxy ds dk;ksZ esa izo`Rr gks tkrs FksA lkxj eaFku ds le; oklqfd ds Qu dh vksj nsork jgus dks rS;kj u Fks lkxj eaFku esa jRu fudys vr% ukjn th us gh vlqjksa dks Qu dh vksj jgus dks rS;kj djok;k vkSj l`f"V dks pkSng jRu izkRr gks lds A

nsof"kZ ukjn Hkfo"; oDrk Hkh FksA mUgsa T;ksfr"k 'kkL= dk xgu Kku FkkA mUgksus Hkxoku Jhjke]ZJhd`".k]Hkxorh ikoZrh]ekrk tkudh dk gkFk ns[kdj Hkfo"; crk;k FkkA mUgksaus vusd xzUFkksa dh jpuk dh ftuesa ukjn ikapjk=]ukjn Le`fr ]ukjn HkfDrlw=] ukjn egkiqjk.k ]czg~ekUUkkjnh;miiqjk.k ukjn ifjczktdksifu"kn vkfn izeq[k gSA ukjn th ds thou es ,d ,slk Hkh izlax vkrk gSa tks ukjn eksg ds #i esa pfpZr gSA bl pfj= ls LIk"V gS fd tc yksd dY;k.k ds O;fDr vius ckjs esa ] vius lq[k dh fpUrk djrk gSa rks mldh ogh n'kk gksrh gS tks mDr izlax esa nsof"kZ ukjn dh gqbZ FkhA ;g Hkh dFkk gS fd ,d ckj ukjn th dh riaL;k Hkax djus dsfy, bUnz us dkenso dks aHkstk Fkk] ij os foQy jgSA ukjn th dks fo'okl gks x;k fd mUgksus dke nso dks thr fy;k gS mudk lg ?ke.M vuqfpr Fkk A vr% Hkxoku us ftudk ,d uke xokZgkjh Hkh gS ukjn th dks lh[k nsus fy, mi;qDr izlax dh jpuk viuh ek;k }kjk dh Fkh A bl izdkj ge ns[krsa gSa fd ukjn th ds pfj= esa ,sls vusd nqyZHk izdj.k miyC/k gSA ftUgsa vkRelkr dj 'kk'o lq[k 'kkafr dh izkfIr lEHko gSa A ukjn th us gh lalkj ea lapkj &laokn dh izfØ;k 'kq# dhA ukjn th vkfn i=dkj Fks blh dkj.k dkuiqjoklh ia- ;qxy fd'kksj us fgUnh dk izFke lekpkj i= ^mnUr ekrZ.M* ukjn t;arh ds fnu dksydkrk ls 'kq# fd;k FkkA 30 ebZ ]1826 dks tc mnUr ekrZ.M dk igyk vad izdkkf'kr gqvk ml fnu T;s"B d`".k f}rh;k lEor~ 1883 fodzeh Fkh A ;gh fnu ukjn t;arh dk gS vkt Hkkjr es 30 ebZ dks i=dkfjrk fnol euk;k tkrk gSA ;fn fgUnh frFkh ls euk;s rks ukjn t;arh dks euk;k tku pkfg,A blfy, Li"V gS fd ukjn t;arh gh okLro esa i=dkfjrk fnol gSA

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित