रविवार, 14 मार्च 2010

देश के सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी सभी राष्ट्रवासियो की भी है - विजय कुमार







प्रवासी बंधुओ के संग सीमा जन कल्याण समिति



चेन्नई १४ मार्च २०१०। सीमा जन कल्याण समिति जोधपुर के तत्वाधान में चेन्नई के साहूकार पेटके राम देव भवन में प्रवासी बंधुओ के मध्य इक भव्य कार्यक्रम संपन्न हुआ। तीन सत्रों में संपन्न हुए इस कार्यक्रम के पहले सत्र में सीमा जन कल्याण समिति के प्रांतीय संघटन मंत्री माननीय निम्ब सिंह जी ने सीमा जन कल्याण समिति जोधपुर की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। राजस्थान से जुडी १५०० किलोमीटर लम्बी सीमा पर यह संघटन विभिन्न गतिविधियों के संग सलंगन है । सीमावर्ती क्षेत्रो में विद्यालय, छात्रावास , मंदिर इत्यादि का संचालन कर यह संघटन बखूभी अपनी भूमिका निभा रहा है। रक्षा बंधन के उत्सव पर सीमा की सुरक्षा में लगे जवानो की कलाईयों में सीमा जन कल्याण समिति द्वारा बहिने रक्षा सूत्र भी हर वर्ष बांधती है ।






द्वितीय सत्र में राष्टीय स्वयंसेवक संघ जोधपुर के प्रान्त प्रचारक माननीय विजय कुमार जी ने प्रवासी बंधुओ से आग्रह किया किअपनी सीमा कि रक्षा करना सिर्फ सेना के जवानों का ही नहीं वरन राष्ट्र के हर नागरिक का कर्त्तव्य है। विजय कुमार जी ने भीष्म पितामह का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि देश कि सीमा माता के वस्त्रो के समान होती है जिसकी रक्षा करना हर पुत्र का कर्त्तव्य होता है।



इस अवसर पर प्रवासी बंधुओ के इक समिति का गठन किया गया जिसमे संयोजक श्री अचल सिंह तेलवाडा को तथा सह संयोजक श्री भागवत सिंह , श्री भूपेंद्र सिंह देवड़ा तथा राम कुमार जी गुप्ता को बनाया गया। साथ ही ग्यारह सदस्यों का भी मनोनयन किया गया।



कार्यक्रम के अंत में सह संघचालक माननीय चंद्रप्रकाश जी मालपानी ने आगुन्तको को धन्यवाद ज्ञापित किया।



विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित