रविवार, 21 मार्च 2010

गोभक्तों का प्रदर्शन

भीनमाल (जालोर। गोवंश की तस्करी एवं कत्लखाने ले जाने को लेकर शुक्रवार को गौ भक्त भड़के। गोतस्करी रोकने में नाकाम पुलिस प्रशासन के खिलाफ उपखण्ड कार्यालय के बाहर एबीवीपी के कार्यकर्ताओं और गोभक्तों ने जमकर नारेबाजी की। गो तस्करी से जुड़े दलालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने और पुलिस की नाकामी के विरोध में मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम शैलेन्द्र देवड़ा को ज्ञापन सौंपा गया। गोभक्त उत्तमसिंह राव, हीरालाल सोनी एवं महीपालसिंह राव ने ज्ञापन में बताया कि गाय भारतीय संस्कृति का प्रतीक है। गायों की तस्करी दिन-दहाड़े बेरोक-टोक हो रही है। अकाल की स्थिति को देखकर गोवंश के दलाल ट्रकों में लादरकर गोवंशों को क्षेत्र से कत्लखाने ले जा रहे है। जालोर व बाड़मेर जिले में बड़ी संख्या में गो तस्कर सक्रिय हो गए है। इन दलालों के खिलाफ प्रशासन सख्त कार्रवाई नहीं कर रहा है। साथ ही पुलिस गश्त पुख्ता नहीं होने से आसानी से गो तस्करी हो रही है। गोभक्तों ने आरोप लगाया कि पुलिस को गो तस्करी की सूचना देने के बावजूद पुलिस समय पर घटना स्थल पर नहीं पहुंचती है। इस कारण कई बार गो तस्कर गोभक्तों पर जानलेवा हमला भी कर देते है। गत बुधवार रात्रि को भी आबकारी कार्यालय के बाहर गो भक्तों द्वारा गोवंश से लदे तीन ट्रकों को रूकवाने के बाद पुलिस को सूचना दी गई थी, लेकिन पुलिस समय पर नहीं पहुंची। हैरत तो यह है कि गो तस्कर ट्रकों में छुरा, तलवार आदि धारदार हथियार लिए हुए थे। ज्ञापन में गो तस्करों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और पुलिस का माकूल बंदोबस्त करवाने की मांग की गई है। इस अवसर पर राजेन्द्र बोहरा, विक्रमसिंह, कानाराम, अशोकसिंह, संजयकुमार, लीलाराम, लक्ष्मणाराम और रामलाल समेत बड़ी संख्या में एबीवीपी के कार्यकर्ता एवं गौभक्त उपस्थित थे।

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित