बुधवार, 23 दिसंबर 2009

विश्व मंगल गोऊ ग्राम मुख्य यात्रा का सूर्यनगरी में भव्य स्वागत गोऊ हत्या संस्कृति की हत्या है - परम पूज्यनीय शंकराचार्य राघवेश्वर भारती जी
















मंच पर विराजित है राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के सहसर कार्यवाह माननीय सुरेश जी सोनी, पूज्य अखिलेश्वरानन्द जी, प.पू राघवेश्वर भारती जी महाराज , पूज्य लोकेश मुनि तथा राम्शार्नाचार्य जी काशी












सहसर कार्यवाह माननीय सुरेश जी सोनी उधबोधन देते हुए








जोधपुर २३ दिसम्बर ०९ । सम्पूर्ण भारत में १०८ दिन की विश्व मंगल गोऊ ग्राम की मुख्य यात्रा का जोधपुर पहुचने पर महिलाओ द्वारा मंगल कलश यात्रा के साथ स्वागत किया गया। गाँधी मैदान में गो भक्त गोऊ माता की जयकारा के साथ प्रवेश कर रहे थे। कार्यक्रम का प्रारंभ ध्वजारोहण, शंखनाद , मंत्रोचारण एवं पुष्पवर्षा से हुआ। के साथ हुआ । ध्वजारोहण संत अम्रताराम जी ने किया। संस्कार भारती के द्वारा भजनों की प्रस्तुति की गयी । राकेश श्रीवास्तव तथा ललितेश जी शर्मा ने भजन की सुंदर प्रस्तुति दी । मंच पर उपस्थित जोधपुर के संतो का माल्यार्पण , शाल एवं श्रीफल प्रदान कर स्वागत किया गया।

पूज्य अमृता राम जी , पूज्य डा शिवस्वरुपनंद जी , पूज्य हरिराम जी, पूज्य राम्प्रकशाचार्य जी तथा पूज्य लोकेश मुनि जी ने भी गोऊ माता के बारे में अपने विचार रखे।
जोधपुर महानगर के विश्व मंगल गोऊ ग्राम यात्रा के तहत जोधपुर में संपन्न हुए कार्यक्रमों का व्रत प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम में झूमर लाल जी आसोपा के पुत्र, पन्ना लाल गौशाला तथा कनैह्या गौशाला के संचालको का सम्मान किया गया।

lar jkeizlkn lar gfjjke 'kkL=h o jkeizdk’kkpk;Z us eq[; ;k=k ls iwoZ lHkk dks lEcksf/kr djrs gq, lHkh /keksZa dk ewy xkS ekrk cryk;kA tSu lar yksds’k eqfu th us dgk fd 13 iaFk lar xkS lsok ds fy, lEkfizr gSA mUgksaus dgk fd xk; dks cpkus ls gh ;g ns’k cpsxkA

dk;ZØe ds eq[; oDrk jk?kos’oj Hkkjrh ,oa vU; larksa us eap ij igq¡pdj loZizFke xkS izfrek dk iwtu fd;kA eq[; oDrk ls iwoZ jk"Vªh; Lo;alsod la?k ds lg ljdk;Zokg ek- lqjs’k th lksuh us lHkk dks lEcksf/kr djrs gq, dgk fd izR;sd O;fDr esa eSa vkSj esjk ifjokj fd Hkkouk gksus ds dkj.k bl LokFkZ o`fr ls lEiw.kZ fo’o vkt ladV dh ?kM+h esa [kM+k gSA euq"; dks viuk LokFkZ R;kxus o xk; dks cpkus ls gh fo’o dY;k.k gksxkA vkt iz—fr ds vf/kdre nksgu dh yksHk o`fr ls lEiw.kZ ekuork ij ladV vk [kM+k gqvk gSA thou n`f"V esa cnyko ds fcuk bl ladV dk lek/kku lEHko ughaA vr% thou n`f"V cnyuh gS rks iqu% ewy dh vksj vkuk gksxkA ,oa xk; dks dsUæ fcUnq ekudj fodkl dh vksj tkus ij gh lc dqN Bhd gksxkA xk; lEiw.kZ vkfFkZd o lkekftd iz—fr dk vk/kkj gSA

i-iw- 'kadjkpk;Z th us Hkko foHkksj gksdj dgk fd xk; ek= izk.kh ugha izk.k gS] xk; ek= tuuh ugha tku gSA xkS gR;k Hkkjr dh gR;k gSA xkS gR;k laL—fr dh gR;k gSA xkS gR;k y{eh dh gR;k gSA xkS gR;k iz—fr dh gR;k gSA lHkh fcekfj;ksa dk ,d gh mik; xkS ekrk dh j{kkA mUgksaus dgk fd vaxzstksa dh dqV uhfr ds dkj.k bl jk"Vª dh laL—fr dks lekIr djus gsrq xk; dks u"V djus dh dqpky ds rgr ns’k esa cqpM+ [kkuksa dh LFkkiuk gqbZA tks vkt Hkh yxkrkj c<+rh xbZA mUgkasus dgk fd xkS vkUnksyu gh vc fo’o dh r`rh; ;q) gksxkA mYgksaus jktLFkku dh Hkwfe dks ohj Hkwfe crykrs gq, dgk fd bl vkUnksyu dk usr`Ro jktLFkku dks gh djuk pkfg,A D;ksa fd ns’k esa ekjokM+h lekt gh xkS HkfDr okyk lekt gSA mUgksaus dgk fd esjk tUe jktLFkku esa ugha gqvk fQj Hkh eSa jktLFkku dks viuh tUe LFkyh blfy, ekurk gw¡ fd ;gk¡ ds yksx xkS ekrk dh lsok ,oa xkS izse dh xaxk ls ljkcksj gSA mUgksaus var esa dgk fd ns’k ds lHkh 'kadjkpk;ksZa dk vkt ;g vkns’k gS fd fudyksa vius ?kj ls vkSj djks xk; dh j{kk mBks tkxks fQj ls bl ns’k dks xkS jk"Vª cukvksaA

Lokeh vf[kys’ojkuUn fxjh th egkjkt us lHkh Jksrk dks xkS lsok ladYi djok;kA


अन्य समाचार पत्रों से


‘गाय हमारा जीवन है, जीने का आधार है’
भास्कर न्यूज
जोधपुर. गौकर्ण पीठाधीश्वर संत राघेश्वर भारती महाराज ने कहा कि जितनी गौ हत्या आजादी के बाद बढ़ी है, उतनी अंग्रेजी और मुगल हुकूमत में भी नहीं थी। इसका नतीजा है कि वर्ष 2011 तक 1000 लोगों पर महज 20 गायें बचेंगी। अगर समय रहते हम नहीं चेते तो आने वाले समय में यह समस्या विकराल रूप ले लेगी।
संत राघेश्वर विश्वमंगल गौ ग्राम यात्रा के जोधपुर पहुंचने पर सरदारपुरा स्थित गांधी मैदान में भक्तजनों को संबोधित कर रहे थे। उन्हांेने कहा कि गाय हमारा जीवन है, जीवन का मूलाधार है, उसके बिना कुछ नहीं है।
संत ने कहा कि पहला विश्व युद्ध सतयुग में राम और रावण के बीच, दूसरा द्वापर में कौरव और पांडव के बीच और तीसरा विश्व युद्ध कलयुग में गौवंश को बचाने के लिए होगा। इसके लिए हमें देशभर में आंदोलन करना होगा, जिसका नेतृत्व राजस्थान को ही करना है। उन्होंने कहा कि जहां पर चार मारवाड़ी रहते हैं, वहां एक गौशाला जरूर होती है।
स्त्रोत :http://www.bhaskar.com/2009/12/24/091224044215_cow_is_our_life.html

विश्व संवाद केन्द्र जोधपुर द्वारा प्रकाशित